Enter your keyword

Friday, 5 October 2012

मुझे याद है प्रिय ! याद है .Я помню, любимая, помню


कुछ दिन पहले अनिल जनविजय जी की फेस बुक दिवार पर एसेनिन सर्गेई की यह कविता  .Я помню, любимая, помню (रूसी भाषा में ) देखि. उन्हें पहले थोडा बहुत पढ़ा तो था परन्तु समय के साथ रूसी भी कुछ पीछे छूट गई. यह कविता देख फिर एक बार रूसी भाषा से अपने टूटे तारों को जोड़ने का मन हुआ.अत:  मैंने इसका हिंदी अनुवाद कर डाला .कविता अनुवाद का ज्यादा अनुभव मुझे नहीं है. अपनी समझ के अनुसार मैंने अपनी पूरी कोशिश की है कि शब्दों के साथ कविता के भावो में भी न्याय कर सकूँ.परन्तु यदि किसी को बेहतर करने की कोई गुंजाइश लगे तो कृपया जरुर बताइयेगा. फिर गाहे बगाहे स्पंदन पर आपको रूसी कवितायेँ भी मिलेंगी.

मुझे याद है प्रिय ! याद है 
तेरे बालों की वो चमक 
ना आसान था, ना सुखद 
तुझे छोड़ देना .

याद है मुझे वो शरद की रात 
वो सरसराती हुई परछाइयां 
बेशक वो दिन छोटे थे पर 
चाँद की हम पर रौशनी अधिक थी.

मुझे याद है तुने कहा था,
"ये गहरे दिन गुजर जायेंगे 
तुम भूल जाओगे प्रियतम 
किसी दूसरी के साथ 
मुझे हमेशा के लिए."

आज लिपा* पर खिले फूल 
मुझे अहसास कराते हैं 
कैसे तेरे घुंघराले वालों पर 
मैंने फूल बिखराए थे.

दिल शांत होने को तैयार नहीं 
दुखद है किसी दूसरे को चाहना 
जैसे किसी मनपसंद कहानी में 
दूसरी के साथ तुझे याद करना .

एसेनिन सेर्गेई 
(SERGEI ESENIN. СЕРГЕЙ ЕСЕНИН)

*लिपा = एक तरह का फूलों का वृक्ष (linden)


Я помню, любимая, помню
Сиянье твоих волос.
Не радостно и не легко мне
Покинуть тебя привелось.

Я помню осенние ночи,
Березовый шорох теней,
Пусть дни тогда были короче,
Луна нам светила длинней.

Я помню, ты мне говорила:
"Пройдут голубые года,
И ты позабудешь, мой милый,
С другою меня навсегда".

Сегодня цветущая липа
Напомнила чувствам опять,
Как нежно тогда я сыпал
Цветы на кудрявую прядь.

И сердце, остыть не готовясь,
И грустно другую любя.
Как будто любимую повесть,
С другой вспоминает тебя.

56 comments:

  1. अनुवाद कैसा किया है , यह तो नहीं जानते .:)
    लेकिन भावों को बहुत खूबसूरती से प्रस्तुत किया है .
    बेहतरीन कविता .

    ReplyDelete
  2. ओल्गा उस्मानोवा की मेल से प्राप्त टिप्पणी.
    Olga Usmanova
    to me

    Молодец, очень хорошо получилось :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. शाबाश, बहुत अच्छी तरह से किया है:)

      Delete
  3. बेशक वो दिन छोटे थे पर
    चाँद की हम पर रौशनी अधिक थी.


    आज लिपा* पर खिले फूल
    मुझे अहसास कराते हैं
    कैसे तेरे घुंघराले वालों पर
    मैंने फूल बिखराए थे.


    ye thought vaakai bahut khubsurat hain..qaabil-e-teeriif..!! :) :)

    ReplyDelete
  4. waah ..yah bahut accha kaam kiya aapne ...aur bhi padhne ka dil hai..bahut hi sundar kavita hai ..

    ReplyDelete
  5. У вас очень красивый перевод.....Ольга также похвалить вас ....
    इसी तरह लगातार अनुवाद करो. कभी मैंने भी कुछ रशियन कविताओं के अनुवाद किये थे....

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरे ..तो पढाओ भी कभी.

      Delete
    2. हाँ शिखा, पढ़वायेंगे , जल्दी ही :)

      Delete
  6. Bondareva Irina
    12:52 PM (21 minutes ago)
    to me

    शाबाश! I really enjoyed it! Thank you!

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  8. मूल कविता पढ़ना तो मेरे बस की बात नहीं, क्योंकि रूसी भाषा ज़रा भी नहीं आती. जहाँ तक किसी भी कविता के दूसरी भाषा में अनुवाद का प्रश्न है, अनुवाद के क्षेत्र में सर्वाधिक दुष्कर कार्य यही है, क्योंकि किसी भी भाषा के 'इडियम' को हुबहू अनूदित करना हमेशा संभव नहीं होता. अनुवाद में बेहतरी की गुंजाइश बनी ही रहती है. खैर 'थ्योरी' पर न जाते हुए ! शिखा जी, अपने निश्चयरूपेण बहुत सुन्दर अनुवाद किया है. बोधगम्य नैरन्तर्य, जो कि सहज परिलक्षित है पूरी कविता में, उसी के आधार पर मैं यह कह रहा हूँ. सफल अनुवाद है, यह क्रम आगे भी बनाए रखिएगा. शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  9. :) sahitya ke har vidha par raaj karne wali Lady:) aapko naman:)

    ReplyDelete
  10. अनुवाद कैसा है ये कैसे कहूँ....
    हाँ आपने जो लिखा वो खूबसूरत है बेहद....
    कविता में आत्मा झलकती है सो मेरा मानना है कि आप ने रचना के साथ न्याय किया है..
    सो अब और भी अनुवादित रचनाओं का इन्तेज़ार रहेगा.
    :-)
    अनु

    ReplyDelete
  11. bahut hi sundar bhav sanyojan kiya hai ji...:)best wishes ...

    ReplyDelete
  12. arun kumar, member, press council of india5 October 2012 at 14:47

    bahut achcha lalit anuwad shikha ji

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत हिंदी अनुवाद के माध्यम से इस महान रुसी कवि को जानना बहुत अच्छा लगा |आभार

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (06-10-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  15. अनूदित कविता के मूल भाव और निहित अर्थो के बारे तो आप जाने , मुझे तो अनुवाद बहुत अच्छा लगा. ये अच्छा ही होगा की पाठकों को रसियन साहित्य का मज़ा हिंदी में मिलेगा . आभार .

    ReplyDelete
  16. वाह मान गए आप रूस मे रही थी ... ;-)

    ReplyDelete
  17. अनुवाद कैसा हुआ है यह कहना तो मुश्किल है पर भाव पूरी जीवन्तता के साथ उभर कर आये है,बधाई,कालेज के दिनों में मैंने डिप्लोमा इन रशियन लैंग्वेज की क्लास की थी नियमित न रहने के कारण सीख नहीं पाया .वैसे मुझे इस भाषा के कुछ शब्द याद हैं -ब्रात,सेस्त्रा ,ओकनो इनका अर्थ भी याद है एक और शब्द था जिसके अर्थ में भ्रम है -दाब्रोया उत्रो,इसका अर्थ शायद गुड मार्निंग जैसा है

    ReplyDelete
    Replies
    1. ठीक अर्थ याद है आपको :).

      Delete
  18. कविता शानदार और अनुवाद जानदार लेकिन आप ??? खुद ही निर्णय कर लीजिये ...!

    ReplyDelete
  19. प्रबलता से भाव उभर कर आए हैं .........इसलिए कह सकते हैं कविता का चयन अच्छा है ...अनुवाद भी अच्छा होगा ही तभी तो हृदयस्पर्शी है रचना ...!!चलिये अच्छा है ...अब कुछ और रशियन कविताओं के अनुवाद पढ़ने को मिलेंगे ...

    ReplyDelete
  20. बहुत ही सुन्दर लगी कविता.. भाषा ज्ञान नहीं इसलिए अनुवाद कैसा है यह नहीं कह पा रहा हूँ.. मुझे तो बहुत डर लगता है अनुवाद करते हुए.. खुद के लिए कुछ अनुवाद किये और बस कहीं दफ़न कर दिए!!
    वैसे इस पोस्ट के शीर्षक को देखकर याद आया कि एक बार मैंने भी रशुयाँ शीर्षक से एक पोस्ट लिखी थी!! :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, वो रशियन शीर्षक वाली पोस्ट मुझे भी याद है :)

      Delete
  21. कविता का चयन बहुत बढ़िया है .... अनुवाद से भी न्याय किया ही होगा ... आगे भी ऐसी रचनाओं का इंतज़ार रहेगा .... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  22. खूबसूरत कविता
    उतना ही खूबसूरत अनुवाद...
    अगर भाव सही तरह से आए कविता में
    तब तो अनुवाद भी सही ही...
    उत्कृष्ट प्रविष्टी ही कहें...शिखा जी !
    कविता को चुनना, पसंद करना और
    फिर अनुवाद करना...सब कुछ एक साथ सुंदर...
    अच्छा लगा...पढ़कर कविता.
    प्रकृति के भाव भी यहाँ कितने जीवंत...
    बिल्कुल हम जी उठे वैसे...जी लें वैसे.
    वाह ! क्या बात है ! शिखा जी... !

    ReplyDelete
  23. अति सुंदर ...नया अनुभव !
    आभार !

    ReplyDelete
  24. सुंदर प्रवाहमयी लगी प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  25. बढिया लगा कविता का अनुवाद। हफ़्ते में एक दिन अनुवाद करके पोस्ट डाली जाये। :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. सोचा तो हमने भी यही है :)देखते हैं.

      Delete
  26. यदि कविता के अनुवाद के बहाने रूसी भाषा से आपके तार जुड़ पुन: जुड़ रहे हैं तो यह बहुत अच्छी बात है। निरंतरता को बनाए रखें। निश्चित रूप से हिन्दी ब्लॉग की बनती हुई दुनिया में यह एक सार्थक और दूरगामी बात की होगी। विश्व कविता से जितने अधिक अनुवाद हिन्दी में आयें , वह अच्छा है क्योंकि मुझे अक्सर लगता है कि यह माध्यम वैश्विक व देश - काल की सीमा से विलग है। मेरी समझ से यह पढ़ने - पढ़ाने और पढ़े - गुने को साझा करने के मंच की तरह हो तो निश्चित रूप से हम साहित्य - कला का दस्तावेजीकरण कर पाने में सक्षम - सफल होंगे। आपका काम सराहनीय है। जारी रहे।

    कविता अनुवाद सहज व प्रवहमान है। एकाध जह वर्तनी की त्रुटियाँहै जिन्हें सुधार लिया जाना चाहिए।

    *" गाहे बगाहे स्पंदन पर आपको रूसी कवितायेँ भी मिलेंगी." / प्रतीक्षा है।

    ReplyDelete
  27. आप जैसी विदुषी द्वारा किया गया अनुवाद निःसंदेह मूल भावों के करीब होगा . अनुवाद के आनंद के लिए मूल कविता का कहीं लिपिबद्ध किया जाना चाहिए . अन्यथा किस आधार पर लिखा जाये कि अनुवाद सही भी है .बुरा नहीं मानियेगा सन्दर्भ के लिए अति आवश्यक होता है . आपका पोस्ट सदैव स्तरीय रहा है .

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका सुझाव अच्छा है. ध्यान रखूंगी.

      Delete
  28. मूल रूसी से अनुवाद क्रम और कर्म जारी रहे। हिन्दी ब्लॉग की बनती हुई दुनिया समृद्ध होगी इससे।

    ReplyDelete
  29. मीठे भाव वाली रचना .... अनूप जी से सहमत हफ्ते में एक दिन रचना अनुवाद करके डाली जाए

    ReplyDelete
  30. अब रूसी तो आती नही और ना ही अनुवाद का अनुभव है मगर जो लिखा है उसमे भाव बखूबी उभर कर आये हैं।

    ReplyDelete
  31. ये तो नहीं कह सकता कि अनुवाद कैसा किया, क्यूंकि ओरिजिनल कविता पढ़ना -समझना हमारे बस की बात नहीं है | पर हाँ जो कविता पढी वो बड़ी शानदार लगी :)

    ReplyDelete
  32. Devanshu ne mere munh ki baat chheeni h.. same to same mera bhi comment samjha jaaye.. shandaar kavita :)

    ReplyDelete
  33. भावो का सुन्दर समायोजन......

    ReplyDelete
  34. पता नहीं अनुवाद कैसा था, पर जो हिन्दी में पढ़ा, वह बेमिसाल था।

    ReplyDelete
  35. मैं ,प्रवीण जी की बात से सहमत हूँ ...

    ReplyDelete
  36. अनुवाद मूल भाव को प्रेषित करता है। और कविता का भाव दिल को छूता है।

    ReplyDelete
  37. पश्चिमी परिवेश में रची बसी एक कोमल सी कविता ....

    ReplyDelete
  38. रुसी तो समझते नहीं मगर आपने अनुवाद बढ़िया किया है ...शब्द भावों को स्पष्ट कर रहे हैं ...
    अच्छा प्रयास है , जारी रखें ...
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  39. गहन प्रेमानुनुभूति की कविता -अनुवाद प्रांजल है !

    ReplyDelete
  40. अरे वाह बहुत भावपूर्ण कविता.

    ReplyDelete
  41. अरे दी, सोचिये मत...हफ्ते में एक अनुवाद तो बनता ही है..बाद में हमें ये भी तो मांग रखनी है की इन अनुवादों को एक पुस्तक का रूप दे दिया जाए :P

    ReplyDelete
  42. nice blog
    see once
    http://www.kedarbhope.blogspot.in/

    ReplyDelete
  43. अभ्यास से क्या नहीं होता,पहला कदम कारगर - सच में

    ReplyDelete
  44. वाउ अनुवाद इतना अच्छा है तो सोच रही हूँ ये उल्टी लिखावट वाली रूसी भाषा को भी सीख ही लूँ.....

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *