Enter your keyword

Wednesday, 14 February 2018

शिव, शक्ति, प्रेम

तू शिव है

मैं शक्ति नहीं

तू सत्य है

मैं असत्य सही

तू सुन्दर है

मैं असुंदर वही

पर कुछ है

जो भीतर है

गुनता है

पर दिखता नहीं

तूने कभी पूछा नहीं

मैंने भी तो कहा नहीं

कदाचित प्रेम है

तभी तुलता नहीं।

No comments:

Post a Comment

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *