Enter your keyword

Friday, 4 March 2011

बस एक "लौ"


कभी कभी तो लगता है कि हम लन्दन में नहीं भटिंडा में रहते हैं (भटिंडा वासी माफ करें ) वो क्या है कि हम घर बदल रहे हैं और हमारी इंटर नेट प्रोवाइडर कंपनी का कहना है कि उसे शिफ्ट  होने में १५ दिन लगेंगे .तो जी १८ मार्च तक हमारे पास नेट की सुविधा नहीं होगी.और हमारा काला बेरी भी देवनागरी नहीं दिखाता  ..भगवान  जाने कैसे जियेंगे हम (.पर आप लोगों को इसलिए बता दिया कि इतने दिन हमारी अनुपस्थिति  से आप लोग खुशियाँ न मानना शुरू कर दें.कि चलो जान छूटी)तो तब तक आप सभी लोग हमें माफ कीजियेगा.और यह अकविता झेलिये..


मेरे घर की खिड़की से नजर आता था 
एक ऊंचा  ,घना, हरा भरा पेड़ 
रोज ताका करती थी उसे 
अपनी सूनी सूनी आँखों से 
और तैर जाते थे सपने 
उसकी  शाख पर 
अपना भी एक ट्री हाउस बनाने के 
फिर एक दिन अपने ही आँगन से 
कुछ गीली सूखी लकड़ियाँ इकठ्ठा करके  
एक सीढ़ी बना ली मैंने 
और एक एक पाँव  जमाकर 
शुरू किया चढ़ना 
कुछ ही समय में उसकी शाख पर 
बना लिया अपना एक आशियाना 
और रौशनी के लिए जला लिया एक दिया भी 
लगा ये तो आसान ही था 
बस एक चाह की थी जरुरत 
परन्तु अब मुश्किल था 
आने वाले आंधी ,तूफ़ान से बचा पाना उसे 
बचा पाना उन समाज के ठेकेदारों से 
जो काट डालने तो आतुर थे उस पेड को ही 
जिस पर बड़ी मेहनत से बनाई थी 
अपने लिए एक जगह मैंने....
ना बचा पाऊं शायद ये पेड़, ये आशियाना
हाँ अपने दोनों हाथों की  कोठरी बना ली  है 

कम से कम उस दिए की "लौ " तो ना बुझने पाए-

79 comments:

  1. kya bat he
    aapko net suvidha uplabhd nhi hogi , itne din, chalo , bechare net ko kuch to rahat milegi,

    kavita bahut hi bhavpurn ban padi he

    ReplyDelete
  2. हाँ अपने दोनों हाथों की कोठरी बना ली है
    कम से कम उस दिए की "लौ " तो ना बुझने पाए--

    वाह क्या बात है………बस यही काफ़ी है रोशनी के लिये……………यार काला बेरी पढकर कन्फ़्युजिया गये थे फिर अकल के घोडो को दौड पर छोड दिया तो उसका अर्थ ढूँढ कर लाये………बढिया है अच्छे से शिफ़्ट हो जाओ फिर आ रहे है हम सब होली खेलने नये घर मे…………………।

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत ....उम्मीद का दिया और लौ की उर्जा प्रदान करने वाली रचना..आशियाना कहीं भी हो उम्मीद की लौ जलती रहनी चाहिए ...बेहद भावपूर्ण रचना ...

    ReplyDelete
  4. यह आपका काला बेरी सच में बैरी निकला ! नोकिया का कोई सेट ले लीजिये जो हिंदी सपोर्ट करता हो ... वैसे देव बाबु ( देव कुमार झा ) ने अपने काले बेरी में हिंदी डाली है ... शायद वो आपकी कुछ मदद कर सकें !


    "जिन चरागों को हवाओ का कोई खौफ नहीं ... उन चरागों को हवाओ से बचाया जाए ... अपना गम ले कर कहीं और न जाया जाए !"

    ReplyDelete
  5. भाव प्रवणता को जिस कुशलता से आप कलमबद्ध कर लेती हो ऐसा लगता है जैसे भावना आपकी चेरी हो . हाथो की कोठरी में मानवता की लौ जलाये रखने को कृतसंकल्प रहें . सुन्दर परिकल्पना और रचना .

    ReplyDelete
  6. ह्म्म्म… तो आशियाना बदल रहा है… कोइ गल्ल नहीं दी…। नये साल की होली नये आशियाने में… :)

    जानता हूँ दी ! कहना आसान है… झेलना मुश्किल, पर नियति जहाँ ले जाये। वैसे आपकी "अकविता" बड़ी कवितामय बन पड़ी है और सम्वेदनाओं से परिपूर्ण।

    ReplyDelete
  7. इस काले की नाकामी से तो हम भी परेशान हैं ।

    हाथों की कोठरी बनाये रखना
    दीये की लौ को जलाये रखना ।
    आंधी तूफ़ान सब गुजर जायेंगे
    बस ये आशियाना बचाए रखना ।

    शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  8. बड़ी मुश्किल से तो लोगों को खुश होने के मौके मिले थे ..लेकिन आपने तो दुबारा प्रकट होने की भविष्यवाणी करके कई की नीद ही ख़राब कर दी....ही ही ही
    लो ना बुझने पाए....शानदार कविता...

    ReplyDelete
  9. चलो, १७ तारीख तक ही सही...कुछ तो राहत की बात की. :)

    ReplyDelete
  10. kavita kee "लौ " ke deedar ke liye lambee prateekshaa? khalanaayak ban gaya yah kala bairee...lekin intazaar to karana hi padegaa. uskaa aanand bhi toh lena chahiye. sawal 'spandan' ka hai.

    ReplyDelete
  11. चलिए सब कुछ सही होने का इन्तजार करेंगे

    ReplyDelete
  12. ये तो आपसे मिलने वाली टिप्पणीयों का नुक्सान होगया, आजकल वैसे ही मंदी का दौर चल रहा है और उसपर से होली के मौसम में? बहुत मुश्किल होगा बिना नेट के तो.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर विचार युक्त कविता है |
    इस बेहतरीन रचना के लिए बधाई ।

    ReplyDelete
  14. बस यही लौ तो बड़े से बड़े आशियाने की बुनियाद होती है...
    जोक अच्छा था कि यह अकविता है..
    मेसेज उदास करने वाला था कि दो पंछी दो तिनके चलो लेके चले हैं कहाँ, हम बनाएँगे इक आशियाँ.. और खुशी भी अपने अशियाने की...
    उस काले-"बैरी" से रोमन में ही काम चलाइये, हमारे लिये भी एक टिप्पणी का सवाल है बाबा.. देखिये न हम भी इस देश में रोमन से ही काम चला रहे हैं, "देवनगरी" रही कहाँ!

    ReplyDelete
  15. हाँ अपने दोनों हाथों की कोठरी बना ली है
    कम से कम उस दिए की "लौ " तो ना बुझने पाए सुंदर सकारात्मक पंक्तियाँ हैं...... वैसे हम जान छुड़ाना ही नहीं चाहते :) हाँ कुछ दिन इंतजार सही....

    ReplyDelete
  16. ओ........ लै.... मैनू हार्ट अटैक करा दित्ता... येए कबर सुना के...

    अब कविता की क्या कहें... कविता तो भई.... आपकी तरह ही सुंदर है...

    ReplyDelete
  17. bhaavon me nayapan nahin laga... shilp bhi kachchaa tha, kul milakar aapse behtar ki ummeed hai. (gaaliyaan kha sakta hoon, par kya karoon jhoothi taareef nahin hoti. :( )

    ReplyDelete
  18. कम से कम उस दिए की "लौ " तो ना बुझने पाए--
    bahut achcha laga.

    ReplyDelete
  19. एक सुंदर और भावपूर्ण रचना के लिए आपको बधाई. ...

    ReplyDelete
  20. हाँ अपने दोनों हाथों की कोठरी बना ली है
    कम से कम उस दिए की "लौ " तो ना बुझने पाए--
    Kya baat kai!
    Ham to aapko bahut miss karenge! Ye jhelne wali baat kyon kah dee??

    ReplyDelete
  21. @ दीपक ! अब भाई आप तो हो गए हैं बड़े साहित्यकार अब आपके स्तर का कैसे लिख पाएंगे हम.?तो गालियों की तो बात ही नहीं. आप जैसा मजा हुआ कवि पढ़ रहा हमारी अधकचरी रचना वही बहुत है.हम तो आभार ही कह सकते हैं.
    तहे दिल से शुक्रिया .

    ReplyDelete
  22. रचना में पूरी जानकारी दे दी आपने!
    यही तो आपकी विशेषता है!

    ReplyDelete
  23. नया घर मुबारक हो और सुख समृद्धि का कारक बने। दिन दूनी रात चौगुनी तरक्की हो।

    लेकिन ट्री हाऊस का तो मेरा भी सपना है। देखते हैं कब पुरा होता है।

    आभार

    ReplyDelete
  24. अहा! बेहद खूबसूरत है कविता।
    आपके ब्लाग पर कभी कभी आ पाता हू। पर जब भी आता हूं, बेहद अच्छा लगता है।

    ReplyDelete
  25. अकविता में से अ हटा कर पढा। तो यह रचना तो मुझे ....
    कविता लगी।
    अच्छी भी।
    संदेश स्पष्ट है। पर्यावरण के प्रति चिंता सबको होनी चाहिए।
    आप रोमन में ही भावनाओं का आदान-प्रादान करें। हमें अच्छा लगेगा।
    ऊ एक ठो अंग्रेज़ी का फकरा है न ,... क्या कहते हैं ... अरे वही ... कि रोम में रोमन की तरह रहने में कोनो हर्ज नहीं है।

    ReplyDelete
  26. देखा कोई टिपण्णी पाने का मोह छोड़ने वाला नहीं है सबको रोमन में भी टिप्पणिया चलेगी रोमन क्या रसियन भी चलेगी यदि उस काले बेरी से कर सके :))

    वाह आप तो अकविता भी क्या खूब लिख लेती है |

    ReplyDelete
  27. आप जिसे अकविता कह रही हैं उसमे भी गजब की लयात्मकता है ,कविता विचारों की खूबसूरती से लैस है बधाई |

    ReplyDelete
  28. हम होली की शुभकामनाएं अभी दे देते है|कविता के इन्द्रधनुषी रंगों के साथ |

    ReplyDelete
  29. हम होली की शुभकामनाएं अभी दे देते है|कविता के इन्द्रधनुषी रंगों के साथ |

    ReplyDelete
  30. धड़कन सा कल्पन...
    हकिक़तन हम में द्रश्यमान होता सा...

    फ़िर,
    कविता जैसे पकड़ते-पकड़ते हाथ से फूरररर सी उड़ गई...
    मैसेज के चलते कविता कुछ ज़्यादा talkative हो गई.

    ReplyDelete
  31. धड़कन सा कल्पन...
    हकिक़तन हम में द्रश्यमान होता सा...

    फ़िर,
    कविता जैसे पकड़ते-पकड़ते हाथ से फूरररर सी उड़ गई...
    मैसेज के चलते कविता कुछ ज़्यादा talkative हो गई.

    ReplyDelete
  32. यहां मकान बदलना ज्यादा मुश्किल हे, आप अगर पहले ही, यनि महीना पहले ही फ़ोन वालो को कह देती तो कोई दिक्कत ना आती, हम ने भी जब मकान बदला था तो एक महीना पहले ही अपलाई कर दिया था, फ़ोन के लिये, ओर एक दिन भी हम बिना फ़ोन के नही रहे थे, उन दिनो नेट था नही मेरे पास.
    अजी इस काले बेरी मे केवल लगा कर आप अपने पीसी या लेपटाप पर नेट से जुड सकती हे, या एक सिटिक मिलती हे जिस मे आप अपना सिम डाल कर काम चल सकती हे, लेकिन ध्यान से.... अगर सिम पर फ़लेट रेट नही तो बहुत मंहगा पडेगा

    ReplyDelete
  33. वाह बहुत सुंदर कविता है.

    ReplyDelete
  34. पर्यावरण प्रेम और उम्मीद की लौ ..
    सार्थक कविता ...
    नए घर की बधाई ...और क्या कहें इन्तजार करेंगे!

    ReplyDelete
  35. कोई बात नहीं...
    आप होली के रंगों के साथ आइयेगा...
    और नए घर की मिठाइयां भी...
    रही काले बेरी की बात तो हिंदी नहीं पर चेहरे वाली किताब को तो सपोर्ट करता है न...
    कविता बहुत प्यारी... सपनों की यही खासियत होती है, कि उन्हें बस संजो के भे रख लें तो वो वैसे ही रहते हैं...
    बहुत खूब...

    ReplyDelete
  36. बहुत प्यारी रचना है तुम्हारे दिल की तरह ...आशा है शीघ्र लौटोगी ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  37. हाँ अपने दोनों हाथों की कटोरी बना ली है
    कम से कम उस दिए की लौ तो ना बुझने पाए-

    आस कायम रहे. शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  38. बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द ।

    ReplyDelete
  39. हमने अपना बचपन घर के पीछे वाले आँगन में लगे पेडो पर ही बिताया था.. छत पर लकडियो से हाउस बना रखा था.. ट्री इसलिए नहीं कहूँगा कि पेड़ से वहा जाने का रास्ता भर था... कविता अच्छी है

    ReplyDelete
  40. तब तक कागज पर ही लिख लीजिये। बहुत अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  41. अपने दोनों हाथों की कोठरी बना ली है
    कम से कम उस दिए की "लौ " तो ना बुझने पाए--

    kya kahne hain...:)
    bhagwan kare, ye lau kabhi nahi bujhe.!
    waise ye akavita ka matlab kya hota hai..pahlee baar suna main?

    ek baar aur...........ham sabko fir 15 din ke baad lagatar aapko jhelna parega...kyonki inn dino jam kar diary bhari jayegi:)

    ReplyDelete
  42. is this anti-poem or i think ,this is ante-poem. now many more nice poems to come.good wishes for new NEST.

    ReplyDelete
  43. आप यूँ ही लौ को थामे रखिये ....
    देवनागरी आती ही होगी ......

    ):):

    ReplyDelete
  44. बहुत सुन्दर कविता.. बेहद भावपूर्ण !

    ReplyDelete
  45. चलो कोई बात नहीं होली आने में भी लगभग १५ दिन ही है. फिर स्पंदन से रंगों की फुहार निकले. होली की मुबारकबाद के साथ सुंदर कविता की बधाई.

    ReplyDelete
  46. ना बचा पाऊं शायद ये पेड़, ये आशियाना
    हाँ अपने दोनों हाथों की कोठरी बना ली है
    कम से कम उस दिए की "लौ " तो ना बुझने पाए...

    बहुत खूब ... सार्थक लिखा है ..
    दिया बचा रे तो रौशनी याने की आस जीवित रहती है .... और आस जिन्दा है तो आशियाना फिर बन जाएगा ....

    ReplyDelete
  47. I LIKE EVERYTHING IN THE WORLD WHICH COMES WHICH A MESSAGE.HERE IS A VERY SENTIMENTAL MESSAGE IN THIS "AKAVITA".
    MAM,I LIKED IT.

    ReplyDelete
  48. पोस्ट पढ़ कर ममता फिल्म का अपना प्रिय गाना याद आ गया...

    छुपा लो यूं दिल में प्यार मेरा,
    के जैसे मंदिर में लौ दिए की...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  49. अनुराग की लौ को या तो दो हाथों की आड़ चाहिए या आँचल की। प्रसाद जी ने आँचल का सहारा लिया है- शशि मुख पर घूँघट डाले, अंचल में दीप जलाए। जीवन की गोधूलि में कौतूहल से तुम आए।

    ReplyDelete
  50. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 08-03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  51. संचित और संरक्षित करने के आवेग को प्रज्ञा ने जिस तरह एक सशक्त आधार दिया वह नारी की एक मूल विशेषता है। लौ को बुझने ना देना - नारी का मूल चित्रण है।

    ReplyDelete
  52. मतलब की कुछ दिन हमें भी आराम मिलने वाला है...आपसे...और किससे :D :D

    कविता अच्छी लगी :)

    ReplyDelete
  53. आज मंगलवार 8 मार्च 2011 के
    महत्वपूर्ण दिन अन्त रार्ष्ट्रीय महिला दिवस के मोके पर देश व दुनिया की समस्त महिला ब्लोगर्स को सुगना फाऊंडेशन जोधपुर की ओर हार्दिक शुभकामनाएँ..

    ReplyDelete
  54. ऐसा क्यों सोचती हो? हम तो इन्तजार करते हैं. चलो इस बार हमारी तरह से होली की तैयारी कर डालो. ये समय अच्छा कट जाएगा और इन दिनों डायरी में इतना सारा लिख डालो कि इतने लम्बे समय की कमी एक साथ पूरी कर देना.
    कविता बहुत ही मर्मस्पर्शी लगी.

    ReplyDelete
  55. लौ न बुझ पाए जिंदगी में यही सबसे बड़ी उपलब्धी है...बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  56. bouth he aacha post hai aaapka
    happy women's day...Visit My Blog PLz..
    Download Free Music
    Lyrics Mantra

    ReplyDelete
  57. जल्दी ही कामना पूरी होगी। नया आशियाना मुबारक हो। नेट सुविधा की कोई बात नही घर सेट करने के लिये समय दिया है उसका उपयोग करो। कविता बहुत अच्छी लगी। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  58. Spandan or flutter or Anahat Nada.
    Vibration in the navel is called Spandan or flutter or Anahat Nada.

    This spandan is coming from navel of the creature.

    Navel is the center of the creature.

    ReplyDelete
  59. शिखा मेम !
    नमस्कार !
    पर्यावरण प्रेम और उम्मीद की लौ ..
    सार्थक कविता ...
    नए घर की बधाई !
    सादर

    ReplyDelete
  60. बस बस बस...दिए की यह लौ न बुझे...

    प्ररणा देती, उर्जा भरती बहुत ही सुन्दर रचना....दाद कुबूलें...

    ReplyDelete
  61. "लौ " ko aapkaa sanrakshan hai . wah kabhee naa bujh paaegee

    ReplyDelete
  62. इसी लौ में हर सुबह की आशा छुपी है !
    सुन्दर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  63. Kya baat-kya baat-kya baat

    ReplyDelete
  64. दुबारा पढा अच्छा लगा,फ़िर दुबारा क्मेंट कर दिया...

    ReplyDelete
  65. दुबारा पढा अच्छा लगा,फ़िर दुबारा क्मेंट कर दिया...

    ReplyDelete
  66. बहुत की सुंदर एहसास के साथ सुंदर कविता. ट्री- हॉउस को बचपन में एक कार्टून में पढ़ा था और सोंचा था एक दिन अपना भी घर ऐसा बनूंगा. मगर शायद न बन पाए.

    ReplyDelete
  67. बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने! बधाई!

    ReplyDelete
  68. आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  69. शिखा जी,

    इस वृक्षयज्ञ में आपके साथ हैं पूरी हमदर्दी के साथ।

    सादर,
    मुकेश कुमार तिवारी

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *