Enter your keyword

Tuesday, 16 November 2010

हाँ शायद...




पहले जब वो होती  थी 
एक खुमारी सी छा जाती थी 
पुतलियाँ आँखों की स्वत ही 
चमक सी जाती थीं 
आरक्त हो जाते थे कपोल  
और सिहर सी जाती थी साँसें 
गुलाब ,बेला चमेली यूँ ही 
उग आते  थे चारों तरफ.
पर अब वह होती है तो 
कुछ भी नहीं होता 
ना राग बजते  हैं 
ना फूल खिलते हैं
ना हवा महकती है  
ना साँसें ही थमती हैं 
हाँ 
अब उस "आहट" के होने से 
कुछ असर नहीं होता मुझपर  
शायद संवेदनाये सुप्त हो चुकी हैं . 

57 comments:

  1. सुन्दर रचना. हाँ शायद संवेदनाएं लुप्त होती जा रही हैं.

    ReplyDelete
  2. हाँ अब उस "आहट" के होने से
    कुछ असर नहीं होता ....

    मन की एक अवस्था ...
    अलग-सी ,,
    लेकिन
    जानी-पहचानी भी ....

    अच्छी अभिव्यक्ति है .

    ReplyDelete
  3. ओह , यह आहट भी न क्या क्या एहसास करवा देती है ....लेकिन शायद वक्त के साथ मानव मशीन बन गया है ...लेकिन तुम्हारे एहसासों में एक बात अच्छी है की संवेदनाएं बस सुप्त हुई हैं ....तो कभी भी ये आहट फिर से ऐसा मंज़र पेश कर सकती हैं ...वरना होता तो यह है की संवेदनाएं शायद मर ही जाती हैं ..

    ReplyDelete
  4. अब उस आहट के होने से
    कुछ असर नहीं होता मुझपर
    शायद संवेदनाये सुप्त हो चुकी हैं...

    वास्तविकता के गगन में कल्पनाओं की कलात्मक उड़ान को प्रदर्शित करती हुई एक उत्तम कविता।

    ReplyDelete
  5. दिल की गहराई से निकली अभिव्यक्ति , कुछ ऐसे भाव है जो महसूस किया जा सकते पूरी संवेदना के साथ , उन्हें आपने शब्द दे दिये . रही बात संवेदनाओ की सुषुप्तावस्था की तो वो एकदिन निद्रा से जागेगी और फिर चारो तरफ फिर से गुलाब और बेला . उत्कृष्ट भाव पूर्ण रचना .

    ReplyDelete
  6. सुन्दर प्रस्तुति
    जीवन मे ऐसा पडाव भी आता है
    जब संवेदनाये सुप्त हो जाती है

    ReplyDelete
  7. शिखा जी! जो कुछ कहा आपने वो सच है… दुआ है कि झूठ हो जाए सब.. मृत होती सम्वेदनाएँ और नाज़ुक आहटों का गुम हो जाना किसी शोर में. एक सच्चाई लफ्ज़ ब लफ्ज़ आपने बयान की है. हेड टेल करके देखता हूम कि आपके संस्मरण अच्छे होते हैं कि आपकी कविताएँ... और मेरा दावा है सिक्का किनारे पर गिरेगा.. न हेड न टेल!!

    ReplyDelete
  8. Shikha di..achhi kavita hai..par shayad bahut achhi ho sakti thi... Uske 'hone' aur 'hone' beech bahut kuch chhupa gayeen aap lagta hai... :)

    ReplyDelete
  9. हाँ शायद .........

    उम्र का असर तो नहीं :)

    ReplyDelete
  10. samvednao ka lupt hona shayad manav jeevan ki sabse badi trasdi hoti hai.samvedna ka swaroop badalta rahta hai.aap ki kavita sochne ke liye majboor karti hai. sarthak prayas !

    ReplyDelete
  11. क्या अब उसके होने का कोई महत्व नहीं ????
    ये तो चिंता का विषय मालूम होता है... उम्मीद है ये महज एक कल्पना है, हकीकत नहीं...

    ReplyDelete
  12. बहुत ही हृदय्स्पर्सी और दिल को छु लेने वाली कविता . संवदनाओं का मरना बहुत ही दुखदायी होता है. आज के इस व्यस्त दुनिया मे किसी की संवदनाओं को एहसास करने के लिए न ही किसी के पास समय है और न ही किसी के पास मन की चाह .

    ReplyDelete
  13. अब उस "आहट" के होने से
    कुछ असर नहीं होता मुझपर
    शायद संवेदनाये सुप्त हो चुकी हैं .

    वक्त का तकाज़ा है, यह...कुछ भी एक सा कहाँ रहता है जो संवेदनाएं या अहसास एक से रहेंगे
    सुन्दर अहसासों से लबरेज़ कविता

    ReplyDelete
  14. पहले जब वो होती थी
    एक खुमारी सी छा जाती थी
    पुतलियाँ आँखों की
    स्वत ही चमक सी जाती थीं
    आरक्त हो जाते थे कपोल
    और सिहर सी जाती थी साँसें गुलाब ,
    बेला चमेली यूँ ही उग आते थे चारों तरफ

    यहां तक की स्थिति पर एक शेर याद आता है-
    आहट पे कान, दर पे नज़र, दिल में इश्तियाक़
    कुछ ऐसी बेखुदी है तेरे इंतज़ार में.

    ReplyDelete
  15. sab kah gaye... par abhi us aahat kaa intzaar to rehta hai naa

    ReplyDelete
  16. .

    @--बेला चमेली यूँ ही उग आते थे चारों तरफ..

    ---

    'उग आते' की जगह 'खिल जाते ' होता तो शायद बेहतर लगता। उग आना अक्सर काँटों या खर पतवार के लिए इस्तेमाल होते देखा है । फूलों के लिए 'खिलना' ही ज्यादा उपयुक्त लगता है।

    भावुक करती हुई सुन्दर रचना के लिए बधाई।

    .

    ReplyDelete
  17. आरक्त हो जाती थीं कपोल,
    और सिहर जाती थीं सांसे।

    ख़ूबसूरत पंक्तियां। मुबारकबाद।

    ReplyDelete
  18. हाँ
    अब उस "आहट" के होने से
    कुछ असर नहीं होता मुझपर
    शायद संवेदनाये सुप्त हो चुकी हैं .
    Na jane aisa kyon hota hai...par hota aisa hee hai! Shayad mil jaye to mittee hai?Bahut samvedansheel lekhani hai aapki!

    ReplyDelete
  19. संवेदनायें बार बार जगती हैं।

    ReplyDelete
  20. 4.5/10

    सुन्दर प्रयास
    दिन रात हम यंत्रों के साथ रहकर स्वयं भी यन्त्र की मानिंद हो गए लगते हैं.

    ReplyDelete
  21. कुछ अलग ही अंदाज और भाव...अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  22. उस्ताद बाल गोविन्द16 November 2010 at 18:41

    आदरणीया,
    ९ / १०
    सुन्दर प्रयास के लिए अच्छे अंक !

    क्या आप जानते हैं कि उस्ताद जी मोहल्ला होशियारपुर ग्राम लखनऊ में रहते है ?

    ReplyDelete
  23. सही कहा , संवेदनाएं लुप्त होती जा रही है :(

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर कविता ..... हर पंक्ति कमाल है.... औए संवेदनाएं तो सच अब गुम ही हो गयी है....

    ReplyDelete
  25. अब उस "आहट" के होने से
    कुछ असर नहीं होता मुझपर
    शायद संवेदनाये सुप्त हो चुकी हैं
    .....या फिर शायद कान कम सुनने लगे हैं, आहट सुनायी ही नही देती।

    मजाक एक तरफ, लेकिन अच्छी रचना है।

    ReplyDelete
  26. दी,कल ही पढ़ लिया था ये कविता...जब आप लिखीं थी उसी वक्त..लेकिन उस समय बिलकुल समझ में नहीं आया क्या लिखूं....
    अभी भी नहीं आ रहा है..बहुत से कविताओं पे क्या लिखूं मैं समझ नहीं पाता...
    कल सोचा की बस "बहुत उम्दा" कह के चला जाऊं..लेकिन बस वो दो शब्द कह के चले जाने का दिल नहीं किया :)

    ReplyDelete
  27. Bahut hi sundar abhivyakti..
    haan shayad samvednai supt ho gayi hain.
    thanks mere blog par aane ke liye,aise hi aate rahe.

    ReplyDelete
  28. संवेदनाएं लुप्त नहीं मौन हो जाती हैं मगर फिर फिर उभरती हैं और ढूँढने लगती हैं वही आहटें ,

    ReplyDelete
  29. ऐसा भी होता है कभी कभी…………यही तो वक्त के खेल होते हैं……………सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  30. ये आहट बड़ी जानी पहचानी सी लगती है। उधर कैसे पहुंच गई!

    ReplyDelete
  31. एक ये भी वक़्त आता है ज़िन्दगी में ... बहुत गहराई लिए है रचना ....बेहतरीन प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  32. बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है! हार्दिक शुभकामनाएं!
    लघुकथा – शांति का दूत

    ReplyDelete
  33. सुन्दर कविता है शिखा जी. सम्वेदनाएं सचमुच ही सुप्त हो गईं हैं अब.

    ReplyDelete
  34. बहुत सुन्दर प्रस्तुति शिखा जी ...

    ReplyDelete
  35. बेहतरीन रचना............ सुंदर प्रस्तुती ............

    ReplyDelete
  36. सब समय का फेर है। क्‍या करें? इसलिए ही कहते हैं कि रिश्‍तों को हमेशा सींचते रहना चाहिए, नहीं तो वे भी पौधों की तरह सूखकर बेजान हो जाते हैं।

    ReplyDelete
  37. सुप्त संवेदनाएं ... पर क्या कभी सुप्त हो सकती हैं वे ... क्या दिल के जज़्बात मर सकते हैं कभी ....

    ReplyDelete
  38. Samay ke anusaar beshak sanvednayen lupt ho gayee hon.......:(

    lekin aapki samvedna........uske kya kahne......wo to bahut pahle ke beetaye palo ko yaad rakhti hai, aur usko sabdo me utarti chali jaati hai...:)

    U r simply awsome...:)

    ReplyDelete
  39. bahut sundar hindi shabdon se likhi ek sundar kavita namaste

    ReplyDelete
  40. धीरे धीरे संवेदनायें लुप्त हो रही हैं--- आहट भी जानी पहचानी सी हो जाती है-- शायद मन की ये अवस्था सब पर आती है उम्र के साथ लेकिन तुम्हारी तो उम्र भी अभी कम है। वैसे आज के आदमी के मनोभावों को अच्छे से शब्द दिये हैं। बधाई।

    ReplyDelete
  41. अब उस "आहट" के होने से
    कुछ असर नहीं होता मुझपर
    शायद संवेदनाये सुप्त हो चुकी हैं .

    ...सच को सुन्दर शब्दों में ढाला...बधाई.

    ReplyDelete
  42. बहुत ही अच्छी रचना ..दिल को छूती हुई ..
    गीत ग़ज़ल पर पढ़े कैसा हो गया मेरा गांव

    ReplyDelete
  43. बहुत सुन्दर......गहरी अभिव्यक्ति..........

    ReplyDelete
  44. परिवर्तन यथार्थ के धरातल पर। कभी कभी जीवन का सच ऐसा भी होता है।

    zeal का संकेत सही लगता है। शब्दों का तालमेल सुसंगत होता है तभी अच्छा लगता है।

    गुण दोषों के साथ सार्थक कविता।

    आभार।

    ReplyDelete
  45. Zeal और हरीश जी !आपका कहना ठीक है. तकनिकी तौर पर उग आना खर पतवार के लिए ही उपयोग होता है और फूल खिलते हैं.परन्तु यहाँ फूलों का उगना मैंने एक खास मकसद से इस्तेमाल किया है.खिलना बताता है की पहले से बेला चमेली थे और खिल गए ...यहाँ अचानक से उग आये से मतलब है
    की आहट सुनते ही एक दम ऐसी प्रतिक्रिया हुई यानि किसी एहसास विशेष से फूल भी अनायास ही खरपतवार की तरह कहीं भी उग आते थे.
    वैसे भी कवि मन कब किसी सीमा में बंधा है :) बहुत शुक्रिया आपकी प्रतिक्रिया का.

    ReplyDelete
  46. शिखा जी
    बहुत सही पहचाना आपने , आज के दौर में संवेदनाएं सुप्त हो गयी हैं .आदमी का नजरिया बदला है रिश्तों की एहमियत बदली है ..अब काफी हद तक ओपचारिकता का निर्वाह किया जाता है ..शुक्रिया
    चलते -चलते पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  47. कुछ तो हुआ है ...कुछ हो गया है...
    तुम बदल गए हो....या वो बदल गया है...????

    डा. साहिबा की बात पर गौर फरमाएं जनाब वर्ना सुप्तावस्था लुप्तावस्था हो जायेगी. :):):)

    ReplyDelete
  48. बहुत सुंदर कविता-
    आपना ही मन -कैसे बदल जाता है ?
    और क्यूँ ...?
    एक छाप छोड़ गयी आपकी कविता ..!
    अनेक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  49. सुंदर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  50. बहुत सुंदर कविता दिल को छू लेने वाली रचना, बधाई

    ReplyDelete
  51. आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आया हूँ बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ........

    ReplyDelete
  52. शिखा जी,
    आपकी कविता ने मन की सुप्त संवेदनाओं को जगा दिया !
    कविता के भाव बहुत ही गहरे हैं ! उगने और खिलने का अंतर आपकी कविता को नए आयाम देता है !
    बहुत ही सुन्दर रचना !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  53. हाँ अब उस "आहट" के होने से
    कुछ असर नहीं होता मुझपर
    शायद संवेदनाये सुप्त हो चुकी हैं .....!

    samay ke sath chalti hui rachna.bhawnaon ka sunder chitran.

    ReplyDelete
  54. हां शायद... बहुत सुन्दर कविता है

    ReplyDelete
  55. आपकी कविताओ में भावबिम्ब खूब बोलते है और संस्मरण में द्रवित कर देने वाली तुल्य अभिव्यक्ति....मुझे लगता है पंक्तियों का सृजन भाव या तो वेदना होती है या प्रेरणा.... जो जितना ज्यादा भावुक होता है वो उतना ही ज्यादा कुछ व्यक्तय कर पाता है....रोना भी एक सृजन है और यह आत्ममुग्धता की मौनता को तोड़ता है चाहे वह व्यथा हो, उन्माद हो, गुस्सा हो, प्रेम हो, कुंठा हो ...अपना व्यक्त होने का रास्ता बना ही लेता है ...और शायद ऐसा ही है आपका सृजन जो गहरे दिल तक असर कर भेद देता है ...शुभकामनायें....

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *