Enter your keyword

Saturday, 2 July 2011

यू के क्षेत्रीय हिंदी सम्मलेन 2011


पिछले कुछ दिनों बहुत भागा दौड़ी में बीते .२४ जून से २६ जून तक बर्मिघम  के एस्टन यूनिवर्सिटी में कुछ स्थानीय संस्थाओं और भारतीय उच्चायोग के सहयोग से तीन दिवसीय "यू के विराट क्षेत्रीय हिंदी सम्मलेन २०११" था .और हमारे लिए आयोजकों से फरमान आ गया था कि आपको भी चलना है और वहाँ अपना पेपर  पढना भी है. अब क्या बोलना / पढना है वह तो हम पर छोड़ दिया गया परन्तु हमारे लिए जो सबसे बड़ी चुनौती थी, वो ४ दिन के लिए घर बार छोड़ कर जाने की थी.जैसे ही सुना घरवालों ने तो त्राहि - त्राहि सी मच गई .परन्तु उस सम्मलेन में बड़े बड़े गुणीजनों और बुद्धिजीवियों से मिलने का लोभ हम छोड़ नहीं पा रहे थे.फिर बात हिंदी की हो और बाइज्जत बुलाया जाये तो भला कैसे पीछे रहा जा सकता है. तो हमने ऐलान कर दिया कि जो भी हो हम तो जा रहे हैं. आप लोग काम चलाओ जैसे भी हो. और हम निकल पड़े.काफी बड़ा सम्मलेन था भारत से डॉ. पंचाल, डॉ. पालीवाल, रूस, इजराइल, डेनमार्क, आदि से विद्वान् और हिंदी के प्राध्यापक, केम्ब्रिज के प्रोफ़ेसर एश्वार्ज कुमार और बहुत से स्थानीय गुणीजन ,वरिष्ठ साहित्यकार और पत्रकार आये थे अपना अपना व्याख्यान देने. और इन सबके साथ हमें भी अपना व्याख्यान देना था. सो जी हमने भी वेबपत्रकारिता को बनाया मुद्दा और डंके की चोट पर कह दिया कि " वसुधैव कुटुम्बकम " के नारे को आज की तारीख  में कोई चरितार्थ करता है, तो वो है वेब पत्रकारिता.



वैसे वहां जो भी बोल रहा था डंके की चोट पर ही बोल रहा था.किसी ने कहा कि देवनागरी लिपि सर्वोत्तम लिपि है. तो कोई कह रहा था कि हिंदी की दुर्दशा के लिए मैकाले साहब जिम्मेदार हैं .कोई हिंदी शिक्षण के परंपरागत तरीके को ही  सही ठहरा रहा था. तो कोई ठोक ठोक कर कह रहा था कि नया ,आधुनिक और तकनिकी तरीका अपनाना चाहिए.
खैर कहा जो भी गया हो .एक बात जो साफ़ साफ़ निकल कर सामने आई वह यह कि, कौन कहता है कि युवा वर्ग हिंदी नहीं सीखना चाहता.?हो सकता है भारत में ऐसा हो, क्योंकि वह तो इंडिया बन चुका है.और भारत से आये कुछ युवा प्रतिभागी ये कहते भी पाए गए कि भाई आपलोग कुछ ज्यादा ही भारतीय हो. हम तो यहाँ आपके साथ निभा ही नहीं पा रहे हैं.परन्तु यू के भारतीय युवाओं में पूरा जोश देखा गया वे हिंदी बोलना, लिखना,पढना तो क्या हिंदी में सोचना भी चाहते हैं और उन्होंने सम्मलेन में भी बढ़- चढ़ कर हिस्सा लिया. हाँ इतना जरुर था कि पाठ्यक्रम और शिक्षण प्रणाली वे कुछ यहाँ के परिवेश के अनुकूल चाहते हैं. इसलिए सम्मलेन के आखिरी दिन उनकी और सभी प्रतिभागियों की सभी बातों पर गौर करके सम्मलेन में सर्व सम्मति से एक प्रस्ताव भी पारित किया गया जिसपर ध्यान देने का और क्रियान्वित करने का भारत से आईं विदेश मंत्रालय की "डिप्टी सेकेट्री  हिंदी" ने पूरा पूरा आश्वासन भी दिया.
वैसे जैसा कि आमतौर पर होता है, यहाँ भी मीडिया की अच्छी खबर ली गई. जैसे- भाषा इतनी अशुद्ध क्यों है, ख़बरों को किस तरह परोसा ( थोपा ) जाता है, रिपोर्टरों का स्तर क्या है. आदि आदि जिनके जबाब भी मीडिया वालों ने अपने ही तरह से ही दिए.

कहने का मतलब यह कि सम्मलेन काफी सफल और सार्थक रहा उस पर रोज शाम को सत्रों के अंत में सांस्कृतिक कार्यक्रम और मन भर कर गप्पें. नतीजा यह कि २७ तारीख तक दिमाग कहाँ है और उसके ऊपर की खोपड़ी कहाँ पता नहीं चल रहा था.उसपर उसी दिन शाम को लन्दन में कथा यू के- के सम्मान समारोह में भी जाना था जहाँ विकास झा को उनके उपन्यास मेक्लुसकी गंज के लिए सम्मानित किया जाना था. पर भला हो अन्ताक्षरी बनाने वाले का और सफ़र में उसे खेलने की परम्परा चलाने वाले का .बर्मिंघम से लन्दन तक का सफ़र एक साथ एक कोच में अन्ताक्षरी खेलते कैसे बीता और दिमाग की सभी बत्तियां कैसे अपने ठिकाने आईं पता ही नहीं चला फिर हम सीधे वहीँ से चले गए हाउस ऑफ़ कॉमंस कथा यू के-के सम्मान समारोह में और उसके बाद रात्रि भोज. फिर रात के १२ बजे पहुंचे घर.जिसके बाद शुरू करने थे सारे पेंडिंग काम और फिर २ दिन बाद होने वाले वातायन सम्मान की तैयारियां जिसका ब्यौरा आपको अगली पोस्ट में देंगे .फिलहाल आप हमारी इस चार दिवसीय यात्रा की तस्वीरें देखिये.
कोच और हम सब.



-- 

56 comments:

  1. हमारे लिए तो आपही वातायन का काम करती हैं.. पूरब और पच्छिम के मध्य... अच्छे लगी रिपोर्ट.. लेकिन आपने वादा किया था कि जो पेपर आपने पढ़ा था वो भी हमारे साथ शेयर करेंगी.. तो प्रतीक्षा रहेगी उसकी!!
    तस्वीरें कुछ कम थीं.. उनके लिहाज़ से जिन्होंने एफबी पर ना देखी हों!!

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया लगी आपकी रिपोर्ट, पर तस्वीरें कुछ कम हैं,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. बहुत ही संक्षिप्‍त रही जानकारी। उम्‍मीद है कि आगे विस्‍तार पा लेगी। पेपर के लिए आपको बधाई।

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया जानकारी।

    ReplyDelete
  5. @All!जी रिपोर्ट थोड़ी छोटी है.परन्तु एक ऑफिशियल रिपोर्ट मैंने जो लिखी है वो ६ पेज की है.उसे यहाँ पोस्ट करती तो कोई नहीं पढता शायद. इसलिए संक्षेप में यहाँ लिख दिया.तस्वीरें भी बहुत हैं कोशिश करती हूँ और डालने की.
    @ सलिल जी !जो पर्चे में लिखा था वो पढ़ा और जाने कहाँ रख दिया.सिस्टम में ढूंढती हूँ मिल गया तो जरुर शेअर करुँगी.

    ReplyDelete
  6. हिन्दी को लेकर बराबर की आग वहाँ भी लगी है।

    ReplyDelete
  7. बधाई ! प्रतिभाग के लिए और इस रिपोर्ट के लिए ....

    ReplyDelete
  8. Shikha aapki post bahut achchi lagi aap hindi ke kshetra me kaafi sarahniye kaam kar rahi hain.ye uplabdhiyan hi jeevan me aage badhne ka honsla deti hain.very nice god bless you.

    ReplyDelete
  9. अच्छी लगी यह रपट भी ! शुभकामनायें आपको शिखा !!

    ReplyDelete
  10. अच्छी लगी यह रपट भी ! शुभकामनायें आपको शिखा !!

    ReplyDelete
  11. विलायत में हिंदी की चाँदी कट रही है . और इंडिया में लोर्ड मैकाले की मानस पुत्री की . सुखद होता है आपकी हिंदी प्रेम को महसूस कर और हिंदी को महफूज हाथो में देखकर. रिपोर्ट पढ़कर लगा की हिंदी अपने पर फैला रही है व्योम के उस पार भी . फोटो तो चौचक है . और है तो लगाई दीजिये .

    ReplyDelete
  12. हिंदी का विलायत में झंडा बलंद करने के लिए आपको सैल्यूट...

    सम्मलेन में सर्व सम्मति से एक प्रस्ताव भी पारित किया गया जिसपर ध्यान देने का और क्रियान्वित करने का भारत से आईं विदेश मंत्रालय की "डिप्टी सचिव हिंदी" ने पूरा पूरा आश्वासन भी दिया...वैसे जैसा कि आमतौर पर होता है, यहाँ भी मीडिया की अच्छी खबर ली गई. जैसे- भाषा इतनी अशुद्ध क्यों है...

    ख़बर लेनी भी चाहिए....लेकिन विदेश मंत्रालय की "डिप्टी सचिव हिंदी" भी या तो "उप सचिव हिंदी" होनी चाहिए थीं या फिर "डिप्टी सेक्रेट्री हिंदी"...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  13. बहुत शुक्रिया खुशदीप जी ! कर दिया है ठीक.
    आभारी हूँ ध्यान दिलाने का :)

    ReplyDelete
  14. आप जैसे लोग सद्प्रयास करते रहेंगे तो हिन्दी का परचम लहराएगा ही।

    रिपोर्ट संक्षिप्त किन्तु सारगर्भित रही।

    तस्वीरें भी अच्छी लगी।

    ReplyDelete
  15. हिंदी के विकास का प्रयास यहाँ भी जारी है ।
    लेकिन युवा पीढ़ी कितना ग्रहण करेगी , कहना मुश्किल है ।

    फ़िलहाल ऐसे प्रोग्राम तो होते रहने ही चाहिए ।
    बढ़िया रिपोर्ट ।

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छा लगता है जब कहीं भी यह जानने को मिलता है की हिंदी अपनी छाप छोड़ रही है ...

    इस कॉन्फ्रेंस में जाने की बधाई .. रिपोर्ट बहुत सटीक लिखी है ..आगे का इंतज़ार है ..

    ReplyDelete
  17. shikha ji aap ka kaam bahut hi achchha hai .aap ke madhyam se hum bhi sab jan lete hain.
    dhnyavad kahun to chota hai
    pr bahut bahutu dhnyavad kahun to shayad theek rahe
    rachana

    ReplyDelete
  18. कौन कहता है कि युवा वर्ग हिंदी नहीं सीखना चाहता.?हो सकता है भारत में ऐसा हो, क्योंकि वो तो इंडिया बन चुका है.और भारत से आये कुछ युवा प्रतिभागी ये कहते भी पाए गए कि भाई आपलोग कुछ ज्यादा ही भारतीय हो. हम तो यहाँ आपके साथ निभा ही नहीं पा रहे हैं
    SHIKHA JI,aap jo samajh pa rahee hain, kash vah bharat men rahne wale log bhee samajh pate.uprokt panktiyan khara sach bayan kar rahee hain.hamaabhari hain hindi aur hindustan ke prati aapake samarpan bhav ke.

    ReplyDelete
  19. आपके लेख के माध्यम से सुन्दर जानकारी मिली.
    हिन्दी उत्थान को प्राप्त हो,यही अभिलाषा है.
    मेरे ब्लॉग पर आये हुए आपको भी बहुत दिन हो गएँ है.समय मिले तो दर्शन दीजियेगा.

    ReplyDelete
  20. आपके लेख के माध्यम से सुन्दर जानकारी मिली.
    हिन्दी उत्थान को प्राप्त हो,यही अभिलाषा है.
    मेरे ब्लॉग पर आये हुए आपको भी बहुत दिन हो गएँ है.समय मिले तो दर्शन दीजियेगा.

    ReplyDelete
  21. @@" वसुधैव कुटुम्बकम " के नारे को आज की तारीख में कोई चरितार्थ करता है, तो वो है वेब पत्रकारिता...
    सही कह रही है.अच्छी लगी पोस्ट,आभार.

    ReplyDelete
  22. Jaankaaree sankshipt sahee lekin padhke maza to aahee gaya!

    ReplyDelete
  23. सुंदर संक्षिप्त रिपोर्ट ...अच्छी जानकारी दी आपने

    ReplyDelete
  24. बढ़िया रपट...आभार....

    ReplyDelete
  25. "हिंदी हैं हम वतन है हिन्दोस्तां हमारा"
    वेब पत्रकारिता ने भी हिंदी भाषा के नए आयाम सामने लाये हैं ..हमारे विचारों के आदान प्रदान का सशक्त माध्यम हमारे सामने रखा है ....और बिना किसी अवरोध के यह निरंतर प्रगति कर रही है ...आपका आभार

    ReplyDelete
  26. अलख जगाए रखिए। जय हिन्द।

    ReplyDelete
  27. हिन्दी का झंडा बुलंद बनाये रखने के लिये बधाई , अच्छी रिपोर्ट ।

    ReplyDelete
  28. जय हिन्दी!
    जय नागरी!
    रपट हम तक पहुँचाने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  29. जय हिन्दी जय जय !

    हिन्दी का झण्डा बुलंद रखिये।

    ReplyDelete
  30. bahut badhaai , kamyaabi yun hin hamare bich bolti rahe

    ReplyDelete
  31. बहुत बढ़िया लगी आपकी रिपोर्ट....

    ReplyDelete
  32. हिन्दी प्रचार प्रसार के प्रयास की संक्षिप्त रिपोर्ट बढ़िया लगी..

    ReplyDelete
  33. बढ़िया रिपोर्ट

    ReplyDelete
  34. बहुत-बहुत बधाई शिखा जी !

    सात समंदर पार भी आप यूँ ही हिंदी का परचम लहराती रहें.....

    संस्मरण बड़ा अच्छा लगा........चित्र ने चार चाँद लगा दिया |

    ReplyDelete
  35. आपकी छोटी सी रिपोर्ट ही विस्तृत रूप में हम सबके सामने आयी है।धन्यवाद।

    ReplyDelete
  36. अच्छी रिपोर्ट

    ReplyDelete
  37. चचा जी का लाइन ले रहा हूँ - " लेकिन आपने वादा किया था कि जो पेपर आपने पढ़ा था वो भी हमारे साथ शेयर करेंगी.. तो प्रतीक्षा रहेगी उसकी!!" :)

    फोटो तो देख ही लिया था, रिपोर्ट भी अच्छी लगी..लेकिन काफी छोटी..मुझे लगा था की आप बड़ी रिपोर्ट पोस्ट कीजियेगा..

    ReplyDelete
  38. आपको हार्दिक बधाईयाँ. जल्दबाजी में पोस्त लिखी है शायद.कृपया विस्तारपूर्वक लिखें.

    ReplyDelete
  39. यहाँ आई टिप्पणियों से मुझे एहसास हो रहा है कि शायद विस्तृत रिपोर्ट ही मुझे देनी चाहिए थी. खैर अब भी देर नहीं हुई आज ही मुझे भारत में प्रकाशित इस आयोजन की एक रिपोर्ट ओंकारेश्वर पाण्डेय जी (Managing Editor
    The Sunday Indian (Hindi & Bhojpuri)
    ने मुझे भेजी है.आपमें से जो भी इसे विस्तृत रूप से पढ़ने के इच्छुक हैं कृपया यहाँ अपना मेल आई डी छोड़ दें मैं उन्हें वह रिपोर्ट भेज दूंगी.

    ReplyDelete
  40. ऐसे कार्यक्रम और हलचल होती रहनी चाहिये। हिन्दी-उर्दू संसार की सबसे बडी भाषाओं में से एक होते हुए भी अब तक संयुक्त राष्ट्र आदि में अपना ड्यू गौरव नहीं पा सकी है। आजकल मेरिका में चीनी भाषा सीखने के प्रति जितना आग्रह दिखता है उसका शतांश भी हिन्दी सीखने के प्रति नहीं है। तो भी ब्रिटेन में इतना काम हो रहा है यह जानकर अच्छा लगा और उसमें भी आपकी भागीदारी के बारे में पढकर और भी खुशी हुई। शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  41. हिंदी को लेकर यह चेतना एक अच्‍छा संकेत है। अवगत कराने का आभार।

    ------
    तांत्रिक शल्‍य चिकित्‍सा!
    …ये ब्‍लॉगिंग की ताकत है...।

    ReplyDelete
  42. हम तो मानते ही है कि कुछ वर्षों में हिदी सिखाने का कार्य विदेशी धरती पर रह रहे भारतीय ही करेंगे ...
    अच्छी रिपोर्ट !

    ReplyDelete
  43. अच्छी लगी आपकी ये रिपोर्ट ... आपकी पोस्ट से लगता है प्रोग्राम गरमा गरम रहा ...

    ReplyDelete
  44. शिखा बहुत अच्छी रिपोर्ट भेजी है. इससे पता चल रहा है की हम अपने ही देश में हिंदी को जितनी निकृष्ट दृष्टि से लोगों को देखते हुए पाते हैं उतना विदेशों में नहीं है और वहाँ पर तुम्हारी हर प्रस्तुति इसकी एक मजबूती ही दे रही है ऐसा मैं मानतीहूँ.

    ReplyDelete
  45. बहुत बहुत बधाई शिखा जी ....
    इस सम्मलेन में आपको जाना भी चाहिए था ...
    भाग्यशाली हैं आप .....
    तसवीरें बहुत अच्छी हैं ....

    ReplyDelete
  46. kaamyab logo ka report padhna achchha lagta hai:)

    ReplyDelete
  47. फोटो सहित बहुत बढ़िया विस्तृत जानकारी दी है . अच्छा लगा कार्यक्रम के बारे में जानकर ... आभार

    ReplyDelete
  48. "यू के विराट क्षेत्रीय हिंदी सम्मलेन २०११" ...रोचक विवरण...
    आप बहुत शानदार और प्यारी-सी लग रही हैं...

    ReplyDelete
  49. Bahut achcha laga hindi sammelan aur ... sabke vichar ko jankar.

    ap bhi aiyen.....hamara hausla badhayen.

    Abhar

    ReplyDelete
  50. बहुत अच्छा लगता है जब विदेशी धरती पर इस तरह की सेमिनार की रिपोर्ट पढने को मिलती है |
    आपका अत्यंत आभार |

    ReplyDelete
  51. बस बधाई,बधाई और बधाई आपको ।

    ReplyDelete
  52. चित्रमयी रपट बहुत बढिया रही……………बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाये इसी प्रकार हिन्दी और देश का झण्डा बुलन्द करती रहना।

    ReplyDelete
  53. यू के क्षेत्रीय हिंदी सम्मलेन के बारे में
    आपकी लिखी हुई रिपोर्ट पढ़ कर बहुत आनंद मिला
    ख़ास तौर पर जब आपने वहाँ के यूथ के बारे में लिखा
    कि "वे हिंदी बोलना, लिखना,पढना तो क्या
    हिंदी में सोचना भी चाहते हैं..."
    और हाँ
    इस सम्मलेन की विस्तृत जानकारी और स्मारिका
    यहाँ लुधियाना में डॉ ज्ञान सिंह मान जी
    ( जो वहाँ मुख्य वक्ताओं में ही थे ) के यहाँ
    पहले देख/पढ़ ली थी जिसमे आप भी थीं !!
    बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *