Enter your keyword

Tuesday, 10 December 2013

जिजीविषा...

 ये भगवान भी न इंसानो की ही तरह हबड़ दबड़ में रहता है आजकल। ठीक से सुनता समझता भी नहीं बात पहले...
पूरी बात सुनिये यहाँ -



24 comments:

  1. Beautiful.....no more words...! :) :)

    ReplyDelete
  2. उफ़्फ़.......बहुत फ़िल्मी हो !!!!
    तौबा क्या लड़की है तू......(क्या हंसी है तेरी....)
    :
    :
    :
    चार मिनिट के बाद रुलाना ज़रुरी था.....
    नहीं .....वो लडेगी ....tap dance करना ही है.....
    <3
    love you for this!!!
    anu

    ReplyDelete
  3. मेरे भी शब्द = निशब्द

    सही बताएं तो टीप पढ़ कर लग रहा कुछ बढ़िया है. पर इस समय मेरे पास स्पीकर उपलब्ध नहीं हैं अत: और लोगों की टीप पढ़ कर टीप रहा हूँ. :(

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति. स्वर का माधुर्य, शब्दों की सांगत, भाषा की अलंकृति...सम्मोहन जगाते हैं....

    ReplyDelete
  5. लफ़्ज़ों की बारिश,बूँदों सी आवाज़ की बारिश … अच्छी लगती है

    ReplyDelete
  6. shikha ji sarve pratham to aapko badhai.is, ish utkrast karya ke liye..jeewan ke ish apa dhapi me ghrahasth se samay nikal aapne apne aap ko ham sabse rubroo karaya va ,apne vicharo ko hum sabke beech parosha..........lekhak chup ho sakta hai...likhna kabhi band nahi hota..jab tak sash hai kalam chalti rahni chahiye..kyu ki ye apki kalam hi hai jo samaj me murda padhe sareer me jaan dalti hai..parivartan la sakti.....aap apne karya me safal ho...ham sabhi ki ye kamnaye hai...........

    ReplyDelete
  7. अच्छा लगा ...

    ReplyDelete
  8. उफ़्फ़ तौबा .... :) नशा ही चढ़ गया शब्दों का .... आवाज़ का जादू .... क्या क्या कहूँ ? :):) बहुत खूबसूरत

    ReplyDelete
  9. कभी आवाज़ का नशा लफ़्ज़ों पे , कभी लफ़्ज़ों का नशा आवाज़ पे ।
    बेहद रूमानी ।

    ReplyDelete
  10. बौत सही दीदी... बौत सही....

    बिहारी में बोलें तो एकदम गर्दा... :D

    ReplyDelete
  11. आपका ये नया अंदाज़ छाता जा रहा है ... आज का जादू शब्दों पे भारी या नशा है तारी ...
    जो भी है ... कमाल है ... लाजवाब है ...

    ReplyDelete
  12. सुन पाने में असमर्थ हूँ।

    ReplyDelete
  13. वॉल्यूम बहुत कम आ रहा है ! इसलिये ठीक से सुन नहीं पा रहे हैं ! लेकिन सब की तारीफ़ पढ़कर आनंद आ रहा है !

    ReplyDelete
  14. बहुत खूबसूरत आवाज़ और बहुत ही पुर्कशिश प्रस्तुति!! :)

    ReplyDelete
  15. सुनना पढ़ने से अधिक भाव ले आता है।

    ReplyDelete
  16. बहुत खूब..शानदार।।।

    ReplyDelete
  17. मर्मस्पर्शी आलेख .....अदायगी और आवाज़ की खनक प्रभावित कर रही है .......सुंदर प्रस्तुति ....!!

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *