Enter your keyword

Tuesday, 18 December 2012

प्रलय-....बाकी है ??

सुना है 21 दिसंबर को प्रलय आने वाली है ..पर क्या प्रलय आने में कुछ बाकी बचा है ?.भौतिकता इस कदर हावी है की मानवता गर्त में चली गई है, बची ही कहाँ है इंसानों की दुनिया जो ख़तम हो जाएगी।मन बहुत खराब है ..

यूँ राहों पर कुलांचे भरती
पल में दिखती पल में छुपती
मृगनयनी वो दुग्ध.धवल सी
चंचल चपल वो युव शशक सी
घूँघर लट मचल मचल कर
करती ग्रीवा से ठिठोली।
पगडंडी पर कल मिली थी
करती झाड़ी से अठखेली 
कल कल बहती जाती जैसे  
पावन, निर्मल कोई नदी सी
बोली में मिश्री सी घोली
गुनगुन भी सरगम सी बोली 

तभी प्रकट हुई एक टोली 
बहशी, दानव से वे भोगी 
इंसानों की इस दुनिया में 
पशुवत,कुंठित वे मनोरोगी 
पल भर में ही बदल गया दृश्य 
क्षत विक्षत अब पडी वो भोली। 

57 comments:

  1. सच कहा 21 दिसम्बर का ही इंतजार क्यूँ, न जाने हर रोज़ कितनी बार दुनिया मरती है! जिन्दा हे ही क्या! मुर्दों कि बस्तियां हैं बस!

    ReplyDelete
  2. रोज मानवता शर्मसार हो रही है।
    वहशी दरिंदों को छोड़ना नहीं चाहिए।

    ReplyDelete
  3. मानवता गर्त में चली गई है,बचा ही क्या है,,,,

    बेहतरीन सुंदर रचना,,,,

    recent post: वजूद,

    ReplyDelete
  4. लोग भूकंप सुनामी ज्वालामुखी के फटने की सोच में हैं - काला चश्मा पहनकर

    ReplyDelete
  5. darawani news thi... jab padha to ek dum se sach me mere sharir me sihran hi ho gayee... aisa bhi log kar sakte hain...:(
    bahut dardnak... marmik chitran..

    ReplyDelete
  6. प्रलय भी संभवतः इससे कम भयावह होगी |

    ReplyDelete
  7. प्रलय भले की कपोल कल्पित लगती हो लेकिन सच में ये घृणित कार्य मानवता के लिए प्रलय सामान ही है .नर पिसाचों को अगर कठोरतम सजा भी मिली तो वो भी कम होगी . मानवता को लज्जित किया उन्होंने.

    ReplyDelete
  8. यह नरपिशाच हम सबके बीच ही रहते हैं ...

    ReplyDelete
  9. जो कुछ हो रहा है प्रलय से अधिक है, ना जाने क्यों ये धरती थमी है??

    ReplyDelete
  10. प्रलय इसी को परिभाषित कर,
    आज सभ्यता स्वाहा कर दो।

    ReplyDelete
  11. जिन्हें अपनी माँ, गंगा जमुना के साथ बलात्कार करते लज्जा नहीं आई, उनसे क्या आशा की जा सकती है!! एक कुसभ्यता पनप रही है!!
    मार्मिक रचना!!

    ReplyDelete
  12. :-(
    कुछ सूझ नहीं रहा..कुछ समझ नहीं आ रहा.........
    सुन्न पड़े दिमाग से क्या कहें....

    अनु

    ReplyDelete
  13. अब प्रलय को बचा ही क्या है ... प्रलय आ जाए तो कम से कम कोई बचेगा तो नहीं दुखी होने को .... सार्थक लेखन

    ReplyDelete
  14. मानवता का हर ओर ह्रास और तार-तार होती इंसानियत के बीच प्रलय आकर भी क्या कर लेगा।

    ReplyDelete
  15. प्रलय इसी रूप में या इसी बहाने तो आएगी । संहार का कोई बहाना तो होना चाहिये ।

    ReplyDelete
  16. वेदना को बखूबी बयान किया आपने .....

    वाकई क्षत-विक्षत हर मन को कर देने वाल यह घिनौना कृत्य मानवता को शर्मशार करता है .....

    ReplyDelete
  17. ऐसे दानवों के लिये चंडिका बन कर रक्तपान के लिये स्त्री को ही शस्त्र धारण करना पड़ेगा ,लोग तो भीड़ होते है या भेड़िये!

    ReplyDelete
  18. सच प्रलय ही है ...हृदय विदारक .....!!

    ReplyDelete
  19. बढ़िया है... भाषा और शब्दों के मामले में थोड़ी सावधानी बरतना अपेक्षित है...

    ReplyDelete
  20. http://bulletinofblog.blogspot.in/2012/12/16.html

    ReplyDelete
  21. प्रलय से कम नहीं है ये सब देखना ओर इस समाज को भोगना ...

    ReplyDelete
  22. प्रलय मानवता के नाश का दूसरा नाम है और कहते हैं कि जब जब धरती पर अत्याचार बढ़ता है ईश्वर अन्म लेता है अब पता नहीं किस बात का इन्तजार है? हम जिन्दा कहाँ है ? आहत होकर तड़प रहे हैं न जिन्दा है और न मुर्दा

    ReplyDelete
  23. तभी प्रकट हुई एक टोली
    बहशी, दानव से वे भोगी
    इंसानों की इस दुनिया में
    पशुवत,कुंठित वे मनोरोगी
    पल भर में ही बदल गया दृश्य
    क्षत विक्षत अब पडी वो भोली।

    SACH KAHA AAPANE

    ReplyDelete



  24. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    ¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤
    आदरणीया शिखा जी
    आपको
    *जन्मदिन की हार्दिक बधाई !*
    **हार्दिक शुभकामनाएं !**
    ***मंगलकामनाएं !***


    राजेन्द्र स्वर्णकार
    ¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    ReplyDelete



  25. तभी प्रकट हुई एक टोली
    बहशी, दानव से वे भोगी
    इंसानों की इस दुनिया में
    पशुवत,कुंठित वे मनोरोगी
    पल भर में ही बदल गया दृश्य
    क्षत विक्षत अब पडी वो भोली

    इन जानवरों - दरिंदों को इंसान कहने वाला हर शख़्स मानसिक विकलांग ही होगा ...


    आपकी रचना में बहुत सौम्य संयत भाव से इस घृणित घटना की ओर इशारा किया गया है...

    आज हर भारतीय स्वयं को असुरक्षित अनुभव कर रहा है ,
    क्योंकि ढुलमुल लच्चर शासन व्यवस्था के कारण गुंडे आतंकी अपराधी और भ्रष्टाचारी बेखौफ़ हैं ,
    और आम जनता को ही हर कहीं हानि उठानी पड़ रही है ...


    अपराधी पकड़ा जाए तो उसे शर्मिंदा होने देने से भी अपराध पर अंकुश की संभावना है ...
    कितनी आश्चर्य की बात है कि
    पुलिस थानों में अपराधियों को मुंह ढकने में मदद देने के लिए विशेष रूप से थैले सिलवा कर पहले ही से तैयार रखे जाते हैं

    लेकिन अफसोस , पीड़ित की मदद के लिए कोई पूर्व तैयारी नहीं होती !
    इस देश की व्यवस्था में परिवर्तन की सख़्त आवश्यकता है ...


    मन को उद्वेलित करती रचना !
    ... लेकिन काश , यह विषय रचनाओं के लिए न होता ... हमारी बहन-बेटियों की सुरक्षा पर कभी आंच ही न आई होती ।

    सादर
    शुभकामनाओं सहित…

    ReplyDelete
  26. ढूंढते है हम वो दरो दिवार जिन पर लिखा पढ़ते थे ....जहाँ नारियां पूजी जाती है , वहां देवता बसते हैं !

    ReplyDelete
  27. आज तो जन्म दिन की बधाई देने आया हूँ आपके ब्लॉग पर। जन्म दिन शुभ हो..ईश्वर आपकी लेखनी को और धार दे..सदा प्रसन्न रहें।

    ReplyDelete
  28. :(
    bahut dukhi hai man... kya karein kya n karein - kuchh samajh nahi aata ...
    :(

    ReplyDelete
  29. jindgi salibo ke karib aayee to ham kanun samjhane lge hai

    ReplyDelete
  30. आए दिन ऐसी प्रलय आती रहती हैं..~ कुछ समाचार-पत्रों और टी. वी को हिलाकर चली जातीं हैं... कुछ सिर्फ़ घरों के अंदर तहस-नहस मचा कर...... :((

    ReplyDelete
  31. बहुत सही लिखा है आपने


    सादर

    ReplyDelete
  32. बहुत खूब .... आप भी पधारो पता है http://pankajkrsah.blogspot.com

    ReplyDelete
  33. सही है. ऐसी प्रलय से तो पृथ्वी के नष्ट होने वाली प्रलय ही बेहतर :(

    ReplyDelete
  34. अब तो महिषासुर मर्दिनी बनने का वक्‍त आ गया है। किसी को भी अपना रक्षक ना माने, ये सब भक्षक बन चुके हैं। स्‍वयं की रक्षा के लिए दुर्गा का रूप धारण करें।

    ReplyDelete
  35. जो कुछ हो रहा है उससे तो प्रलय ही ज्यादा अच्छी होगी.

    रामराम

    ReplyDelete
  36. साक्ष्य है होमोसैपिअन के वहशीपन का

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/

    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ
    http://veerubhai1947.blogspot.in/
    शुक्रवार, 21 दिसम्बर 2012
    बलात्कार एक लाइलाज कैंसर

    ReplyDelete


  37. Virendra Kumar Sharma20 December 2012 21:25
    मत सोचो की कुछ नहीं होगा ,

    होगा कत्ले आम दरिंदों का ,

    सबला के हाथों ,उड़ते परिंदों (दरिंदों )का ,

    सत्ता के बाजों का .

    खाली नहीं जाएगा संघर्ष मौत के साथ

    जूझती उस फिजियो का जो जीना चाहती है .

    भर दो मिर्ची लाल, आँखों में इनकी ,

    भर दो मलद्वार में .

    याद आये इन्हें छटी का दूध .

    ReplyDelete

    ReplyDelete
  38. परवाज़ ज़िन्दगी की हौसलों से भरी जाती है अपने आप को उस युवा सम्राट में शामिल न करो जो शान्ति की बात भी वीर रस में करता हुआ बाजू चढ़ा लेता है .केजरीवाल अकेले नहीं हैं

    .अच्छे लोग राजनीति में आयेंगे तो रास्ता बनेगा .

    ये वहशी भी दुम दबाके भागेंगे .

    प्रतीकों की मार्फ़त कह दी व्यथा कथा इस युग की मृगनयनी ,भोली हिरनिया की ........लेकिन

    वन्य जीवों के शिकार पे तो अब प्रतिबन्ध है .......................मानवी भी रहेगी सुरक्षित ,हौसला न छोड़ो .........

    सीखो अब मार्शल आर्ट वक्त है .

    ReplyDelete
  39. नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी सच निकली है शिखाजी...इंसान ख़त्म नहीं हुआ तो क्या हुआ इंसानियत तो मर ही चुकी है।।।

    ReplyDelete
  40. कयामत सिर्फ सृष्टि समाप्त होने पर ही नहीं आती , मानवीय मूल्यों की गिरावट तो इस स्थिति तक पहुँच ही चुकी !

    ReplyDelete
  41. मार्मिक रचना

    ReplyDelete
  42. बची ही कहाँ है इंसानों की दुनिया जो ख़तम हो जाएगी!

    True...

    ReplyDelete


  43. नववर्ष शुभ हो ,खुश हाली लाये चौतरफा आसपास आपके .नव वर्ष शुभ हो ,खुश हाली लाये चौतरफा आपके आसपास .

    Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.in/ बृहस्पतिवार, 27 दिसम्बर 2012 दिमागी तौर पर ठस रह सकती गूगल पीढ़ी


    1mVirendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    आरोग्य प्रहरी ...... http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2012/12/blog-post_8739.html …

    ReplyDelete
  44. संसार का सच बताती रचना पर बधाइयाँ। शिखा जी ज्ञानेश कुमार वार्ष्णेय का नमस्कार
    आपने सच ही कहा है कि मानवता पर दानवता भारी पढ़ रही है।और एसी दानवता को क्या प्रलय नष्ट करेगी यहाँ तो महाप्रलय की आवश्यकता होगी।मेरे आयुर्वेदिक ब्लागो पर आपको तथा आपके पाठकों का सादर आमंत्रँण है। मैं आपके व्लागों पर आया तो अपने को आपका फोलोअर बनाने से न रोक पाया मेरे व्लाग एग्रीगेटर राष्ट्रधर्म पर आपके व्लाग को भी लगा रहा हूँ।

    ReplyDelete


  45. ♥(¯`'•.¸(¯`•*♥♥*•¯)¸.•'´¯)♥
    ♥नव वर्ष मंगबलमय हो !♥
    ♥(_¸.•'´(_•*♥♥*•_)`'• .¸_)♥




    नव वर्ष की शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार
    ◄▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼►

    ReplyDelete
  46. लोक अपनी सत्ता को पहचानेगा .व्यर्थ न जायेगी यह शहादत यह जंग जीवन की मौत के संग ,मौत के निजाम के संग .श्रृद्धांजलि निर्भया .हाँ !प्रलय बाकी है .इस रचना का वजन तब से अब और भी

    बढ़ गया है दिनानुदिन बढ़ेगा .


    कृपया अठखेली कर लें अट -खेली को .

    ReplyDelete
  47. सच प्रलय इससे भयंकर नहीं हो सकता ...बहुत सटीक प्रस्तुति ..आभार

    ReplyDelete
  48. प्रलय आ ही गयी होती तो अच्छा था, खैर नहीं आयी , इसे जीवनदान समझा जाए !!!

    live fearless, not careless!!!!

    ReplyDelete
  49. '...पल भर में ही बदल गया दृश्य / क्षत विक्षत पड़ी अब वो भोली सी...' उस दर्द को, अगम वेदना को व्यक्त कर रही है कविता जिसके लिए शब्द कम भी पड़ रहे हैं और कमज़ोर भी....

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *