Enter your keyword

Monday, 20 June 2011

उड़ान

मनोज जी ने अपने ब्लॉग पर प्रवासी पंछियों पर एक श्रंखला शुरू की है. जो मुझे बेहद पसंद है .क्योंकि उसमें मुझे अपने बचपन के बहुत से सवालों के जबाब मिल जाते हैं.ये कुछ पंक्तियाँ उन्हीं आलेखों से प्रेरित हैं.
कहते हैं उड़ान परों से नहीं
हौसलों से होती है
पर क्या हौसला ही काफी है.
हौसले के साथ तो 
उड़ता है बादल भी
पर कहलाता है आवारा.
यूँ तो उड़ता है पत्ता भी
पर निर्भर होता है
 
 हवा के रुख पर.
उड़ान हो तो ऐसी
जैसे उड़ते हैं पंछी
संतुलित करके परों को
सोच कर मंजिल को
पहचान कर सही दिशा को
उड़ो  तुम भी,
बेशक "पर" हौंसलों के हों
पर ध्यान रहे
गंतव्य तक पहुँचने के लिए
सही दिशा का भान होना
बेहद जरुरी है

65 comments:

  1. बेशक "पर" हौंसलों के हों
    पर ध्यान रहे
    गंतत्व तक पहुँचने के लिए
    सही दिशा का भान होना
    बेहद जरुरी है

    वाह शिखा जी .. बहुत बढिया !!

    ReplyDelete
  2. एक सकरात्‍मक कविता। दिशा निर्धारित नहीं होने पर पहुंच गए चीन वाली बात हो जाती है। इतना आनन्‍द देने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  3. गंतव्य तक पहुँचने के लिए
    सही दिशा का भान होना
    बेहद जरुरी है
    ....bahut sundar...saarthak...aabhaar.

    ReplyDelete
  4. सारांश यह कि पक्षियों का जीवन विविधताओं भरा अत्यंत ही रोचक होता है।
    इनकी उड़ान में बड़ी-बड़ी बाधाएं भी पार कर लेने का जज़्बा होता है। ये हमारे लिए प्रेरणा के स्रोत होते हैं। आपने कमाल की पंक्तियां लिखी है,
    पर ध्यान रहे
    गंतव्य तक पहुँचने के लिए
    सही दिशा का भान होना
    बेहद जरुरी है

    सही कहा है सिर्फ़ हौसला से काम नहीं चलेगा।

    ReplyDelete
  5. तुम्हारी यही खूबी है कि कहीं से भी प्रेरणा ले कर ज़िंदगी के कथ्य को कह देती हो … एक कविता बुर्के में महिला को देख लिखी थी और आज पक्षियों के बारे में पढते हुए … हौसले के साथ सही दिशा का भान हो तो मंजिल पर सही वक्त में पहुंचा जा सकता है ..नहीं तो भटकने का डर रहता है .. बहुत सुन्दर और प्रेरणादायक रचना ..

    ReplyDelete
  6. बेशक "पर" हौंसलों के हों
    पर ध्यान रहे
    गंतव्य तक पहुँचने के लिए
    सही दिशा का भान होना
    बेहद जरुरी है
    shi kaha hai bahut sunder
    rachana

    ReplyDelete
  7. ज़िन्दगी के टेढ़े-मेढ़े रास्तों से
    अवगत करवाने का सफल प्रयास
    बहुत अच्छी संदेशात्मक रचना !

    ReplyDelete
  8. उड़ो तुम भी,
    बेशक "पर" हौंसलों के हों
    पर ध्यान रहे
    गंतव्य तक पहुँचने के लिए
    सही दिशा का भान होना
    बेहद जरुरी है

    वाह, बहुत सुन्दर सीख देती कविता |

    ReplyDelete
  9. अरे वह! बहुत ही इन्स्पाईरिटिव पोएम है... ग़ज़ब का हौसला डिस्क्रिप्शन है... मैं ऐसे थोड़े ही न कहता हूँ... कि खूबसूरत लोग हो खूबसूरत लिख सकते हैं... खूबसूरती ही अपने आप में इन्स्पाईरिटिव है... तो आप तो खूबसूरत लिखेंगीं ही... ऐज़ युज़ुअल...

    ReplyDelete
  10. हौसले को अगर सही दिशा दिया जाय तो मंजिले मक़सूद उम्मीद से पहले हासिल हो सकती है . पक्षियों से प्रेरणा लेकर जीवन की राह पर हौसलों को सही दिशा दिखाती शिखा कृति . आभार

    ReplyDelete
  11. उड़ने के माहिर यह सहज बोध जन्म से लिए होते हैं -बस इक हौसला देने वाला चाहिए ...
    अच्छी कवि

    ReplyDelete
  12. पक्षी किसी आदत के गुलाम नहीं होते ....
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  13. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 21 - 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच-- 51 ..चर्चा मंच

    ReplyDelete
  14. मैं तो विज्ञान का विद्यार्थी हूँ.. कह सकता हूँ कि एक मामूली सा पथ भटकाव किसी को वास्तविक पथ से कितनी दूर ले जा सकता है... आपने तो पंछियों के माध्यम से जीवन दर्शन प्रस्तुत कर दिया है... एक निश्चित पथ पर चलते हुए वे पंछी सरहदों पार चले जाते हैं, जबकि हमें वीसा लगता है, क्योंकि सरहदें हमने ही बनायी हैं!! शिखा जी बहुत सुन्दर कविता!!

    ReplyDelete
  15. इतनी सच्ची कविता ... हर नज़रिए से सकारात्मक

    ReplyDelete
  16. वाह, वास्तव में दिशा ही तो दशा तय करती है..

    ReplyDelete
  17. शिखा बहुत बढ़िया बात कही, हौसलों के पर होते हैं और वे कभी दिशाहीन नहीं होते. उन्हें गंतव्य दिखता है बस अपने हौसलों से उड़ान भर कर उसे पा ही लेने को आतुर होते हैं.

    ReplyDelete
  18. उड़ान के लिए बस पागलपन चाहिए... और कुछ भी नहीं.

    ReplyDelete
  19. नहीं मार्ग बंद हैं,
    हौंसले बुलंद हैं।

    ReplyDelete
  20. पर ध्यान रहे
    गंतव्य तक पहुँचने के लिए
    सही दिशा का भान होना
    बेहद जरुरी है

    Khoob likha aapne..... Sunder panktiyan

    ReplyDelete
  21. मन की उडान का भावपूर्ण मार्गदर्शन ...!!
    बहुत सुंदर कविता..!!

    ReplyDelete
  22. बहुत बढ़िया!
    उड़ान तो सभी को बहुत अच्छी लगती है!
    यदि उन्मुक्त उड़ान हो तो कहने ही क्या हैं!

    ReplyDelete
  23. पंक्षी क्या ये बात तो सभी पर लागु होती है कि

    बेशक "पर" हौंसलों के हों
    पर ध्यान रहे
    गंतव्य तक पहुँचने के लिए
    सही दिशा का भान होना
    बेहद जरुरी है |

    सही दिशा में किया गया कम हौसला ही हमें मंजिल तक पहुंचता है |

    ReplyDelete
  24. शिक्षाप्रद प्रेरणादायी रचना

    ReplyDelete
  25. बहुत खूब शिखा जी.
    जबरदस्त .
    one of your best.hats off.

    ReplyDelete
  26. मन की उडान का भावपूर्ण मार्गदर्शन|

    ReplyDelete
  27. हौसलों पर ही दुनिया जहान कायम है।

    सुंदर भाव

    ReplyDelete
  28. sahi kha ..hosla beshak ho ..par sahi disha ka gyan hona bhi jaruri hai..

    ReplyDelete
  29. Really a meaningful creation. I appreciate your love for Hindi language

    ReplyDelete
  30. एक सकारात्मक सोच वाली कविता,
    आभार- विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  31. बहुत उम्दा रचना....वाह!!!

    ReplyDelete
  32. sahi likha hai....sangeeta ji se ittefaaq rakhta huun.. :)

    ReplyDelete
  33. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  34. A beautiful poem, inspiring and guiding correctly.

    ReplyDelete
  35. उड़ो तुम भी,
    बेशक "पर" हौंसलों के हों
    पर ध्यान रहे
    गंतव्य तक पहुँचने के लिए
    सही दिशा का भान होना
    बेहद जरुरी है
    सार्थक व गतिशीलता ,रचनाकार का निहितार्थ होता है , जो दृष्टिगोचर है ... खुबसूरत शिल्प बधाई /

    ReplyDelete
  36. bahut sundar rachana,is rachana ke liye meri taraf se do panktiyan-

    hausale hain to mumkin hai har ek manzil ko paa lena.
    hausale gar naheen parwaaz bhee phir ud naheen sakata.

    S.N.Shukla

    ReplyDelete
  37. हौसलों की उड़ान को सही दिशा की आवशयकता है ,
    मगर कई बार तेज आंधियां दिशा बदल देती हैं ...
    प्रेरक कविता !

    ReplyDelete
  38. उड़ो तुम भी,
    बेशक "पर" हौंसलों के हों
    पर ध्यान रहे
    गंतव्य तक पहुँचने के लिए
    सही दिशा का भान होना
    बेहद जरुरी है bahut gaharai liye hue shaandaar rachanaa.badhaai aapko.


    please visit my blog.thanks

    ReplyDelete
  39. बेशक "पर" हौंसलों के हों
    पर ध्यान रहे
    गंतव्य तक पहुँचने के लिए
    सही दिशा का भान होना
    बेहद जरुरी है
    बहुत अच्छा सन्देश दिया रचना के माध्यम से। बधाई।

    ReplyDelete
  40. उड़ो तुम भी,
    बेशक "पर" हौंसलों के हों
    पर ध्यान रहे
    गंतव्य तक पहुँचने के लिए
    सही दिशा का भान होना
    बेहद जरुरी है

    सुन्दर संदेश देती बेहतरीन रचना।

    ReplyDelete
  41. बबुत खूब .. इस रचना ने मेरा दिल भी हल्का कर दिया ... कई बार पलायनवादी का ताना मिलता है प्रवासियों को ... पर इस ताराह से संतुकित उड़ान हर किसी के बस की बात नहीं होती ... लाजवाब रचना ...

    ReplyDelete
  42. भावपूर्ण प्रेरक रचना...
    हौसले के पर हों पर साथ में सही दिशा का भान हो तो उड़ान सार्थक होती है |

    ReplyDelete
  43. अच्छी और सच्ची रचना।

    ReplyDelete
  44. barish me saare pakshhi pero me chhip jate hain.......
    ek baaj hota hai jo udd kar badlo se upar pahuch jata hai......:)

    to uddo aise ki wahan pahucho...jo safalata ka ek paimana ban jaye:)

    bahut shandaar prastuti!!

    ReplyDelete
  45. bahut sundar... aur aik darshan bhi chhupa hai isme .. Gantavy tak pahuchne ke liye disha ka bhaan hona chahiye . .. bahut khoob ..

    ReplyDelete
  46. वाकई बहुत ही अच्छी रचना

    ReplyDelete
  47. उड़ो तुम भी,
    बेशक "पर" हौंसलों के हों
    पर ध्यान रहे
    गंतव्य तक पहुँचने के लिए
    सही दिशा का भान होना
    बेहद जरुरी है
    वाह .. बहुत ही अच्‍छी रचना ..।

    ReplyDelete
  48. दिशाहीन यात्रा निरर्थक है | सही कहा आपने उड़ने के लिए हौसले की जरुरत है |

    ReplyDelete
  49. bilkul sahi kaha shikha di...aajkal nayi hawa chali hui hai..optimism to zaruri hai jine k liye....lekin over-optimism utna hi khatarnaak aur reality se door karne wala ho jata hai...log inke difference ko nahin samajh paate...aur ek hypothesis mein jine lagte hain..fir avsaad k shikaar hote hain..aur sabse badi baat ye k unhe apni is haalat k kaaran samajh hi nahin aa pata..

    ek realistic kathya kaha h aapne is rachanaa mein.. :):)

    ReplyDelete
  50. बेशक "पर" हौंसलों के हों
    पर ध्यान रहे
    गंतव्य तक पहुँचने के लिए
    सही दिशा का भान होना
    बेहद जरुरी है

    bilkul sahee.....

    kisi ne kaha bhi hai "disha heen daud ka koi mahatw nahi hai"...

    ReplyDelete
  51. गंतव्य तक पहुँचने के लिए
    सही दिशा का भान होना
    बेहद जरुरी है

    ज़रूरी बात ।
    प्रवासी भारतियों के लिए सुखद ।

    ReplyDelete
  52. हौसले के साथ तो
    उड़ता है बादल भी
    पर कहलाता है आवारा.
    यूँ तो उड़ता है पत्ता भी
    पर निर्भर होता है
    हवा के रुख पर.

    .....पर उडान को नियंत्रित रखते हैं. अनियंत्रित उडान किसी मंजिल तक नहीं ले जाती. सफलता के लिए दिल और दिमाग के बीच संतुलन जरूरी होता है. काफी व्यावहारिक सोच को आपने अपनी कविता में उतरा है....बधाई!

    ReplyDelete
  53. target should always be a "vector" quantity..

    nice thought..

    ReplyDelete
  54. बहुत अच्छी पोस्ट...
    अपना एक शेर याद दिला दिया-
    सफ़र ये आसमानों का बहुत दुश्वार है लेकिन
    हमारे हौसले पर बनके खुद परवाज़ करते हैं.

    ReplyDelete
  55. शिखा जी.............अच्छा लिखा है आपने...उड़ान के साथ सही दिशा का भान बहुत आवश्यक है ...
    उड़ती तो पतंग भी है ...पर डोर हमेशा दूसरे के हाथ ...

    ReplyDelete
  56. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल २३-६ २०११ को यहाँ भी है

    आज की नयी पुरानी हल चल - चिट्ठाकारों के लिए गीता सार

    ReplyDelete
  57. सत्य...एकदम सत्य कहा आपने...

    हुनर केवल उड़ने का होना काफी नहीं..ज्ञान दिशा और लक्ष्य का भी होना चाहिए...

    ReplyDelete
  58. बहुत सुन्दर...ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति...सच सिर्फ हौसले ही काफी नहीं जरुरी है गंतव्य की सही राह का पता होना भी....

    ReplyDelete
  59. सही कहा आपने, उडाने के लिए परों के साथ साथ सही दिशा का ज्ञान भी जरूरी है।
    ---------
    रहस्‍यम आग...
    ब्‍लॉग-मैन पाबला जी...

    ReplyDelete
  60. अच्छी संदेश भरी कविता। आभार।

    ReplyDelete
  61. @बेशक "पर" हौंसलों के हों
    पर ध्यान रहे ...

    बहुत बढिया!

    ReplyDelete
  62. शिखा जी नम्स्कार्। बहुत बढिया कविता की शब्दाव्ली है -बेशक "पर" हौंसलों के हों
    पर ध्यान रहे
    गंतव्य तक पहुँचने के लिए
    सही दिशा का भान होना
    बेहद जरुरी है।

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *