Enter your keyword

Thursday, 7 June 2012

करवट लेते सपने...


सपने भी कितनी करवट बदलते हैं न .आज ये तो कल वो कभी वक्त का तकाज़ा तो कभी हालात की मजबूरी और हमारे सपने हैं कि बदल जाते हैं. इस वीकेंड पर  एक पुरानी मॉस्को  में साथ पढ़ी हुई एक सहेली से मुलाकात हुई . १५ साल बाद साथ बैठे तो ज्यादातर बातें अब अपने अपने बच्चों के कैरियर की होती रहीं.  मुझे एहसास हुआ  कि कितना समय बदल गया.. एक वो दिन थे जब हम दोस्त मिलकर बैठते थे तो बातें हमारे अपने कैरियर की हुआ करतीं थीं. सबका लगभग एक सा ही मकसद, कि पढाई ,  उसके बाद अच्छी सी जॉब, जी भर कर काम करेंगे फिर काम से मन थोडा भरेगा तो शादी कर लेंगे , फिर जी भर के मस्ती,घूमना फिरना और फिर उसके बाद बच्चे. कितनी आसान जान पड़ती थी जिंदगी. अपने इस बने बनाए प्लान से इतर भी कुछ हो सकता है, ये न तब सोचने का मन था न ही जरुरत.

मॉस्को  से वापस आते ही दिल्ली में एक न्यूज चैनल में असिस्टेंट न्यूज प्रोड्यूसर  की जॉब मिल गई शुरू में तो सब अरबिक- ग्रीक लगा परन्तु धीरे धीरे काम समझ में  आने लगा तो लगा कि पता नहीं क्यों लोग अपनी जॉब से अघाए घूमते हैं मेरे लिए तो जिंदगी के सबसे खूबसूरत दिन थे वे. सुबह काम पर निकलते वक्त जरुर हबड़- तबड होती परन्तु शाम को लौटते वक्त एक ऐसी संतुष्टि का एहसास होता जैसे एवरेस्ट फतह करके आये हैं. मुझे अपने काम में मजा आता था. शुरू के तीन महीने ट्रेनिंग के थे उसमें हमें फाईनल  न्यूज से पहले के जो काम सीनियर कह देते थे हम कर देते थे. हिंदी टाइपिंग  की ए बी सी आती नहीं थी. तो वही अपनी कछुआ चाल से १-१ उंगली से किट किट करके अपनी शिफ्ट की २-४ न्यूज स्टोरी बना ही लेते थे, कुछ वॉयस ओवर किये और बस हो गया. सामान्यत: इसी तरह का रूटीन हुआ करता था. 


परन्तु वक्त एक सा तो चलता नहीं एक दिन अपनी सुबह की शिफ्ट में मैं ऑफिस पहुंची तो देखा हमारा हिंदी का न्यूज एरिया एकदम सूनसान  सा पड़ा है.सोचा आ जायेंगे कुछ देर में लोग, और एक कंप्यूटर पर बैठ कर मैं अपनी  किट पिट करने लगी परन्तु १० मिनट हो गए फिर भी कोई नहीं दिखा और दिन की पहली न्यूज जाने का समय पास आ रहा था.आखिरकार एक सीनियर रिपोर्टर दिखाई पड़े तो उन्हें स्थिति से अवगत कराया. उन्होंने पूछताछ की तो पता चला कि किसी ग़लतफ़हमी के चलते आज अचानक सबने ही इस शिफ्ट से ऑफ ले लिया है. अब तो जैसे मेरे सिर पर आसमान टूट पडा. अब क्या होगा?मैं अकेली ? न्यूज तो जानी है. मन में आया कि मैं ही क्यों आई आज .ट्रेनी की तो ड्यूटी लगती नहीं है.पर अब तो आ गई थी कुछ नहीं हो सकता था. मैं चुपचाप खड़ी थी. मेरी जिम्मेदारी थी बताना कि कोई नहीं है और मैंने बता दिया अब इन्चार्ज लोग जाने क्या करना है. तभी इंग्लिश न्यूज एरिया से आवाज आई.अरे तुम हो न, करो तैयार. बाकी हम हैं न संभाल लेंगे. मुझे काटो तो खून नहीं अरे!!!.मैं अकेले कैसे चार लोगों का काम करुँगी रिपोर्ट लेना, न्यूज ढूँढना , स्टोरी बनाना, ग्राफिक्स डालना , अनुवाद करना और उसपर सबसे बड़ा काम हिंदी में टाइप करना ये सब करते करते मुझे रात हो जायेगी.हाथ पैर मेरे पहले ही फूले हुए हैं. मेरा सफ़ेद चेहरा देख फिर उस तरफ से आवाज आई अरे डरो मत तुम शुरू तो करो मैं हूँ न अभी डेढ़ घंटा है फटाफट न्यूज बनाकर ले आओ फिर मैं देखता हूँ. मैं जड़वत सी अपने वर्क स्टेशन पर गई और किसी तरह काम में जुट गई टाइप करना मेरे बस का था नहीं किसी तरह जल्दी जल्दी पेपर पैन  से पूरी न्यूज तैयार की और सीधा पहुँच गई उन्हीं महानुभाव के पास कि ये लीजिए अब जो करना है आप जाने .बुलेटिन जाने में १० मिनट बचे थे वो कंप्यूटर पर बैठे और मुझसे बोले इसे जितनी तेज पढ़ सकती हो पढ़ती जाओ बस. मैंने बिना सोचे समझे नॉन स्टॉप पढ़ना शुरू कर दिया और उनकी उँगलियाँ टकाटक टकाटक कीबोर्ड पर ऐसे चलने लगीं जैसे उनमें कोई मशीन लगी हुई थी. मैं जरा नजर उठाकर उँगलियाँ देखने लगती तो आवाज आती पढ़ो न.और मैं फिर पढ़ने लग जाती आखिर कार २० मिनट का बुलेटिन ८ मिनट में उन्होंने टाइप किया और मुझे कहा जाओ भाग कर न्यूज रूम में देकर आओ. मैंने यंत्रवत उनकी आज्ञा का पालन किया और आकर देखा तो वे बड़े इत्मीनान से किसी से कह रहे थे “आज सबके सब इस शिफ्ट से छुट्टी कर गए, शिखा ने अकेले निकाला  है आज बुलेटिन”. मैं एकटक उन्हें देखती रह गई ये आदमी है या मशीन मुझे यूँ घूरते देख उनके साथ खड़े व्यक्ति ने कहा अरे ये हमारे सुपर मैन हैं,कुछ भी कर सकते हैं. तुम्हें पता है ये २ कंप्यूटर पर एक साथ, एक हाथ से हिंदी और एक हाथ से इंग्लिश टाइप कर सकते हैं. दोनों भाषाओँ पर इतनी जबर्दास्त्त पकड़ , एक इंसान किस हद्द तक स्किल्ड और टेलेंटेड हो सकता है ये उस दिन मैंने जाना.


उसके बाद मुझे तभी होश आया जब मैंने अपनी पीठ पर कुछ शाबाशी के थपके महसूस किये. उसके बाद पूरे दिन वो जिससे भी मिले सबसे कहते रहे आज एक ट्रेनी ने अकेले बुलेटिन निकला है.उनका नाम मुझे अब ठीक से याद नहीं ..कुछ मधु सूदन जैसा था.और काफी सीनियर पोस्ट पर थे. वे भी शायद न पहचान पायें मुझे. पर ये शब्द जब जब मुझे सुनाई  पड़ते  खुद पर गर्व सा हो आता और काम के प्रति श्रद्धा और जोश बढ़ता जाता और सपने एक बार फिर साफ़ साफ़ दूर दूर तक नजर आने लगते. 


पर इस सबके बावजूद  कुछ महीनो बाद एक दिन मैंने यह जॉब छोड़ने का निश्चय कर लिया मेरी बेटी होने वाली थी और मुझे जिम्मेदारियों की खिचड़ी बनाना जरा भी पसंद नहीं था.परन्तु जिस दिन जॉब छोड़कर आई बुक्का फाड़ कर रोई जैसे एक हिस्सा मेरे जीवन का छूट गया था . पर फैसला मेरा अपना था और मैं उसपर पूरी तरह निश्चिन्त थीं कि अगर बच्चे करने हैं तो अपना १०० % उन्हीं को देना है.एक बार फिर सपने बदल गए और इसी भावना और फ़र्ज़ के साथ जिंदगी काटने लगी,और शायद यूँ ही कटती रहती अगर फिर अचानक एक घटना न घट गई होती. अगर मेरी ११ साल की बच्ची से किसी ने न पूछ लिया होता कि बेटे तुम बड़ी होकर क्या बनोगी ?. और उसका जबाब आया “मम्मी ...घर में रहूंगी, घर के काम करुँगी, खाना बनाऊँगी, बच्चों को स्कूल छोड़ कर आउंगी, लेकर आउंगी”.उसका ये जबाब सुनते ही मेरे अंदर एकता कपूर का सीरियल और हेमा मालिनी दोनों एक साथ प्रवेश कर गई ..नहीईई....................तीन बार गूंजा.... हे भगवन ! ये क्या हो गया. इस बच्ची ने मुझे अपना आइडियल मान लिया था वो मेरे जैसा बनना चाहती थी. और मैं ?? उसे अपने जैसा बनते नहीं देखना चाहती थी. हम माएं कभी कभी बड़ी ढोंगी हो जाती हैं.खुद के लिए उसूल कुछ और, अपने बच्चों के लिए कुछ और. उस दिन पहली बार मुझे अपने फैसले पर गुस्सा आया.मुझे याद आया जॉब छोड़ने के कुछ दिन बाद उन्हीं सीनियर से फिर एक शादी के मौके पर  मुलाकात हुई तो मेरे पति ने उनसे मजाक में शिकायत की “आप लोगों ने  बहुत काम लिया मेरी बीवी से मेरी नई नई शादी का सारा क्रीम समय छीन लिया” तो उनका जबाब आया “और आपने हमारा क्रीम एम्प्लोयी हमसे छीन लिया” पहली बार अहसाह हुआ काश नहीं छोड़ी होती मैंने नौकरी.

मैंने बेटी को  समझाने की कोशिश की ..बेटा ऐसा नहीं है. मैं भी जॉब करती थी ये कुछ उपरोक्त गर्व भरे किस्से भी उसे सुनाये पर ये सब जैसे मुझे खुद को ही “वंस अपॉन अ टाइम” से शुरू हुई कोई कहानी भर लग रहे थे. अब जरुरत कहानी की नहीं किसी ऐसे काम की थी जो घर के काम से अलग लगे और तभी मिला मुझे यह ब्लॉग और मैं लिखने लगी बहुत कुछ निरर्थक लिखा और कुछ सार्थक भी. बेशक ये काम नहीं था .परन्तु क्या फालतू लिखती रहती हो के तानो के साथ बच्चों की गर्व से भरी दृष्टि थी. और मेरे मन का सुकून. 


और फिर एक दिन बेटी स्कूल से आई तो चिल्लाकर बोली Mom !! I need your book. my teacher is asking for it . She was asking every one about their parents today at lesson.As i said my Mom is a writer .she said ..wow Thats posh..and asked for  a copy of your book.

वो बोले जा रही थी और मेरी आत्मा सुकून पा रही थी. सपने फिर करवट लेने लगे थे.यूँ मेरा ये हिंदी लेखन कहीं से भी पॉश  नहीं, न ही कोई प्रोफेशन है. पर कम से कम मेरे बच्चों का आईडियल बनने में अब मुझे गुरेज नहीं.अब मेरे सपनो में मेरे बच्चों के साथ मेरा अपना काम भी शामिल है.

52 comments:

  1. मैंने खुद कभी जॉब तो नहीं की मगर आपकी यह पोस्ट पढ़कर मुझे अपना दिल्ली की एक संस्था EYAAN से किया हुआ अपना न्यूज़ रीडिंग का डिप्लोमा और वहाँ गुज़ारे हुए सभी यादगार दिन याद आगए वहाँ न्यूज़ कहीं जाती तो नहीं थी मगर जब बारी-बारी सबका नंबर आता था न्यूज़ रीडिंग के लिए तो कुछ ऐसा ही माहौल हो जाता था जैसा अपने लिखा :-) तब मेरे भी सपने कुछ और हुआ करते थे।

    ReplyDelete
  2. "वो बोले जा रही थी और मेरी आत्मा सुकून पा रही थी. सपने फिर करवट लेने लगे थे.यूँ मेरा ये हिंदी लेखन कहीं से भी पॉश नहीं, न ही कोई प्रोफेशन है. पर कम से कम मेरे बच्चों का आईडियल बनने में अब मुझे गुरेज नहीं.अब मेरे सपनो में मेरे बच्चों के साथ मेरा अपना काम भी शामिल है."

    इससे अच्छी बात क्या हो सकती है।

    वैसे न्यूज़ रीडर बनने का सपना कभी मैं भी देखा करता था शोभना जगदीश मेरी आदर्श हुआ करती थीं। इसिलिए बचपन से कॉलेज तक हिन्दी ( किताबें और अखबार) और संस्कृत को ज़ोर से बोल कर पढ़ा करता था।

    सादर

    सादर

    ReplyDelete
  3. पीछे मुड़कर देखने पर अगर परछाईं अपने से लम्बी हो जाए तो इसका अर्थ है कि आप रोशनी की दिशा में बढ़ रहे हैं | और आपकी परछाईं तो आपसे बहुत अधिक लम्बी हो गई है , जो आपके बच्चों को अवश्य ही ठंडक पहुचायेगी | आप ऐसे ही रोशनी की ओर अग्रसर होती रहें | आपको आपकी उपलब्धियों पर बधाई एवं शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  4. खुबसूरत यादों के संग साफ सुथरी जिंदगी और जिम्मेदारी का लेखा ,जहाँ एक निरणय माँ के दायित्वों का .......

    ReplyDelete
  5. करवट लेते सपने सब संभव कर देते हैं, कुछ सार्थक करने की सम्भावना नहीं मिटती है कभी...
    Wonderful journey, the one that was 'once upon a time' and the one that is being pursued now!!!
    Regards,

    ReplyDelete
  6. इस बहाने अतीत की यादें भी ताज़ा हो गई और उन दिनों की सफलता अब आपके जीवन में नए सपने दिखा रही है. यूँ ही वक्त के साथ सपने सजते, पूरे होते, छूटते, और पलते हैं. आपकी लेखनी यूँ ही अनवरत जारी रहे और हर सपने पूरे हों, शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  7. आदमी जब संघर्ष करता है तो उसके विशेज़ फुल फिल होते ही हैं।
    जिसमें लगन होती है वह सब बाधाएं पार कर लेता है।

    ReplyDelete
  8. रोचक संस्मरण! बधाई लेखिका होने के लिये।

    ReplyDelete
  9. इतनी कठिन घड़ी में तो सबके हाथ पाँव फूल जाते हैं।

    ReplyDelete
  10. shikha ji bharat gai thi atah aapka likha bahuut dino se nahi padh pai na hi likh pai .
    aapka likha huaa bahut se logon ka bhav hota hai aur unka vichar huota hai .
    aapko padha sada hi sukhad hota hai
    rachana

    ReplyDelete
  11. bahut sachhaa sa aalekh ..achhaa hai ...sapne sach ho rahe hai kuch

    ReplyDelete
  12. कई बार परिस्थितियां ही हमें अपनी काबिलियत से रूबरू करवाती हैं , हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. बेहद रोचक संस्मरण प्रस्तुति के लिये, बधाई,,,,,,,,,शिखा जी ,,,,,

    MY RESENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: स्वागत गीत,,,,,

    ReplyDelete
  14. i read ur story. its a real story of a news room. jis andaj me apne likha he, behad sunder.

    ReplyDelete
  15. वक़्त के साथ ..
    ख़यालात बदल जाते हैं ...!!

    ज़िन्दगी के साथ मज़े से चलने के लिए ज़रूरी यही है ...जब जैसा वक़्त हो वैसा ही निर्णय लिया जाये !!
    बहुत सुन्दर और प्रेरणादायक आलेख ...!!
    शुभकामनायें शिखा जी ...

    ReplyDelete
  16. heyyy hiieeeee!!!!!!!!!!!!!!

    meraa naam v shikhaaaaaaa hai....apka ye blog or website whatever it is i dunn kno :P :P :P i really like a lot....mai sab post to nai padhti...poetries waigarah mujhe smjh men aatii naiii and baaki aapka likhaa hua article goes mere sar k upaar se.....300kmph u know :P :P :P but sum of ur post wch r ur own stories are really really wonderful.....i also subscirbed ur fb page...........and usme ek do line ka poem likha tha aapne(wat was that poem, or shayari i dun kno :P) that do line valaaa poem maine cut paste kar liya....last line mein it was having my name(actuallly ur name :P)...to mere dost samajh gyee ki vo maine likhaa hai :P :P :P :P i hope u wont mind...cuz maine b unhe nai kahaa ki ye maine nai likhaaa hai :D

    and mai bi london mein rahti thi...god i miss london so much....US is boring..i was living near MK..whr u live??????..and i jst wanna tell u dat u write so nice....i just luvd ds story of urs....

    u kno vot mai b aapki tarah confuse thi when i got my first job...in london...LOL mai to hamesha ofc jana bunk kar deti thi....:D :D :D aunty used to tell me ki ofc jaanee k time hi isey pet dard or sar dard hota hai :P :P :P :P but it was fun :D

    but seriously aap to indian idol ho...sachhi vaaaaaaaaaliiiii.... itta dur reh rahe ho london se aur fir bhi itti beautiful hindi likhte ho (kaise likhte ho aap sab...mai kyu nai likh paati :( :P ) aur itne popular ho.....
    but its all d jadooooo of d name shikhaaaaaa i guessss :D :D :D :D :D :D

    anyway u hv a nice day aur aap mere naaaaam oooppssss apne naaaam isi tarah unchaa karte rahoooooooooooo......

    best of luckk

    ReplyDelete
  17. ohhhh myyyyyy god!!!!!!!!!!!!!!..can u please ignore my last comment :P its full of crappy things aur itta badaa hai.... :P :P

    ReplyDelete
  18. but i guess u kno my name ryt?????? :P

    ReplyDelete
  19. अच्छी खासी जॉब बच्चों के लिए छोड़ना बहुत जिगर का काम है , ऐसे निर्णय लेना इतना आसान नहीं होता . ब्लॉगिंग ने उन गृहिणियों को जो किसी कारणवश घर से बाहर जाकर काम नहीं करना चाहती , एक अच्छा प्लेटफोर्म दिया है , निरर्थक से सार्थक की ओर बढती जाती है यह यात्रा ...
    हमें भी गर्व है आप पर ...बहुत शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  20. रोचक संस्मरण -आपबीती

    ReplyDelete
  21. पर कम से कम मेरे बच्चों का आईडियल बनने में अब मुझे गुरेज नहीं.अब मेरे सपनो में मेरे बच्चों के साथ मेरा अपना काम भी शामिल है.

    वक्त के साथ प्राथमिकताएं बदलती हैं , सोच बदलती है और सपने भी .... और जब सपनों में बच्चों का भविष्य भी शामिल हो जाए तो बात ही क्या ...बच्चें जब माँ के कृत्यों पर गर्व करते हैं तो माँ तो आसमान छूने लगती है ......बहुत रोचक संस्मरण ..... ब

    ReplyDelete
  22. कितने सारे समझौते होते हैं .... इस ख़ुशी को मैं समझ रही हूँ .... यह प्राप्य अनमोल है
    "वो बोले जा रही थी और मेरी आत्मा सुकून पा रही थी. सपने फिर करवट लेने लगे थे.यूँ मेरा ये हिंदी लेखन कहीं से भी पॉश नहीं, न ही कोई प्रोफेशन है. पर कम से कम मेरे बच्चों का आईडियल बनने में अब मुझे गुरेज नहीं.अब मेरे सपनो में मेरे बच्चों के साथ मेरा अपना काम भी शामिल है "

    ReplyDelete
  23. Aap ke lekhan pe tippanee dene ke liye apne aap ko asamarth patee hun....behad adnasi wyakti hun.

    ReplyDelete
  24. बहुत रोचक लगा... आपको बधाई कि आपने फिर अपना एक मुकाम बना लिया और अपनी बच्ची के लिए आदर्श बन गईं...

    ReplyDelete
  25. यिप्पीई .... ख़ुशी में ऐसे ही चिल्ला पड़ी ..अब देर मत कीजिये aur रूस के बाद के अनुभव कागज़ पर उतारिये ....हम प्रतीक्षा में है

    ReplyDelete
  26. @ Shikha! I don't only know your name I think I know you as well :)
    thanks so much for your wonderful words anyways. I will try my best to keep your name high:):).

    ReplyDelete
  27. Kshama ji ! आपकी पेंटिंग्स और कविता के तो हम पंखें हैं..आप तो ऐसा न कहिये :).

    ReplyDelete
  28. सोनल !! तुम एक दिन जान लेकर छोडोगी :):)

    ReplyDelete
  29. बहुत अच्छा संस्मरण , कभी कभी कुछ क्षण जिन्दगी की चाल ही बदल देते हें और फिर ये कदम जिस रह पर चल निकालते हें वह हमें मालूम नहीं होते लेकिन जिस मंजिल पर लेकर खड़ा कर देते हें वह हमने सोची नहीं होती है. बस इसी तरह आगे बढ़ते रहो.

    ReplyDelete
  30. दृढ मनोबल भरे, जिम्मेदार संस्मरण!!

    सुज्ञ: एक चिट्ठा-चर्चा ऐसी भी… :) में आपकी इस पोस्ट का उल्लेख है।

    ReplyDelete
  31. सच! वक़्त के साथ बहुत कुछ बदल जाता है...
    आप अच्छा लिखती हैं...हमेशा लिखती रहिए...शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
  32. मैं भी पेशे से पत्रकार हूं और ऐसे कई मौकों से दो-चार हुई. पीठ पर शाबासी की थपथपाहट दिनों तक नहाने से रोकती रही :) अब काबू पाना आ गया है और कुछ सौंदर्यबोध का लिहाज है.

    मृदुलिका

    ReplyDelete
  33. लेख पढ़ कर अपना सा लगा ...जिंदगी से ताल मेल बैठा कर चलाना ...कठिन जरुर हैं पर मुश्किल नहीं .....ऐसे ही लिखती रहे ...आपके लेख कविता पढ़ना अच्छा लगता हैं

    ReplyDelete
  34. अपने बच्चो का आइडियल बन पाना गर्वकी बात होती है . ज्यादातर तो घर की मुर्गी दाल बराबर ही होती है . क्या खूब संस्मरण है .

    ReplyDelete
  35. वैसे तो हम आज कल बहुत कम ही कमेन्ट करते हैं... चुपचाप पढ़ के निकल लेते हैं... लेकिन इस पोस्ट को पढ़कर समझ नहीं आ रहा क्या करूँ... बस इतना समझ आया कि कुछ तो कमेन्ट कर ही दूं... क्या करूँ पता नहीं.... :-) ;-)

    ReplyDelete
  36. बहुत अच्छा संस्मरण दिल को छू गया

    ReplyDelete
  37. आपकी पोस्ट के साथ साथ मैं भी अपनी जिंदगी को समांतर चलते हुए देख रही थी .........मेरे भी सपने बदले बार बार कई बार ...........

    ReplyDelete
  38. ख़ूब अच्छी तरह समझ रही हूं आप के मन पर क्या बीती होगी . ब्लाग लेखन का भी अपना आत्म-संतोष है ,और जन-स्वीकृति मिल जाये तो बात ही क्या है !
    निष्ठावान मन की पूरी झलक आपके लेखन में उतर आती है- उसे इतना ग्राह्य बनाती हुई.
    मुझे आपका लेखन अच्छा लगता है .

    ReplyDelete
  39. न्यूज़ रीडर और फिर घर का काम फिर लिखाक ... जीवन में जो करो १०० प्रतिशत करो ...
    कितना अच्छा लगता है कभी कभी अपने अतीत में झांकना और उनसब पलों कों याद करना ... अच्छा लगा ये लेख ...

    ReplyDelete
  40. मन को छू लेनेवाला संस्मरण...

    ReplyDelete
  41. बहुत खूब... देरी से आने के लिए माफ़ी... मन को छू लेनेवाला संस्मरण...

    ReplyDelete
  42. हमेशा की तरह रोचक ...

    ReplyDelete
  43. sach hai apne astitva ke sath nyay kar ke hi samaj ko kuch diya ja sakta hai. bhut sahaj aur purn sampreshan...

    ReplyDelete
  44. Aap se kya khna-............hmara yah jivan hmare ATIT ka result hai........es duniya me hr kisi ko mukkamal jaha nhi milta.....

    ReplyDelete
  45. सुन्दर ,सार्थक संस्मरण शिखा जी

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *