Enter your keyword

Wednesday, 2 December 2015

एक बिंदास लड़की...

उस बिंदास लड़की (चुड़ैल) के नाम, जिससे पीछा छूटना इस जन्म में तो मुमकिन नहीं है. 

वह बनती है पत्थर पर है मोम सी.
भरी रहती है हमेशा आँखों की टंकी।
झट से छलक पड़ती है जो उसके हँसते - रोते।
खुद को समझती लड़का, दिल के हर कोने तक है लड़की। 

एक नंबर की झगड़ालू पर प्यार लुटाने वाली
पड़ोसी की भी प्लेट से उठा चिकन वो खा जाने वाली
दे सकती है अनजानों को भी वो जादू की झप्पी
विरोधाभासों का एक पिटारा है यह लड़की।
दोस्तों के लिए किसी से भी है लड़ जाती
जल भुन कर फिर गालियां भी सुनाती
नींद से जगा दो तो उतर आती हाथा- पाई पर
नाम "नमृता" को हरदम झुठलाती यह लड़की।
अलमारी में नहीं मिलता एक भी सामान
तो घर में सब पर चिल्लाती है यह लड़की
लेकिन करती अस्पताल में मरीजों की ड्यूटी,
उन्हें डांटती, डपटटी, सुधारती है यह लड़की।
बच्चों की यह माँ है या बच्चे हैं इसकी माँ, समझना है मुश्किल 
परन्तु अपनों के आगे ढाल सी लग जाती है यह लड़की। 

ढीट है, जिद्दी है, पागल है ज़रा, 
एकता के सीरियल पर आंसू बहाती है यह लड़की।
सलमान की दीवानी है, समझती खुद को रानी है 
पर चुड़ैलों की खास नानी है यह लड़की।
गलत पर लड़ जाए, 
सही पर अड़ जाए, 
न सोचे, न समझाए 
बस डट जाये यह लड़की।
बेबाक, खुदमुख्तार, एहसासों से लबालब,
लोग कहते हों पत्थर, पर पानी है यह लड़की।
दिखने में गद्य पर अंतस में कविता सी
मीठी मीठी गुड़ धानी सी है यह लड़की।


11 comments:

  1. इस बिंदास दोस्त को शुभकामनाएं ... खूबसूरती से वर्णित किया है ...

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (04-12-2015) को "कौन से शब्द चाहियें" (चर्चा अंक- 2180) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. जो उसे समझ पाये वही उसका मूल्य जाने - ऐसी हीरा है यह लड़की.


    ReplyDelete
  4. सशक्त सहज और सुंदर !!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर चित्र खींचा है आपने

    ReplyDelete
  6. दिखने में गद्य पर अंतस में कविता सी
    मीठी मीठी गुड़ धानी सी है यह लड़की।
    .. बिंदास लड़की की बिंदास रचना। .

    ReplyDelete
  7. अआपकी दोस्त से मिले नहीं पर हूबहू ही उतारा होगा आपने ...
    रचना लाजवाब बन पड़ी है ...

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *