Enter your keyword

Friday, 23 July 2010

इसरार बादल का



आज मुस्कुराता सा एक टुकडा बादल का 
मेरे कमरे की खिड़की से झांक रहा था 
कर रहा हो वो इसरार कुछ जैसे 
जाने उसके मन में क्या मचल रहा था 
देखता हो ज्यूँ चंचलता से कोई 
मुझे अपनी उंगली वो थमा रहा था 
कह रहा हो जैसे आ ले उडूं तुझे मैं 
बस पाँव निकाल देहरी से बाहर जरा सा.
मैं खड़ी असमंजस में सोच रही थी 
क्या करूँ यकीन इस शैतान का ?
ले बूँद खुद में फिर छोड़ देता धरा पर
है मतवाला करूँ क्या विश्वास इसका
जो निकल चौखट से पाँव रखूं इस बाबले पे
और फिसल जा पडूँ किसी खाई में पता क्या 
ना रे ना जा छलिया है तू ,जा परे हो जा तू जा ..
किनारे रख चुकी हूँ मैं "पर"अब नहीं उड़ने की भी चाह
फिर ना जाने क्या सोच कर मैंने थमा दी बांह अपनी 
कि ले अब ले चल तू गगन का छोर है जहाँ 
मूँद ली मैने ये पलकें फिर धर दिए घटा पे पाँव 
और ले चला वो बादल मुझे मेरे सपनों के गाँव

60 comments:

  1. मूँद ली मैने ये पलकें फिर धर दिए घटा पे पाँव
    और ले चला वो बादल मुझे मेरे सपनों के गाँव
    Kya kahun?Mugdh kar diya aapki is ateev sundar rachanane!

    ReplyDelete
  2. वाह्…………बेहद सुन्दर भाव भरे हैं………………।बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. जाने उसके मन में क्या मचल रहा था
    देखता हो ज्यूँ चंचलता से कोई
    मुझे अपनी उंगली वो थमा रहा था
    कह रहा हो जैसे आ ले उडूं तुझे मैं


    प्रतीक और भाव शानदार .........

    बेहद सुंदर अभिव्यकिती शिखा जी

    ReplyDelete
  4. barsaat ka mausam hain, saara aasmaan ghatao se bhara hain, mera dil bhi bilkul aap hi ki tarah badal par kadam rakh nabh ki sair karna chahta hain apne khwabo ke desh jaana chaahta hain. dil ko chulene waali rachna.

    ReplyDelete
  5. सुन्दर अभिव्यक्ति, बादल के सविनय निवेदन का( धरा के कल्याण के लिए ) थोड़े ना नुकुर के बाद , सफल होना, मुझे छायावाद की विदुषी कवियत्री की याद दिला गया. ( ना मैंने कुछ भी अतिरंजित नहीं लिखा) ,

    ReplyDelete
  6. बेहद खूबसूरत ....बहुत बहुत अच्छी कविता.. :)

    ReplyDelete
  7. prakriti se jud kar rachane ki sarthak koshish..man bahut khoobsoorat tareeke se roopayit hua hai. badhai, is rachana ke liye.

    ReplyDelete
  8. आ ले उडूं तुझे मैं
    बस पाँव निकाल देहरी से बाहर जरा सा.
    बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  9. बहुत अच्‍छी अभिव्‍यक्ति, बधाई।

    ReplyDelete
  10. बादल का इसरार भी बहुत खूबसूरत है और तुम्हारी
    कल्पना भी....

    मूँद ली मैने ये पलकें फिर धर दिए घटा पे पाँव
    और ले चला वो बादल मुझे मेरे सपनों के गाँव

    और गाँव को सुन्दर लगा ही होगा :):)

    बहुत प्यारी और सुन्दर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  11. कि ले अब ले चल तू गगन का छोर है जहाँ
    मूँद ली मैने ये पलकें फिर धर दिए घटा पे पाँव
    और ले चला वो बादल मुझे मेरे सपनों के गाँव

    अब अंजाम की क्या चिंता जब इसरार इतना ख़ूबसूरत हो और सफ़र मनभावन......सपनो का गाँव भी सपने जैसा ही सुन्दर होगा.
    उड़ते बदालों के फाये सी ही निश्छल...प्यारी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन रचना, बहुत खूब!

    ReplyDelete
  13. Hi..

    Badal ke jo sang chale tum..
    Lekar tum hathon main haath..
    Taare saare jale to honge..
    Dekh suhana tera sath..

    Badal tumko sang liye jab..
    Pahuncha honga apne gaon..
    Logon ne samjha ye hoga..
    Chand hai utra unke gaon..

    Sapnon ke us shahar main bhi..
    Tumko humne vyakul dekh..
    Badal ke jo sang gaye tum..
    Langh ke har lakshman rekha..

    Kavita bhavnatmak rup se sundar..

    Deepak..

    ReplyDelete
  14. बादल मुझे मेरे सपनों के गाँव

    beautifully expressed feelings
    great, liked it

    ReplyDelete
  15. मूँद ली मैने ये पलकें फिर धर दिए घटा पे पाँव
    और ले चला वो बादल मुझे मेरे सपनों के गाँव
    सुन्दर पंक्तियां.

    ReplyDelete
  16. bahut hi sundar aur manmohak rachna. badhayi. Namrita

    ReplyDelete
  17. बहुत शान दार कविता जी धन्यवाद

    ReplyDelete
  18. आह!! क्या कोमल उड़ान है भावनाओं की...

    मूँद ली मैने ये पलकें फिर धर दिए घटा पे पाँव
    और ले चला वो बादल मुझे मेरे सपनों के गाँव

    बहुत सुन्दर!!

    ReplyDelete
  19. कभी कभी शैतान (अरे ...बादल ) का यकीन कर लेना और अपनी अंगुली उसे थमा उसके संग बह चलना ...
    क्या खूबसूरत कल्पना है ...हम भी उड़ चले आपके साथ ...
    कभी कभी दिमाग की बजाय दिल की बात सुन लेना भी अच्छा होता है ...
    सावन की रिमझिम सी बहुत प्यारी सी कविता ...तस्वीर भी बहुत खूबसूरत है ...!

    ReplyDelete
  20. जा रे कारे बदरा बलम के द्वार,
    वो है ऐसे बुद्धू न समझे रे प्यार,
    वहीं जा के रो,
    जा रे कारे बदरा...
    इनकी पलक से पलक मोरी उलझी,
    निपट अनाड़ी के लट मेरी उलझी,
    लट उलझा के रे मैं तो गई हार,
    वो है ऐसे बुद्धू न समझे रे प्यार...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  21. जीने के लिए विश्वास बहुत जरुरी है.. दिमाग ना भी करे पर मन अक्सर चोट खाने के बाद भी कर बैठता है.. आखिर मन है है ना..

    ReplyDelete
  22. baadal ke sang sapno ki udaan......ek tukdaa baadal ka mujhe bhi dena

    ReplyDelete
  23. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  24. बादल सदियों से सपनों के वाहक रहे हैं, आपके भाव भी सब जगह बरसाये ये बादल।

    ReplyDelete
  25. मैं खड़ी असमंजस में सोच रही थी
    क्या करूँ यकीन इस शैतान का ?
    ले बूँद खुद में फिर छोड़ देता धरा पर
    है मतवाला करूँ क्या विश्वास इसका
    bahut sundar kalpna bhi hai aur ytharth bhi .

    ReplyDelete
  26. शिखाजी!! लगता है कि लन्दन में मानसून आ गया...रचना में नीर भरी बदली की उन्मुक्त उड़ान है| कविता में रूपक और बिम्ब अभिव्यक्ति को एक विशिष्टता प्रदान कर रहे हैं और बादल का खिड़की पर आ जाने का भाव अनूठा है|

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर उम्दा रचना...!!

    ReplyDelete
  28. pankh hote to ud aati re..... gege..par aap to ud gayeen di ..aap ko to ye gana gane ki zaroorat hi nahi ...

    ek doha

    achhi sangat baith kar , sangi badle roop
    jaise mil kar aam se meethi ho gayi dhoop..
    -nida fazli

    aakhi rbadla ne aap ko bhi udne par mazboor kar diya na..:)

    ReplyDelete
  29. बहुत खूब ! जब बादल इसरार करे तो उड़ जाना ही बेहतर है... सुन्दर रचना है.

    ReplyDelete
  30. बादल की मनुहार पर
    मूँद ली मैने ये पलकें फिर धर दिए घटा पे पाँव
    और ले चला वो बादल मुझे मेरे सपनों के गाँव

    सुंदर !!! सब तर्क आखिर हार ही जाते हैं मन की उड़ान के सम्मुख !

    ReplyDelete
  31. बेहतरीन अभिव्यक्ति......

    ReplyDelete
  32. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    ReplyDelete
  33. वाह ...वाह......क्या बात है .......!!

    कुछ महकी महकी ......कुछ बहकी बहकी हैं हवाएं .....
    कोई बावरा कोई छलिया मुझे छेड़- छेड़ जाये .......

    ReplyDelete
  34. मूँद ली मैने ये पलकें फिर धर दिए घटा पे पाँव
    और ले चला वो बादल मुझे मेरे सपनों के गाँव

    बादलों की छाँव में ... सपनों के गाँव में ....
    सपनों की दुनिया में ले जाती है आपकी पोस्ट .... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  35. मूँद ली मैने ये पलकें फिर धर दिए घटा पे पाँव
    और ले चला वो बादल मुझे मेरे सपनों के गाँव
    बेहतरीन ख्वाब की रचना
    बादलों पर सवार होना और सपनों के गाँव की यात्रा क्या कहने

    ReplyDelete
  36. उड़ने की चाहत तो हमेशा रहती है बस उड़ाने वाला बादल चाहिंए.
    ..मन प्रसन्न कर देने वाली अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  37. मंगलवार 27 जुलाई को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है .कृपया वहाँ आ कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ .... आभार

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  38. पता नहीं मुझसे ऐसी गलती कैसे हो गयी......... कैसे मैं लेट हो गया ....मुझे भी नहीं पता.... इट्स अ रिअली अ ब्लंडर मिस्टेक.... आइन्दा नहीं होगी........ कविता बहुत अच्छी लगी....

    ReplyDelete
  39. bhaw bibhor kardiya kar diya kabita ne
    bahut acchha laga
    dhanyabad

    ReplyDelete
  40. कोमल और उदात्त भावों की सरस अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
  41. बादलों के साथ हम भी उड़ लिए.सुन्दर और कलात्मक.

    ReplyDelete
  42. किनारे रख चुकी हूँ मैं "पर"अब नहीं उड़ने की भी चाह
    फिर ना जाने क्या सोच कर मैंने थमा दी बांह अपनी

    प्राणी प्रकृति के साथ जुड़ा हुआ है।
    उससे जुदा होना बहुत ही कठिन है।

    आभार

    ReplyDelete
  43. जाने क्या सोच कर मैंने थमा दी बांह अपनी
    कि ले अब ले चल तू गगन का छोर है जहाँ



    समर्पण की शिखा पर बैठी हुई यह लौ !!
    बहुत सुन्दर !

    बधाई हो शिखा , आप पार हो गई।

    ReplyDelete
  44. बेहतरीन अभिव्यक्ति....बधाई.

    ReplyDelete
  45. बादलों के साथ ये भावनात्मक अठखेलियाँ निश्चित ही बहुत मन भावन है.....कविता में कल्पनाशीलता को बड़ी खूबसूरती से पेश किया है...!

    ReplyDelete
  46. सुन्दर भाव ...
    अच्छी कविता.....
    मूँद ली मैने ये पलकें फिर धर दिए घटा पे पाँव
    और ले चला वो बादल मुझे मेरे सपनों के गाँव
    खूबसूरत कल्पना ....

    ReplyDelete
  47. मूँद ली मैने ये पलकें फिर धर दिए घटा पे पाँव
    और ले चला वो बादल मुझे मेरे सपनों के गाँव
    वाह.. क्या बात है.. सावन का यूं स्वागत..शानदार

    ReplyDelete
  48. बादल पर मत कर भरोसा... बादल तो आवारा है!

    उड्ता फिरता है मारा मारा...ये तो खुद बेघर बंजारा है!

    .....लेकिन ये बादल तो भरोसे का निकला...सपनों के गांव की सैर कराई... भई वाह!...सुंदर कविता!

    ReplyDelete
  49. सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  50. कविता के भाव अति सुंदर हैं .आपने बड़ी ख़ूबसूरती से अपनी भावनाओं को शब्दों में पिरोया है बधाई

    ReplyDelete
  51. शिखा जी, बहुत खूबसूरत कविता रची है आपने। और हाँ, चित्र भी गजब का लगाया है। देखकर अच्छा लगा।
    …………..
    पाँच मुँह वाला नाग?
    साइंस ब्लॉगिंग पर 5 दिवसीय कार्यशाला।

    ReplyDelete
  52. कविता में क्‍ल्‍पना के साथ समर्पण है। आजकल की कविता में कहां इस तरह की बातें रह गई हैं।

    ReplyDelete
  53. "मूँद ली मैने ये पलकें फिर धर दिए घटा पे पाँव
    और ले चला वो बादल मुझे मेरे सपनों के गाँव"

    मुझे भी अपने साथ ले चलो इस खुबसूरत सफ़र में

    ReplyDelete
  54. जाने उसके मन में क्या मचल रहा था
    देखता हो ज्यूँ चंचलता से कोई
    मुझे अपनी उंगली वो थमा रहा था
    कह रहा हो जैसे आ ले उडूं तुझे मैं

    प्यारी अभिव्यक्ति बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  55. मूँद ली मैने ये पलकें फिर धर दिए घटा पे पाँव

    और ले चला वो बादल मुझे मेरे सपनों के गाँव

    बहुत सुन्दर कविता है बधाई

    ReplyDelete
  56. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  57. आपकी शुभकामनाएं मेरे लिए अमूल्य निधि है!....धन्यवाद!

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *