Enter your keyword

Friday, 27 April 2012

उम्मीदों का सूरज.

आज निकली है धूप 
बहुत अरसे बाद 
सोचती हूँ 
निकलूँ बाहर 
समेट लूं जल्दी जल्दी 
कर लूं कोटा पूरा 
मन के विटामिन डी का 
इससे पहले कि 
फिर पलट आयें बादल 
और ढक लें 
मेरी उम्मीदों के सूरज को.

********


यूँ धुंधलका शाम का भी बुरा नहीं 
सिमटी होती है उसमें भी 
लालिमा दिन भर की 
जिसे ओढ़कर सो जाता है 
क्षितिज की गोद में 
लाने को फिर से नई सुबह 
मेरी उम्मीदों का वह सूरज. 
***********


पर यूँ भी तो है 
कल उगे वो 
पर ना पहुंचूं मैं उसतक
बंद हो खिड़की दरवाजे 
ना पहुँच सके वो मुझतक.
तो बस 
अभी ,इसी वक़्त 
भरना है मुझे अपनी बाँहों में 
मेरी उम्मीदों का सूरज.
*********

75 comments:

  1. beautifully panned all three situations!

    ReplyDelete
  2. कितना सुन्दर, मन:स्थिति का वर्णन!....आभार!

    ReplyDelete
  3. spandanyukt ummeed ka sooraj ....
    bahut sunder rachna ...
    shubhkamnayen ...

    ReplyDelete
  4. बहुत खूबसूरत दीदी...
    लेकिन ये तारीफ़ अंतिम कविता के साथ वाली तस्वीर के लिए है..
    कविता भी प्यारी सी, इंस्पीरेशनल सी है...तीनो..बहुत पसंद आई :)

    ReplyDelete
  5. आप एक अच्छी कवयित्री हैं। मुझे इसमें कोई शंका नहीं है। जिस तरह शब्दों को आप बिंबों में बांधती हं, और अनायास कोई नया अर्थ फूटता है, वह सबके बस की बात नहीं है। मैं इन तीनों छोटी-छोटी कविताओं को श्रेष्ठ कविता की श्रेणी में रखूंगा। इनमें भीतर का स्वर एक है, बाहर से चाहे अलग-अलग दिखे। एक जिजीविषा, एक आशा और एक उम्मीद के सहारे जीने की सचेष्ट आकांक्षा के भाव परिलक्षित होते हैं।

    ReplyDelete
  6. वर्तमान के हर पल को पूर्ण रूप से जिया जाए .
    कल का क्या भरोसा , क्या हो जाए .

    बहुत खूबसूरती से लिखी क्षणिकाएं .

    ReplyDelete
  7. गया वक़्त दुबारा आये न आये जो पल मिले उसी में जी लो पूरा जीवन ......बहुत गहरी बात कह रही है रचना ...अति सुन्दर

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर लघु कविताएं.. आपकी उम्मीदों का सूरज यूं ही आपकी जिंदगी में उजाला भरता रहे..

    ReplyDelete
  9. सूरज लाली ऊष्णता, से जीवन उम्मीद ।

    तन मन ऊर्जा प्राप्त कर, सदा मनाओ ईद ।।

    ReplyDelete
  10. सूरज आप तक बिना पहुंचे रह सकता है भला????
    :-)
    बहुत सुंदर रचनाएँ.

    अनु

    ReplyDelete
  11. सूरज आप तक बिना पहुंचे रह सकता है भला????
    :-)
    बहुत सुंदर रचनाएँ.

    अनु

    ReplyDelete
  12. श्रीकान्त मिश्र "कान्त " की मेल से प्राप्त टिप्पणी.
    Dhoop ko bimb banakar ek utkrisht rachana k liye badhaai ...

    chhod dena ek tukda roshani
    us tamas bhare kone ke liye
    qaid hai jaha roodhiyo ki zanzeereo me

    tathakathit bheeshm pitamah ki upadhi ko vaanchata
    svyam kisi arjun ko chir bhedan hetu prateekshit ..
    abhishapt.. apne hi vachan se...
    chhota dhup ka.

    ReplyDelete
  13. वाह, जीवन तो उन्मुक्तता से जीना पड़ेगा, बिना कल से बँधे।

    ReplyDelete
  14. shikha ji ummid ka suraj sunder bimb me bandhi aapki kshanikaye bahut hi sunder hai aapko badhai .
    rachana

    ReplyDelete
  15. बहुत खूबसूरत आशावादी रचना .. आभार .. !!

    ReplyDelete
  16. अरे! वाह.......... बहुत ही सुंदर प्रस्तुति...ऐज़ यू आर ... ऑल आर वैरी गुड... अबाउट लाइफ एट इट्स फुल्लेस्ट...

    ReplyDelete
  17. अभी ,इसी वक़्त
    भरना है मुझे अपनी बाँहों में
    मेरी उम्मीदों का सूरज....उम्मीद की बेहतरीन अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  18. उम्मीदों का एक उम्दा सृजन गीत!

    ReplyDelete
  19. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  20. भर जाए बाहों में उम्मीदों का सूरज

    ReplyDelete
  21. वाह वाह, अच्छी लगी तीनो कविताएं !!!!

    ReplyDelete
  22. विटामिन डी मुबारक हो!

    ReplyDelete
  23. बहुत ही सुन्दर रचना.....
    बेहतरीन भाव अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  24. तीनो दृश्यों को (सबुह-शाम-रात) पढ़ने के बाद यह एहसास हुआ कि उम्मीदों का सूरज वक्त का मोहताज नहीं होता। यह तो अपने ही भीतर हर पल रोशन रहता है। जरूरत बस उसे पहचानने की होती है। उठो, जागो, धूप तुम्हारी मुठ्ठी में समा सकती है।

    ..अच्छी कविता है। अच्छा लगा पढ़कर। मगर तीनो साथ हों तभी अधिक असरकारी हैं।

    ReplyDelete
  25. मन को छू लेने वाली रचना...

    ReplyDelete
  26. कुछ अलग सी ...प्रभावशाली रचना !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  27. बढिया है. यूं ही उम्मीदों के सूरज को समेटे रहो.

    ReplyDelete
  28. यह सुनहरी धूप
    तुमको हो मुबारक
    विटामिन डी मिले
    भरपूर मन को
    उम्मीद जब
    सूरज बन इठलाएगी
    फिर भला धुंध
    कब तक छाएगी ?
    भर बाहों में ले
    तू उम्मीद का सूरज
    घनघोर घटा फिर
    और कहीं बरस जाएगी ।

    तीनों क्षणिकाएं मन को ऊर्जा देती हुई ... और चित्र तो कमाल के ही लगाए हैं ... अंतिम वाले में तो लग रहा है कि सूरज बाहों में बस आ ही गया है :):)

    ReplyDelete
  29. उम्मीदों का सूरज कभी भी न डूबे यही दुआ है !

    ReplyDelete
  30. कविता नहीं पेंटिंग!! खूबसूरत!!

    ReplyDelete
  31. सुंदर सकारात्मक भाव....

    ReplyDelete
  32. कल को लेकर मानव मन सदा ही सशंकित रहा है । कल क्या होगा, कल किसने देखा है, कल हो न हो आदि कितनी ही अभिव्यंजनाएँ कल के अनिश्चित अपूर्वकथनीय रूप की पुष्टि करती हैं । इसीलिए 'आज' और 'अभी' का विचार मन को बहुत भाता है , रुचिकर भी लगता है । मुझे बहुत सुहाईं ये पंक्तियाँ : " पर यूं भी तो है / कल उगे वो / पर न पहुंचूँ मैं उस तक.../ तो बस / अभी इसी वक़्त / भरना है मुझे अपनी बाँहों में / मेरी उम्मीदों का सूरज । " अभिनन्दन शिखा जी सरल शब्दों में सुन्दर सृजन के लिए !!

    ReplyDelete
  33. इस पल को जी लें भरपूर , कल की उम्मीद भी रखें जरुर !
    अच्छी रचना !

    ReplyDelete
  34. चित्रांकन,शब्दांकन और भावांकन बहुत मनोहारी एवं उत्प्रेरक,
    एकदम विटामिन डी से भरपूर |

    ReplyDelete
  35. ... जो भी है, बस यही इक पल है ...

    ReplyDelete
  36. वाह आदरणीय शिखा जी...पढ़कर बहुत अच्छा लगा आपकी कविता...आगे भी यूँ ही अनुभ्रहित करते रहेण श्रृद्धेय!!


    :)

    ReplyDelete
  37. मन की विटामीन डी का प्रयोग अच्‍छा लगा। बढिया कविता के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  38. उम्मीद का सूरज जलता रहे………सकारात्मक सोच

    ReplyDelete
  39. kash man ka Vitamin D ka kota pura ho pata:))

    ReplyDelete
  40. kash man ka Vitamin D ka kota pura ho pata:))

    ReplyDelete
  41. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  42. उम्मीदों का सूरज , जीवन के क्षितिज पर यूँ ही अपनी रश्मियाँ निछावर करते रहे . सुँदर सोच और अच्छी कविता की निष्पत्ति .

    ReplyDelete
  43. शिखा जी
    आप बहुत अच्छा लिखती हैं...
    अब तो आपको कविताओं की किताब के बारे में सोचना चाहिए...

    ReplyDelete
  44. उम्मीद का दामन कभी ना छूटे ...

    ReplyDelete
  45. Ummeedon ka sooraj...
    Aa jaye bahon main...

    Aha...kya baat hai....bandh kar rakh diya....aapki kavitaon ne...

    Khoobsoorat abhivyakti...aapki anya kavitaon ki tarah ...

    Deepak Shukla

    ReplyDelete
  46. बहुत ही बढ़िया ।


    सादर

    ReplyDelete
  47. कल 29/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    हलचल - एक निवेदन +आज के लिंक्स

    ReplyDelete
  48. बहुत सुंदर रचनाएँ.

    ReplyDelete
  49. तो बस
    अभी ,इसी वक़्त
    भरना है मुझे अपनी बाँहों में
    मेरी उम्मीदों का सूरज.
    Aapkee kamana pooree ho!

    ReplyDelete
  50. शिखा जी बहुत सुन्दर भाव हैं । यह संयोग ही है कि सन् 86 में लिखी मेरी कविता जो आज तक अप्रकाशित है बहुत कुछ इसी तरह की है ---सुबह होगई , संसार नहा गया रोशनी में , रात कहीं जाकर सोगई । धूप ..सुनहरी कोमल धूप, आ तुझे भरलूँ आँखों में देख सकूँ स्पष्ट,रंग रूप ,हट जाएं भ्रम दूर हो कुहासा....। कविता लम्बी है उसका भी निष्कर्ष यही है कि,--पता नही कब बादल घेर लें आसमान या रोकले कोई नदी को या रौंद डाले कोई हरीतिमा...या कि ऐसा कुछ न हो पर मैं ही न रहूँ इन्हें देखने ।

    ReplyDelete
  51. शिखा जी बहुत सुन्दर भाव हैं । यह संयोग ही है कि सन् 86 में लिखी मेरी कविता जो आज तक अप्रकाशित है बहुत कुछ इसी तरह की है ---सुबह होगई , संसार नहा गया रोशनी में , रात कहीं जाकर सोगई । धूप ..सुनहरी कोमल धूप, आ तुझे भरलूँ आँखों में देख सकूँ स्पष्ट,रंग रूप ,हट जाएं भ्रम दूर हो कुहासा....। कविता लम्बी है उसका भी निष्कर्ष यही है कि,--पता नही कब बादल घेर लें आसमान या रोकले कोई नदी को या रौंद डाले कोई हरीतिमा...या कि ऐसा कुछ न हो पर मैं ही न रहूँ इन्हें देखने ।

    ReplyDelete
  52. सही है कल किसने देखा है... आज ही अपने हिस्से के सूरज से जी भर के मिल लिया जाये...

    ReplyDelete
  53. "भरना है मुझे अपनी बाँहों में
    मेरी उम्मीदों का सूरज."
    सुंदर रुपक से सजी सुंदर भावाभिव्यक्‍ति !

    ReplyDelete
  54. hmm..kal kare so aaj kar...bahut sundar rachna :)

    ReplyDelete
  55. सोचती हूँ
    निकलूँ बाहर
    समेट लूं जल्दी जल्दी
    कर लूं कोटा पूरा
    मन के विटामिन डी का ...........
    बहुत सुन्दर
    पहली बार आना हुआ आपके ब्लॉग पर...अच्छा लगा ..आती रहूंगी :)

    ReplyDelete
  56. बहुत प्रभावशाली सुंदर कविता ...

    ReplyDelete
  57. हर कोई चाहता है इक मुट्ठी आसमान,​
    ​हर कोई ढूंढता है इक मुट्ठी आसमान...​
    ​​
    ​जय हिंद...

    ReplyDelete
  58. sabse pahle to der se aane k liye maafi :) dusri baat ek gaana yaad aayaa aapki yh post padhkar.

    "har ghadi badal rahi hai roop zindagi chanv hai kabhi kabhi hai dhup zindagi har pal yahan khul k jiyo jo hai samaa kal ho na ho" .....

    ReplyDelete
  59. शब्दों और भावों का बहुत उत्कृष्ट संयोजन...बहुत सशक्त और सुंदर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  60. Bahut sundar rachnaayein...

    Bharna hai bahon mein ummidon ka suraj....bahut khoob

    ReplyDelete
  61. ब्लॉग बुलेटिन में एक बार फिर से हाज़िर हुआ हूँ, एक नए बुलेटिन "जिंदगी की जद्दोजहद और ब्लॉग बुलेटिन" लेकर, जिसमें आपकी पोस्ट की भी चर्चा है.

    ReplyDelete
  62. बहुत ही बढि़या प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  63. पर यूँ भी तो है
    कल उगे वो
    पर ना पहुंचूं मैं उसतक
    बंद हो खिड़की दरवाजे
    ना पहुँच सके वो मुझतक.
    तो बस
    अभी ,इसी वक़्त
    भरना है मुझे अपनी बाँहों में
    मेरी उम्मीदों का सूरज...

    सच है इससे पहले की सूरज हातों से फिसल जाए ... ये धूप ढल जाए ... इसे समेटना होगा ... लाजवाब एहसास ...

    ReplyDelete
  64. बहुत भावमय प्रस्तुति, उम्मीदों का सूरज, बधाई.

    ReplyDelete
  65. Khubsurat kavita... Man ke bhaavon ko shabdon mein bakhubi baandh liya aapne...

    ReplyDelete
  66. sundar lekhan,bhavnao ki sundar abhivyakti

    ReplyDelete
  67. Bahut khoobsurat sabdo ko piroya hai apne

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *