Enter your keyword

Tuesday, 21 February 2012

गुनगुना पानी...




तेरे रुमाल पर जो धब्बे नुमायाँ हैं 
साक्षी हैं हमारे उन एहसासात के  
एक एक बूँद आंसू से जिन्हें 
हमने साझा किया था 
सागर की लहरों को गिनते  हुए.
********************************




इतनी देर तक जो 
इकठ्ठा होते रहे
उमड़ते रहे 
घुमड़ते रहे 
इन आँखों में.
अब जो छलके तो 
गुनगुने नहीं 
ठन्डे लगेंगे 
ये आंसू.

************************
*
बंद होते ही पलक से 
जो बूँद शबनम सी गिरती है.
मचल कर धीरे से जो 
मेरी तर्जनी पर सरकती है. 
अपनी मुट्ठी की सीपी में छिपा 
उसे मोती सा बना दूं 
फिर तेरे लबों पर 
हंसी के टुकड़े सा लुढका दूं
*************************

51 comments:

  1. आंसू और समंदर.. समंदर का गुनगुनापन और खारापन पूरी तरह से उतर आया है.. शायद यही रिश्ते सबसे प्यारे होते हैं..धुले हुए आंसुओं से!! पाकीजा!!

    ReplyDelete
  2. शानदार भावमय प्रस्तुति.
    मृदुल कोमलता का अहसास कराती हुई.

    मेरी बात...पर आपका इन्तजार है.

    ReplyDelete
  3. रुमाल पर आंसुओं के निशान सागर की लहरों को गिनते हुये ...उमड़ते घुमड़ते ठंडे आँसू .... और तर्जनी से सरकती बूंद को मोती बना ...हंसीं का टुकड़ा लुढ़काने की चाह .... बहुत सुंदर ... एक ही शब्द बस ...गज़ब

    ReplyDelete
  4. भावों से नाजुक शब्‍द को बहुत ही सहजता से रचना में रच दिया आपने.........

    ReplyDelete
  5. उफ़ मोहब्बत जो ना कराये कम है।

    ReplyDelete
  6. अपनी मुट्ठी की सीपी में छिपा
    उसे मोती सा बना दूं
    फिर तेरे लबों पर
    हंसी के टुकड़े सा लुढका दूं
    Wah!

    ReplyDelete
  7. न जाने इनमें कितनी भावनाएँ समाहित कर दी हैं आपने.

    ReplyDelete
  8. ..

    तेरे रुमाल पर जो धब्बे नुमायाँ हैं
    साक्षी हैं हमारे उन एहसासातों के
    एक एक बूँद आंसू से जिन्हें
    हमने साझा किया था
    सागर की लहरों को गिनते हुए.
    ..
    अंतस के गहन गह्वर से झरने सी फूटती मर्मस्पर्शी .. !!
    बहुत देर तक जैसे मन्दिर के किसी घण्टे की अनुगून्ज कानों में .. गूंजती है ..
    नि:शब्द ..

    ReplyDelete
  9. Shika ji
    namaskar! ek baar nahi anek baar padhi aapki ye komal ahshash liye khubsurat rachna.
    aapko is rachna ke liye badhai.
    Ashq moti hain
    Ashq hain shabnam.
    ye hote hain anmol
    isse rakhe sambhalkar.

    ReplyDelete
  10. तेरे रुमाल पर जो धब्बे नुमायाँ हैं
    साक्षी हैं हमारे उन एहसासात के
    एक एक बूँद आंसू से जिन्हें
    हमने साझा किया था
    सागर की लहरों को गिनते हुए... lahron si siskiyaan inse uthti hain , hamare hone ko kahti hui

    ReplyDelete
  11. शानदार प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  12. प्रभावी पंक्तियाँ.क्या बात है:
    उमड़ते रहे
    घुमड़ते रहे
    इन आँखों में.
    अब जो छलके तो
    गुनगुने नहीं
    ठन्डे लगेंगे
    ये आंसू.

    ReplyDelete
  13. बंद होते ही पलक से
    जो बूँद शबनम सी गिरती है.
    मचल कर धीरे से जो
    मेरी तर्जनी पर सरकती है.
    अपनी मुट्ठी की सीपी में छिपा
    उसे मोती सा बना दूं
    फिर तेरे लबों पर
    हंसी के टुकड़े सा लुढका दूं
    bahut sunder aansuon ka ye rup bahut sunder tarike se darshaya hai aapne
    rachana

    ReplyDelete
  14. आपकी पंक्तियाँ पढ़कर मुझे प्रसाद जी की पंक्तियाँ याद आई

    अब छुटता नहीं छुडाये , रंग गया ह्रदय है ऐसा
    आंसू से धुला निखरता , यह रंग अनोखा कैसा

    भावनाओ के ज्वार ला देती हो आप शब्दों के माध्यम से .

    ReplyDelete
  15. कोमल अहसासों से सजी भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  16. गर्म आंसूं , ठंडे आंसूं --वाह शिखा जी । यह प्रयोग भी अद्भुत रहा ।

    ReplyDelete
  17. आंसुओ का गुनगुना होना जीवित होने का प्रमाण है , ठन्डे आंसू भयावह से लगते है कुछ मुर्दा से

    ReplyDelete
  18. वाऊ!!परफेक्ट!! :) :)

    ReplyDelete
  19. आंसुओं की भी जुबां होती हैं... नाजुक से अहसास.. सुंदर क्षणिकाएं

    ReplyDelete
  20. खून और अश्क ... जब तक यह गुनगुनापन इन दोनों में है ... सारा खेल तब तक ही है !

    ReplyDelete
  21. गुनगुने आंसू कुछ मीठा सा गुनगुना गए |

    ReplyDelete
  22. जिस पर हमारी आंख ने मोती बिछाए रात भर, भेजा तुझे काग़ज़ वही, हमने लिखा कुछ भी नहीं।

    बस ...! और कुछ नहीं!!

    (और कुछ कहने की ज़रूरत है क्या?)

    ReplyDelete
  23. बहुत सुंदर , आंसुओं के ज़रिये मन के भाव शब्दों में ढले.....

    ReplyDelete
  24. आँसू भावों का समुन्दर बहा गये..

    ReplyDelete
  25. बहुत प्यारे एहसासों को खूबसूरती से पिरोया है आपने....

    बहुत सुन्दर शिखा जी...

    ReplyDelete
  26. छोटी छोटी रचनाएँ पर भाव बड़े बड़े ..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  27. फिर तेरे लबों पर
    हंसी के टुकड़े सा लुढका दूं.....
    खुशियां लुटाते चलो......

    ReplyDelete
  28. ये आंसू मेरे दिल की जुबान हैं । सुंदर भावभीनी रचना ।

    ReplyDelete
  29. प्‍यार में अक्‍सर लोग आंसू बहाया करते हैं, मिले तब भी और ना मिले तब भी।

    ReplyDelete
  30. बंद होते ही पलक से
    जो बूँद शबनम सी गिरती है.
    मचल कर धीरे से जो
    मेरी तर्जनी पर सरकती है.
    अपनी मुट्ठी की सीपी में छिपा
    उसे मोती सा बना दूं
    फिर तेरे लबों पर
    हंसी के टुकड़े सा लुढका दूं
    अनुपम भाव संयोजन लिए ...बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  31. गुनगुने आंसू ठन्डे हुए तो किसी लब की हंसी बन जाए ...
    अनूठा प्रयोग !
    सुन्दर !

    ReplyDelete
  32. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 23-02-2012 को यहाँ भी है

    ..भावनाओं के पंख लगा ... तोड़ लाना चाँद नयी पुरानी हलचल में .

    ReplyDelete
  33. ashq aur hansi ka bada hi gahra rishta hai....dhuli huyi muskrahat....wah!!!!

    ReplyDelete
  34. ashq aur hansi ka bada hi gahra rishta hai....dhuli huyi muskrahat....wah!!!!

    ReplyDelete
  35. आंसू और कविता!
    वाह!

    ReplyDelete
  36. सच्‍चे प्‍यार के लिए निकले आंसूं समंदर से भी गहरे डूबा ले जाते हैं

    ReplyDelete
  37. जो बूँद शबनम सी गिरती है.
    मचल कर धीरे से जो
    मेरी तर्जनी पर सरकती है.
    अपनी मुट्ठी की सीपी में छिपा
    उसे मोती सा बना दूं!

    बहुत सुन्दर,
    सादर

    ReplyDelete
  38. अपनी मुट्ठी की सीपी में छिपा
    उसे मोती सा बना दूं
    फिर तेरे लबों पर
    हंसी के टुकड़े सा लुढका दूं.....

    क्या ही खुबसूरत.... वाह!
    सादर बधईयाँ...

    ReplyDelete
  39. ..इन भाव कणिकाओं का अपना प्रवाह है जो बह गया वह बह गया ,बहता रहा ,सुन्दर ,मनोहर ...

    ReplyDelete
  40. अंकों के इन आसुंओं को किसी की हंसी में बदल देने की चाह .... प्रेम की गहरी अनुभूति से ही संभव है ...

    ReplyDelete
  41. फिर तेरे लबों पर
    हंसी के टुकड़े सा लुढका दूं........बहुत खूब!!

    ReplyDelete
  42. aansoo kahen ya gunguna khaara pani ya aankh se ludhka moti, sabhi upmaa bahut sundar. bhaavpurn kshanikaaon ke liye badhai.

    ReplyDelete
  43. अप्रतिम भाव !

    ReplyDelete
  44. आँसू की बूंद... हंसी का टुकड़ा । बहुत खूबसूरत भावपूर्ण क्षणिकाएँ...

    ReplyDelete
  45. भावपूर्ण उत्तम अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *