Enter your keyword

Thursday, 25 July 2013

"मन के प्रतिबिम्ब" और छुट्टियां ...

लन्दन में मौसम की खूबसूरती अपने चरम पर है , स्कूलों की छुट्टियां शुरू हो गई हैं और नया सत्र सितम्बर से आरम्भ होने वाला है. ऐसे में हम जैसे के माता पिता के लिए (जिनके बच्चे स्कूल जाते हैं ) यही समय होता है जो भारत जाकर इन छुट्टियों का सदुपयोग कर आयें. तो हम जा रहे हैं एक महीने की छुट्टी पर. मुंबई, गोवा, दिल्ली आदि जगह पर घूमते हुए आते हैं वापस, जल्दी ही, यहीं , इसी जगह :)

हाँ जाते जाते आप सब के साथ एक सूचना साझा करनी है.
कविता लिखना मेरा शौक नहीं, मेरी जरुरत है. और यह काव्य संग्रह है  मेरे 
मनोभावों का प्रतिबिम्ब। यह सपना है मेरे स्वर्गीय पिता का जो तब से उनकी पलकों में पला जब १२ वर्ष की अवस्था में मेरी पहली ही रचना एक स्थानीय पत्रिका ने छापी। तब से कवितायेँ पहले मेरी डायरी में, फिर ब्लॉग और पत्र-पत्रिकाओं से होती हुई आज इस काव्य संग्रह तक पहुँच गईं हैं.  

आज सुभांजलि प्रकाशन के सौजन्य से यह काव्य संकलन आप सबके सुपुर्द है. 

इसी मौके पर मैं उन सभी मित्रों, पाठकों और गुरुजनों का आभार प्रकट करना चाहती हूँ, जिन्होंने मेरी कविताओं को पढ़ा, सराहा, अपनी अमूल्य प्रतिक्रया दी और मार्गदर्शन भी किया। आपसब का यही स्नेह मुझे निरंतर लिखने के लिए प्रेरित करता है. 

आप यह पुस्तक खरीदने के लिए निम्न पते पर संपर्क कर सकते हैं. पुस्तक का मूल्य हार्ड बाउंड 170/- और पेपर बैक 100/- रु है जो क्रमश: 10% और 20% की छूट पर उपलब्ध है. 
पुस्तक आपको VPP द्वारा भेजी जाएगी. निकट भविष्य में फ्लिप्कार्ट पर भी आने की संभावना है.

Subhanjali Prakashan (https://www.facebook.com/subhanjali.prakashan?fref=ts )28/11, Ajitganj Colony, T. P. Nagar, Kanpur-208023, 
Email : subhanjaliprakashan@gmail.com
Mobile : 09452920080



ओके टाटा, नमस्कार . मिलते हैं एक छोटे से ब्रेक के बाद. :)

35 comments:

  1. शुभ यात्रा ... :)

    काव्य संकलन के लिए मुबारकबाद तो पहले ही दे चुके ... चलिये एक बार और सही ... :)

    "मन के प्रतिबिम्ब" के लिए हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  2. काव्य संकलन के लिए बहुत बहुत बधाई ....शुभ यात्रा

    ReplyDelete
  3. पधारो जी , स्वागत है . मन के प्रतिबिम्ब के लिए शुभकामनाये और बधाई . यात्रा मंगलमय हो .

    ReplyDelete
  4. bahan aapko bahut bahut mubarak ho .aur bharat ki yatra mangalmy ho.
    rachana

    ReplyDelete
  5. काव्य संकलन की ढेरों बधाई, शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  6. बहुत बधाई काव्य संग्रह मन के प्रतिबिब के प्रकाशन के लिये । आपका भारत प्रवास सुखकर हो ।

    ReplyDelete
  7. बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  8. ढेरों बधाई, शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  9. भारत में आपका स्वागत है :):) मन के प्रतिबिंब के लिए बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें

    ReplyDelete
  10. शिखा जी..

    आपको हार्दिक शुभकामनायें.. आईये अपने देश जहाँ की आबोहवा में रिश्तों की ठँडक न होकर अपनेपन की गर्माहट है..बरसात से मौसम अपेक्षाकृत ठँडा है आजकल..आशा है आपका स्वदेश प्रवास सुखद रहेगा...पुन: शुभकामनायें...:)

    ReplyDelete
  11. हार्दिक बधाई शिखा काव्य संकलन की ...!!शुभस्वागतम ....आनंद मंगल मंगलम ...नित प्रियम भारत भारतम .....!
    हम रास्ता देख रहे हैं ....!!

    ReplyDelete
  12. उड़ी बाबा कविता संग्रह भी छप गया :)
    बधाई हो। विमोचन कानपुर में किया जाये तब मजा है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप जिम्मा लें तो सोचा जाये :).

      Delete
    2. अरे जिम्मे का क्या है। आपके प्रकाशक महोदय हैं, अपने आशीष भाई हैं। हम भी पहुंच जायेंगे जब विमोचन होगा। करिये , जो होगा देखा जायेगा।

      Delete
  13. काव्य संकलन की ढेरों बधाई …
    शुभ यात्रा !

    ReplyDelete
  14. स्‍वागत है भारत में आपका। काव्‍य संकलन की बधाई।

    ReplyDelete
  15. आपके 'हाथों' से आपकी 'कृति' पाने की अभिलाषा में 'लखनऊ' में आपके स्वागत की उत्सुकता में प्रतीक्षारत ....।

    ReplyDelete
  16. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(27-7-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  17. बधाई हो जी, Bon Voyage !!!!!!

    ReplyDelete
  18. आपके आने से पहले, आहटें आने लगीं
    डायरी ब्लॉग से पुस्तक बनी, छाने लगी।

    ....हार्दिक शुभकामनाएँ, बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  19. शुभकामनाएं. ढेरों प्रति‍यां बि‍कें.

    ReplyDelete
  20. बधाई स्‍वीकार करें।

    ReplyDelete
  21. तुम आ जायो .....मैं ज़िम्मा लेती हूँ तुम्हारी काव्य संग्रह के विमोचन का.....

    बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  22. पुस्तक प्रकाशन हेतु बधाई !
    भारत प्रवास आनन्दमय हो !

    ReplyDelete
  23. waah shikha ji bahut bahut badhai sath hi bharat bhraman ka aanand uthayen ,aaiye delhi mein aapki prtiksha karte hain
    swagat hai aapka

    ReplyDelete
  24. इस काव्य संकलन पे ढेरों बधाई और शुभकामनायें ...
    आपका भारत प्रवास आनंदमय हो ...

    ReplyDelete
  25. काव्य संकलन के प्रकाशन पर हार्दिक बधाई । भारत में आपका स्वागत है विशेषकर कानपूर में ।

    ReplyDelete
  26. हार्दिक बधाई पूरे परिवार को..

    ReplyDelete
  27. पुस्तक प्रकाशन के लिए हार्दिक बधाई. हम तो यहाँ आपका इंतज़ार कर रहे हैं, कब आ रही हैं? भारत की यात्रा सुखद एवं मंगलदायक हो!

    ReplyDelete
  28. एकदम दिल से बधाई ......!!!

    ReplyDelete
  29. हार्दिक बधाई व शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  30. दिल से शुभकामनाएं...

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *