Enter your keyword

Monday, 25 June 2012

ऐसे कुछ पल...


मैं नहीं चाहती
लिखूं वो पल 
तैरते हैं जो 
आँखों के दरिया में 
थम गए हैं जो 
माथे पे पड़ी लकीरों के बीच 
लरजते हैं जो
हर उठते रुकते कदम पर 
हाँ नहीं चाहती मैं उन्हें लिखना
क्योंकि लिखने से पहले 
जीना होगा उन पलों को फिर से 
उखाड़ना होगा
गड़े मुर्दों को 
कुरेदने होंगे
कुछ पपड़ी जमे ज़ख्म 
और फिर उनकी दुर्गन्ध 
बस जाएगी मेरे तन मन में 
और बदबूदार हो जायेगा 
आसपास का सारा माहोल .
हाँ इसीलिए 
नहीं लिखना चाहती मैं वो पल 
पर मेरे ना लिखने से 
वो मर तो ना जायेंगे 
सांस लेते रहेंगे 
मन के किसी कोने में 
गाहे बगाहे भड़काते रहेंगे मुझे 
कि मैं लिखूं कुछ ...कुछ तो...

62 comments:

  1. कुछ भी न लिखते हुए,
    बहुत कुछ लिख दिया!
    यही कम्माल है आपका
    वेल एक्सप्रेस्ड शिखा जी!

    ReplyDelete
  2. मैं लिखूं कुछ... तो.. बहुत ही खूबसूरत पंक्तियाँ ऐज़ युज़ुयल ... कविता बहुत अच्छी लगी.. अब और क्या लिखूं? तारीफ़ करने के लिए शब्द कम पड़ रहे हैं..

    ReplyDelete
  3. सुपर्ब रचना ... पर चाहो न चाहो , जीना ही पड़ता है . मुंदी आँखों के मध्य भी जीना पड़ता है
    सच है-
    नहीं लिखना चाहती मैं वो पल
    पर मेरे ना लिखने से
    वो मर तो ना जायेंगे
    सांस लेते रहेंगे
    मन के किसी कोने में
    गाहे बगाहे भड़काते रहेंगे मुझे
    कि मैं लिखूं कुछ ...कुछ तो...

    ReplyDelete
  4. यादों कों कागज़ पे उतारने से पहले की कशमकश कों लिखा है आपने ... सच अहि की जीना पढता है उन लम्हों कों लिखने से पहले ... पास उन अच्छी पलों कों तो लिखना चाहिए ... दुबारा जीने में भी तो नाजा है उन्हें ...

    ReplyDelete
  5. बस लिखती रहिए ... सब से जरूरी बात यही है !

    ReplyDelete
  6. :) par likhkar dil to halkaa kar liyaa naa

    ReplyDelete
  7. लिख डालिए.....भड़ास निकल जाए तब ही सुकून मिलेगा.......
    फिर वो ख़याल आपको गाहे -बेगाहे सतायेंगे भी नहीं.....
    :-)

    सस्नेह

    ReplyDelete
  8. लिखना तो एक तरह से सुख-दुःख बाँटना होता है...

    ReplyDelete
  9. एक अच्छी सी रचना...
    ना कहते हुए भी कुछ तो कहा ही गया है...
    जो हम सभी तक भी पहुंचा ...
    हक है तुम्हें लिखने का, लिखती रहो...

    ReplyDelete
  10. गाहे बगाहे भड़काते रहेंगे मुझे
    कि मैं लिखूं कुछ ...कुछ तो...


    पलों का सार्थक उपयोग! :)

    ReplyDelete
  11. पर मेरे ना लिखने से
    वो मर तो ना जायेंगे
    सांस लेते रहेंगे
    मन के किसी कोने में
    बिल्‍कुल सच कहा ... बहुत जरूरी हो जाता है लिखना ...

    ReplyDelete
  12. नहीं लिखना चाहती मैं वो पल पर मेरे ना लिखने से वो मर तो ना जायेंगे सांस लेते रहेंगे मन के किसी कोने में गाहे बगाहे भड़काते रहेंगे मुझे कि मैं लिखूं कुछ ...कुछ तो...
    Bahut hi sundar rachna.....

    ReplyDelete
  13. beautiful lines

    ReplyDelete
  14. ना लिखते- लिखते भी जाने कितना लिख दिया. कई बार मन की अकुलाहट छुपाने से कुछ सनसनाहट होती है जीवन में , हा हा , अजीब फंदा है ना . अब लिख ही डाला और भी जोरदार और भाव-प्रवण

    ReplyDelete
  15. जिस अफ़साने का अंजाम मुमकिन न हो , उसे भूल जाना ही अच्छा !

    ReplyDelete
  16. माना के जख्म फिर से हरे हो जाएगे मगर लिखने से हो सकता है कुछ सुकून आजाये दिल में दबा के रखने से अच्छा है लिख डालो... :)क्यूंकि यह ज़रूरी तो नहीं की आँखों में दरिया में तैरते हुए वो सारे पल दर्द भरे ही हों हो सकता है कुछ एक ऐसे भी हो जिन्हें एक बार फिर जी लेने का मन कर जाये :) इसलिए लिखते रहो ...लिखना बहुत ज़रूरी है।

    ReplyDelete
  17. संवेदना की भाषा और अभिव्यक्ति की भाषा के बीच एक अन्तराल है। संवेदना के स्तर पर जी लेने के बाद ही लिखने की बारी आती है, पहले नहीं। लिखने के लिए थोड़ा पीछे मुड़ना पड़ता है अत: अनुभूति के साथ एक अनकहा समझौता करना पड़ता है।

    ReplyDelete
  18. ओह ...गहन अभिव्यक्ति ....सच मे कुछ बातें भूलना कितना मुश्किल होता है ...!!

    ReplyDelete
  19. न चाहते हुए भी वो जख्म हो गये हरे और आप लिख बैठी कुछ तो...मगर फिर भी जरुरी है भूल कर उन जख्मों को खिलखिलाये,मुस्कुरायें आप हमेशा की तरह...
    बेहतरीन अभिव्यक्ति शिखा जी।

    ReplyDelete
  20. ओह ....न जाने कैसे होते हैं यह पल ....जिनको नहीं चाहते याद करना पर फिर भी सिर उठा लेते हैं ...न लिखने की बात कह कर भी वो पल जीवंत ही हो उठे
    नहीं लिखना चाहती मैं वो पल
    पर मेरे ना लिखने से
    वो मर तो ना जायेंगे
    सांस लेते रहेंगे
    मन के किसी कोने में

    इस रचना ने मेरे मन मेन भी दबे हुये पलों को जैसे सामने ला खड़ा किया है .... पर मैं भी नहीं चाहती कुछ लिखना :)

    ReplyDelete
  21. ज्यादा भड़काएं तो लिख डालियेगा...

    ReplyDelete
  22. लिख ही देना चाहिए, इसलिए तो मैं भी अक्सर लिख देता हूँ कुछ से कुछ मन की बकवास बातें ;)

    ReplyDelete
  23. Beautifully written. U writers r blessed by god to express ur feelings so nicely. As far as old scars r concerned, they do pain but they r the ones that keep u reminding, & make u strive to achieve nothing but the best. I'm happy for u that u r able to find that direction & achieve what u deserved since very long

    ReplyDelete
  24. मन की संवेदना को लिख कर अभिव्यक्ति कर दे,या किसी के साथ शेयर कर ले,मन हल्का हो जाता है,मेरा मानना है लिखकर ही अपनी भड़ास निकाल लेनी चाहिए,,,,,

    मन को प्रभावित करती सुंदर अभिव्यक्ति ,,,,,

    RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: आश्वासन,,,,,

    ReplyDelete
  25. aap bahut hi sundar rachna likhti hai Didi ...

    ReplyDelete
  26. शब्दों का वो विन्यास जो महका न सके मन को ,उन्हें अक्षरों में विभक्त कर पुनर्विन्यास तब तक करते रहें जब तलक उनमें खुश्बू न आ जाए |

    ReplyDelete
  27. सुन्दर कविता....प्रभावित करते भाव....

    ReplyDelete
  28. मन को तो कहना पड़ेगा, लिखिये पर छापिये मत, औषधि भी छिपा कर रखनी पड़ती है कभी..

    ReplyDelete
  29. नहीं लिखना चाहती तब ये हाल है
    लिखना होगा तो जाने क्या होगा

    ReplyDelete
  30. गाहे बगाहे भड़काते रहेंगे मुझे
    kya bhav piroye hain aap ne
    badhai
    rachana

    ReplyDelete
  31. na cahte hue bhi likh gayi wo pal...sunder ahsaas

    ReplyDelete
  32. कही अनकही बातों का दर्द ..

    हम सब में कहीं सांझा है..

    बहुत ही सुन्दर शिखा जी .........

    ReplyDelete
  33. बहुत सारगर्भित पक्तियां

    ReplyDelete
  34. संवेदनशील रचना

    ReplyDelete
  35. नहीं लिखना चाहती मैं वो पल
    पर मेरे ना लिखने से
    वो मर तो ना जायेंगे
    सांस लेते रहेंगे
    मन के किसी कोने में
    गाहे बगाहे भड़काते रहेंगे मुझे
    कि मैं लिखूं कुछ ...कुछ तो...


    मन को गहरे तक छू गई एक-एक पंक्ति...

    ReplyDelete
  36. atit ki panno par utarney se man fir usi atit ki aur chala jata hai jisse hum yada kada peechha chhurana chahte hain, sundar rachna

    ReplyDelete
  37. अद्भुत अभिव्यक्ति...
    सादर।

    ReplyDelete
  38. लिख देना यूँ ही नहीं होता , बारहा गुजरना होता है उस दर्द से !
    रिसता है दर्द ना लिखते हुए भी , दिखता नहीं हो भले ही !
    बहुत बढ़िया !

    ReplyDelete
  39. अभिव्यक्ति को राह दो ! सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  40. पर मेरे ना लिखने से
    वो मर तो ना जायेंगे
    सांस लेते रहेंगे
    मन के किसी कोने में ....बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  41. न यों चैन ,न वों चैन - इसलिये लिखती रहिये !

    ReplyDelete
  42. shikha jee....ghavon se chahe durgandh faile ya batabaran pradushit ho..aap ek acchi lekhika hain isliye man ke kisi bhee kone me utpaat mach rahe bicharo ko kisi lekh kavita ya ghazal ke bahane aapko nikalna hee padega....nahi likha to aapkee bechainee he badegi ..sadar badhayee ke sath...

    ReplyDelete
  43. लिखना ही जीवन है।

    ReplyDelete
  44. कुछ न कहा और सब कुछ कह दिया...बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete
  45. लिखने से पहले वैसे भी एक कवि की परीक्षा ही होती हैं उसकी सोच और शब्दों के ताल मेल के साथ

    ReplyDelete
  46. नहीं लिखना चाहती मैं वो पल
    पर मेरे ना लिखने से
    वो मर तो ना जायेंगे
    सांस लेते रहेंगे
    मन के किसी कोने में
    गाहे बगाहे भड़काते रहेंगे मुझे
    कि मैं लिखूं कुछ ...कुछ तो...


    मन को छू गई एक-एक पंक्ति...

    ReplyDelete
  47. likh to diya ........... ab bachche ki jaan logi kya:)

    ReplyDelete
  48. बिना लिखे बहुत कुछ कहा जाता है..

    ReplyDelete
  49. bahut hi sundar kavita , hame khushi hai ki hum is blog par aaye .

    ReplyDelete
  50. जो कविता में ढलना चाहे, उसे रोकना ठीक नहीं है

    ReplyDelete
  51. बेहद सुन्दर
    (अरुन=arunsblog.in)

    ReplyDelete
  52. कल 06/07/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  53. bahut kuch kah gaye yah pal

    ReplyDelete
  54. बहुत ही भावपूर्ण रचना है शिखा जी.....

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *