Enter your keyword

Tuesday, 8 November 2011

पगडंडी की तलाश

अपनी कोठरी के छोटे से झरोखे से देखती हूँ
दूर, बहुत दूर तक जाते हुए उन रास्तों को.
पक्की कंक्रीट की बनी साफ़ सुथरी सड़कें
खुद ही फिसलती जातीं सी क्षितिज तक जैसे
और उन पर रेले से चलते जा रहे लोग
अनगिनत, सजीले, होनहार,महान लोग.
मैं भी चाहती हूँ चलना इसी सड़क पर
और चाहती हूँ पहुंचना उस क्षितिज तक
पर नहीं जाना चाहती उसी एक राह से
शामिल होकर उसी परंपरागत भीड़ में
जो चल रहे हैं न जाने कितनो का सर
अपने अहम् के पाँव तले कुचल कर
रौंद कर अस्तित्व अनेक मासूमो का
यूँ खुद को ऊँचा दिखाने की ख्वाइश में
मिटा देते हैं फिर कोई लंबी लकीर
अपनी छोटी लकीर को लंबा करने की खातिर
मुझे उस सड़क तक पहुँचने के लिए
अपनी अलग पगडण्डी की तलाश है.

56 comments:

  1. बढ़िया भाव को समेटा है आपने अपनी इस रचना में ... आभार !

    ReplyDelete
  2. मुझे उस सड़क तक पहुँचने के लिए
    अपनी अलग पगडण्डी की तलाश है.

    बहुत खूब लिखा है आपने।

    सादर

    ReplyDelete
  3. राहें मेरी अपनी होंगी..

    ReplyDelete
  4. माना की आजकल के दौर में लगभाग सभी इन्सानों का रवैया भी भेड़ चाल की तरह ही हो गया है। मगर उन में से कुछ है,आपकी और हमारी तरह जिन्हें "उस सड़क तक पहुँचने के लिए अपनी अलग पगडंडी की तलाश है"....मानो भावों को बखूबी प्रस्तुत किया है आपने!!

    ReplyDelete
  5. दुनिया की भीड़ और भाग-दौड़ की भेड़चाल से हटकर जो अपनी राह अलग चुनता है सही और सच्ची मंज़िल उसे ही मिलती है ...!

    ReplyDelete
  6. दुनिया की भीड़ और भाग-दौड़ की भेड़चाल से हटकर जो अपनी राह अलग चुनता है सही और सच्ची मंज़िल उसे ही मिलती है ...!

    ReplyDelete
  7. संवेदना जितनी कोमल है उतनी ही शालीनता से मुखरित भी हुई है । 'पगडंडी' प्रतीकार्थ में- स्वैराचारी, छद्म और कुटिल चालों भरे कंकरीटी मार्ग से विलग-उस सरल निश्छल प्रशस्त पथ का आशय ध्वनित करती है जिस पर पग रखने वाला हर व्यक्ति सहचर होता है, प्रतिद्वंदी नहीं; जिस पर बढ़ते पगों में अपने गंतव्य तक पहुँचने की दृढ़ता अवश्य होती है,किन्तु, हर किसी को किसी भी तरीक़े से पछाड़ते हुए मक़ाम हासिल करने की निरंकुश दुष्टता नहीं !"पक्की कंक्रीट की बनी साफ़ सुथरी सड़कें/ खुद ही फिसलती जातीं सी क्षितिज तक जैसे!" अहम्मन्यता में चूर दर्पीली ऊँचाइयों की ओर ले जाती मूल्यहीनता की फिसलन...इसी से बचकर अपने लक्ष्य तक पहुँचने का संकल्प नितांत ख़ूबसूरत है । सुन्दर कविता के लिए, बधाई शिखा जी !

    ReplyDelete
  8. मुझे उस सड़क तक पहुँचने के लिए
    अपनी अलग पगडण्डी की तलाश है.
    Kitne anokhe,sundar vichar hain aapke!

    ReplyDelete
  9. दुनिया की भेड़ चाल से अलग चलना ही खुद्दारी है ।
    गहन भाव लिए सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
  10. भीड़ से अलग अपनी राह तराशने का सुन्दर जज़्बा!
    सार्थक रचना!

    ReplyDelete
  11. दृढ भाव मन के ...!!
    सुंदर रचना ....

    ReplyDelete
  12. bahut sunder likhi hain......
    मुझे उस सड़क तक पहुँचने के लिए
    अपनी अलग पगडण्डी की तलाश है.

    ReplyDelete
  13. आप तो पथप्रदर्शक बनो जी , और पगडंडी तो क्या अपने राजमार्ग बना लिया है.भेड़ चाल से इतर कुछ करने की चाह. ये लो जी इस कविता के लिए वाह वाह ..

    ReplyDelete
  14. मुझे उस सड़क तक पहुंचने के लिए
    अपनी अलग पगडंडी की तलाश है...
    वाह शिखा जी,
    इस रचना के ज़रिये नेक इरादों का कितना बड़ा पैग़ाम दिया है आपने...बधाई.

    ReplyDelete
  15. गहरे भाव।
    अपनी राह बनाकर उस पर चलना अलग ही सुकून देता है....

    ReplyDelete
  16. बहुत गहरे भाव ...... जीवन संघर्ष और अपनी राह आप बनाने की सोच .....

    ReplyDelete
  17. अपने अहम् के पाँव तले कुचल कर
    रौंद कर अस्तित्व अनेक मासूमो का
    यूँ खुद को ऊँचा दिखाने की ख्वाइश में
    मिटा देते हैं फिर कोई लंबी लकीर
    क्या बात है शिखा जी. बहुत सुन्दर पंक्तियां.

    ReplyDelete
  18. मंजिल तक पहुँचने के लिए किसी के अस्तित्व को रौंद कर न जाने की ख्वाहिश संवेदनशील मन को अभिव्यक्त करती है .. परम्परा से हट कर कुछ कर गुजरने का हौसला बताती है नयी पगडण्डी बनाने की चाह ..

    बहुत खूबसूरत भावों को सहेजा है अपनी इस रचना में ... अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  19. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा आज दिनांक 11-11-2011 को शुक्रवारीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  20. पर नहीं जाना चाहती उसी एक राह से
    शामिल होकर उसी परंपरागत भीड़ में
    जो चल रहे हैं न जाने कितनो का सर
    अपने अहम् के पाँव तले कुचल कर
    रौंद कर अस्तित्व अनेक मासूमो का
    यूँ खुद को ऊँचा दिखाने की ख्वाइश में...

    चुन रही अपने लिए
    हर दिन एक कठिन राह ...
    आसान भी हो सकता था यह सफ़र
    हर हाँ में हाँ मिलाकर
    चापलूसी की मुस्कान लपेटे
    मगर
    आदिम मनुष्यों की कतार में शामिल
    सूरज की ओर मुंह कर हुनहुनाने से
    मुझे इनकार है , इनकार है ...

    ReplyDelete
  21. जो लोग भी अलग पगडण्‍डी बनाते हैं वे ही अपनी मंजिल पाते हैं। बढिया विचार।

    ReplyDelete
  22. सुन्दर..बहुत सुन्दर लिखा है दीदी..और बहुत सच लिखा है!!

    ReplyDelete
  23. आपकी किसी पोस्ट की चर्चा है कल शनिवार (12-11-2011)को नयी-पुरानी हलचल पर .....कृपया अवश्य पधारें और समय निकल कर अपने अमूल्य विचारों से हमें अवगत कराएँ.धन्यवाद|

    ReplyDelete
  24. मिलेगी ज़रूर मिलेगी अगर कोई ख़याल जन्मा है मन में तो कहीं ना कहीं होगा ज़रूर

    ReplyDelete
  25. मौलिक रचना हेतु बधाई !
    बहुत अच्छे से अहम् का विश्लेषण किया है आपने ।
    अहममुक्त रहने का सार्थक सन्देश देती कविता ।


    अपने विचारों से अवगत कराएँ !
    अच्छा ठीक है -2

    ReplyDelete
  26. अपनी पगडण्डी ही शाश्वत है शिखा जी ....राह वही जो खुद के अनुभवों से बने
    नहीं बनना भीड़ का हिसा तो नहीं बनना वो राह देखने में चाहे जितनी ही चमकीली क्यों ना हो !
    अब आपकी लेखनी में जीवन का गहरा दर्शन उतरने लगा है शिखा जी ....यही खुद की पगडण्डी है !

    ReplyDelete
  27. talash to mujhe bhi hai us pagdandi ki..........par kab puri hogi:(

    ReplyDelete
  28. नयी पगडंडियाँ ही जीवन की तलाश है .....


    बधाई शिखा जी ....!

    ReplyDelete
  29. यही व्यापक सोच है. ... 'उस सड़क तक पहुँचने के लिए अपनी अलग पगडंडी की तलाश है'....हमारा जो कुछ हो, अपना हो. अपनी पगडंडी के सहारे आगे बढ़ाने का संकल्प ही हमें आगे ले जता है. रफ़्तार धीमी रहे, मगर लक्ष्य मिलाता ही है. गागर में सागर भर दिया. इस सोच को और लोग भी ह्रदयंगम करेंगे.

    ReplyDelete
  30. रास्ते अनगिनत हों, लेकिन जिस पर चल कर लगे कि आनंद यात्रा की बस वही सही है और वही मुकाम तक पहुंचाता है.. जो लाशों के ढेर पर पैर रखकर चोटी तक पहुंचाते हैं अचानक उन्हें एहसास होता है कि उनकी सफलता का साक्षी कोई नहीं, सब के सब मुर्दे हैं जिन्हें रौंदकर वो यहाँ तक पहुंचा है.. इतिहास में अशोक ही एकमात्र उदाहरण है जिसने लाशों के ढेर को सिंहासन बनाया और जब उसे अपनी हुकूमत का पता चला तो ह्रदय परिवर्तन.. संन्यास!!
    शिखा जी कुछ ज़्यादा हो गया... ओवरडोज..क्षमा!!

    ReplyDelete
  31. मुझे उस सड़क तक पहुँचने के लिए
    अपनी अलग पगडण्डी की तलाश है.
    bahut sunder bhav sari kavita ka sar hai in panktiyon me kamal badhai
    rachana

    ReplyDelete
  32. नए रास्ते, नया उन्वान
    यही जीवन की पहचान

    सुन्दर रचना...
    सादर...

    ReplyDelete
  33. मुझे उस सड़क तक पहुँचने के लिए
    अपनी अलग पगडण्डी की तलाश है.
    bahut khoob....

    ReplyDelete
  34. मन में हो उत्साह और मंजिल की हो चाह
    पगडण्डी बन जात है , ऊबड-खाबड राह.

    आत्म-विश्वास जगाती सशक्त रचना.

    ReplyDelete
  35. पगडण्डी की तलाश कविता पढ़ी आपकी किन्तु आपकी कविताओं में आपका पत्रकार कवि को एक सीमित सा कर रहा काव्य की व्यजना के आड़े आ जाता है विषय वस्तु अच्छी है आप और एक बार विचार करें मेरे कथन को आलोचना न मानते हुये तब आप मेरा आशय समझ जाओगी

    ReplyDelete
  36. पगडण्डी की तलाश कविता पढ़ी आपकी किन्तु आपकी कविताओं में आपका पत्रकार कवि को एक सीमित सा कर रहा काव्य की व्यजना के आड़े आ जाता है विषय वस्तु अच्छी है आप और एक बार विचार करें मेरे कथन को आलोचना न मानते हुये तब आप मेरा आशय समझ जाओगी

    ReplyDelete
  37. निदा फाजली ने लिखा है....

    यहां किसी को कोई रास्ता नहीं देता
    मुझे गिरा के अगर तुम संभल सको तो चलो।
    .......
    बहुत कठिन है सफर, जो चल सको तो चलो।

    ReplyDelete
  38. आपकी अलग पगडण्डी की तलाश
    बहुत अच्छी लगी शिखा जी.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.
    अनुपमा जी का भी आभार कि
    उन्होंने अपनी हलचल से आपकी
    इस पोस्ट पर पहुँचाया.

    ReplyDelete
  39. bahut sundar rachna hai.. lambe samaya n=baad blogger me aaya aur pahli rachna hi yah padhi .. sundar !

    ReplyDelete
  40. बिलकुल ठीक कहा - मूषक स्पर्धा में कोई ऐसी अजीम हस्ती जाए ही क्यों ?

    ReplyDelete
  41. पगडंडी शब्द को आपने एक नया संदर्भ - sanskaar और बोध दे दिया है और us पर जब कोई इन paktiyon की रचनाकार हस्ती चल पड़े तो वह राजपथ न हो जाय :)

    ReplyDelete
  42. बाकी काफी लोगों कि तरह मेरी भी पसंदीदा पंक्तियाँ यहीं हैं...
    "मुझे उस सड़क तक पहुँचने के लिए
    अपनी अलग पगडण्डी की तलाश है"

    बहुत ही प्रभावशाली रचना है!!!

    ReplyDelete
  43. अच्छी रचना ..गहरे भाव समेटे हुए ..

    ReplyDelete
  44. लीक छांड़ि तीनों चलें शायर, सिंह, सपूत!

    ReplyDelete
  45. उस सड़क तक पहुँचने के लिए अपनी अलग पगडण्डी की तलाश है... सुंदर रचना , आभार .

    ReplyDelete
  46. Diosa,
    kuchh aisa laga, jaise kahin kuchh, tutta hua, bikharne ke pahle samhalne ki koshish kar raha hai, kai bar jo shbd samne hote hain unka arth unse jayada chhupe hue bhavon main milta hai, hope very soon we see its 2nd part.

    ReplyDelete
  47. बहुत सुंदर, बेहतरीन।

    ReplyDelete
  48. बहुत अच्छी रचना ..एक शेर है ..जावेद साहब का
    जिधर जाते है सब उधर जा ,हमें अच्छा नहींलगता
    मुझे पामाल रास्तों का सफर ,अच्छा नहीं लगता

    ReplyDelete
  49. बहुत सुन्दर रचना...वाह!!

    ReplyDelete
  50. लोकतंत्र के चौथे खम्बे पर अपने अपने विचारों से अवगत कराएँ
    औचित्यहीन होती मीडिया और दिशाहीन होती पत्रकारिता

    ReplyDelete
  51. khud ke dwra chuni hui raah par chalna sadaiv sukh deta hai bhale raah kathin ho...bahut saarthak rachna, badhai Shikha ji.

    ReplyDelete
  52. मैं भी चाहती हूँ चलना इसी सड़क पर
    और चाहती हूँ पहुंचना उस क्षितिज तक
    पर नहीं जाना चाहती उसी एक राह से
    शामिल होकर उसी परंपरागत भीड़ में

    bahut sundar....

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *