Enter your keyword

Tuesday, 19 January 2016

एक कप कॉफ़ी और हम तुम....

कितनी ठिठुरन है आज 
चलो न,
पी आएं एक एक कप कॉफी 
मैं लूंगी एक लार्ज कैपचीनो, 
जिसपर बनाता है वह एक दिल, 
चॉकलेट और अपनी कला से.
तुम ले लेना अपनी लाटे, 
सफ़ेद, दूध, चीनी से भरी.
ये कॉफ़ी भी व्यक्तित्व का रूपक होती हैं न.

10 comments:

  1. और दूसरी वाली, मन की तीन परतों वाली।

    ReplyDelete
  2. हां...बिल्कुल होती है....

    ReplyDelete
  3. ठण्ड और कॉपी ..फोटो देखकर गटागट पीना का मन कर रहा है ..लेकिन ...

    ReplyDelete
  4. Lovely....isey kahte hain na creative coffee waali kavita :)

    ReplyDelete
  5. itni khoobsoorat coffee aur sham ki tanhaiyon main lahrati surmai hawayain ...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर. एक अलग सोच.

    ReplyDelete
  7. दिल खोल कर रख देती हो तुम और वो हैं जो परतों में खुद को छुपा लेते हैं । आगे कुछ नहीं लिखूंगी वरना कॉफी का मज़ा चला जायेगा । :)

    ReplyDelete
  8. दिल खोल कर रख देती हो तुम और वो हैं जो परतों में खुद को छुपा लेते हैं । आगे कुछ नहीं लिखूंगी वरना कॉफी का मज़ा चला जायेगा । :)

    ReplyDelete
  9. काफी की परतों के बी ह भी क्या क्या छुपा होता है ... दिल है तो प्यार तो है पर उसके अलावा ...

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *