Enter your keyword

Tuesday, 3 August 2010

चाँद और मेरी गाँठ

चाँद हमेशा से कल्पनाशील लोगों की मानो धरोहर रहा है खूबसूरत महबूबा से लेकर पति की लम्बी उम्र तक की सारी तुलनाये जैसे चाँद से ही शुरू होकर चाँद पर ही ख़तम हो जाती हैं.और फिर कवि मन की तो कोई सीमा ही नहीं है

उसने चाँद के साथ क्या क्या प्रयोग नहीं किये...बहुत कहा वैज्ञानिकों ने कि चाँद की धरती खुरदुरी है ..उबड़ खाबड़ है पर जिसे नहीं सुनना था उसने नहीं सुना और कल्पना के धागे बुनते रहे चाँद के इर्द गिर्द और खूबसूरत कवितायेँ बनती गईं . उन्हीं में से मुझे रामधरी सिंह "दिनकर" की एक कविता बहुत ही पसंद है "

रात यों कहने लगा मुझसे गगन का चाँद,

आदमी भी क्या अनोखा जीव है ।

उलझनें अपनी बनाकर आप ही फँसता,

और फिर बेचैन हो जगता, न सोता है " .

ना जाने क्यों बहुत काल्पनिक होते हुए भी ये कविता मुझे बहुत ही व्यावहारिक लगती है .वैसे भी कहते हैं खाली दिमाग शैतान का घर ...पर मेरे हिसाब से खाली दिमाग कवि का घर :) (आजकल घर का नेट ख़राब है ना ) तो ऐसे ही कुछ क्षणों में ये मन चाँद तक जा उड़ा और फिर उतरा कुछ इस तरह

उतरा है आज मन

चाँद की धरती पर

चांदनी छिटक उठी है

रूह की खिड़की पर

ख़्वाबों के कदमो को

रखते हौले हौले

मन का पाखी

यूँ कानों में बोले

भर ले चांदनी

पलकों की कटोरी में

उठा शशि और

भर ले झोली में

लेने दे ख़्वाबों को

खुल कर अंगडाई

चन्द्र धरातल पर

तू जो उतर आई

बस और थोड़ी सी हसरत ,

और बस जज़्बा तनिक सा

थोड़ी सी और ख्वाहिश

फिर खिल उठना सपनो का

बस और दो कदम

रख सरगोशी से

कैसे ना होगा फिर

चाँद तेरी हथेली पे.

खूंटी पे टंगे सपने

सपनो पे रख दे चाँद

ना फिसले वहां से चंदा

लगा दे ऐसी गाँठ

59 comments:

  1. :) :) ...बहुत प्यारी कल्पना ....वैसे बेचारा चाँद भी बहुत कुछ महसूस करता है ...

    सोचता है चाँद
    गुमसुम स
    बैठा हुआ
    सबका
    बचपन में मामा
    बनाया जाता हूँ
    और जवानी में
    महबूब नज़र
    आता हूँ !!!!!!!!!!

    ???????:):)

    पर यहाँ तो ख्वाबों से ही गाँठ बाँधी जा रही है...बहुत बहुत बहुत खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  2. हा हा हा ..दी! क्या बात कही है ...पर आज खुश तो बहुत होगा चाँद ......कोई तो उसका दर्द समझा....:)

    ReplyDelete
  3. चाँद पर डोरे डालता व्यवहारिक इन्सान, ... उसके आवरण हटता इन्सान
    पर चाँद आज भी जब आसमान पे दिखता है तो उसके विविध रूप कवि के अन्दर विविध ख्याल भी देते हैं , जैसे चाँद ने तुमसे जो कहा और हमने सुना ....... यही है चाँद

    ReplyDelete
  4. to aakhir aap bhi chaand tak phunch hi gayeen di .. bahut achhi hai nazm

    ReplyDelete
  5. उतरा है आज मन

    चाँद की धरती पर

    चांदनी छिटक उठी है

    रूह की खिड़की पर
    Kya gazab alfaaz hain! Aur kalpnaakee udaan bhee!!

    ReplyDelete
  6. अरे वाह आज तो चाँद के साथ ही गाँठ लगा ली……………क्या बात है ……………………तो आज चाँद को अपने सपनो मे कैद कर लिया है…………वाह वाह्।

    ReplyDelete
  7. देखा था पानी में डुबकी लगाते चंदा , और सुना था मानव और चाँद का साथ.
    पहली बार मुयस्सर हुआ है चाँद को, शरारत भारी खूंटी और ख्वाहिसों की गांठ .

    लाजवाब कल्पना शीलता .

    ReplyDelete
  8. खूंटी पे टंगे सपने

    सपनो पे रख दे चाँद

    ना फिसले वहां से चंदा

    लगा दे ऐसी गाँठ

    bahut khub!! aapne khali samay me khub chand ko nihara, aur fir shabdo me utar diya..........:)

    ReplyDelete
  9. ये महज कल्पनाशीलता नहीं है, इसमें ऐसा कुछ है जो इसे संश्लिष्‍ट और अर्थसघन बनाता है। इस कविता की इन पंक्तियों में अर्थदीप्ति देखिए ..
    बस और थोड़ी सी हसरत ,
    और बस जज़्बा तनिक सा
    थोड़ी सी और ख्वाहिश
    फिर खिल उठना सपनो का
    बस और दो कदम
    रख सरगोशी से
    कैसे ना होगा फिर
    चाँद तेरी हथेली पे.
    यहां कविता जिस मात्रा में कला है, उसी मात्रा में जीवन की हसरतें हैं। यह कवयित्री महज लिखने के लिए कुछ नहीं लिखतीं। कम से कम यह कविता तो यही कहती है।

    ReplyDelete
  10. ना फिसले ये चाँद ...ऐसी लगा दो गाँठ ...
    क्या बात है ...
    जहाँ ना पहुंचे रवि वहां पहुंचे कवियत्री ..
    कानों में सारी बात चाँद से ...
    मासूम सुन्दर कल्पना ...

    ReplyDelete
  11. वैसे भी कहते हैं खाली दिमाग शैतान का घर ...पर मेरे हिसाब से खाली दिमाग कवि का घर :)

    बहुत सही कहा आपने.:) तभी तो इतनी खूबसूरत रचनाएं जन्म ले पाती हैं. भरे दिमाग में तो पहले से ही अपने पुर्वाग्रह और हलचल चल रही होती है जो कि ऐसी सुकोमल भाव वाली रचनाओं को जन्म नही लेने दे सकती.

    बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम

    ReplyDelete
  12. लेने दे ख़्वाबों को

    खुल कर अंगडाई

    चन्द्र धरातल पर

    तू जो उतर आई

    हम्म नेट से अवकाश तो बड़ा रास आ रहा है आपको....क्या खूब कविताएँ लिखी जा रही हैं...करो चन्द्र धरातल की सैर...और पढवाती रहो हमें ऐसी ख़ूबसूरत रचनाएं :)

    ReplyDelete
  13. वाह मजा आ गया..

    कैसे न होगा फिर चाँद तेरी हथेली पे..वाह :)

    चाँद, सूरज, ऐसे ऐसे ही बाकी सभी ग्रहों पे कवितायेँ लिखिए...हम हैं पढ़ने के लिए :) (jst kidding) :P

    बहुत बहुत सुन्दर कविता :) :)

    ReplyDelete
  14. बहुत खूबसूरत रचना !

    ReplyDelete
  15. चाँद को गाँठ में बाँध लेने का ख्वाब हमारा भी है।

    ReplyDelete
  16. शिखा जी,
    चांद को केन्द्र बनाकर कवियों ने अनेक रचनाए सृजित की हैं....
    इसी सिलसिले में चांद को गांठ बांधने की ये कल्पना अपने आप में अभिनव भी है...और खूबसूरत अहसास से रूबरू भी कराती है.
    इसके लिए आप बधाई की पात्र हैं.

    ReplyDelete
  17. uf main to chandiyaa sa gayaa hun aaj....sach....!!!!

    ReplyDelete
  18. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    ReplyDelete
  19. Hi..

    Badal ke esraar se aage..
    Ab chanda ki baari aayi..
    Kavita ke mradu ahsaason se..
    Hum par lage khumari chhaayi..

    Seedhe sachche bhav hain tere..
    Shabd madhur teri kavita ke..
    Sapnon ke Spandan main fir ek..
    Kavita bhav se bhaari aayi..

    Ab tak ki sabse bhavpurn kavita..

    Wah..

    Deepak..

    ReplyDelete
  20. Hi..

    Badal ke esraar se aage..
    Ab chanda ki baari aayi..
    Kavita ke mradu ahsaason se..
    Hum par lage khumari chhaayi..

    Seedhe sachche bhav hain tere..
    Shabd madhur teri kavita ke..
    Sapnon ke Spandan main fir ek..
    Kavita bhav se bhaari aayi..

    Ab tak ki sabse bhavpurn kavita..

    Wah..

    Deepak..

    ReplyDelete
  21. Hi..

    Badal ke esraar se aage..
    Ab chanda ki baari aayi..
    Kavita ke mradu ahsaason se..
    Hum par lage khumari chhaayi..

    Seedhe sachche bhav hain tere..
    Shabd madhur teri kavita ke..
    Sapnon ke Spandan main fir ek..
    Kavita bhav se bhaari aayi..

    Ab tak ki sabse bhavpurn kavita..

    Wah..

    Deepak..

    ReplyDelete
  22. बहुत खूब। चांद ही है जो 3 लाख 84 हजार 403 किलोमीटर दूर होते हुए भी इंसानों से रिश्ता बनाए हुए है।

    ReplyDelete
  23. दिस इज़ वॉट ब्यूटी कॉल्ड एज.... राइटिंग... ड़ीपिक्ट्स ऑल.... ब्यूटीफुल क्रियेशन ... विद ब्यूटीफुल थॉट्स... ब्यूटीनेस... ऑफ़ दिस पोस्ट इज़ वेल डिफाइनड ..... पौनडरिंग...ओवर द ब्यूटीनेस ... ऑफ़ द क्रेफ्टिंग ... इट इज़ वैरी ट्रू दैट... ब्यूटीफुल थॉट्स विल औल्वैज़ बी जेनेरेट..बाई ब्यूटीफुल पर्सन ओनली... सो, इट इज़ हेन्स प्रूव्ड.......

    ReplyDelete
  24. बढ़िया कविता दी.. पर कवि का दिमाग भी तो खाली नहीं हो सकता, बस विचारों से भरा ही रहता है हर वक़्त..

    ReplyDelete
  25. भाव विभोर कर दिया ।

    ReplyDelete
  26. उज्ज्वल चन्दा में लगे, कुछ काले से दाग।
    क्रोधित सूरज हो रहा, उगल रहा है आग।।
    --
    http://charchamanch.blogspot.com/2010/08/235.html

    ReplyDelete
  27. काव्य तो उस निर्झर की भांति है जो वर्षा ॠतु में उमड़ पड़ता है, विचारों की तरह।

    बहुत सुंदर कविता-शिखा जी।

    इसे भी पढिए फ़ूंकनी चिमटा बिना यार-मुहब्बत है बेकार

    ReplyDelete
  28. बहुत सुंदर कल्पना और रचना...!!

    ReplyDelete
  29. चाँद कि ये कल्पना ......बहुत सुन्दर ......लाजवाब रचना .

    ReplyDelete
  30. अच्छी प्रस्तुति।
    आभार....

    ReplyDelete
  31. एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !

    ReplyDelete
  32. A wel imazinaited thought to moon..............

    ReplyDelete
  33. वाह क्या बात है ...................बेहद सुन्दर ...........समझ में नही आ रहा क्या लिखूं........

    ReplyDelete
  34. बहुत खूब , गांठ लगा लो ।

    ReplyDelete
  35. अति सुन्दर रचना...शब्दों और बिम्बों का विस्मय कारी प्रयोग किया है आपने..बधाई...
    नीरज

    ReplyDelete
  36. मुझे तो चाँद बहुत अच्छा लगता है...सुन्दर रचना.
    ________________________
    'पाखी की दुनिया' में 'लाल-लाल तुम बन जाओगे...'

    ReplyDelete
  37. chaand ko har koi apne-apne tareeke se, nazaron se dekhataa hai. isiliye to vo chand hai. aapki kavitaa chaand ke kareeb pahunchatee hai. chaand ke man ko tatolane ki yah koshish sundar hai. badhai. badhai ''pollywood ki apsara'' dekhane ke liye bhi...

    ReplyDelete
  38. chaand par copyright toot raha hai :)

    waise bahut khubsurat kavita

    ReplyDelete
  39. @ अविनाश ! आपका भी कॉपी राईट है चाँद पर ? :) ..स्वप्निल ने तो अपने राईट उधार दे दिए हैं मुझे हा हा

    ReplyDelete
  40. चांद का वर्णन सुंदर शब्दों मे किया है आपने..बधाई!

    ReplyDelete
  41. शायद ही कोई कवि या शायर होगा जिसने चाँद पर नहीं लिखा हो.. गुलज़ार साहब तो चाँद को रोटी तक गए.. हमने भी कभी बचपन की चव्वनी को चाँद कहा था.. खैर आपकी रचना पर आये तो इस बार शब्द चयन नंबर एक रहे पर ओवर ऑल फ्लो इतना अच्छा नहीं लगा जैसा आप पहले पढवा चुकी है... हमारी आदत खराब भी आपही ने की है.. एक चार्म जो होना चाहिए था इसमें वही मिसिंग है.. बाकी शब्द चयन वाकई कमाल.. और ये पोसिटिव फीडबैक है.. आई होप आप अदरवाईज नहीं लेंगी..

    ReplyDelete
  42. न न! मैं उन्ही की बात कर रहा था, मेरी इतनी हिम्मत की मैं चाँद, चाँदनी, तारे..रात...हरसिंगार, यहाँ तक की जुगनू तक भी जाऊं.
    यहाँ शाम का धुंधलका हुआ, शंख बजा, चादर ओढ़ के सो जाता हूँ मैं...चाँद पर लिखना मेरे लिए न तो मुमकिन है न मुनासिब.

    :) :)

    और मैं तुम ही ठीक हूँ ना? :)

    ReplyDelete
  43. बहुत बढ़िया बढ़िया बिम्ब हैं इस कविता में ।

    ReplyDelete
  44. कविता अपने आप में पूरी है
    कुछ भी नहीं छूटा है जो इसे अधूरा कर सकें.
    यह बिल्कुल भी जरूरी नहीं है कि किसी विषय पर कोई एक कवि जो स्पेश छोड़ता है उसे दूसरा कवि पूरा करें
    मैं बहुत सारे लोगों की टिप्पणी देख रहा था
    कविता और टिप्पणियों को पढ़ने के बाद मेरी तो टिप्पणी यह है कि एक बेहतर रचना का पहला और सबसे पहला काम हलचल पैदा करना ही होता है। आपने हलचल पैदा कर दी। जो संवेदनशील होगा उसे हलचल का मतलब समझ में आ जाएगा लेकिन जो नहीं होगा उसे तो यही लगेगा कि कुछ मिस हो गया है।
    आपको बधाई

    ReplyDelete
  45. अरे हां... शिखाजी
    ब्लाग जगत में भी एक चांद है
    और आप उसे अच्छे से जानती है
    पुनः बधाई

    ReplyDelete
  46. इसी बहाने चाँद पर उतर ली...वरना तो कलम लिए हम भी कई बार ताक चुके हैं उसे..:)

    उतरा है आज मन
    चाँद की धरती पर
    चांदनी छिटक उठी है
    रूह की खिड़की पर

    -सुन्दर पंक्तियाँ.


    देरी से आने के लिए क्षमाप्रार्थी. :)

    ReplyDelete
  47. chand viraan nahi aabad hone vaala hai ham sigra hi vas par bastiya banaane vaale hai o2 aur paani to mil hi gaya hai

    ReplyDelete
  48. स्पंदन पर आना और आपको पढना खुद एक सुखद स्पंदन है परदेश मे रहकर भी आपकी संवेदना का फलक काफी व्यापक है...और शिल्प भी दमदार।

    कभी समय मिले और सामान्य पढने का मन हो तो आप एक बार मेरे ब्लाग शेष फिर पर आईगा...शायद कुछ आपको पंसद आए।

    डा.अजीत
    www.shesh-fir.blogspot.com

    ReplyDelete
  49. चाँद को लेकर बेहद खूबसूरत भावाभिव्यक्ति...बधाई. कभी 'शब्द-सृजन की ओर' पर भी आयें...

    ReplyDelete
  50. pyari si rachna.....

    mere naye blog par aapka sawagat hai..apna comment dena mat bhooliyega...

    http://asilentsilence.blogspot.com/

    ReplyDelete
  51. kisi ek ko itni tarike se likhna
    likhne wale ki gahraiyon ko bya karta hai

    thank's mam

    ReplyDelete
  52. चाँद की सरजमीं पर उतर कर महसूस की गयी कविता ख्वाहिशों को एक ऐसी सतह पर उतारती है जहाँ कोमल भावनाओं का कलरव गान है| चाँद सदियों से हमारे सपनों का शिखर रहा है और इस स्वप्निल शिखर पर आ कर सपने देखना सुखद सपने जैसा ही है|

    ReplyDelete
  53. चाँद को क्या मालूम की ?चाहता है उसे कोई चकोर
    वो बेचारा दूर से देखे करे न कोई शोर ....
    यह गीत यद् आ गया आपकी खुबसुरत कविता पढ़कर \इत्तफाक से मैंने भी चाँद पर ही अक कविता लिखी है \
    बहुत बढ़िया अभिव्यक्ति है आपकी \

    चाँद तेरी हथेली पे.

    खूंटी पे टंगे सपने

    सपनो पे रख दे चाँद

    ना फिसले वहां से चंदा

    लगा दे ऐसी गाँठ

    ReplyDelete
  54. चाँद पर इतना कुछ लिखा है लोगों ने ... की गाँठो का पुलिंदा बन गया है चाँद ... हर कोई अपनी अपनी गाँठ लगाता है ...
    बहुत मनमोहक लिखा है ....

    ReplyDelete
  55. sundar rachna ...dinkar jee kee ye kavita apne yahan inter me lagtee thee...mujhe bhi yah panktiyaan aaj tak yaad hain...

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *