Enter your keyword

Thursday, 31 January 2013

असमंजस..



कल रात सपने में वो मिला था 
कर रहा था बातें, न जाने कैसी कैसी 
कभी कहता यह कर, कभी कहता वो 
कभी इधर लुढ़कता,कभी उधर उछलता 
फिर बैठ जाता, शायद थक जाता था वो 
फिर तुनकता और करने लगता जिरह 
आखिर क्यों नहीं सुनती मैं बात उसकी 
क्यों लगाती हूँ हरदम ये दिमाग 
और कर देती हूँ उसे नजर अंदाज 
मारती रहती हूँ उसे पल पल 
यूँ ही, ऐसे ही, किसी के लिए भी।
मैं तकती रही उसे, यूँ ही 
निरीह, किंकर्तव्यविमूढ़  सी 
क्या कहती, कैसे समझाती उसे 
कि कितना मुश्किल होता है 
यूँ उसे दरकिनार कर देना 
सुनकर भी अनसुना कर देना 
और फिर भी छिपाए रखना उसे 
रखना ज़िंदा अपने ही अन्दर 
रे मन मेरे !! मैं कैसे तुझे बताऊँ 
जो तुझे मारती हूँ तो 
खुद भी मरती हूँ शनै: शनै:.


39 comments:

  1. रे मन मेरे !! मैं कैसे तुझे बताऊँ
    जो तुझे मारती हूँ तो
    खुद भी मरती हूँ शनै: शनै:.

    ReplyDelete
  2. "मन रे तू काहे न धीर धरे ..."

    ReplyDelete
    Replies
    1. बाल श्रम, आप और हम - ब्लॉग बुलेटिन आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

      Delete
  3. इस कविता सृजन के समय आपकी सोच में जो भी सम्‍बन्‍ध रहा हो, पर यह किंकर्तव्‍यविमूढ़ता मुझे तो बच्‍चों पर संकेन्द्रित कर गई। प्राय: अपनी बेटी के साथ मेरे अनुभव आपकी कविता की पंक्तियों जैसे ही होते हैं। यथार्थ के सन्निकट, अत्‍यन्‍त स्‍पन्दित करती कविता।

    ReplyDelete
  4. रे मन मेरे !! मैं कैसे तुझे बताऊँ
    जो तुझे मारती हूँ तो
    खुद भी मरती हूँ शनै: शनै:.

    ReplyDelete
  5. खुद भी मरती हूँ शनै: शनै:.गहरी उतरती बात ....

    ReplyDelete
  6. bahut hi sundar lekhni hai ji aapki , saar garbhit bhi !! kripya " 5th pillar corrouption killer " naamak blog ko bhi dekhne ka kasht karen . the link is :- www.pitamberduttsharma.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन कविता


    सादर

    ReplyDelete
  8. वाकई ...उस शिशु ..उस मन के साथ कितना गलत करते हैं हम....वह हमारी प्रायोरिटी लिस्ट में सबसे आखिर में आता है ......:)

    ReplyDelete
  9. हाँ, हम अक्सर मन को मारते हैं, लेकिन वो भी तो कितनी-कितनी असंभव सी फरमाइशें करता रहता है :)

    ReplyDelete
  10. अरे मत मारो ना उसे...उसकी सुनो....देखना कित्ती ख़ुशी मिलेगी :-)

    अनु

    ReplyDelete
  11. मन के मन के भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने.....

    ReplyDelete
  12. अपने अन्दर के इन्सान को मारना असम्भव होता है.

    ReplyDelete
  13. आसान नहीं होता एसा करपाना इसलिए शायद जो तुझे मारती हूँ तो
    खुद भी मरती हूँ शनै: शनै:....सुंदर भावभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  14. मन का खेल निराला भैया,
    कितना हमें नचाया भैया।

    ReplyDelete
  15. मन के उदगार , मन के द्वार . जीवन में अनगिनत बार , हर बार वो जाता हर, लेकिन फिर एक नई इच्छा के साथ तैयार.

    ReplyDelete
  16. man ki suno to man hi jabab dega...........

    ReplyDelete
  17. कभी मन मारना पड़ता है, कभी मसोसना।
    ये मन होता ही इतना नौटी है कि संभालना पड़ता है।

    ReplyDelete
  18. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 02/02/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  19. kai din baad...kuchh alag padhaa...khoob likha hai ji.. :) (y)

    ReplyDelete
  20. मन तो ऐसा ही है जितना समझाओ उतना नासमझ बन जाता है

    ReplyDelete

  21. मन को जितना मारो उतना ही वह उत्तेजित हो जाता है.बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    New postअनुभूति : चाल,चलन,चरित्र
    New post तुम ही हो दामिनी।

    ReplyDelete
  22. मन की उछल कूद , तुनकना , जिरह सब जारी रहे .... कभी तो उसकी सुनी ही जाएगी .... अंतिम पंक्तियाँ बहुत मार्मिक हैं .... मर्मस्पर्शी शायद इस लिए कि यही एहसास मुझे भी होता है .... बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  23. मन को मारने का द्वंद्व मन से ही......

    ReplyDelete
  24. कितना भी मार लें उसे ऐसा जबर है - वह चुप बैठनेवाला नहीं !

    ReplyDelete
  25. duniya ka sabse kathin kam hai apne man ko vash mein karna,sundar rachna

    ReplyDelete
  26. च च न मारिये किसी को न मरने दीजिये मन को -अहिंसा परमों धर्मः !

    ReplyDelete
  27. थक तो जाएंगे हम कभी क्षीण हो कर, फिर भी मन
    तो रहेगा ही सदा जवां...अपनी नित नई-नई ख्वाहिशें लिए ...
    शिखा जी, गफ्लतें, सतर्क्ताएं, ऋजुताएं,संवेदनाएं, सहानुभूति
    सब कुछ ही यहाँ जायज़ सी लगे,जिसे बखूबी आपने दर्ज किया...
    और हमें once again यक़ीन दिलाया की कुछ बातें और मसलों
    को इतनी बेबाक़ी, बारीक़ी और अपनी एक अनूठी व मौलिक
    स्टाईल में आप ही लिख पाओ ...!

    हम सभी को निरंतर चकित करती मन की ख्वाहिशातों का
    सटीक चित्रण !

    ReplyDelete
  28. सच है, मन को मारना मतलब खुद को मारना. भावपूर्ण रचना.

    ReplyDelete
  29. सच में बहुत मुश्किल होता है मन को मार लेना , बुद्धि को कैसे समझाएं !
    बहुत अपनी सी अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  30. जो मन में है उसे पूरा करो चाहे छुप छुप के ही .. मन को क्यों मारें जब वो अपनी चीज है ...

    ReplyDelete
  31. बेहतरीन प्रस्तुति।।। लेकिन मन की हर बात सुनना भी सही नहीं कई बार मन की चंचलता बहुत भटका देती है।।।

    ReplyDelete
  32. मन में उठे द्वंद को सपनों के शब्दों से सजा दिया ...बहुत खूब

    ReplyDelete
  33. मन तो बस मन ही है ,न ....

    ReplyDelete
  34. बहुत खूब भाव पूर्ण प्रस्तुति

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    एक शाम तो उधार दो

    मेरे भी ब्लॉग का अनुसरण करे

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *