Enter your keyword

Sunday, 15 September 2013

कच्ची मिट्टी...



जब से लिखना शुरू किया, हमेशा ही मेरे मित्र मुझे कहानी भी लिखने को कहते रहे. परन्तु मुझे हमेशा ही लगता रहा कि its not my cup of tea.
फिर लगातार कुछ दोस्तों के दबाब के कारण और कुछ अपनी क़ाबलियत आजमाने के स्वाभाव 
के चलते यह पहला प्रयास किया .. और यह मेरी पहली कहानी इस माह (सितम्बर) की "बिंदिया" पत्रिका में प्रकाशित हुई है. 
प्रयास मेरा है और विश्लेषण आपका.



कच्ची मिट्टी...

स्लो मोशन में विजया,जाने किस धुन में सूटकेस में कपड़े भरे जा रही थी, ऐसा भी नहीं था कि वह कुछ सोच रही थी। सोचना तो उसने कब का बंद कर दिया था। अब तो बस खुद को किसी अनजान शक्ति के भरोसे सा छोड़ दिया था उसने। क्या कुछ नहीं किया था उसने। कितनी पोजिटिव हुआ करती थी वो, सोचा था इस माहौल से निकल कर कुछ सुधार हो ही जाएगा। पर इस १ साल में लन्दन की खुशगवार फिजा, आपस का साथ, अच्छे दोस्त कुछ भी तो सहायक नहीं  हुए थे। बल्कि अब तो हालात और बुरे होते दिखने लगे थे उसे, निराशा भी हावी होने लगी थी। 

कितनी खुश थी वह जब निखिल ने आकर उसे सुनाया था कि कम्पनी उसे १ साल के किसी प्रोजेक्ट के लिए लन्दन भेज रही है। खिल गई थी वो, कि चलो एक साल ही सही घर के इस माहौल से तो निकलेगी, उसे निखिल के साथ अकेले समय मिलेगा, बिना टोका- टाकी  वह एक दूसरे को कम से कम, समझने की कोशिश तो कर सकेंगे। उसे पूरा विश्वास था कि यह वक़्त जरूर उसकी शादीशुदा जिन्दगी के लिए वरदान साबित होगा। ख़्वाहिश थी ही क्या उसकी। सिर्फ इतनी कि एक सामान्य शादी शुदा जोड़े की तरह वह अपनी जिन्दगी जियें। शहर के सबसे नामी इंस्टीटयूट से उच्चस्तरीय पढाई की थी उसने। लोग मरा करते थे वहां दाखिला लेने के लिए। उसने सोचा था शादी होकर क्या बिगड़ जाएगा, क्या हुआ जो निखिल की माँ हमारे साथ रहेगी। अच्छा ही है। वह शादी के बाद अपना कोई काम शुरू कर लेगी, बिज़ी हो जाएगी तो निखिल को और उसे, माँ का सहारा रहेगा। एक छोटी सी दुनिया में खुश रहेंगे सब।निखिल ने कहा था की वह अपनी माँ से अलग नहीं रहेगा। वह सब उस की माँ के घर ही रहेंगे। कितना खुश हुई थी विजया तब। उसने सुना था कहीं, कि जो लड़का अपनी माँ से प्यार करता है वह अपनी बीवी को भी उतना ही चाहता है। 

पर पहले ही दिन उस घर में पहुँचते ही उसे लगा कि जैसे उसे यहाँ नहीं होना चाहिए। फिर उसने अपने दिमाग को झिड़क दिया। आखिर अनजान जगह है, अनजान लोग हैं ऐसा तो लगेगा ही। और फिर वह दूसरे ही दिन निखिल के ही एक दोस्त की जिद पर औपचारिकता के लिए हनीमून पर, पास के ही हिल स्टेशन पर चले गए थे। निखिल अपनी माँ को छोड़कर नहीं जाना चाहता था। उसकी माँ का भी कहना था कि जरुरत ही क्या है , यहाँ भी कौन सी भीड़ है , इतना बड़ा घर है और तीन प्राणी .मैं अकेली बूढ़ी  क्या तुम्हें डिस्टर्ब करुँगी। यह बात भी विजया को बाद में एक दिन, उसी दोस्त ने बातों बातों में बताई थी। तब तो वे चले ही गए थे। कितनी ऊर्जा थी विजया में तब, कितना बोलती थी . सारे रास्ते वही बोलती गई। निखिल कभी अपनी माँ से तो कभी ऑफिस में किसी न किसी से फ़ोन पर बात करता रहा। एक बार टोका भी विजया ने। तो उसने बेरुखी से कह दिया शादी की थकान है बहुत।अब बात तो सारी जिन्दगी तुम्हीं से करनी है ,और चद्दर तान के सो गया था। उसके बाद ७ दिन का हनीमून ३ दिन में समेट दिया, उसने ऑफिस में काम का बहाना बनाकर. वे तीन दिन भी विजया को हर पल लगता रहा जैसे हनीमून उसका अकेली का है निखिल तो कहीं उसके साथ है ही नहीं . कहीं कुछ दरका तो जरूर पर समझा लिया उसने खुद को। कोई जरूरी है हर आदमी एक सा ही हो, उसका निखिल उसकी सहेलियों के पतियों से अलग भी तो हो सकता है। जिनके पूरे हनीमून के दौरान होटल के बंद कमरे में पत्नियों पर टूटे पड़े होने के किस्से वो सुनती आई थी। आखिर यही तो हनीमून का मतलब नहीं। और सारी जिन्दगी पड़ी है साथ साथ ..जरूरी है सब कुछ हनीमून पर ही निबटा लिया जाये। यूँ उसे खुद भी तो उन ऊँचे पहाड़ों पर हाथ में हाथ डाल कर चढ़ने का ही मन था। परन्तु निखिल कुछ ज्यादा ही थका हुआ था ,हो भी क्यों न , उसका अपना घर तो भरा पूरा था। मम्मी , पापा दोनों के तरफ के रिश्तेदार इतने आपस में गुंथे हुए थे कि कभी लगता ही नहीं था अलग- अलग घर में रहते हैं। शादी का सारा काम कब कैसे हुआ पता ही नहीं चला , पर निखिल के यहाँ तो वह और उसकी माँ ही सब देख रहे थे। जाहिर है थकान तो होगी ही। अच्छा हुआ जल्दी ही जा रहे हैं घर। ४ छुट्टियां बाकी थीं निखिल की। घर पर आराम कर लेगा वो.

अगले दिन घर पहुँचते ही उसने मन बना लिया था कि इस घर को वह अपने आर्ट स्किल से एकदम बदल कर रख देगी। जाने क्यों उस घर में उसे हमेशा एक उदासी बिखरी दीखा करती थी। वह उन खामोश दीवारों को सजा कर मुखर कर देना चाहती थी। और इसीलिए अपने हाथ से बना एक खुशनुमा रंगविरंगा सा पोस्टर उसने लीविंग एरिया की एक खाली दिवार पर लगा दिया था। कैसी सजीव हो उठी थी दीवार। देखकर ही एक पॉजिटिव एनर्जी महसूस होती थी। 

शाम की चाय बनाने वह ऊपर अपने कमरे से नीचे आई तो देखा कि तस्वीर गायब थी. वह झट से जाकर निखिल की मम्मी से बोली -अरे मम्मी जी एक पेंटिंग लगाईं थी मैंने कहाँ गई ? अरे बहुत ही चीप लग रही थी। मैंने स्टोर में रख दी है।तुम्हें यह सब करना है तो अपने कमरे में करो. विजया को लगा जैसे पेंटिंग के साथ साथ उसे भी स्टोर में डाल दिया गया है। फिर उसके बाद तो वह जो भी करती मम्मी जी को कभी पसंद नहीं आता था। 
 किसी भी काम को करने के बाद वह उसे खुद करतीं और फिर निखिल के ऑफिस आने पर थकान और तबियत का रोना रोतीं। निखिल कभी उसे कुछ कहता नहीं था, न ही कुछ पूछता था। हालाँकि वह चाहती थी की वह कुछ बोले तो वह भी अपनी बात कह सके। ऐसे तो वह जो भी कहेगी निखिल गलत ही समझेगा। पर ऐसा होता ही नहीं था। धीरे धीरे विजया ने काम करने कम कर दिए। बस जरुरत भर के काम ही करती। उसमें भी सारा दिन मम्मी जी की बातें सुनती। उस दिन तो हद ही हो गई जब दिवाली पर विजया की बड़े शौक से लायी मोमबत्ती भी मम्मी जी ने लगाने से मना कर दिया, और उसकी बनाई रंगोली भी फैला दी, यहाँ तक कि पूजा का दिया तक उसे जलाने न दिया। विजया भरे पूरे घर में रही थी।हर तरह के व्यक्ति से निभाने की आदत थी उसे , पर पता नहीं ये मम्मी जी किस मिट्टी की बनी थीं, उसकी समझ से एकदम बाहर की बात थी। पता नहीं वो चाहती क्या थीं। बहु तो वह नहीं मानती थीं उसे, उस घर की एक सदस्य भी नहीं, पर शायद अपने बेटे की बीवी भी नहीं मानना चाहती थीं। हालाँकि शादी उसकी, दोनों तरफ के माता पिता ने ही अरेंज की थी अत: निखिल की माँ की सहमति से ही हुई थी।परन्तु वह निखिल को विजया के पास फटकने भी नहीं देना चाहती थी। कभी विजया निखिल के पास भी बैठ जाती तो किसी बहाने उसे उठा कर खुद वहां बैठ जाती। रात को जब तक संभव होता किसी न किसी बहाने निखिल को नीचे ही रोके रखतीं। उसकी समझ में नहीं आता था कि आखिर निखिल की शादी उन्होंने की ही क्यों है, निखिल को भी शादी की कोई जरुरत महसूस नहीं होती थी। तो क्या समाज के दवाब में उन्हें घर में एक लड़की नाम की जंतु चाहिए थी बस, जो बहु बनकर उस घर के एक खूंटे से बंधी रहती और जिसकी आड़ में वह अपने बेटे की नपुंसकता छिपा सकती थीं और समाज का मुंह बंद कर सकती थीं.
क्रमश:
अगली किश्त (समापन) यहाँ 


20 comments:

  1. कौन कहता है आपने पहली बार कहानी लिखी? अद्भुत शिल्पकार की तरह कथ्य को संवारा गया है और प्रवाह पाठक को विचारो की झिझिनी का आनंद प्रदान करता है . प्रारम्भ से ही कथानक रोचकता लिए है . मानवीय मस्तिस्क और विचारों को प्रशंशनीय ढंग से आपने मूर्त रूप दिया है . कहानी समाज की विसंगति को जोरदारी से इंगित है विचारो के झंझावत उठाती है .स्वस्ति स्वस्ति .

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - सोमवार - 16/09/2013 को
    कानून और दंड - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः19 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra





    ReplyDelete
  3. विकट परिस्थितियों में पले बढे पुत्र के माँ से अत्यधिक लगाव वाले भिन्न प्रकार की मानसिक स्थिति से कैसे पटरी बैठेगी , देखे आगे क्या हो।

    ReplyDelete
  4. अगली कड़ियों की प्रतीक्षा रहेगी, पहली कड़ी में आपने रोचकता के विस्तार बो दिये हैं।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (16-09-2013) गुज़ारिश प्रथम पुरूष की :चर्चामंच 1370 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    हिन्दी पखवाड़े की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  6. आपका प्रयास बहुत सुन्दर है .... आगे की कड़ियों की प्रतीक्षा रहेगी...

    ReplyDelete
  7. शिखा जो अच्छा लिखता है वह हर विधा की नब्ज़ पकड़ लेता है ...तुमने भी बखूबी बाँधा है ....अगली कड़ी का इंतज़ार है

    ReplyDelete
  8. second part jaldi se.... intezaar nahi ho raha jabardast

    ReplyDelete
  9. शुरुआत प्रभावी है और रोचक भी .....

    ReplyDelete
  10. परिस्थितियाँ ही मानसिकता को आकार देती हैं .... अभिमान छोड़ दें लेकिन स्वाभिमान को नहीं छोड़ना चाहिए .... कहानी का शिल्प काफी सुगठित है ... पाठक को जिज्ञासु बनाए रखता है .... और इसी जिज्ञासा से कि क्या अंत होगा आगे की कड़ी का इंतज़ार है ....

    ReplyDelete
  11. सुघड शिल्पकार की तरह लिखी हुई ... अंत तक जिज्ञ जगाये रक्खी आपने इस कहानी में ... बहुत ती रोचक ताना बाना बुना है जो अगली कड़ी की प्रतीक्षा को बेताब बनाता है ...

    ReplyDelete
  12. सच परिस्थितियाँ क्या कुछ न करा देती हैं ..
    बहुत बढ़िया प्रशंनीय प्रस्तुति

    ReplyDelete
  13. ऐसी ही एक मिलती जुलती कहानी मेरे भी कहानी संग्रह का हिस्सा हैं...और वो संग्रह जल्दी ही आने भी वाला है

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह .. जब संग्रह आयेगा बताइयेगा, जरूर पढेंगे.

      Delete
  14. बढ़िया प्रशंनीय प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  15. agli kadi ka intzaar rehega..........badhai bahut hi sundar prastuti...........

    ReplyDelete
  16. अनुभव अनेकों पत्नियों के ऐसे ही होते हैं माँ की अपनी कूटनीति होती है बेटे पर अधिकार बनाए रखने की .....सुन्दर लेखन शिखा महिलाओं का यही भाग्य है हमारे समाज और परिवारों में केवल मातापिता की अपेक्षाओं की भर पाई के लिए बने रिश्ते यूँ ही चलते हैं ..

    ReplyDelete
  17. पढ रहे हैं. दूसरा भाग पढने जा रहे हैं.

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *