Enter your keyword

Wednesday, 19 March 2014

यह भी तो ज़रूरी है न !

जी हाँ,मेरे पास नहीं है 
पर्याप्त अनुभव 
शायद जो जरुरी  है
कुछ लिखने के लिए 
नहीं खाई कभी प्याज
रोटी पर रख कर 
कभीनहीं भरा पानी 
पनघट पर जाकर  
बैलगाड़ी, ट्रैक्टर, कुआं
और बरगद का चबूतरा
सब फ़िल्मी बातें हैं मेरे लिए 
"चूल्हा" नाम ही सुना है सिर्फ मैंने 
और पेड़ पर चढ़ तोड़ना आम 
एक एडवेंचर,एक खेल 
जो कभी नहीं खेला
हाँ नहीं है मेरे पास गाँव
नहीं हैं बचपन की गाँव की यादें 
पर -
मेरे पास है शहर
बहुत सारे शहर
सड़के,आसमान, और बादल
उनपर चलती रेलें हैं
बसें हैं, हवाई जहाज हैं
और उनके साथ भागती सीमाएं हैं
अलग अलग किस्म, 
अलग अलग नस्ल के लोग हैं 
और उनकी रंगबिरंगी जिंदगियां हैं
तो मैं इन चित्रों की ज्यामिति को 
उकेर देती हूँ ज्यों का त्यों । 
इन पर भी तो लिखना ज़रूरी है न !

38 comments:

  1. बिलकुल जरुरी है। प्याज , चूल्हा , मिटटी , गाँव - जीवन इनके सिवा भी तो बसता है कही और भी !

    ReplyDelete
  2. जी.... ये भी जीवन का ही हिस्सा हैं तो शब्दों में ढलेंगे ही ....

    ReplyDelete
  3. aapne likha vo sach vakt kaa , badlaav kaa

    ReplyDelete
  4. बच्चों को लेकर यही सब हैम लोगों के चर्चा का विषय होता है. वैसे यह जो स्टेशन है वह अपने ही जैसा दिख रहा है

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह switzarland का एक स्टेशन है।

      Delete
  5. सच है, सबका अपना अनुभव आवश्यक है लेखन है, सुन्दर रचनात्मक उहापोह।

    ReplyDelete
  6. shabdon ko to ek sancha chahiye akar me dhalne ke liye ..kya fark padta hai gaanv aur shahar ka ....:)

    ReplyDelete
  7. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 20-03-2014 को चर्चा मंच पर दिया गया है
    आभार

    ReplyDelete
  8. असली रोमांच तो वही है , स्काई स्क्रेपर्स और फर्राटा भर्ती जिंदगी , बिलकुल लिखिए ,

    ReplyDelete
  9. लेखन में १०० ग्राम एहसास होना चाहिये ( आप का ही कथन ) , उपजे चाहे जहाँ से | चाहे सोंधी मिट्टी से उपजा हो या चाहे हवाई जहाज की खिड़की पर अटके चाँद से उपज आया हो |

    ReplyDelete
  10. यह सब ज़िंदगी के रंग है और ज़िंदगी में हर रंग ज़रूरी है तो गाँव की गलियां न सही, शहर की स्ट्रीट तो है। तो बस लिखिए खूब लिखिए और बिंदास लिखिए जी ...होली की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  11. ज़िंदगी के रंग हज़ार और हर रंग अपने में खूबसूरत...मनमोहक...तो फिर क्या फर्क पड़ता है कि हम अपने चित्र को किस रंग से भरते हैं...| बात तो ये है न कि चित्र वास्तविक लगे...| बहुत सटीक बात लिखी है आपने...|

    ReplyDelete

  12. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन ट्विटर और फेसबुक पर चुनावी प्रचार - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  13. सही कहा शिखा जी, परिवेश स्वतः झलकता है कविताओं में |

    ReplyDelete
  14. हम जिस परिवेश में जीत हैं उसी को भली भाँति जान पाते हैं ...ज़ाहिर है कि लिखेंगे भी उसी के बारे में । किंतु भाग्यशाली हैं वे लोग जिन्हें कई तरह की परिस्थितियों/ परिवेशों में जीने का अवसर मिल सका । निश्चित ही उनकी लेखनी का आकाश और भी विस्तृत होगा :)

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (20-03-2014) को एक बरस के बाद फिर, बरसेगी रसधार ( चर्चा - 1557 ) में "अद्यतन लिंक" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर रचना |

    ReplyDelete
  17. मानव जीवन का क्षेत्र बहुत व्यापक और विस्तृत हो गया है .किसी भी पक्ष कम महत्व का नहीं बल्कि आज तो ग्रामीण स्थितियाँ और पुराने रंग-ढंग बिलकुल बदल गए हैं अनुभव के क्षेत्र से एकदम बाहर . आप जो लिख रही हैं वह अपनी सच्चाई है ,अपने समय का दस्तावेज़.विविध देशों और बहुरंगी जीवन की अनुगूँज लेखन में होना बहुत ज़रूरी है .

    ReplyDelete
  18. बिलकुल जरूरी है ... हर वो चीज़ जो कायनात में है विशिष्ट है ... और उसकी विशेषता को लखना भी जरूरी है ...

    ReplyDelete
  19. U write on REAL LIFE........Dream ki bate to kabhi -kabhi hoti hai.....

    ReplyDelete
  20. हां बहुत ज़रूरी है शिखा... वो गुज़रा ज़माना है, तो ये वर्तमान है...

    ReplyDelete
  21. रोड, मेट्रो, ट्रेन, सड़कें, जींस ....... पर भी लिखना तो जरूरी ही है :)

    ReplyDelete
  22. लि‍खना जरूरी है.....सच

    ReplyDelete
  23. शिखा जी , अच्छा लिखने के लिये गहरी अनुभूतियों की जरूरत होती है । गाँव हो या शहर कोई अन्तर नही पडता । आप जहाँ हैं बहुत दिल से लिख रही हैं ।

    ReplyDelete
  24. सच है लिखने के विषय को तो किसी भी सीमा से परे होना ही है ....

    ReplyDelete
  25. लेखन कोई मात्र कल्पना नहीं ,अनुभव की धरा पर ही बीज पनपते हैं ,
    ज़रूरी है कि जो लिखा जाए सच्चाई के साथ लिखा जाए . ये भी ज़रूरी नहीं कि सोंधी महक केवल गाँव की मिटटी से आती हो .... इस महक का एहसास हमारी स्मृति से जुड़ा होता है .
    भावनाओं की सुन्दर प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  26. भावनाओं की अभिव्यक्ति भी आवश्यक है.

    ReplyDelete
  27. इंद्र धनुष का हर रंग खूबसूरत होता है...ये विभिन्नताएं ही जीवन में रस घोलती हैं ...

    ReplyDelete
  28. हकीकत के धरातल को छूता हुआ इमानदारी से लिखी हुई रचना.......काबिले तारीफ़ ......................

    ReplyDelete
  29. bilkul sahi kaha aapne. apne parivesh se ham achhuta kaise rah sakte hain

    ReplyDelete
  30. aap kahan ho, FB par bhi nahi dikh rahi ho, kyya hua, ham apko dhundh rahe hain, connect me...............................................................................................
    Pavnesh

    ReplyDelete
  31. zindgi ke ankahi kathaon k un rangon k baren me likhen jinki charcha abtak nahi hui.andheron ke khubsurti pe likhen ya budhe hote jawan lamhon k bare me ,sab me zindgi ka chand jhankta hua dikhe.tanha tanha sa mera blog hai kabhi kabhi fursat ho to us taraf ho len.ek lamha bevajah sa..www.skyfansclubblogspot.com

    ReplyDelete
  32. ...to aap mere blog pe aa rahin hai na?

    ReplyDelete
  33. सच में जरूरी है लिखना आत्मा को अगर रखना है जिंदा :)

    ReplyDelete
  34. वाह... लाजवाब प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@भजन-जय जय जय हे दुर्गे देवी

    ReplyDelete
  35. ji han mere paas nahi hai ......bahut achchi rachna hai shiksha ji badhai

    ReplyDelete
  36. हमारे लिए गांव तो जैसे खट्टा अंगुर!
    ईस 'ज़रूरी' काव्य के लिए धन्यवाद!

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *