Enter your keyword

Thursday, 7 July 2011

जिद्दी कहीं का.




सूनसान सी पगडण्डी पर 
जो हौले हौले चलता है.
शायद मेरा वजूद है.
जो करता है हठ, 
चलने की पैंया पैंया  
बिना थामे 
उंगली किसी की. 
डर है मुझे 
फिर ना गिर जाये कहीं 
ठोकर खाकर.
नामुराद 
जिद्दी कहीं का. 

61 comments:

  1. गिरकर उठने का जज्बा ही सफ़लता की ओर ले जाता है। मंजिल तक पहुंचाता है।

    गिरकर उठना,उठकर गिरना
    जीवन की रीत पुरानी है।

    आभार

    ReplyDelete
  2. जिद्दी कहीं का. ....






    .
    बेहतरीन!!!

    ReplyDelete
  3. अच्छे से पता है , आप कितनी जिद्दी हैं :)

    ReplyDelete
  4. tumhara jiddi wajood....tumhe auron se alag karta hai..aur yahi khasiyat hai, yahi pahchaan hai ...isko banaye rakhna...safalta ki har sidhhi pe sirf upar ki aur jana...neeche ka to sawal hi nahi:)
    god bless you dost:)

    ReplyDelete
  5. jo ladate hain, vahi hain jeetate
    girate ve chalate hain .
    ye jiddipan bhee jajbaa hai
    unheen se log jalate hain .

    behatar post , badhai

    ReplyDelete
  6. जो करता है हठ,
    चलने की पैंया पैंया
    बिना थामे
    उंगली किसी की.

    वजूद बना उसी का
    जिसने खुद
    कुछ बनने की ठानी
    बिना संबल लिए
    बनती है नयी कहानी ...

    बहुत खूबसूरत भाव लिए नन्ही सी रचना ..पर बहुत गहराई है ..

    ReplyDelete
  7. आपको पढना हमेशा अच्छा लगा है. समय हो तो युवतर कवयित्री संध्या की कवितायें. हमज़बान पर पढ़ें.अपनी राय देकर रचनाकार का उत्साह बढ़ाना हरगिज़ न भूलें.
    http://hamzabaan.blogspot.com/2011/07/blog-post_06.html

    ReplyDelete
  8. जो करता है हठ,
    चलने की पैंया पैंया
    बिना थामे
    उंगली किसी की.
    bahut sunder bhav पैंया पैंया shbdon ka prayog bahut madhur laga .
    rachana

    ReplyDelete
  9. वजूद बचाने की मुहीम में ठोकर लगते रहते है .. संबल विहीन होकर भी, निज आत्मबल के सहारे दुर्धर्ष पाषाणों की पद दलित कर आगे बढ़ते जाना मनुष्य को श्रेष्ठ बनाता है

    ReplyDelete
  10. ठोकर खाकर ही संभलते हैं .

    ReplyDelete
  11. यही ज़िद तो अस्तित्व की पहचान बने...
    एहसासातों की खुशबू मिले भावों में...
    जो एक बात बनाए,
    एक संवाद भी...

    ReplyDelete
  12. जो चले वही गिरे-उठे.

    ReplyDelete
  13. नामुराद
    जिद्दी कहीं का.
    बेहतरीन..........!!

    ReplyDelete
  14. डर है मुझे
    फिर ना गिर जाये कहीं
    ठोकर खाकर.

    ठोकरें तो इन्सान को मिलती हैं ....लेकिन जो ठोकरों से हार जाता है वह इंसान ही क्या ? हार कर उठाना और एक मुकाम पाना ही जिन्दगी है .....!

    ReplyDelete
  15. यही जिद ही नये पंथ निर्माण करती है।

    ReplyDelete
  16. सों स्वीट!!
    गिरने दीजिए उस "नामुराद" को (मेरी तो जुबां से भी ना निकलता ये लफ्ज़, आपका ही है)..
    गिरते हैं शह सवार ही मैदाने जंग में... वैसे आपकी कविता से तो वो "तिफ्ल" (बच्चा) ही मालूम पडता है!!

    ReplyDelete
  17. बढ़िया ज़िद है ...बनी रहे ....शुभकामनायें...!!

    ReplyDelete
  18. गिरेगा और फिर उठेगा तभी तो चलना सीखेगा |

    ReplyDelete
  19. जिद्दी कहीं का. ....

    बहुत खूब...बहुत उम्दा रचना

    ReplyDelete
  20. शायद मेरा वजूद है.
    जो करता है हठ,
    -----------------
    फिर ना गिर जाये कहीं
    ठोकर खाकर.
    नामुराद
    जिद्दी कहीं का. ..
    सुंदर भावाभिव्यक्ति,आभार.

    ReplyDelete
  21. Beautifully expressed .Loved it .

    ReplyDelete
  22. गिरकर चलने की जिद ही तो हमें मंज़िल तक पहुंचाती है। आपकी इस बेहतरीन प्रस्तुति अर एक शे’र अर्ज़ है ...

    हो इरादों में हक़ीक़त,
    हौसलों में ज़लज़ला।
    आसमां झुककर तुम्हारे पांव तक आ जायेगा,
    देख लेना क़िनारा, नाव तक आ जायेगा।

    ReplyDelete
  23. पैंया पैंया और जिद्दी कहीं का -शब्द प्रयोग ने सौंदर्य वृद्धि कर दी.अति-सुंदर.

    ReplyDelete
  24. यह जिद ही है जो वजूद को बनाए रखती है, वरना दुनिया तो ज़ालिम है.

    ReplyDelete
  25. अस्तित्व (वज़ूद) बड़ा कोमल होता है। वह गिरता है या नहीं समझ में नहीं आया। लेकिन आपका जिद्दी वज़ूद अच्छा लगा। आभार।

    ReplyDelete
  26. जिद है तो ज़िंदगी है...
    वरना मुर्दादिल क्या ख़ाक जीते हैं...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  27. इक क्यूट सी कविता

    ReplyDelete
  28. गिरकर संभलेगा तो बिना डरे चलना सीख लेगा ...
    अपने वजूद के लिए अकेला चलना रिस्की मगर जरुरी भी !

    ReplyDelete
  29. यह ’ज़िद’ ही तो सारी ’जदें’ पार कराती है ।

    बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  30. बढ़िया कविता... बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  31. सूनसान सी पगडण्डी पर
    जो हौले हौले चलता है.
    शायद मेरा वजूद है.
    जो करता है हठ,
    चलने की पैंया पैंया
    बिना थामे
    उंगली किसी की.

    कोमल भावनाओं में रची-बसी खूबसूरत रचना के लिए आपको हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  32. Itna jididi hona bhi theek nhi,
    aao thoda sa falexble ho liya jaye!

    nice creation! small but deep thought!

    badhai !

    ReplyDelete
  33. नामुराद
    जिद्दी कहीं का.
    बेहतरीन..........!!
    वाह ... बहुत खूब कहा आपने ।

    ReplyDelete
  34. girte hain shay savaar hi maidane jang me chahe vo jiddi hi hon.bahut pyara likha hai Shikha.

    ReplyDelete
  35. कमाल, क्यूट...कुहू-कुहू सा करने लगा कलेजा मेरा...बधाई, असरदार रचना के लिए...!

    ReplyDelete
  36. Hmmmmmmmmmm, new way to gud thought

    ReplyDelete
  37. किसी की उंगली थामे बिना चलने की जिद सबका वजूद कहाँ करता है....

    बनी रहे यह जिद....भले राह में कितनी भी ठोकरें मिले...हिम्मत न टूटे कभी...

    ReplyDelete
  38. यही जिद तो आदमी को खास बनाती है ....

    ReplyDelete
  39. insan ki jidd hi to sab karvati hai..bahut khoob

    ReplyDelete
  40. नामुराद
    जिद्दी कहीं का

    बहुत खूब

    ReplyDelete
  41. नामुराद
    जिद्दी कहीं का
    ................कोमल भावों की सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  42. जिद्दी कौन है? :)

    ReplyDelete
  43. गिरते हैं शहसवार ही ,मैदाने जंग में .....
    ये ज़िद बहुत प्यारी लगी ...

    ReplyDelete
  44. जिद्दी बनाती रचना,बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  45. सच है इंसान जो होता है उससे बदल कर होना बहुत मुश्किल होता है ... वजूद सच में जिद्दी होता है ...

    ReplyDelete
  46. kabhi kabhi zidd achchi hoti hai !!

    Visiting after a long time as I was disconnected from web.

    ReplyDelete
  47. डर है मुझे
    फिर ना गिर जाये कहीं
    ठोकर खाकर.
    नामुराद
    जिद्दी कहीं का.

    ...यह जिद ही तो जिंदादिल भी बनती है कभी-कभी.
    _______________
    शब्द-शिखर / विश्व जनसंख्या दिवस : बेटियों की टूटती 'आस्था'

    ReplyDelete
  48. शिखा जी, आज दुबारा पढी कविता। मुझे लगता है कि यह आपकी श्रेष्‍ठटम रचनाओं में से एक है। एक एक शब्‍द गूंथा हुआ, स्‍वयं को सार्थक करता हुआ।

    ------
    TOP HINDI BLOGS !

    ReplyDelete
  49. शायद मेरा वजूद है.
    जो करता है हठ,
    चलने की पैंया पैंया
    बिना थामे
    उंगली किसी की.

    खूबसूरत रचना के लिए आपको हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  50. अस्वस्थता के कारण करीब 20 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    ReplyDelete
  51. जिद्दी कहीं का
    beautiful poem

    ReplyDelete
  52. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 14-07- 2011 को यहाँ भी है

    नयी पुरानी हल चल में आज- दर्द जब कागज़ पर उतर आएगा -

    ReplyDelete
  53. kya hua jo chalte-chalte lagi thokar.
    bharosa hain hame apne kadmo par.

    bahut accha likha aapne.

    ReplyDelete
  54. पय्याँ पय्याँ. अतीत में पहुंचा दिया आपने. बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *