Enter your keyword

Thursday, 22 December 2011

इतना सा फसाना ...

क्रिसमस का समय है. बाजारों में ओवर टाइम हो रहा है और स्कूलों में छुट्टी है .तो जाहिर है की घर में भी हमारा ओवर टाइम होने लगा है.ऐसे में कुछ लिखने का मूड बने भी तो अचानक " भूख लगी है ........या .."तू स्टुपिड , नहीं तू स्टुपिड"की आवाजों में ख़याल यूँ गडमड हो जाते हैं जैसे मसालदानी के गिर जाने से सारे मसाले... अत: हमने भी सोचा चलो ख्यालों को भी थोड़ी देर पीछे वाली सीट दे दें .और आगे वाली सीट दे दें सांता को .क्या पता कोई सीक्रेट संता हमारे लिए भी कुछ उपहार ले ही आये.आप भी मनाइए क्रिसमस और फिर नया साल और झेल लीजिये ये रचना भी.


अपनी तो जिन्दगी का बस इतना सा फ़साना है 
जिस धुंध से आये थे बस उससे गुज़र जाना है 

क्यों बैठकर सोचूं और क्यों करूँ किसी से शिकवा 
क्या लेकर हम आये थे , क्या  लेकर हमें जाना है

इस जिन्दगी से बस इतनी सी गुजारिश  है 
दो लम्हे अता कर दे जिन्हें जीते चले जाना है.

रुख यूँ तो हवा का हरदम ही रहा  तिरछा 
दिशा अपनी बदल कर बस चलते ही जाना है.

अँधेरी जिंदगियों में यूँ जल ऐ  'शिखा' जैसे
कुछ  तारीक़ निगाहों को रोशन कर जाना है

63 comments:

  1. क्रिसमस तो है हीं, लेकिन बड़ी बात ये है की इतनी ओवर-इक्साइटेड समय में भी आप इतना खूबसूरत लिख लेतीं हैं..मैं तो हैंगओवर में ही रहता कुछ दिनों तक..

    बाई द वे, हर लाईन पसंद आई...

    अँधेरी जिंदगियों में यूँ जल ऐ 'शिखा' जैसे
    कुछ तारीक़ निगाहों को रोशन कर जाना है

    :) :)

    ReplyDelete
  2. इस जिन्दगी से बस इतनी सी गुजारिश है
    दो लम्हे अता कर दे जिन्हें जीते चले जाना है.
    ...isse adhik ki chah bhi nahi, isse adhik kuch hai bhi nahi

    ReplyDelete
  3. great you r specilly blessd one keep writing maa saraswati aap ke saat hai good one

    ReplyDelete
  4. Merry Christmas to you and Pankaj, Vedant and Somya.
    Pehle Christmas yaad aate hi Calcutta ki jagmagati raatein yaad aati thi, poora sheher jaise sone ki anek maalayein pehene aaj apni sundarta dikha raha ho sabko. Lekin aaj mera christmas us shaam ki taraf le jata hai jahan hum sab the. u might rememeber a party but i rememebr those days liek it was yesterday :)
    Love
    Soniya.

    ReplyDelete
  5. करते रहिये रोशन जहां को...बनते रहिये दीप शिखा ...शुभ कामना.

    ReplyDelete
  6. sahi kaha bachchon ki chhuttiyan matlab apna kaam dugna .yahan bhi yahi haal hai .
    pr aese me aapne kya kamal likha hai
    रुख यूँ तो हवा का हरदम ही रहा तिरछा
    दिशा अपनी बदल कर बस चलते ही जाना है.
    bahut khoob
    rachana

    ReplyDelete
  7. अँधेरी जिंदगियों में यूँ जल ऐ शिखा जैसे
    कुछ तारीक़ निगाहों को रोशन कर जाना है


    अँधेरी जिंदगियों में यूँ जल ऐ 'शिखा' जैसे
    कुछ तारीक़ निगाहों को रोशन कर जाना है ...


    ज़रा गौर करें ... आगे से जहाँ भी आप किसी भी शेर में अपने नाम का इस्तमाल करें तो उसको 'शिखा' के बीच में जरुर लिखें ...

    बाकी रचना बेहद उम्दा है ... आभार !

    ReplyDelete
  8. अँधेरी जिंदगियों में यूँ जल ऐ शिखा जैसे
    कुछ तारीक़ निगाहों को रोशन कर जाना है
    bahut satik hei yah pnktiya shikhaji ....:)

    ReplyDelete
  9. इस जिन्दगी से बस इतनी सी गुजारिश है
    दो लम्हे अता कर दे जिन्हें जीते चले जाना है.

    ...बहुत खूब! बहुत सटीक और सशक्त अभिव्यक्ति...आभार

    ReplyDelete
  10. शिखा जी,
    अच्छी लगी यह गज़ल भी.. दिल से निकली है.. इसलिए बिलकुल ताजगी भरी है... कहीं कहीं पर थोड़ी गुंजायश है, मगर डायरेक्ट दिल से की तर्ज़ पर पसंद आयी...
    इतनी भाग-दौड के बीच भी आप इतनी आध्यात्मिक सोच दिमाग में ले आती हैं, यही बड़ी बात है!!
    अच्छा लगा आपका ये अंदाज़ भी!!

    ReplyDelete
  11. बस कमाल कर दिया आपने. सभे शेर बेहद जज्बाती...

    इस जिन्दगी से बस इतनी सी गुजारिश है
    दो लम्हे अता कर दे जिन्हें जीते चले जाना है.

    दाद स्वीकारें.

    ReplyDelete
  12. रुख यूँ तो हवा का हरदम ही रहा तिरछा
    दिशा अपनी बदल कर बस चलते ही जाना है.

    अँधेरी जिंदगियों में यूँ जल ऐ 'शिखा' जैसे
    कुछ तारीक़ निगाहों को रोशन कर जाना है
    Bahut khoob!
    Merry Xmas!

    ReplyDelete
  13. शिखा की रौशनी में हर धुंध छंट जाएगी ,
    तिरछी हवा भी टकराकर खाक में मिल जाएगी .

    जीवन की सच्चाई को चंद लब्जों में समेट लिया आपने , लेकिन अदम्य जिजीविषा वाली आत्मा से भी परिचय हुआ . साधुवाद

    ReplyDelete
  14. इस तरह का लेखन हो, तो बार-बार ''झेला'' जा सकता है. सोच-विचार, चिंतन ...इन सबके घोल से जो कुछ निकलता है, उससे इसी तरह की प्यारी कविता बनती हैं.मैरी क्रिसमस..

    ReplyDelete
  15. साहिर की एक नज़म याद दिलवा दी शिखा ...

    संसार की हर शै का इतना ही फ़साना है
    इक धु्ंध से आना है, इक धुंध में जाना है

    ReplyDelete
  16. जिंदगी के फलसफा का यह एहसास बहुत सुकून देता है. आभार.

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर है ग़ज़ल । नया हैडर भी बढ़िया लगा शिखा जी ।
    क्रिसमस की शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  18. कुछ तारीक़ निगाहों को रोशन कर जाना है...



    excellent..

    ReplyDelete
  19. खूबसूरत रचना।

    ReplyDelete
  20. bahut sunder khwaish hai ...rachna me ...
    bahut badhia rachna ..

    ReplyDelete
  21. ....झेल लीजिये ये रचना भी

    झेल ली! आभार! :)

    ReplyDelete
  22. Dil se 'WAH' hai nikli mere...
    Padhkar teri gazal nayi...
    Hum teri taareef karen kya..
    Tareefon ki jhadi lagi....

    Merry X-Mas...

    Deepak Shukla. .

    ReplyDelete
  23. अँधेरी जिंदगियों को रोशन करने की चाहत , हवा के उलटे रुख को बदलने की हिम्मत ,ज़िन्दगी के दो लम्हे जी लेने की ख्वाहिश ,
    न किसी से गिला न शिकवा ...यथार्थ को कहती पंक्तियाँ की न कुछ लाये हैं और न ही ले जायेंगे ...पर इस ज़िन्दगी के फ़साने को कौन कितना याद रखता है ... सुन्दर भाव ... अच्छी प्रस्तुति .. व्यस्तता के बीच भी ख्यालों को शब्द दिए ..
    मैंरी क्रिसमस

    ReplyDelete
  24. झेलते झेलते ये तो पसंद ही आ गई...:)

    ReplyDelete
  25. अँधेरी जिंदगियों में यूँ जल ऐ 'शिखा' जैसे
    कुछ तारीक़ निगाहों को रोशन कर जाना है...

    खयाल उम्दा है ...मगर मन को लाख समझाते भी शिकायत हो जाती है तो क्या कीजे !

    ReplyDelete
  26. रुख यूँ तो हवा का हरदम ही रहा तिरछा
    दिशा अपनी बदल कर बस चलते ही जाना है.
    Shikha ji above liens are the main theme of your good creation. very nice and keep it up ....:):)

    ReplyDelete
  27. रुख यूँ तो हवा का हरदम ही रहा तिरछा
    दिशा अपनी बदल कर बस चलते ही जाना है.
    Dear shikaha ji above lines are main theme of your creation. really very nice and keep it up....:):)

    ReplyDelete
  28. आपकी बस लेखनी चलती रहे,
    शब्द का संग्रह बना खजाना है...

    ReplyDelete
  29. बुल्ला कि जाणा मैं कौन...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  30. इस जिन्दगी से बस इतनी सी गुजारिश है
    दो लम्हे अता कर दे जिन्हें जीते चले जाना है.
    वाह ...बहुत खूब कहा है आपने इन पंक्तियों में ।

    ReplyDelete
  31. इस जिन्दगी से बस इतनी सी गुजारिश है
    दो लम्हे अता कर दे जिन्हें जीते चले जाना है.
    sundar bhavavyakti

    ReplyDelete
  32. हुनर की पहचान होती है तिरछी हवाओ में
    हवा के रुख के साथ तो कोई भी उड़ सकता है ,

    देखा आपकी पंक्तिया संक्रामक है ,मैंने भी कुछ लिख दिया

    ReplyDelete
  33. क्यों बैठकर सोचूं और क्यों करूँ किसी से शिकवा
    क्या लेकर हम आये थे , क्या लेकर हमें जाना है

    Diosa,
    Ye Line padhkar laga bas hamare liye hi likhi hai.

    ReplyDelete
  34. इस जिन्दगी से बस इतनी सी गुजारिश है
    दो लम्हे अता कर दे जिन्हें जीते चले जाना है
    vaah ..bahut khoob....

    ReplyDelete
  35. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-737:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  36. बहुत सुन्दर भाव संजोये हैं।

    ReplyDelete
  37. अब मैं क्या कहूं शिखा? सारे लोग बहुत अच्छा-बहुत अच्छा लिख के जा रहे हैं, लेकिन मैं ये नहीं कह सकती :( SORRY
    एक नम्बर की कमज़ोर रचना है ये तुम्हारी :(
    तुम जैसी सशक्त गद्य लेखिका से मैं तो कहीं बहुत ज़्यादा अपेक्षा रखती हूं. भाव अच्छे हैं, लेकिन ताना-बाना बहुत कमज़ोर है :( :(

    ReplyDelete
  38. कुछ तारीक़ निगाहों को रोशन कर जाना है

    वाह! सुन्दर....
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  39. वंदना ! सबकी अपनी अपनी पसंद होती है. तुम्हें नहीं पसंद आई कोई बात नहीं.इसमें सॉरी कैसा. बल्कि शुक्रिया इमानदार प्रतिक्रिया का. पर दूसरों के कहे को तो मत कोसो :).हो सकता है वे भाव को ही महत्व देते हैं या फिर मेरा हौसला नहीं तोडना चाहते और चाहते हैं कि मैं कवितायेँ भी लिखती रहूँ. जबकि कुछ लोग शिद्दत से यह चाहते हैं कि मैं सिर्फ गद्य ही लिखूं . कवितायेँ लिखना ही छोड़ दूं :). यूँ भी हर कोई हमेशा अच्छा लिखे ये संभव कम ही होता है.और मैं तो बिलकुल ही नालायक हूँ.कभी कभार कुछ तुम लोगों की उच्च नज़रों को जँच जाये तो बात अलग है :)

    ReplyDelete
  40. क्यों बैठकर सोचूं और क्यों करूँ किसी से शिकवा
    क्या लेकर हम आये थे , क्या लेकर हमें जाना है

    सब कुछ यहीं मिला है,और सब यहीं रह जाना है.......

    ReplyDelete
  41. shikha jee..aapee nayi kavita padhi..phir lagatar aapke lekhon ne mujhe prabhabit kiya..main to maanta tha ke aap ghazal ya geet likhtee he nahi hongi..lekin aaj ..christmas ke awsar per jindgi ko jeene ke naye mantra sikhati jeewan rang me doobi behtarin ghazal...hardik badhayee..

    ReplyDelete
  42. प्रेरक रचना.......

    ReplyDelete
  43. कल 24/12/2011को आपकी कोई पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  44. "रुख यूँ तो हवा का हरदम ही रहा तिरछा
    दिशा अपनी बदल कर बस चलते ही जाना है"
    बहुत खूब!

    ReplyDelete
  45. ब्लॉग में किया गया परिवर्तन अच्छा लगा।
    इस ग़ज़ल में प्रत्यक्ष अनुभव की बात की गई है, इसलिए सारे शब्द अर्थवान हो उठे हैं ।

    ReplyDelete
  46. अँधेरी जिंदगियों में यूँ जल ऐ 'शिखा' जैसे
    कुछ तारीक़ निगाहों को रोशन कर जाना है..
    वाह ,क्यों न हो आपकी यह अभिलाषा !

    ReplyDelete
  47. रुख यूँ तो हवा का हरदम ही रहा तिरछा
    दिशा अपनी बदल कर बस चलते ही जाना है.

    लाजवाब पंक्तियाँ

    सादर

    ReplyDelete
  48. अँधेरी जिंदगियों में यूँ जल ऐ 'शिखा' जैसे
    कुछ तारीक़ निगाहों को रोशन कर जाना

    अति सुन्दर

    ReplyDelete
  49. क्या बात कही है...

    रुख यूँ तो हवा का हरदम ही रहा तिरछा
    दिशा अपनी बदल कर बस चलते ही जाना है.


    प्रेरक, प्यारी इस सुन्दर पोस्ट ने मन लुभा लिया...

    सुखद ho आने वाला हर वर्ष...यही शुभकामना है...

    ReplyDelete
  50. बड़े दिन की शुभकामनायें! उत्सव के उल्लास का आनन्द लीजिये!

    ReplyDelete
  51. क्यों बैठकर सोचूं और क्यों करूँ किसी से शिकवा
    क्या लेकर हम आये थे , क्या लेकर हमें जाना है

    जीवन के इस फलसफे को कभी कभी लिखना जितना आसान होता है निभाना उतना ही कठिन ..
    लाजवाब रचना है ... आपको क्रिसमस और नव वर्ष की बहुत बहुत शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  52. सुंदर प्रस्तुति, बस पल भर ठहरना है और फिर चले जाना है... और हम चलते है क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनायें के साथ . .

    ReplyDelete
  53. रुख यूँ तो हवा का हरदम ही रहा तिरछा
    दिशा अपनी बदल कर बस चलते ही जाना है.

    चलने का यह स्टाइल पसंद आया,शिखा जी.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए शुक्रिया.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.
    'हनुमान लीला भाग-२'पर
    आपका हार्दिक स्वागत है.

    ReplyDelete
  54. बस इतनी सी गुजारिश..!!!
    अँधेरी जिंदगियों में यूँ जल ऐ 'शिखा' जैसे
    कुछ तारीक़ निगाहों को रोशन कर जाना है..
    अग्निशिखा की भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  55. bahut achchi peshkash. Dhanyavaad!!

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *