Enter your keyword

Tuesday, 22 November 2011

धुंआ धुंआ जिंदगी...

हथेली की रेखाओं में
कभी सीधी कभी आड़ी सी
पगडंडी पर लुढ़कती कभी
बगीचों में टहलती
बारिश बन बरसती
कभी धूप में तपती
नर्म ओस सी बिछती तो
कभी शूल बन चुभती
झरने सी झरती कभी
नदिया सी बहती रहती
मेज पे रखे प्याले से
कभी चाय सी छलकती.
ग़ज़ल सी कहती कभी
कभी गीतों पे थिरकती .
रातों के गहरे साये में
परछाई सी चलती
कोयले सी जलती कभी
तो कभी राख बन उड़ती
हर पल निगाहों पे पर्दा डाले
धुआं धुआं सी जिन्दगी.

59 comments:

  1. हथेली की रेखाओं में
    कभी सीधी कभी आड़ी सी
    हर पल ये आगे पीछे ... ऊपर नीचे होती धुंआ-धुंआ सी जिन्‍दगी ... वाह बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब ..बहुत सही कहा आपने ...

    ReplyDelete
  3. Very picturesque and tellingly graphic depiction of the ephemeral nature of life...

    ReplyDelete
  4. वाह! कितना सही कहा धुआँ धुआँ सी ज़िंदगी।

    बेहतरीन कविता।

    सादर

    ReplyDelete
  5. धुआं धुआं सी जिन्दगी.... सबकुछ धुंआ धुंआ ... कुछ नहीं दिखता यहाँ ...
    रातों के गहरे साये में परछाई सी चलती

    ReplyDelete
  6. रातों के गहरे साये में परछाई सी चलती कोयले सी जलती कभी तो कभी राख बन उड़ती हर पल निगाहों पे पर्दा डालेधुआं धुआं सी जिन्दगी.

    .....सुंदर अभिव्यक्ति...बेहतरीन पंक्तियाँ
    बेहतरीन सम्वेदनशील रचना के लिए बधाई


    संजय भास्कर
    आदत...मुस्कुराने की
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. हर पल निगाहों पे पर्दा डाले
    धुआं धुआं सी जिन्दगी.... jindgi ki behtreen prstuti.....

    ReplyDelete
  8. जिंदगी की सच्चाई तो यही है ....
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  9. जिंदगी के अनेक रूप दर्शा दिए रचना में । बहुत सुन्दर ।

    ReplyDelete
  10. ऐसी ही तो है... ज़िंदगी!

    ReplyDelete
  11. zindagi hain ek
    par iske rup hain anek
    zindagi ke baare main
    badi khubsurati se varnan
    kiya hain.

    ReplyDelete
  12. हर पल निगाहों पे पर्दा डाले
    धुआं धुआं सी जिन्दगी.

    हाँ शिखा जी
    ऐसी ही है ज़िन्दगी ...
    कभी निगाहों पे पर्दा डालती है ,

    कभी बंद आँखों से सब दिखाती है .....
    ऐसी ही है ज़िन्दगी ...
    बहुत खूबसूरत रचना ...

    ReplyDelete
  13. Wah! Kya kalpana kee hai zindagee kee!

    ReplyDelete
  14. "बगीचों में टहलती/ बारिश बन बरसती/ कभी धूप में तपती/ नर्म ओस सी बिछती तो/ कभी शूल बन चुभती/ कभी झरने सी झरती/ कभी नदिया सी बहती रहती..." मुक्त छन्द कविता में यह कशिश लिए भावनाओं की तरन्नुम बहुत कम ही मिलती है । बहुत सुन्दर ! प्रेम प्रकृति नियति ...सब के संकेतों को सुनती गुनती बूझती, कभी फिक्रमंद तो कभी बेपरवाह, अपनी सीमाओं का गहन बोध होने की सच्चाई में भी निस्सीमता के पर्वपल जीती ज़िन्दगी के विभिन्न आयामों का अतिशय कुशल उद्घाटन हुआ है कविता में ! अभिनन्दन शिखा जी !

    ReplyDelete
  15. कल धुँआ बन उड़ गया, कल धुंध सा अस्पष्ट है।

    ReplyDelete
  16. कविता में जीवन के तमाम सोपानो के दर्शन हुए , असंख्य पर्श्नो से हमने मुह चुराया , इस आपाधापी वाले जीवन से सुख के कुछ पल चुराने को ही जीवन दर्शन का मूल मानते है हम . वैसे ये सूफियाना मूड काहे है जी ? कविता तो निर्गुण ब्रम्ह जैसी लगी .

    ReplyDelete
  17. पता नहीं गूगल और ब्लॉग आजकल क्या खेल खेल रहे हैं.कुछ टिप्पणियाँ मेरे मैल में तो आई हैं पर ब्लॉग पर नहीं प्रकाशित हुईं. उन्हें मैं यहाँ पोस्ट कर रही हूँ.

    Pallavi has left a new comment on your post "धुंआ धुंआ जिंदगी...":

    इसी का नाम ज़िंदगी है....

    ReplyDelete
  18. Arvind Mishra has left a new comment on your post "धुंआ धुंआ जिंदगी...":

    एक पूरी ज़िंदगी के कितने ही शेड्स मगर फिर भी शो चालू आहे ....यही ज़िंदगी है -बढियां भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  19. वन्दना has left a new comment on your post "धुंआ धुंआ जिंदगी...":

    बस यही तो है ज़िन्दगी…………धुंआ कब हवा मे विलीन हो जाता है पता ही नही चलता।

    ReplyDelete
  20. वाह! बहुत सुन्दर प्रस्तुति है आपकी.
    पढकर धुँआ धुँआ सा हो गया है मन.

    ReplyDelete
  21. धुआं धुआं सी जिन्दगी.
    bahot sunder......

    ReplyDelete
  22. जीवन के निष्कर्ष में भले ही नैराश्य का पलड़ा भारी हो, लेकिन उसमें तमाम छोटी-बड़ी सुखद और आत्मीय स्मृतियाँ अपना घर बनाए होती हैं।

    ReplyDelete
  23. ज़िन्दगी की यही तो खासियत है कि यह कई रूपों में कई रंगों में बिखरी रहती है हमारे आसपास और हम उसे सहेजते समेटते रहते हैं उम्र भर।

    ReplyDelete
  24. Hi..

    Jeevan darshan main 'SPANDAN' ka..
    Ek alag hai rang..
    Kavita kahne ka bhi tera..
    Dekha alag hai dhang..

    Kabhi barf main thithure kavita..
    Kabhi dhoop main pighle kavita..
    Kabhi pawan ke sang dole..
    Kabhi maun bhi rahkar bole..
    Kabhi pyaar ke ras main gholi..
    Kabhi rang sang khele holi..
    Kabhi shabd se deep jalaye..
    Kabhi laut sajan ghar aaye..
    Kabhi ban gaye prem ke geet..
    Kabhi gazal se liye dil jeet..
    Kabhi door ke kissee laaye..
    Kabhi yatra vrtant sunaye..
    Kabhi janm din yahan manaye..
    Kabhi sang sabke muskaaye..

    Yun hi kavita, geet, nazm tum..
    Likhna aise hi aalekh..
    SPANDAN se har lena, sabke..
    Man main jiske, jo chhal dwesh..

    Shubhkamnaon sahit..

    Deepak Shukla..

    ReplyDelete
  25. ज़िंदगी के इतने सारे रंग ...

    ज़िंदगी
    कभी दिन का
    शोर है तो
    कभी
    छलकता जाम
    कभी
    प्रखर ताप है
    तो कभी
    सिन्दूरी शाम .

    ये धुंआं धुंआं सी ज़िंदगी गहन अभिव्यक्ति को कहती है ..सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  26. कविता में दृश्य, दृश्य में कविता..

    ReplyDelete
  27. बहुत बढ़िया प्रस्तुति

    Gyan Darpan
    Matrimonial Site

    ReplyDelete
  28. धुंआ-धुंआ सी .. खूबसूरती से लिखा है आपने.अच्छी लगी.

    ReplyDelete
  29. कितने कितने मोडों से गुज़ारा है आपने ज़िंदगी को.. या फिर कितने-कितने मोडों से गुजारी है ज़िंदगी!! बहुत खूब!!

    ReplyDelete
  30. हर पल निगाहों पर पर्दा डाले ...
    धुआं - धुआं सी जिंदगी ...
    हथेली की रेखाओं पर नाच रही है जिंदगी !
    बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  31. धुंआ धुंआ सी जिन्‍दगी? या खिली खिली सी जिन्‍दगी।

    ReplyDelete
  32. जिंदगी के कई रूप होते हैं... हम जिस रूप में इसे जीते हैं इसका वही रूप हमें दिखता है...
    सुंदर प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  33. शब्दों को बहुत चुन के और भावों को खुलके सप्रेषित करती हुई रचना ।

    ReplyDelete
  34. संगीता स्वरुप ( गीत ) has left a new comment on your post "धुंआ धुंआ जिंदगी...":

    ज़िंदगी के इतने सारे रंग ...

    ज़िंदगी
    कभी दिन का
    शोर है तो
    कभी
    छलकता जाम
    कभी
    प्रखर ताप है
    तो कभी
    सिन्दूरी शाम .

    ये धुंआं धुंआं सी ज़िंदगी गहन अभिव्यक्ति को कहती है ..सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  35. धुन्धल्की जिन्दगी से निकले कुछ खुबसूरत शब्द दिख रहे हैं..........:)
    प्यारी सी रचना....!!

    ReplyDelete
  36. शिखा जी मुझे क्षमा करें मगर मुझे यह कविता कम अच्छी लगी ...बस लगा कि ये आपकी लिखी नहीं है ..बस ऐसे ही लिख दिया आपने !!!
    पुनः क्षमा प्रार्थी हूँ

    ReplyDelete
  37. सुन्दर प्रस्तुति ||

    बधाई ||

    dcgpthravikar.blogspot.com

    ReplyDelete
  38. और शायद इस धुंध में ही कही खो जाएगी अपनी जिन्दगी|
    फुर्सत में कभी इस ब्लॉग पर भी तशरीफ़ ले आइयेगा.. आप का मार्गदर्शन मेरे लिए महत्वपूर्ण है..|
    पता है...
    http://teraintajar.blogspot.com/

    ReplyDelete
  39. शिखा जी नमस्कार, बहुत सुन्दर मेरे ब्लाग पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  40. एकदम सही रेखांकन किया है.... बहुत बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  41. हथेलियों की रेखाओं से अक्सर जीवन फिसल जाता है और धुंवा हो जाता है ... ये जीवन हमेशा उलझा रहता है इन रखाओं की तरह ... संजीदा रचना है ...

    ReplyDelete
  42. यही है जिंदगी...सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  43. कविता में आवश्यक Punctuation के अभाव में कविता दुरूह हो गयी है। "उसे रोको मत जाने दो" वाक्य अल्पविराम के अभाव में निरर्थक सिद्ध हो जाता है। अल्प विराम के प्रयोग से इसी वाक्य के दो विरुद्ध अर्थ निकलते हैं- "उसे रोको, मत जाने दो" और "उसे रोको मत, जाने दो।" इनकी महत्ता कविता में और बढ़ जाती है।
    क्षमा-याचना के साथ आशा करता हूँ कि उक्त प्रतिक्रिया को आप अन्यथा नहीं लेंगी।

    ReplyDelete
  44. नर्म ओस सी बिछती तो
    कभी शूल बन चुभती
    झरने सी झरती कभी
    नदिया सी बहती रहती

    बस...
    यही तो है जिन्दगी....!!

    ReplyDelete
  45. आह!!! वाह!!

    धुंआ धुंआ जिंदगी...


    -क्या बात है!!

    ReplyDelete
  46. जिंदगी के कितने रूप और हर रूप में लाजवाब ज़िन्दगी.

    ReplyDelete
  47. संसार की हर शह का,
    इतना ही फ़साना है,
    इक धुंध से आना है,
    इक धुंध में जाना है...

    ये पोस्ट मेरे से कैसे छूट गई थी...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  48. फिर पढ़ा -मन के अंतर्द्वंद्वों और गहन भावों को अभिव्यक्त करती लगी यह कविता

    ReplyDelete
  49. bahuaayami zindagi ko bahut hi khoobsurti se chitrit kiya hai.sadar badhayee ke sath

    ReplyDelete
  50. देर से पहुँचने का गम है. जो कुछ कहा जा सकता था दूसरों ने कह दिया. बहुत सुन्दर. कोच्ची से...

    ReplyDelete
  51. सुन्दर प्रस्तुति |मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वगत है । कृपया निमंत्रण स्वीकार करें । धन्यवाद ।

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *