Enter your keyword

Friday, 25 May 2012

ज़रा सोचिये ..

 मैं मानती हूँ कि लिखा दिमाग से कम और दिल से अधिक जाता है, क्योंकि हर लिखने वाला खास होता है, क्योंकि लिखना हर किसी के बस की बात नहीं होती और क्योंकि हर एक लिखने वाले के लिए पढने वाला जरुरी होता है और जिसे ये मिल जाये तो "अंधे को क्या चाहिए  दो आँखें" उसे जैसे सबकुछ मिल जाता है.और इसीलिए उसके यह कहने के वावजूद "कि कोई बड़ी बात नहीं है पर आपको बता रहा हूँ" मेरा ये पोस्ट लिखना जरुरी हो जाता है .आखिर हर एक ब्लॉगर भी जरुरी होता है और जो ब्लॉगर दूसरे ब्लॉगर के मना करने के वावजूद ना लिखे वो भला कैसा ब्लॉगर:):). इसीलिए सुनिए -


अभी कल...  नहीं शायद परसों... अजी छोड़िये क्या फर्क पड़ता है .हाँ तो इन्हीं किसी एक दिन हमारे एक बहुत ही काबिल ब्लॉगर 
अभिषेक कुमार अपने एक मित्र के साथ अपने शहर के एक मॉल में घूम रहे थे. अब ये तो बताने की जरुरत नहीं कोई विषय ही खोज रहे होंगे वहां. तो एकाएक पीछे से एक आवाज आई -


"are you  blogger abhi?", i am buni..you  write so well...i read your blog...i have seen you one or two times in this mall..but today decided to meet you."


अब बेशक अभि के लिए यह बड़ी बात ना हो हमने भी वैसे नापी नहीं कि बड़ी थी या छोटी. परन्तु ख़ुशी की बात तो अवश्य थी. आखिर किसी लिखने वाले के लिए इससे बड़ा पुरस्कार क्या हो सकता है कि कोई अनजान पाठक उसका लिखा गंभीरता से पढता है. मुझे यकीन है कि जरुर अभि को और उसके साथ उसके दोस्त को भी एक सेलेब्रिटी जैसा अहसास हो रहा होगा .और गर्व भी कि उसके दिल से निकली बातें वो जिस मेहनत से ब्लॉग पर सजाता है वह कितनी खास हैं, कितनी सुन्दर और कितनी जरुरी.


यूँ यह बात बेशक अभिषेक की है. परन्तु गर्व का मौका हम सब का है और शायद एक प्रेरणादायक वाकया भी , कि जो ब्लॉग हम में से कोई भी,यह सोच कर लिखता है कि हमारा ब्लॉग हमारी बपौती है.हम जो मर्जी लिखें, किसी को क्या लेना देना .तो हमें कुछ भी लिखते समय यह जरुर सोचना चाहिए कि बेशक ब्लॉग हमारा है और उस पर लिखने का अधिकार भी हमारा. परन्तु उसे पढने वाले अनगिनत हो सकते हैं. वे भी जो हमें जानते हैं और वे भी जो हमें बिलकुल नहीं जानते और जो हमारे लेखन से ही हमारे व्यक्तित्व का एक बुत बना लेते हैं. मुझसे कई बार कुछ लोग यह कहते हैं कि अरे वो पोस्ट ..वो तो हमने किसी को जलाने , सताने , मनाने, लुभाने वगैरह वगैरह के लिए लिखी थी. पर जरा सोचिये आपने जिसके लिए भी लिखी हो पर पढ़ी वो न जाने कितने जाने अनजाने लोगों ने होगी. और उन्हें तो यह बात नहीं मालूम कि ये आपने क्यों और किसके लिए लिखी थी. उनके लिए तो वह एक पोस्ट है और उसी से लेखक के प्रति एक धारणा उनके मस्तिष्क में बन जाती है. फिर बेशक वो आपके किसी खास परिस्थिति में लिखे एक वाक्य से ही क्यों ना हो.


एक लिखने वाला जब खुद को एक लेखक कहता है तो उसकी एक सामाजिक जिम्मेदारी भी बन जाती है


सोचिये जब यह ब्लोग्स नहीं थे. लिखने वाले तो तब भी थे परन्तु पाठक उनमें से कुछ खास किस्मत वालों को ही मिला करते थे और प्रतिक्रिया देने वाले भी सिमित हुआ करते थे. परन्तु ऐसे भी अनगिनत लिखने वाले हुआ करते थे जो चाहे कितना ही बेहतर क्यों नहीं लिखते उनका लिखा कुछ पन्नो में सिमित रह जाता होगा. पर आज हमारे पास ब्लॉग के रूप में एक ऐसा माध्यम है जहाँ हम बिना किसी परेशानी के अपनी अभिव्यक्ति असीमित वर्ग तक अनजाने ही पहुंचा देते हैं.और यदि आपने इमानदारी से लिखा है और वह पठनीय है तो अपना पाठक वर्ग खुद ही तलाश लेता है. आप बिना किसी खास परिश्रम के बन जाते हैं सेलेब्रिटी , आपके फैन्स भी बन जाते हैं, आपको अपना लिखना सार्थक लगने लगता है. और आपकी निष्ठा  और मेहनत लेखन के प्रति और बढ़ती जाती है. 


जैसा कि मुझे यकीन है कि अभि के साथ भी हुआ होगा. मुझे नहीं पता इस वाकये के बाद उस रात उसे नींद आई होगी या नहीं:) परन्तु मुझे विश्वास है कि अब उसकी लेखनी की धार और तेज़ होगी और दोगुने उत्साह से निरंतर चलती रहेगी.


तो आइये नियामत के रूप में मिले इस ब्लॉग को अभिव्यक्ति का एक सार्थक माध्यम बनाये. व्यक्तिगत कुंठा और शत्रुता का माध्यम नहीं. क्या मालूम राह चलते कभी आपको भी आपका कोई अनजान पाठक मिल जाये तो आपको अपने उस पाठक से नजरे मिलाने में ख़ुशी और गर्व हो , शर्मिंदगी नहीं.

* और अब एक और बात - आज  ही भारत में रूसी उच्चायुक्त श्री एलेक्जेंडर कदाकिन  का  मेरी पुस्तक "स्मृतियों में रूस " पर प्रतिक्रया स्वरुप  एक  पत्र  मिला है :) आप भी पढ़िए .

53 comments:

  1. Abhishek jaisee ghatna hamare saath bhi ghate,... abhi to bas yahi soch sakte hain.. waise bahut sahi kaha aapne.. sarthak blogging ki bahut jarurat hai.. bina ade bhide ham apni baat kahen... aur kisi kee post ko galat kah sakte hain.. par uss vyakti ko bura banane se bachchen...!!
    arre haan bhul hi gaye... bade log... itna behtareen hindi me patra rusi rajdoot se paane ke liye bahut bahut badhai...:))

    ReplyDelete
  2. अरे वाह!!! यह तो बहुत ही अच्छा वाक्य बताया आपने जानकार बहुत अच्छा लगा। काश हमें भी जाने अंजाने लोगों के बीच ऐसी की पहचान मिले :) आपकी लिखी बातों से पूर्ण सहमति है। और हाँ श्री एलेक्जेंडर कदाकिन की पत्र रूप मे प्रतिक्रिया हेतु बहुत-बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  3. yah ek aisa manch jaha aap khul kar apni baat kahte hay,aur aap ko samja jata hay.muj ko yaha ki kai samagri padne me bada aanand aaya,kirpaya badhai swikar kare.

    ReplyDelete
  4. दिल से लिखी रचनाएँ दिल और दिमाग दोनों को झकझोरती हैं , दिमाग से भी लिखा जाता है और उसमें थोड़ी कठोरता भी होती है ... पर जब ब्लॉग की पहचान कोई और करता है , उस वक़्त की ख़ुशी को नापा नहीं जा सकता . अभिषेक जी को भी उतनी ही ख़ुशी हुई होगी , जितनी पढकर हमें हो रही है . कहीं छापना , किसी की चर्चा में आना ---- यही तो हैं हमारी छोटी छोटी उपलब्धियां !
    किताब के लिए जो पत्र मिला है , वह तुम्हारे साथ भारत का सम्मान है - शुभकामनायें

    ReplyDelete
  5. भारत में रूसी उच्चायुक्त श्री एलेक्जेंडर कदाकिन ने आपकी पुस्तक को सराहा ....बहुत बधाई ...!!
    सही कहा है आपने |मैं पूरी तरह सेहमत हूं कि हमे आज सार्थक ब्लोगिंग की ज्यादा आवश्यकता है ...!!
    अभि को अपने अच्छा लिखने का पुरस्कार मिल गया|अच्छा लगा पढ़कर |

    ReplyDelete
  6. पहले बधाई स्वीकारें, आपकी उपलब्धियों एवं प्रभाव के लिए जिसके होते रूस के राजदूत ने आपको धन्यवाद दिया है ....
    मुझे गर्व है कि हमारी एक बेटी को, विदेशों में भी सम्मान मिल रहा है !


    @
    तो आइये नियामत के रूप में मिले इस ब्लॉग को अभिव्यक्ति का एक सार्थक माध्यम बनाये. व्यक्तिगत कुंठा और शत्रुता का माध्यम नहीं. क्या मालूम राह चलते कभी आपको भी आपका कोई अनजान पाठक मिल जाये तो आपको अपने उस पाठक से नजरे मिलाने में ख़ुशी और गर्व हो , शर्मिंदगी नहीं.



    बदकिस्मती है कि हिन्दी ब्लोगिंग में वह परिपक्वता देखने को नहीं मिलती जिसकी हमसे उम्मीद की जानी चाहिए थी !
    जहाँ हम स्वंतंत्र तौर पर अपने अपने विचार लिखते हैं वहीँ एक खेद जनित परस्पर द्वंद्व दिखने लगा है ! गूगल से मुफ्त की लेखनी और प्रेस पाकर हम अपने आपको दुनिया का सबसे बड़ा साहित्यकार समझते हैं , जिसका साहित्य लोगों की समझ से बाहर है !
    और इस गर्व के होते एक दूसरे का सर फोड़ने के लिए भी तैयार हैं !
    घर की गुस्सा और कुंठा कलम के जरिये समाज में झोंकने के लिए कमर कसे तैयार दीखते हैं !
    यहाँ हर कोई अपना पढ़ाने के लिए बेचैन है पढना कोई नहीं चाहता !
    शायद समय कुछ कर सके ...
    तुम्हारी प्रतिभा को नमस्कार एवं अगले शीर्ष पर देखने के लिए शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  7. हाए ! काश कोई कद्रदान हमें भी मिल जाए तो अपनी भी लेखनी में धार आ जाए । :)
    सचमुच शिखा जी , यह तो बहुत बड़ी उपलब्धि है यदि एक भी बंदा आकर आपके लेखन की तारीफ करता है । निश्चित ही , इससे और बेहतर लिखने का प्रोत्साहन मिलता है ।
    लेकिन क्या करें , कभी कभी पर ब्लॉग्स पर चहुलबाज़ी भी हो ही जाती है ।

    ReplyDelete
  8. शिखा जी आपने बिल्कुल सही कहा । लेखक की सामाजिक जिम्मेदारी भी होती है । यह आशाजनक है कि आप या अभिषेक जी जैसे अनेक ब्लाग-लेखक इस जिम्मेदारी को निभा रहे हैं । आपका आलेख सारगर्भित है ।

    ReplyDelete
  9. शिखा जी आपने बिल्कुल सही कहा । लेखक की सामाजिक जिम्मेदारी भी होती है । यह आशाजनक है कि आप या अभिषेक जी जैसे अनेक ब्लाग-लेखक इस जिम्मेदारी को निभा रहे हैं । आपका आलेख सारगर्भित है ।

    ReplyDelete
  10. वो अभि वाली बात कुछ आगे भी बढ़ी या उत्ती ही रही।

    बाकी आपने बहुत अच्छा संदेश दिया। भाईचारा बढ़ाने के ऐसे ही संदेश जरूरी होते हैं।

    रूसी उच्चायुक्त श्री एलेक्जेंडर कदाकिन के पत्र के लिये बधाई!

    ReplyDelete
  11. शिखा जी ,अंतरजाल पर हम जो लिखते है और सोचते है की बस मन हल्का कर लिया पर ऐसा नहीं होता ....हम अकेले में भी चीखते है तो हमारी आवाज़ हम तक आती है ...मेरे ब्लॉग का जिक्र जब हिन्दुस्तान times में रवीश जी ने किया था तो मैं झटका खा गई थी कि मेरे लिखे को कोई इतनी गंभीरता से ले रहा है ... आपको और अभिषेक जी को बधाई ..

    ReplyDelete
  12. अभिषेक तो वैसे भी बहुत अच्छा लड़का है.. और मैं तो उसका फैन हूँ ही.. .उससे जब पहली बार मिला था तो ऐसे लगा था कि बहुत पहले से जानता हूँ... और उसके लेखन की तो बात ही अलग है.. यह बात तो आपकी सही है कि लेखन हमारे व्यक्तित्व का आइना होता है. यहाँ जब लोग पर्सनल होते हैं.. तो कई तरह से पोस्टें लिखी जातीं हैं.. अभी ब्लॉग जगत को मैच्योर होने में बहुत टाइम है.... यहाँ उम्र और मैच्योरिटी में बहुत डिफ़रेंस है.. अभि छोटा है लेकिन बहुत मैच्योर है.. वहीँ यहाँ .. कई पचास पार हैं.. फ़िर भी चाइलडिश हैं.. तो जब तक के बिहेवियरल मैच्योरिटी नहीं आएगी.. तब के लेखन में अनाप शनाप देखने को मिलेगा.. और कई बार क्या है कि यहाँ लोगों ने ख़ुद को साहित्यकार घोषित कर रखा है.. भले ही कोई माने या ना माने.. कोई एजेंसी रिकौग्नाइज़ करे या ना करे.. लेकिन ख़ुद को ज़बरदस्ती साहित्यकार घोषित कर रखा है.. जैसे देखता हूँ कि लोग अपने घरों का नाम साहित्य सदन या साहित्यकार भवन रख देते हैं.. अब भाई वाईट हाउस रख दो... लोकसभा रख दो.. उससे कुछ थोड़े ही ना हो जायेगा.. तो अगर कोई लेखक है.. तो सबसे पहले लेखन उसके लिखने में दिखना चाहिए.. अगर इन्सान पढ़ा लिखा होता है तो सबसे पहले उसकी शक्ल बोलती है... बात करने का अंदाज़ बोलता है.. हम जिस कैटेगरी के होते हैं.. वही छाप हमारे चेहरे पर आ जाती है.. उसी तरह लेखन होता है.. जब हम किसी भी चीज़ से तंग आ जाते हैं.. तो चिडचिडाहट में जलाने , ताने मारने.. सताने जैसी पोस्टें लिखने लगते हैं.. यहाँ ब्लॉग जगत को ख़ुद ही मैच्योर होना पड़ेगा.. जब तक तक बिहेवियरल मैच्योरिटी नहीं आएगी.. अभिषेक जैसा होना मुश्किल है..

    अच्छा! मेरा एक चीज़ और मानना है ..जब इन्सान दिल से सुंदर होता है तो चेहरा उसका अपने आप सुंदर हो जाता है.. और जब चेहरा सुंदर होता है... तो उसका टैलेंट भी सुंदर होता है... और जो भी टैलेंट होता है.. वो ऐसी ही सुंदर पोस्टों के रूप में बाहर निकलता है.. आपको रशियन ऐम्बैज़डर की तरफ से प्रतिक्रिया की बहुत बहुत बधाई.. और ऐसी ही पोस्टें लिखतीं रहें.. मैं तो आपका भी बहुत ही बड़ा (लखनऊ से लेकर लन्दन तक बड़ा वाला) फैन हूँ...

    ReplyDelete
  13. दिल से लिखी रचनाएँ सबको ही प्रभावित करती हैं ... पाठक स्वयं ही उन तक पहुँच जाते हैं ...ब्लॉग से किसी ब्लॉगर की इस तरह पहचान बनना उसके लेखन की सार्थकता को बताता है ... अभिषेक जी को बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं ॥

    सच कहा कि इस वाकये को जान कर हर एक ब्लॉगर की ज़िम्मेदारी बन जाती है कि अच्छा लिखें ...क्योंकि यही हमारी पहचान है ....

    स्मृतियों में रूस पर प्राप्त पत्र भी कुछ ऐसी ही ज़िम्मेदारी का आभास करा रहा है ... बहुत बहुत बधाई ...

    ReplyDelete
  14. चार महीने पहले ब्लाग लिखना शुरू किया था मैने भी ....चालीस से ज्यादा मित्र बन चुके हैं जिनसे फोन मेल और लाइव चैट भी हो चुकी है ........मै लेखक नही हूं मेरे खानदान में आज तक कोई नही हुआ पर मै जो घूमता हूं वेा लिख देता हूं बस ऐसे ही कुछ लोग हैं जो उन्हे पसंद करते है और इसलिये आज आपकी सोलह आने सही बात बडी अच्छी लगी

    इस लेख के लिये और आपको मिले पत्र के लिये साधुवाद

    ReplyDelete
  15. हमारी भी मुबारकबाद क़ुबूल कीजिए...हमें भी आपके लेख अच्छे लगते हैं... वाक़ई आप ऐसी बेटी हैं, जिस पर किसी को भी नाज़ होगा...

    ReplyDelete
  16. नालंदा में आयोजित एक कवि सम्मेलन में मैं एक नई ताज़ी लिखी रचना सुनाकर बैठने जा रहा था, तो एक सज्जन बोले सर ज़रा “मन तरसे इक आंगन को” सुनाइए। मुझे आश्चर्य हुआ कि लोग मेरी रचना को शीर्षक एक साथ याद रखे हुए हैं और पसंद करते हैं और फ़रमाइश कर सुनना चाहते हैं। मैंने सुनाया ...!
    अखबार और पत्रिका के लोगों की नज़र तो लगी ही रहती है ब्लॉग जगत के लोगों पर।
    ऐसा कोई पाठक या प्रशंसक जब मिल जाता है, तो लगता है हमारी जिम्मेदारी और बढ़ गई है। कुछ लिखने के पहले ख़ुद को कई बार ख़ुद से तौलना पड़ता है।
    रचना और दिल से लिखी गई पर हमने एक पोस्ट ही लिख मारा था - अगर चाहें तो यहां देख सकते हैं
    दिल से लिखी गई रचना

    ReplyDelete
  17. एक रचनाकार के लिये इससे बढकर और कोई पुरस्कार या सम्मान नही हो सकता कि वह आम पाठक वर्ग मे अपनी पहचान बना ले और इसके लिये अभिषेक जी को हार्दिक बधाई…………और तुम्हें भी तुम भी तो देश और ब्लोगिंग का नाम रौशन कर रही हो…………हार्दिक बधाई और शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  18. सर्वप्रथम आपको बहुत-बहुत बधाई इस पत्र की प्राप्ति पर बहुत ही सही कहा है आपने ... आपकी बातों से पूर्णत: सहमति रखती हूँ ..

    ReplyDelete
  19. बहुत सटीक बात कही है आपने।
    रूसी उच्चायुक्त का यह पत्र संग्रहणीय है ;हार्दिक बधाई!


    सादर

    ReplyDelete
  20. आपको और अभिषेक को बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ !

    ReplyDelete
  21. सार्थक लेखन की सबकी अपनी परिभाषा होती है और कोई अपने हिसाब से सार्थक और कालजई ही लिखने की कोशिश करता है .दिल दिमाग दोनों एकसाथ काम करे तभी तो लिखा जा सकता है . दिमाग गड़बड़ हुआ तो उटपटांग लेखन और दिल लगा के नहीं लिखा तो केशवदास .हम तो पार्ट टाइम वाले ब्लोगर है और ये वाला मुगालता नहीं पाला की हमको कोई पहचानेगा , अब अंगूर खट्टे है ऐसा कह लीजिये. अभिषेक को मैंने कई बार पढ़ा है , एकदम दिल से डैरेक्ट लिखते है . डूबकर . कोई बनावट नहीं . कही दिखावे वाली स्मायली नहीं , सब कुछ एकदम प्राकृतिक . ऊपर से आत्मश्लाघा से बहुत दूर . अब अगर दिल्ली में मुझे भी कही दिख जाए तो पहचान तो लूँगा ही ना एक पाठक के बतौर .बहरहाल उनको मेरी ढेरों मुबारकवाद और शुभकामनायें .

    पुनश्च आपकी किताब के बारे में श्रीमंत कदाकिन का पत्र हिंदी में देखकर आश्चर्य जनित प्रसन्नता हुई . उनके अनुसार आपकी पुस्तक निष्कपट है जैसा की भारत और रूस के सम्बन्ध . मुबारकां .

    ReplyDelete
  22. रूसी उच्चायुक्त श्री एलेक्जेंडर कदाकिन के पत्र के लिये बधाई!....सार्थक लेख!

    ReplyDelete
  23. अभी ऑफिस से लौटा हूँ और सोचकर आया था कि यह पोस्ट लिखूंगा.. और मेरी पोस्ट चोरी हो गयी!!
    ऊपर वाली पोस्ट के लिए कुछ नहीं कहूँगा मगर दूसरी पोस्ट की बधाई!!

    ReplyDelete
  24. ये तो एक्स्ट्रा लार्ज खबर है..वो दूसरी वाली...आपको बहुत बहुत बधाई दीदी..देखिये एक्स्ट्रा लार्ज खबर इसे कहते हैं, ना की मेरे वाली खबर को :)

    एनीवे..
    दीदी, मेरे से सबसे बड़ी गलती ये हो गयी की मैंने उसकी डिटेल नहीं ली..ये भी नहीं पूछा की और किसके ब्लॉग अच्छे लगते हैं आपको...
    अरे, अकरम और मैं कुछ बेहद गंभीर मुद्दों पर बातें करते जा रहे थे की ये सब एकदम अचानक से हो गया...मैं संभल ही नहीं पाया...और बस उसने ही जो जो कहना था कहा...और मैं कुछ भी पूछ नहीं पाया..बस हलकी बात होकर रह गयी :)

    वैसे ये बात तो है..की लाख उत्साह बढ़ाने वाले कमेन्ट आ जाए, लेकिन अगर ऐसा एक भी कोई मिलता है जो इस तरह आपकी तारीफ़ करता है तो उत्साह में जबरदस्त इजाफा होता है :)

    ReplyDelete
  25. भारत में रूसी उच्चायुक्त श्री एलेक्जेंडर कदाकिन के पत्र के लिए बहुत बधाई....
    बड़े गर्व की बात है.......

    ऐसे पल आपके जीवन में और भी आये.....
    शुभकामनाएँ
    अनु

    ReplyDelete
  26. Badhiya qissa! Aapkee shaili bhee kamaal kee hai!

    ReplyDelete
  27. हिंदी और हिंदुस्तान दोनों गौरवान्वित हुए | आपको बधाई |

    "लेखन" सदा संजीदगी से ही करना चाहिए |
    कोई पढ़े अथवा न पढ़े |

    ReplyDelete
  28. यदि आपने इमानदारी से लिखा है और वह पठनीय है तो अपना पाठक वर्ग खुद ही तलाश लेता है. आप बिना किसी खास परिश्रम के बन जाते हैं सेलेब्रिटी , आपके फैन्स भी बन जाते हैं, आपको अपना लिखना सार्थक लगने लगता है. और आपकी निष्ठा और मेहनत लेखन के प्रति और बढ़ती जाती है.
    आपने सही कहा,,,,
    पत्र के लिये बधाई,,,,,,

    MY RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि,,,,,सुनहरा कल,,,,,

    ReplyDelete
  29. पत्र आसानी से नहीं बांचा जा पा रहा है, बहरहाल बधाई.
    अभिषेक जी के ब्‍लाग में वो बात होती है, इसलिए ऐसा स्‍वाभाविक है.

    ReplyDelete
  30. निष्‍कपट पुस्‍तक को भारत और रूस के बीच एक और सेतु कहा गया है, आपके लिए गौरव और हम सब के लिए प्रसन्‍नता की बात है, पुनः बधाई.

    ReplyDelete
  31. आसानी से मिली चीज की क़द्र नहीं कर पते हम लोग ।बहुत सुन्दर आलेख ।आपको बहुत बधाई और अनेक शुभकामनाये ।

    ReplyDelete
  32. ब्लॉगर मंच उन लोगों के लिए तो वरदान है ही जो थोड़ी बहुत फुर्सत निकल कर लिखते हैं , पढ़ते हैं . जो लोंग अपना पैसा खर्च कर अपनी ख़बरें , किताबे प्रकाशित करवा सकते हैं , उन्हें शायद इसकी क़द्र नहीं है ! उसने हमको जवाब दिया , हम उसको जवाब देंगे , इसी फेर में हिंदी ब्लॉगिंग की साख को नुकसान पहुँच रहा है तो किसी को इसकी परवाह नहीं ! काश कि इस देश में रहने वाले भारतीय भी हिंदी पर गर्व करें !!
    सार्थक चिंतन !
    बहुत बधाई और शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  33. लेखक का समाज के प्रति भी दायित्व होता है शब्दों मे बहुत शक्ति होती है जिसके सदुपयोग मेंही लेखन की सार्थकता है.
    लिखना सफल हो जाता है जब कोई उसके द्वारा हमें पहचानता है.
    आपकी लेखनी को सम्मान मिला -बधाई !

    ReplyDelete
  34. जानकर ख़ुशी हुई , बधाई स्वीकारें.....

    ReplyDelete
  35. शायद आपको यह मालूम न हो और आपकी अनुमति से यह न किया गया हो लेकिन हमारे यहाँ एक पापुलर न्यूज पेपर है नवभारत उसमें संडे स्टोरी में आपकी आवरण कथा छपी है। अभि वाली स्टोरी देखकर मुझे यह याद आ गया पिछले रविवार का यह वाकया है।

    ReplyDelete
  36. अभिषेक के चाहने वाले बंगलोर में अब भी घूमते हुये मिल जाते हैं। राजदूत का पत्र निश्चय ही उत्साह बढ़ाने वाला है।

    ReplyDelete
  37. प्रवीण भैया...आपने उन लोगों को कोफ़ी वैगरह पिलवाई या नहीं :D

    ReplyDelete
  38. आपकी बातें हम सब सुनें यही कामना है।

    ReplyDelete
  39. सबसे पहला काम बधाई स्वीकारें . लेखन आपके चिंतन का लिपिबद्ध अंकन है.
    और जैसा आपने कहा ..... ब्लॉग में डालना पूरी इमानदारी से तब ही आपके विचारवान
    होने का मजा और औचित्य .......... ज्यादा क्या लिखू लोग सब समझते हैं ...

    ReplyDelete
  40. शिखाजी हमारा लेखन ही तो हमारे और पाठकों के बीच का सेतु होता है ...उसे जितना मज़बूत और सुन्दर बनायेंगे ...उतना ही वह पाठकों के करीब लायेगा ......और अपने मनकी बात अगर सच के पुख्ता नीव पर न खड़ी हो ...तो वह किसीको कभी भी प्रभावित नहीं कर पायेगी .....और हाँ भारत को गौरान्वित करने के लिए बहुत बहुत बधाई ...!!!!

    ReplyDelete
  41. भारत में रूसी उच्चायुक्त श्री एलेक्जेंडर कदाकिन के पत्र के लिए बहुत बधाई....
    हमें लेखन कार्य पूरी संजीदगी से करना चाहिए |

    ReplyDelete
  42. सच कहा आपने हमें वही लिखना चाहिये जिसके लिये हमें कभी शर्मिदा ना होना पडे ।
    आपकी किताब की प्रशंसा पत्र के लिये बधाई । ब्लॉगिंग का यह मंच वाकई एक नियामत है ।

    ReplyDelete
  43. ब्लॉग के विषय में आपने बहुत सही कहा है....
    और आपको इस विशेष उपलब्धि के लिए बधाई :-)

    ReplyDelete
  44. सार्वजनिक रूप से जब आप अपने विचार रखते हैं तो उनमें भाषा का संतुलन तो होना ही चाहहिये ... ब्लोगिंग भी एक सार्वजनिक मंच है ...
    काश हमें भि ऐसी कोई पहचान मिले ... माल में तो मैं भी खूब जाता हूँ घूमने ... हा हा ...
    आपको इतना सम्मान मिला समझिए हमें भी सामान मिला भारतीय के नाते ... बहुत बहुत बधाई ...

    ReplyDelete
  45. ब्लॉग के बारे में तो नही जानता हूं, कभी लिखा नही लेकिन इसे मैं बहुत बड़ी उपलब्धि मानता हूं कि जिस देश के बारे में किताब लिखा गया उस देश का उच्चायुक्त खुद हिन्दी में पत्र लिख कर रिकौग्नाईज़ करे..तारीफ़ और शुभ कामना दे...असीम बधाई.

    ReplyDelete
  46. सोच रहा हूँ...जरा नहीं बहुत सोच रहा हूँ। कितनी अच्छी और जरूरी बात लिखी है आपने यह सोच रहा हूँ। ब्लॉगिंग को पुस्तक में बदलते और पुस्तक को अपना सम्मान पाते सोच रहा हूँ। जिस मुल्क के संस्मरण लिखे उस मुल्क के उच्चायुक्त के पत्र की सुंदर अभिव्यक्ति के बारे में सोच रहा हूँ। अभिषेक की खुशी के बारे में सोच रहा हूँ। सोच रहा हूँ कि कहीं कभी जाने अनजाने मैने कभी कुछ गलत तो नहीं लिखा था। अंत में यह सोच सोच कर भी पुलकित हो रहा हूँ कि अभि और शिखा जैसे बड़े ब्लॉगर मेरा लिखा भी पढ़ते हैं।

    ..आभार लेख के लिए, बधाई सम्मान के लिए।

    ReplyDelete
  47. "एक लिखने वाला जब खुद को एक लेखक कहता है तो उसकी एक सामाजिक जिम्मेदारी भी बन जाती है"

    श्री एलेक्जेंडर कदाकिन ने आपकी पुस्तक को सराहा ....बहुत बधाई

    ReplyDelete
  48. बहुत बेहतरीन व प्रभावपूर्ण रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  49. उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  50. बहुत सही कहा, ब्लॉगर हो या लेखक सदैव अपनी गरिमा बना कर रखनी चाहिए और ऐसा लिखें कि न कोई आहत हो न खुद शर्मसार. आपकी पुस्तक की सराहना में रूस के उचायुक्त का हिन्दी में पत्र प्रशंसनिए है. बधाई.

    ReplyDelete
  51. सही कहा, नेक सलाह! लेकिन सब तो अभिषेक (और आप) जैसे गरिमावान नहीं हो सकते बेचारे, फिर भी खबरों में रहना चाहें तो क्या करें. आपको मिले प्रशंसापत्र के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  52. पत्र के लिए बधाई...
    अभिषेक भाई की तरह अनूठी ख़ुशी का आनंद मैं भी ले चूका हूँ.. अपनी लास्ट पोस्ट में इस बात का जिक्र भी किया है...

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *