Enter your keyword

Tuesday, 20 September 2011

कुछ पल.


रात के साये में कुछ पल
मन के किसी कोने में झिलमिलाते हैं
सुबह होते ही वे पल ,
कहीं खो से जाते हैं 
कभी लिहाफ के अन्दर ,
कभी बाजू के तकिये पर
कभी चादर की सिलवट पर 
वो पल सिकुड़े मिलते हैं.
भर अंजुली में उनको ,
रख देती हूँ सिरहाने की दराजों में 
कल जो न समेट पाई तो ,
निकाल इन्हें ही तक लूंगी 
बड़ी आशाओं से जब उनको 
जाती हूँ निकालने 
उस बंद दराज में मेरे सब पल 
मुरझाये मिलते हैं .

सहलाती हूँ वे पल ,
काश पा हथेली की गर्माहट.
जीवन पा सकें या 
शायद  फिर से खिल जाये.
पर पेड  से गिरे पत्ते ,
कहाँ फिर पेड पर लगते.
वो सूखे लम्हे भी 
यहाँ वहां बिखरे ही दिखते हैं.

56 comments:

  1. पलों की यही कहानी है …………बहुत सुन्दर भावो को संजोया है।

    ReplyDelete
  2. बिखरे पलों को समेटती सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  3. ye palon ko ahsaas ke roop men sahej liya aur phir se jeene chale to phir ve simat chuke the apane men. bahut sundar abhivyakti.

    ReplyDelete
  4. hameshaa ki tarah pyari kavitaa. chitr ne aur adhik prabhavee bana diyaa.

    ReplyDelete
  5. पेड से गिरे पत्ते ,
    कहाँ फिर पेड पर लगते.
    वो सूखे लम्हे भी
    यहाँ वहां बिखरे ही दिखते हैं।
    वाह!!!....गहरे भाव लिए जीवन के अहसासों से परीपूर्ण पल-पल की कहानी को ब्यान करती सुंदर अभिवयक्ति

    ReplyDelete
  6. सहलाती हूँ वे पल ,
    काश पा हथेली की गर्माहट.
    जीवन पा सकें या
    शायद फिर से खिल जाये.
    पर पेड से गिरे पत्ते ,
    कहाँ फिर पेड पर लगते.
    वो सूखे लम्हे भी
    यहाँ वहां बिखरे ही दिखते हैं.
    bahut hi sunder hain lamhe yadon ke hi sada jivit rahte hain
    bhavon ki gahrai hai .
    sunder hai
    rachana

    ReplyDelete
  7. yadain kuch aisi hi hoti hain!
    sudar prastuti! shandar bhav!

    badhai kabule!

    ReplyDelete
  8. पल पल बदलते अहसास , उनको समेटने की पुरजोर कोशिश . भावनाओ को शब्दों में पिरो लेना वो भी इतनी कोमलता से . अति सुँदर .

    ReplyDelete
  9. समय को स्मृतियों में संजोने के प्रयास में लगे हम सब।

    ReplyDelete
  10. गहरी संवेदना/अहसास सूक्ष्म अनुभूति का प्रगटन -खूबसूरत!

    ReplyDelete
  11. गुज़रा हुआ ज़माना ...आता नहीं दोबारा ....
    स्मृतियाँ ही समेटने की कोशिश कर सकते हैं हम सब ....
    सुंदर कोमल भाव मन के ...

    ReplyDelete
  12. सहलाती हूँ वे पल ,
    काश पा हथेली की गर्माहट.
    जीवन पा सकें या
    शायद फिर से खिल जाये.
    पर पेड से गिरे पत्ते ,
    कहाँ फिर पेड पर लगते.
    वो सूखे लम्हे भी
    यहाँ वहां बिखरे ही दिखते हैं.
    yahi to khasiyat hai palon mein

    ReplyDelete
  13. मन के कोने में झिलमिलाती यादें ..सहेजने की कोशिश ...और फिर उसे जीवन्तता प्रदान करने का प्रयास ... पर जो पल बीत जाता है बस बीत जाता है .. बहुत कोमल भावों को संजो कर लिखी है यह रचना ... सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  14. पर पेड से गिरे पत्ते ,
    कहाँ फिर पेड पर लगते.
    वो सूखे लम्हे भी
    यहाँ वहां बिखरे ही दिखते हैं.

    ....कितने कोमल अहसास...बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  15. पर पेड से गिरे पत्ते ,
    कहाँ फिर पेड पर लगते.
    वो सूखे लम्हे भी
    यहाँ वहां बिखरे ही दिखते हैं.

    बहुत गहन बात, हकीकत यही है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  16. अहसासों की अनुभूतियों को समेटे सुन्दर भावप्रणव रचना!

    ReplyDelete
  17. शिखा जी, बीते हुए लमहों की कसक सबको उसी तरह से प्रभावित कर जाती हैं जैसे आपको । हमें इन लमहों के प्रति कृतज्ञ होना चाहिए जो कभी -कभी मन को असीम सुख प्रदान करने में अपनी अहम भूमिका का निर्वाह कर जाते हैं । बहुत ही सुंदर भावों के मिश्रण से लिखी गयी कविता हृदयस्पर्शी लगी । धन्यवाद । समय इजाजत दे तो मेरे पोस्ट पर भी आकर मेरा मनोबल बढाएं ।

    ReplyDelete
  18. वे पल दराज में रखने के लिए नहीं होते, उन्हें जीना पडता है भरपूर और बन करना पडता है ह्रदय के दराज में, पलकों के दराज में...
    बहुत ही सुन्दर और कोमल नज़्म है शिखा जी!!आभार आपका!

    ReplyDelete
  19. सुबह होते ही वे पल ,
    कहीं खो से जाते हैं
    कभी लिहाफ के अन्दर ,
    कभी बाजू के तकिये पर
    कभी चादर की सिलवट पर
    वो पल सिकुड़े मिलते हैं.


    बहुत बारीक-सी कहन...मन को छूने वाली...

    ReplyDelete
  20. हवा से उलझे कभी सायों से लड़े हैं लोग
    बहुत अज़ीम हैं यारों बहुत बड़े हैं लोग

    इसी तरह से बुझे जिस्म जल उठें शायद
    सुलगती रेत पे ये सोच कर पड़े हैं लोग

    ReplyDelete
  21. Bahut bhavuk kar gayee ye rachana....

    ReplyDelete
  22. शिखा जी,सब कुछ सोच पर निर्भर करता है.

    आप अच्छी कविता करतीं है,आपको भी मानना पड़ेगा अब.

    लगता है मेरा ब्लॉग अब भूली बिसरी याद
    का ही कोई खोया पल है.

    ReplyDelete
  23. जो डाल से छूटा
    साथ उसका छूटा
    अब तो बस यादें ही शेष हैं, हम उन्हें ही समेट लें अपने मन में, दिल में।

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  25. bahut achchi rachnaa...!!! magar

    kuchh pal aise bhi hote hain
    jo kabhi murjhaaate nahin,
    chaahe rakh do daraazon men
    yaa ki potli banaa kahin kone men
    wo kabhi kumhlaate nahin...

    ReplyDelete
  26. सुन्दर है, लेकिन इतनी उदासी??

    ReplyDelete
  27. सुन्दर कविता शिखा जी बहुत -बहुत बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  28. सुन्दर कविता शिखा जी बहुत -बहुत बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  29. कभी बाजू के तकिये पर
    कभी चादर की सिलवट पर
    वो पल सिकुड़े मिलते हैं

    ये पंक्तियाँ मुझे बहुत पसंद आई ...

    ReplyDelete
  30. पेड से टूटे पत्ते कहाँ जुड़ते हैं दुबारा ...ऐसी ही बिखरी पड़ी सुखी यादें !
    वाह ...बेहतरीन!

    ReplyDelete
  31. संवेदनशील ...भावपूर्ण रचना!!

    ReplyDelete
  32. संवेदनशील ...भावपूर्ण रचना!!

    ReplyDelete
  33. बढिया है। मेहनती कविता!
    काश पलों को फ़्रिज में रखने का जुगाड़ होता। वे मुरझाने से बच जाते।

    ReplyDelete
  34. यही पल अपनी सम्पति है संभल कर रखें सुंदर भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  35. बीते पल मुरझा ना जाए इन्हें डायरी के पन्नो में सहेज ले यकीन मानिए जब भी पन्ने पलटेंगी अपनी खुशबू और रंग से तारो ताजा कर देंगे

    ReplyDelete
  36. बहुत सुन्दर रचना. maple के पत्ते बड़े खूबसूरत लग रहे हैं.

    ReplyDelete
  37. बीते ह‍ुए पल कब अपने हुए हैं? लेकिन उनका अहसास हमेशा जीवित रहता है। बहुत अच्‍छी रचना, बधाई।

    ReplyDelete
  38. वाह... कितने सुन्दर,मनमोहक ढंग से भावों को अभिव्यक्त किया है आपने...

    सच है...पेड़ से झड गए पत्ते फिर दुबारा कहाँ लहक पाते हैं,चाहे कितनी भी प्राण वायु उनमे फूंकी जाय.

    ReplyDelete
  39. बेहतरीन प्रस्तुति,आभार.

    ReplyDelete
  40. वाह जी बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  41. ओहो :) :)
    बड़ी सुन्दर कविता है दीदी :)

    ReplyDelete
  42. ऐसे पलों में पूरा जीवन सिमिट के आ जाता है ... कमाल के भाव छिपे हैं इन नाजुक पलों में ..

    ReplyDelete
  43. ''जो बीत गया वो पल लौट कर नहीं आता''
    सुंदर तरीके से इस सच्‍चाई को बयां किया आपने।
    शुभकामनाएं............

    ReplyDelete
  44. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति....वाह!!

    ReplyDelete
  45. bhut hi khubsura shabdo ka istemal kiya he aap ne

    ReplyDelete
  46. आपको मेरी तरफ से नवरात्री की ढेरों शुभकामनाएं.. माता सबों को खुश और आबाद रखे..
    जय माता दी..

    ReplyDelete
  47. बहुत अच्छा।बिखरे पलों को समेटना
    कितना मुश्किल होता है।

    ReplyDelete
  48. सहलाती हूँ वे पल ,
    काश पा हथेली की गर्माहट.
    जीवन पा सकें या
    शायद फिर से खिल जाये.
    पर पेड से गिरे पत्ते ,
    कहाँ फिर पेड पर लगते.
    वो सूखे लम्हे भी
    यहाँ वहां बिखरे ही दिखते हैं.

    ..गिरकर फिर न उससे जुड़ पाना यही नियति है ..
    बहुत ही बढ़िया भावपूर्ण रचना ....

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *