Enter your keyword

Wednesday, 10 October 2012

गूंगा चाँद. :)





याद है तुम्हें ?
उस रात को चांदनी में बैठकर 
कितने वादे किये थे 
कितनी कसमें खाईं थीं.
सुना था, उस ठंडी सी हवा ने 
जताई भी थी अपनी असहमति 
हटा के शाल मेरे कन्धों से.
पर मैंने भींच लिया था उसे 
अपने दोनों हाथों से. 
नहीं सुनना चाहती थी मैं 
कुछ भी 
किसी से भी.
अब किससे करूँ शिकायत 
कहाँ ले जाऊं फ़रियाद 
जिसे हाजिर नाजिर जाना था, 
बनाया था चश्मदीद अपना 
सुना था उसने सबकुछ.
कमबख्त वह चाँद भी तो गूंगा निकला.

58 comments:

  1. :) ho sakta hai suna ho..ho sakta hai gunga na ho, par chuppi sadhe hai...... :)

    ReplyDelete
  2. सच कहा आपने गूंगा है चाँद यह सभी जानते हैं मगर फिर भी सभी के दिलों के राज़ उसी के सामने खुला करते हैं शायद उसका यही गूंगापन तसल्ली है इस बात की कि कोई तो है जो बिना किसी शिकवे शिकायत के आपकी बात को सुन लेता है और राज़ रखता है हमेशा के लिए ....

    ReplyDelete
  3. जिसे हाजिर नाजिर जाना था, 
    बनाया था चश्मदीद अपना 
    सुना था उसने सबकुछ.
    कमबख्त वह चाँद भी तो गूंगा निकला.

    Chaand ki upasthiti me kiye gaye vaadon aur baaton ki yaad bhulaaye nahi bhoolti... Aur laanchan bhi usi chaand ko lagta hai jab wah fariyaad sunate waqt goonga ho jaata hai...

    Bahut sundar rachna ...

    Saadar !!

    ReplyDelete
  4. मौन तो तू तब भी था... खायी थी कसमे प्यार की....
    ऐ चाँद !! जब चांदनी तले तेरी.... आज तू भी यहीं है और तेरी चांदनी भी 
    है यहीं.... आंसू का सैलाब मेरा मेरे साथ है.... तुझे घूरती हूँ जब डबडबायी इन आँखों से.... आभास हो जाता है मुझको की ऐ चाँद!! तू तो मूक है.... 

    ReplyDelete
  5. चाँद गूंगा है, पर सब देखता है, उसकी मुस्कान ही उसकी गवाही है !!!

    ReplyDelete
  6. चाँद गूंगा नहीं है......गवाही नहीं देता बस...किसका पक्ष ले इसी उधेड़बुन में घटता बढ़ता रहता है बेचारा...

    अनु

    ReplyDelete
  7. चाँद बोलने लगा तो न जाने कितनी प्रेम कहानियाँ कभी पूरी ही न होंगी !

    ReplyDelete
    Replies
    1. विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर देश के नेताओं के लिए दुआ कीजिये - ब्लॉग बुलेटिन आज विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम और पूरे ब्लॉग जगत की ओर से हम देश के नेताओं के लिए दुआ करते है ... आपकी यह पोस्ट भी इस प्रयास मे हमारा साथ दे रही है ... आपको सादर आभार !

      Delete
  8. अब चाँद किस किस की गवाही दे .... सब उसे ही साक्षी बना देते हैं ....

    मेरी चाँदनी ने
    ठंडी हवा से
    करवाया था इशारा
    मैं देख रहा था
    कि
    नहीं सुनना चाहती थीं
    तुम किसी की भी बात
    वक़्त निकाल गया
    जब हाथ से
    तो मेरा मौन ही
    श्रेयष्कर है ---- चाँद

    ReplyDelete
  9. चाँद का गूंगा रह जाना ही ठीक था , उसने जाने क्या देखा होगा !

    ReplyDelete
  10. " kuchh to majbooriyan rahi hongi/ yun koi bewafa nahin hota "
    chaand, ya yun kahen ki premi, ka samay ke saath-saath bhavnashunya hote jaana aur fir preyasi ke sab armanon ko masalkar rakh dena--prem ki yah parinati sachmuch bahut peedadayak hoti hai. kavita ki antim pankti "kambaqht wah chaand bhi to goonga nikla" prem mein chhali gayi preyasi ki kheejh, jhunjhlahat, aur avyakt vedna ko prabhavpurn tareeke se vyakt kar rahi hai. premi hriday ke sahaj manobhavon ko saral shabdon mein sundarta se goontha hai! ek aur sundar kavita ke liye abhinandan Shikha ji!

    ReplyDelete
  11. मगर यह चाँद तो मुखर निकला :-)

    ReplyDelete
  12. चाँद सब कुछ देखता है...कहता भी है कवियों की लेखनी से|
    उसे भी तो चाँदनी से शिकायत है लेकिन वह बेचारा कहाँ जाए अपनी फरियाद लेकर!

    ReplyDelete
  13. bahut khub surat kabita -----hriday ko chhu jane wali.

    ReplyDelete
  14. अगर चांद गवाही दे देता तो भूचाल आ जाता । उसका मूक रहना ही ठी​क है कुछ दर्द दिल में दबे रहने ठीक है कुछ दर्द भी होना चाहिये

    ReplyDelete
  15. चाँद ने देखा था सबकुछ
    चाँद ने सबकुछ सुना था
    इसलिए तो मुस्कुराता सा टंगा था
    बन के इक स्माईली उन प्यार के वादों पे
    लेकिन छिप गया
    और सी लिया मुँह उसने अपना
    बन गया गूंगा
    कि यह इंसान खुद ही
    तोड़ता है जब मुहब्बत के सभी वादे
    तो फिर उसकी गवाही
    माँगता क्यूँ है
    यही फितरत है इंसानों की
    अपनी स्याह करतूतों की खातिर
    माँगता है वो गवाही
    चाँद से तारों से और दिलकश फिजाओं से!

    ReplyDelete
  16. अरे चाँद पहले बोलता था ,सुन प्यार की बाते डोलता था
    प्रेमियों की बाते सुनकर , मन ही मन भाव को तोलता था कसमें वादे कितने याद रखे, भर गया उसका झोला
    चुप रहने की कसम खाई , कहने लगे गूंगा और अबोला

    ReplyDelete
  17. चाँद के बहते आंसू ओस से .... उसके शब्द हैं

    ReplyDelete
  18. क्या बात है दीदी :) :)

    ReplyDelete
  19. जिसे हाजिर नाजिर जाना था,
    बनाया था चश्मदीद अपना
    सुना था उसने सबकुछ.
    कमबख्त वह चाँद भी तो गूंगा निकला.,,,,सुन्दर पंक्तियाँ,,,,

    लेकिन देख और सुन तो सकता है,,,,

    RECENT POST: तेरी फितरत के लोग,

    ReplyDelete
  20. प्यार की प्रतिलिपियाँ बहते पानी पर
    या रेत पर लिखी होती है।
    यहाँ तो चाँद को भी गवाह बनाया गया है,
    वे बेचारा मजबूर है... इतनी दूर जो है !

    ReplyDelete
  21. सच कहा आपने, वह सब होते देखता है, बचाता किसी को नहीं है।

    ReplyDelete
  22. चाँद की यही नियति है. सुन्दर कविता.

    ReplyDelete
  23. देख कर मुस्कराता है या ग़ायब हो जाता है -कुछ सुनता गुनता नहीं ये चाँद !

    ReplyDelete
  24. सच ही तो है.... सुंदर रचना

    ReplyDelete
  25. कमबख्त वह चाँद भी तो गूंगा निकला.

    सच कहा आपने............

    ReplyDelete
  26. आना तू गवाही देने ओ चंदा मैं उनसे प्यार कर लूंगी बातें हज़ार कर लूंगी
    एक पुराना फ़िल्मी गीत है शायद याद कर पायें

    ReplyDelete
  27. कुछ पंक्तियाँ पढ़कर सिर्फ एक ही शब्द निकलता है- "वाह" :)

    ReplyDelete
  28. ye chand yadi bol pada to najane kitnon ki pol khul jayegi .usdin ka intjar hai jab ye bolega
    rachana

    ReplyDelete
  29. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 11-10 -2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में ....शाम है धुआँ धुआँ और गूंगा चाँद । .

    ReplyDelete
  30. बेहद सुन्दर और गहन...
    सुन्दर भावाभिव्यक्ति...
    :-)

    ReplyDelete
  31. जिसे हाजिर नाजिर जाना था,
    बनाया था चश्मदीद अपना
    सुना था उसने सबकुछ.
    कमबख्त वह चाँद भी तो गूंगा निकला.

    बहुत खूब...!
    न जाने कितने ऐसे ही गूंगे जमीनी चाँद हमारे इर्द-गिर्द रहते हैं...मौका आने पर ही गूंगापन दिखाई देता है.....:)))

    ReplyDelete
  32. यह चाँद भी .....! गूंगा निकला .....संभवतः वह अपने प्रेम के अहसास को जुबान पर ला न सका हो ....!

    ReplyDelete
  33. bahut khub..baar baar padhne laayak..!! :):)

    ReplyDelete
  34. बहुत खूब वर्णन किया है आपने |

    नई पोस्ट:-ओ कलम !!

    ReplyDelete
  35. कहाँ ले जाऊं फ़रियाद
    जिसे हाजिर नाजिर जाना था,
    बनाया था चश्मदीद अपना
    सुना था उसने सबकुछ.
    कमबख्त वह चाँद भी तो गूंगा निकला.

    हड्डियां ......बढ़िया भावानुवाद .


    बढ़िया साक्षी चाँद की गूंगा है तो क्या ,

    गवाह तो फिर गवाह है .

    ReplyDelete
  36. मुझे तो उस गूंगे चांद के चांद में दे मारने का मन करता है। पर क्या करें ,,,

    ReplyDelete
  37. चाँद को तो पता था हर रोज़ उस फरेब का ,
    कितने किस्सों का रहा है जो चश्मदीद वो ,
    तुम्ही तो गुम थीं और थीं लबरेज़ 'उसके' जुनून से ,
    अब 'वही' कर गया जुदा तम्हें तुम्हारे ही सुकून से !

    ReplyDelete

  38. उन लोगों के नाम एक शैर जो महानता का लबादा ओढ़े हुए हैं .खुद को कभी हवा नहीं लगाते .एक दिन फंगस लग जायेगी .अपने घर से बाहर निकलिए -

    ब्लॉग जग के पंख कुतरेगा किसी दिन ये गुरूर ,

    क्यों रहते हो भाई अपने में इतने मगरूर .

    "क्विड प्रो को "कीजिए टिप्पणियों का .आदाब !

    ReplyDelete

  39. बढ़िया साक्षी चाँद की गूंगा है तो क्या ,

    गवाह तो फिर गवाह है .

    ReplyDelete
  40. दिलकश शुरुआत...और एक कसक के साथ रचना पूरी होती हुई...बहुत ही सुंदर |

    सादर |

    ReplyDelete
  41. चाँद पढा-लिखा तो होगा ही। गवाही-सवाही दे सकता ! :)

    ReplyDelete
  42. bas ek chhoti si shayaree....
    shukra hai ki unke do bund aanshuon ne kah di rat bhar ki kahani.
    varna aaj ekbar fir chand hi karorwar thahraya haya hota.

    ReplyDelete
  43. ये चाँद भी अक्सर बेवफा हो जाता है
    कसमों को भूल रस्मों की याद दिलाता है ......

    ReplyDelete
  44. जिसे हाजिर नाजिर जाना था,
    बनाया था चश्मदीद अपना
    सुना था उसने सबकुछ.
    कमबख्त वह चाँ द भी तो गूंगा निकला.

    bahut hi sundar man ko tript karati rachana

    ReplyDelete
  45. बहुत कुछ भूली बिसरी सी यादें

    ReplyDelete
  46. कविता रचते तो देखा है चाँद को ...

    ReplyDelete
  47. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  48. हर चीज़ कही नहीं जाती है न!

    ReplyDelete
  49. कमबख्त वह चाँद भी तो गूंगा निकला.
    क्या बात है ।

    ReplyDelete
  50. गूंगा चाँद कितनों के प्रेम का चश्मदीद :)

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *