Enter your keyword

Friday, 6 February 2015

एंटी बायोटिक्स मुस्कुराहटें...


मुस्कुराहटें संक्रामक होती है बहुत तेजी से फैलती हैं साथ ही चिंता, दुःख जैसे वायरस के लिए एंटी -वायरल  भी होती है.
फिर वह मुस्कुराहटें मरीज की हों या मरीज के साथ वाले की उनका प्रभाव सामने वाले पर अवश्य ही पड़ता है और इसी मुस्कराहट से उपजी सकारात्मकता से बेशक मुश्किलें न सुलझें पर कुछ वक्त के लिए भुलाई जरूर जा  सकती हैं. वरना मरीज तो मरीज है ही उसके साथ वाले भी आधे मरीज बन जाते हैं.

जिंदगी जीने की ललक और उसे जीने का अंदाज यदि जिंदादिल और खुशनुमा हो तो जिंदगी सालों से नहीं उसे जीने के अंदाज से नापी जाती है. कुछ ऐसी ही मुस्कराहट का मालिक था वह इंसान. जो खुद बेशक तकलीफ में हो पर जीने की ललक कम नहीं होती थी. दुनिया में बिखरी खूबसूरती को समेटनी की उसकी चाहत कम नहीं होती थी.
बिस्तर पर पड़े पड़े मेरी १ साल की बिटिया की तरफ इशारा करके उस दिन कहा था उन्होंने " अरे सुना है यहाँ उस दुकान पर बड़े अच्छे जूते चप्पल मिला करते हैं जा इसे नए जूते दिला ला. और हाँ मम्मी को भी ले जा और मेरे लिए भी एक सफ़ेद रंग की चप्पल ले आना. पैर थोड़े पतले से हो गए हैं न तो सफ़ेद में अच्छे लगेंगे." 
यह हम दोनों (मैं और मम्मी ) अच्छी तरह से जानते थे कि चप्पल तो बहाना था असल में वो हम दोनों को थोड़ी देर के लिए उस माहौल से निकाल कर बाहर भेजना चाहते थे.खरीदारी के बहाने कुछ परिवर्तन महसूस करना और कराना चाहते थे. नए जूते देखकर बच्ची की उमंग में अपनी उमंग मिलाकर कुछ पल जीना चाहते थे.

शारीरिक रख रखाव के प्रति जागरूक वे अक्सर कहा करते "खुद को खूबसूरत लगना और समझना बेहद जरूरी है और उसके लिए प्रयत्न करने में कोई बुराई नहीं क्योंकि हम जैसे खुद को दिखेंगे वैसा ही महसूस करेंगे और फिर वही भाव बाहर भी प्रदर्शित होंगे" यानि अच्छा दिखोगे तो अच्छा सोचोगे और अच्छा सोचोगे तो अच्छा ही होगा।

इसीलिए विकट बीमारी के दिनों में भी वे अपनी शारीरिक सज्जा को लेकर बेहद जागरूक रहा करते। डॉक्टर कहते यह इस आदमी की विल  पावर है जो उसे हारने नहीं दे रही वरना...

आज भी मुझे यकीन है कि ऊपर आसमान में वो जो सबसे हसीं सितारा है वह वो ही हैं. और हमें मुस्कुराकर अपने जन्मदिन का केक काटते देख रहे हैं :)

वो जो चमक रहा है ऊपर मुस्कुराता हुआ सितारा 
कब्जाया हुआ है उसने ब्रह्माण्ड यूँ ही सारा 
आ चल ज़रा अब एक हाथ इस हाथ पर भी रख दे 
पल भर को ही सही इस दिन में मिठास भर दे.

Happy Birthday Papa... :)

20 comments:

  1. Main bata nahi sakti ki kya mehsus hua mujhe padhkar
    koi shabd nahi hain kehne ke liye
    chahe kaisi bhi paristhithi ho hum sada aise hi muskuraate rahe

    Happy Birthday to Uncle ji

    ReplyDelete
  2. पापा की स्मृति तुम्हारे जीवन में मिठास भरती रहेगी । भावपूर्ण यादें । उनके जन्मदिन पर तुमको ढेर सी शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  3. शिखा तुम्हारा संस्मरण पढ़कर लगा जसी तुम मेरे पापा के विषय में बोल रही हो...बहुत मिलती थी उनकी सोच

    ReplyDelete
  4. पापा ऐसे ही होते हैं...सकारात्मक ऊर्जा से भरे और हमें हमेशा उल्लास से भरे देखना चाहते हैं फिर चाहे खुद में कितने ही दुखी हों।
    पापा की याद दिला गयी यह पोस्ट...लाजवाब!!

    ReplyDelete
  5. पिता ऐसे ही होते हैं. तुम्हारे संसमरण ने भावविभोर कर दिया! हम सबकी यादों में सुरक्षित हैं पिता!!

    ReplyDelete
  6. बहुत भावुक सा...अंकल के जन्मदिन पर उनकी इतनी अच्छी बेटी को बहुत शुभकामनाएँ...।

    ReplyDelete
  7. बहुत ही प्यारा और मार्मिक संस्मरण .

    ReplyDelete
  8. प्यारी पोस्ट है शिखा....

    ReplyDelete
  9. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 07-01-2015 को चर्चा मंच पर चर्चा - 1882 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. भावपूर्ण और सुन्दर

    ReplyDelete
  11. Lovely..Loved this post didi !! Happy Birthday to you uncle once again !

    ReplyDelete
  12. आँखें नम हो गई। उस सितारे को जन्मदिन मुबारक

    ReplyDelete
  13. आँखें नम हो गई। उस सितारे को जन्मदिन मुबारक

    ReplyDelete
  14. क्या कहूँ दी..!! बस इतना कि वे जहाँ होंगे, आपको देख-पढ़ कर बहुत खुश होंगे...आशीर्वाद देते होंगे... :)

    ReplyDelete
  15. अपने पापा के लिए एक बेटी के मन के उद्गार पढ़ें..आंखें भर आईं।
    उस चमकते सितारे को हमारी भी जन्मदिन शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  17. शिखाजी पिता से जुड़े संस्मरण ऐसे ही होते हैं। ज्यादातर पिता हमें बेहतर ही सिखाते हैं...। खासकर पिता कभी नहीं रोते....आखिर बच्चों के हीरो होते हैं..हमारे हर पल में उनका अहसास जुड़ा ही रहता है..अपने पिता के जाने के 4 साल बाद भी यहीं उन्हें महसूस करता हूं

    ReplyDelete
  18. शिखा जी ,आपके इस संस्मण ने जितनी स्मृ्तियों के पट खोल दिये - बेटी के लिए पिता क्या होता है यह केवल अनुभव ही किया जा सकता है -आभार आपका !

    ReplyDelete
  19. इस मधुर स्मृति को मन में हमेशा ताज़ा रखियेगा ... बहुत बड़ा संबल होती हैं ये यादें .. कदम कदम पर थाम लेती हैं ... पिताजी का जनम दिन मुबारक हो ...

    ReplyDelete
  20. कल 11/फरवरी /2015 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *