Enter your keyword

Monday, 10 October 2011

तेरे साथ ही मेरी दीवानगी गई...


“शब्-ए फुरक़त का जागा हूँ, फरिश्तों अब तो सोने दो,
कभी फुर्सत में कर लेना हिसाब आहिस्ता आहिस्ता...”

कभी सोचा नहीं था कि इस पोस्ट के बाद यह श्रद्धांजलि इतनी जल्दी लिखूंगी. अभी इसी साल जून की तो बात है जब जगजीत सिंह का लन्दन में कंसर्ट था और वहां उनका ७० वां जन्म दिन मना कर आई थी उनके जन्म दिन का केक खा कर आई थी जो वहीँ स्टेज पर काटा था उन्होंने. यूँ तो उनका कार्यक्रम लगभग हर साल ही होता था और लगभग हर देश में होता था .परन्तु मेरा दुर्भाग्य कि कभी भी, कहीं भी उसमें शामिल होने का मौका नहीं मिला. हर साल किसी न किसी वजह से बस मन मार कर रह जाना पडा.परन्तु इस बार शायद कोई शक्ति थी जो मुझे उस ओर खींच रही थी. और मैंने अपना फैसला सा सुना दिया था कि इस बार कोई जाये साथ न जाये मैं तो जा रही हूँ और मेरा इतना कडा रुख देख पतिदेव भी बिना हुज्जत किये मेरा साथ देने को तैयार हो गए थे. आज सुबह-सुबह मेल देखने के लिए नेट खोला तो उनके ना रहने की दुखद खबर मिली.तब से उस कन्सर्ट के वो ऐतिहासिक पल नजरों से आंसू बन टपक तो रहे हैं परन्तु लुप्त होने का नाम नहीं ले रहे.रह- रह कर उनकी छवि और उनका आत्मिक ,सुकून देने वाला स्वर मन मस्तिष्क पर हावी हो रहा है. स्टेज पर बैठ तीन घंटे तक उसी कशिश और जोश के साथ लगातार गाने वाले वाले उस सुगठित देह और आकर्षित व्यक्तित्व को देखकर कौन सोच सकता था कि कुछ ही महीनो में वो इस दुनिया से विदा ले लेगा.खुद उन्होंने भी कहा था कि अपने ७० वर्ष पूरे करने के उपलक्ष्य में वे दुनिया भर में इस साल अपने ७० कंसर्ट करेंगे.उस स्वर सम्राट को शायद मुझ जैसे ही किसी दीवाने की नजर लग गई. जो उस पूरी शाम उसे निहारती रही थी और ऊपर वाले की इस नियामत पर फक्र किये जा रही थी.

जगजीत सिंह वह इंसान था जिसने अपने स्वर और आवाज़ से आम श्रोता को ग़ज़ल से रु ब रू कराया."कागज की कश्ती" के माध्यम से उन्हें बचपन लौटाया, "होटों से छू लो से"- मोहब्बत करना सिखाया यहाँ तक कि "आखिरी हिचकी तेरे जानू पे आये ,मौत भी मैं शायराना चाहता हूँ."से  उसे रोना और मरना भी सिखाया. यह वो इंसान था जिसने ग़ज़ल को खास लोगों की महफ़िल से उठाकर आम लोगों के बीच खड़ा किया.और दुनिया का कोई भी संगीत प्रेमी उनके इस ऋण से कभी भी उऋण नहीं हो सकेगा.
मेरे लिए तो ग़ज़ल का मतलब सिर्फ और सिर्फ जगजीत सिंह थे. मेरी आँखों से अगर कभी भी पानी निकला तो उसका कारण सिर्फ और सिर्फ जगजीत सिंह के गीत थे.और उनकी ही गायकी में मैंने ग़ालिब को समझना सीखा.

आज गजल की दुनिया का यह सम्राट हमारे बीच नहीं परन्तु उनकी आवाज़ की वो खनक, वो अंदाज ए बयाँ , लफ्जों की वो खुमारी मेरी दुनिया में हमेशा एक सौगात बनकर बसी रहेगी.

उन्होंने हमेशा अपने चाहने वालों के लिए गाया. हमेशा अपने चाहने वालों का मान वे अपने कार्यक्रमों में रखा करते थे और आज शायद यही वो कह रहे हैं अपने चाहने वालों से.
थक गया मैं करते करते याद तुझको.
अब तुझे मैं याद आना चाहता हूँ.

53 comments:

  1. तुम्हे ढूंढ़ रहा है प्यार,हम कैसे करे इकरार.... की हां तुम चले गए.......कहाँ तुम चले गए.....

    ReplyDelete
  2. जगजीत सिंह वह इंसान था जिसने अपने स्वर और आवाज़ से आम श्रोता को ग़ज़ल से रु ब रू कराया."कागज की कश्ती" के माध्यम से उन्हें बचपन लौटाया, "होटों से छूलो से"- मोहब्बत करना सिखाया यहाँ तक कि "आखिरी हिचकी तेरे जानू पे आये ,मौत भी मैं शायराना चाहता हूँ."से उसे रोना और मरना भी सिखाया. यह वो इंसान था जिसने ग़ज़ल को खास लोगों की महफ़िल से उठाकर आम लोगों के बीच खड़ा किया.और दुनिया का कोई भी संगीत प्रेमी उनके इस ऋण से कभी भी उऋण नहीं हो सकेगा.
    आपकी काही गई इस बातों से पूरी तरह सहमत हूँ आज संगीत की दुनिया और गहल गायकी ने जो खोया है उसकी पूर्ति और भरपाई अब कभी न हो सकेगी सच बहुत बुरा हुआ ....भावभीनी विनम्र
    श्र्द्धांजली भगवान उनकी आत्मा को शांति और सुकून प्रदान करे....

    ReplyDelete
  3. behad bhavpurn shardhanjli/ bahgwan unki aatma ko shanti de/ aur aapko ye aseem dukh sehne ki kashmat de,
    bas ek gujarish he ki "ye diwaangi brabar rehni chahiye"!

    "baad jaane ke unko bhool gaye,
    kya tera pyaar bas yahi talak tha"

    ameen!

    ReplyDelete
  4. जगजीत सिंह के बारे में आज समाचारों में सुना विस्तार से। बेहतरीन गजल गायक थे वे। उनकी कमी बहुत खलेगी।

    जगजीत सिंह की याद को नमन!

    ReplyDelete
  5. haan hame yaad hai, dekha tha tumhara post...!!
    par ye to bilkul sach hai ki unke jaane se ek bahut bada nuksan iss desh ko hua...!!
    meri vinamra shraddhanjali hai unhe..!

    ReplyDelete
  6. महान गायक को हार्दिक श्रद्धांजलि।

    सादर

    ReplyDelete
  7. जगजीत सिंह की याद को नमन!

    ReplyDelete
  8. हज़ारों साल पे नर्गिस अपनी बेनूरी पे रोती है
    बड़ी मुश्किल से होता है चमन में कोई दीदावर पैदा!

    सुबह-सुबह IBN पे यह न्यूज एक दू:स्वप्न कि तरह ही लगा था| दो-तीन बार नेट पर पढ़ा फिर विश्वास कर पाया ......:-(

    ReplyDelete
  9. हिंदुस्तान के ग़ज़लों और गीतों के शहंशाह जगजीत सिंह जी के निधन से संगीत संसार अधूरा सा हो गया है ।
    बेहतरीन गायक थे जिनका गाने का सहज अंदाज़ मन को बड़ा सकून देता था ।
    उनकी कितनी ही ग़ज़लें हैं जो दिल को छू जाती हैं । उनकी कमी को पूरा नहीं किया जा सकता । विनम्र श्रधांजलि ।

    ReplyDelete
  10. sunder lekh .ji haan aaj shayad hi koi hoga jo dukhi na hi mujhe inge sunne ka ,inse baat karne ka aur inka interview lene ka maouka mila vo yaden jeevan bhar mere sath rahengi.
    rachana

    ReplyDelete
  11. :(

    He 'is' the best.. we gonna miss him.

    ReplyDelete
  12. जगजीत जी से रूबरू होने का मौका मिला था एक बार .उनकी शख्सियत उनकी जादुई आवाज़ से कितना मेल खाती थी . ग़ज़ल को लोकप्रिय करने में वो मुख्य कारक थे . उनकी याद को नमन .

    ReplyDelete
  13. मैं क्या कहूँ इस पोस्ट पे?अभी वो वाला पोस्ट भी फिर से पढ़ा मैंने "मखमली आवाज़ और खुमार"..

    "जावेद अख्तर उनके लिए कहते हैं कि "जगजीत की आवाज ऐसी है जैसे कड़ी धूप में चलते चलते अचानक ठंडी छाँव मिल गई हो"

    गुलजार कहते हैं - "जगजीत की आवाज़ सहलाती है, एक दिलासा सा देती है .और उसकी गायकी में मुझे मेरे शेर भी अच्छे लगते हैं"

    और बाकी कुछ कहने का मन नहीं है फ़िलहाल..शायद लिखूं कुछ अभी!

    ReplyDelete
  14. दुखदायी समाचार
    महान गायक को हार्दिक श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  15. बहुत दुखद है इस ग़ज़ल सम्राट को खोना। विनम्र श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  16. मौसिकी और फेन के माहिर /हुनर के जादूगर कभी नहीं मरते ..वे अपने कृतित्व में अमर हो उठते हैं ....
    जगजीत जी पुत्र के आकस्मिक मृत्य से टूट से गए थे.. जीवन कष्टमय रहा -इस नश्वर संसार को छोड़कर उस रूहानी मिलन को जल्दी चले जाना भी उसी परवर दिगार की ही कोई सूझ रही हो -अब वे कष्ट और पीड़ा से मुक्त हुए ....
    मेरा नमन

    ReplyDelete
  17. विनम्र श्रद्धांजलि......

    ReplyDelete
  18. हार्दिक श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  19. आज एक स्वीकारोक्ति करने को जी चाहता है.. मैंने ब्लोग्स पर टिप्पणी करते समय जितने भी शेर कोट किये हैं उनमें से ज़्यादातर जगजीत सिंह की गयी ग़ज़लों से ली हुयी हैं..
    अशार की अदायगी और संगीत का माधूर्य... जब से ये खबर सुनी सारी गज़लें १९७५ से अब तक की गूँज गयीं दिमाग में!!

    ReplyDelete
  20. aaderniya shikha ji yah ek ajab iteefak hai jis din maine blog jeewan se judkar gaphil sir ke blog ke baad jis blog per comment kiya aaur jise bidhiwat padha wo aapka hi blog tha..us din aapne jagjit singh ke london ke kisi karyakram ke bishay me behtarin dhang se likha tha..main ghazal likhna isi shaksiyat se prerit hokar shuru kiya..main apne har yatra ka adhikans samay isi shayer ki dilkash awaj ko sunte hue gujarta hoon..us din aapki koi purani shirt per likhi kavita mujhe aaj tak yaad hai..wo din aaur aaj ka din maine jaise hi shastri ji ke charcha manch se link jodkar aapka blog khola to aapke lekh ke do chaar panktiyan padhte hi samajh nahi paaya aakhir aap kisko shradhanjali de rahi hain..main aapke lekh pe sarsari nigah daalne laga aaur aakhir un shabdon tak pahunch gaya jo mere liye hriday bidarak ho gaye..meri binamra shrdhanjali hai us mahan sakhsiyat ko...

    ReplyDelete
  21. कुछ कहने की स्थिति में नहीं हूँ ...बस सोच रहा हूँ...........?? जीवन की नियति भी क्या है ..लेकिन किया क्या जा सकता है ...!

    ReplyDelete
  22. “शब्-ए फुरक़त का जागा हूँ , फरिश्तों अब तो सोने दो ,

    कभी फुर्सत में कर लेना हिसाब आहिस्ता आहिस्ता...”

    आज मन बहुत व्यथित है इस खबर से. और कुछ नहीं लिख सकती.

    ReplyDelete
  23. बहुत कष्टदायी खबर है ये.. जगजीत सिंह जी गजल को आम लोगों के बीच पहुँचाने में और प्रशंसा दिलाने में कामयाब रहे. उनकी आवाज और अदायगी का जोड़ मिलाना मुश्किल है, ये एक अपूरणीय क्षति है.

    उनकी दो गजल और गीतों की पंक्तिय उद्धृत करना चाहूँगा -

    १.होठों से छु लो तुम, मेरा गीत अमर कर दो
    २. कोई ये कैसे बताये की वो तनहा क्यों है..है जनम का जो ये रिश्ता तो बदलता क्यों है???

    उन्हें चिर निद्रा में शांति और सुकून मिले.

    ReplyDelete
  24. चिट्ठी न कोई संदेश.... जाने वो कौन सा देश... जहां तुम चले गए....
    गजल का रहनुमा चला गया...
    श्रध्‍दासुमन.....

    ReplyDelete
  25. जग को जीत कहां तुम चले गए...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  26. बेटे की आकस्मिक मौत , बेटी की आत्महत्या , बेटे की मृत्यु के बाद चित्राजी की मानसिक दशा , सब झेलकर आखिर वह भी चले गये , किसी ने उनके गीतों में निजी जीवन की त्रासदियों को महसूस नहीं किया होगा ....
    बहुत दुखद !

    ReplyDelete
  27. विनम्र श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
  28. उनकी आवाज हमारे साथ हमेशा रहेगी। विनम्र श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  29. विनम्र श्रद्धांजलि |

    ReplyDelete
  30. हां, कल से मन उदास है बहुत. श्रद्धान्जलि.

    ReplyDelete
  31. भावभीनी श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  32. थक गया मैं करते करते याद तुझको.
    अब तुझे मैं याद आना चाहता हूँ.

    जगजीत सिंह जी को विनम्र श्रद्धांजलि ...

    ReplyDelete
  33. जगजीत सिंह जी को विनम्र श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  34. आज शायद यही वो कह रहे हैं अपने चाहने वालों से...थक गया मैं करते करते याद तुझको.
    अब तुझे मैं याद आना चाहता हूँ...उनकी कमी बहुत खलेगी...!

    ReplyDelete
  35. वे बेहतरीन थे ....
    हार्दिक श्रद्धांजलि !

    ReplyDelete
  36. विनम्र श्रद्धांजलि ।

    ReplyDelete
  37. acchha likhaa hai aapne shikhaa...aur is vaishay par main kuchh kahane kee haalat men nahin hun...vakt lagegaa abhi is jhhatke se ubarne men.....

    ReplyDelete
  38. तुम्हे ढूंढ़ रहा है प्यार,
    हम कैसे करे इकरार....
    कहाँ तुम चले गए.......
    कहाँ तुम चले गए.....
    महान आत्मा को अश्रु पूरित कोटि कोटि नमन....

    ReplyDelete
  39. कुछ कह पाना ऐसे क्षणों में मुश्किल हो जाता है ...बस विनम्र श्रद्धांजली के साथ नमन ..और नमन ।

    ReplyDelete
  40. jagjit singh ko rubaru sun.ne ka kai baar mauka mila, har baar wahi dilkash jaadoo. waqt to nahin rukta fir bhi unka jana bada dukhad hai. ''tum chale jaaoge to sochenge, hamne kya khoyaa hamne kya paya...'' jagjit singh ko shradhanjali.

    ReplyDelete
  41. जगजीत सिंह का अवसान एक अपूर्णनीय क्षति है।

    ReplyDelete
  42. आपके इस आलेख में मानो सब मेरे दिल की बात ही लिखी गई है !जगजीत सिंह की कमी को कोई नही भर सकता वो आवाज़ कंही और हो ही नहीं सकती !भगवान् उनकी आत्मा को शान्ति दे !

    ReplyDelete
  43. शाम से आँख में नमी सी है.
    आज फिर आपकी कमी से है...

    "सुर तुम्हारे गूंजेंगे, युग युग बनकर प्रीत.
    दमकोगे बन चाँद नभ, सदा सदा जगजीत."

    सजल श्रद्धांजली...

    ReplyDelete
  44. ग़ज़ल सम्राट जगजीतसिंह को भावभीनी श्रद्धांजलि

    आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-666,चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  45. अब हमारे पास जगजीत सिंग जी की यादें ही रह गईं ।
    उन्हे भावभीनी श्रध्दांजली ।

    ReplyDelete
  46. संगीत की दुनिया ने एक नायाब सितारा खो दिया.

    ReplyDelete
  47. घर-घर तक,गज़ल की शमा ज़लाने वाले महान,गज़ल गायक,स्वर्गीय श्री जगजीत सिंह को ,मेरी भी हार्दिक श्रद्धांजलि.चर्चा-मंच पर उनके लिये,श्रद्धा-सुमन,बिखेर कर,अनुग्रहित किया,धन्यवाद.

    ReplyDelete
  48. एक युग की समाप्ति हो गई ...
    मुद्दतों याद आएँगी उनकी ग़ज़लें ... श्रधांजलि है हमारी ...

    ReplyDelete
  49. unki awaz zindgi mei shanti dethi thi ,sun kar rooh mei tripti ka ehsas hota tha,miss them so much

    ReplyDelete
  50. जगजीत सिंह जी को विनम्र श्रद्धांजलि

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *