Enter your keyword

Monday, 14 June 2010

एक बुत मैडम तुसाद में .


बैठ कुनकुनी धूप में 
निहार गुलाब की पंखुड़ी 
बुनती हूँ धागे ख्वाब के 
अरमानो की  सलाई पर.
एक फंदा चाँद की चांदनी 
दूजा बूँद बरसात की 
कुछ पलटे फंदे तरूणाई के
कुछ अगले बुने जज़्बात के.
सलाई दर सलाई बढ चली 
कल्पना की ऊंगलियाँ थाम के.   
बुन गया सपनो का एक झबला 
रंग थे जिसमें आसमान से. 
जिस दिन कल्पना से निकल 
ये मन
जीवन के धरातल पर आएगा 
उस दिन मैडम तुसाद में एक बुत
इस नाचीज़ का  भी लग जायेगा.

56 comments:

  1. Kitna sundar buna hai yah khwab!Na,na,ise to aapke man me hee rahna chahiye..

    ReplyDelete
  2. ये क्या कह रहीं हैं आप.. मैडम तुसाद में जाने के लिए 'नाचीज़' नहीं 'चीज़' होना पड़ता है... :P
    खैर आप जरूर वहाँ पहुंचेंगी ये मुझे पता है.. पर उसके बाद टिकेट फ्री हो जायेगा ना???? २००० रुपये बचेंगे.. staff ke honge sare blogger then no ticket

    ReplyDelete
  3. wah wah wah.....another gem from you shikha ji...

    ReplyDelete
  4. वैसे एक गाना मैं भी खूब गाता हूँ -
    ''एक्टिंग का ऑस्कर मीले
    राइटिंग का बुकर मिले
    शांति का नोबल मिले..
    मैं ज्यादा नहीं मांगता..
    सुन भी ले.. सुन भी ले..
    सुन भी ले ऐ खुदा...........'' :)

    ReplyDelete
  5. दीपक जो चीज़ होते हैं ना वही खुद को नाचीज़ कहते हैं.. :):)

    बहुत खूबसूरत रचना

    कुछ पलटे फंदे तरूणाई के
    कुछ अगले बुने जज़्बात के ....
    सलाई दर सलाई बढ चली
    कल्पना की ऊंगलियाँ थाम के
    बुन गया फिर से एक ख्वाब

    एक एक पंक्ति..ख्वाब बुन रही है...

    ReplyDelete
  6. अरे दीपक ! एकदम सही जा रहे हो ..जरुर सुनेगा खुदा :) और टिकेट ? अरे फ्री क्या VIP Treatment मिलेगा जी मजाक बात है क्या ...:)

    ReplyDelete
  7. इतनी सुंदर अभिव्यकित की बहुत बहुत बधाई


    कुछ पलटे फंदे तरूणाई के
    कुछ अगले बुने जज़्बात के ....
    सलाई दर सलाई बढ चली
    कल्पना की ऊंगलियाँ थाम के
    बुन गया फिर से एक ख्वाब

    ReplyDelete
  8. जिंदगीभर ढूंढता रहा,
    तलाश मेरी ख़त्म न हुई।
    जिंदगीभर क्या ढूंढता रहा,
    यही मुझको खबर न हुई।

    thanx for visiting my Son;s Blog
    http://madhavrai.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. bahut sundar buna

    but ka taana baana

    http://sanjaykuamr.blogspot.com/

    ReplyDelete
  10. कल्पना की ऊंगलियाँ थाम के
    बुन गया फिर से एक ख्वाब

    यूँ ही नये ख्वाब सजते रहें। सुन्दर भाव।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  11. बैठ कुनकुनी धूप में
    निहार गुलाब की पंखुड़ी
    बुनती हूँ धागे ख्वाब के
    अरमानो की सलाई पर.
    एक फंदा चाँद की चांदनी
    दूजा बूँद बरसात की
    कुछ पलटे फंदे तरूणाई के
    कुछ अगले बुने जज़्बात के ....

    मन को छू लेने वाली रचना...

    ReplyDelete
  12. वाह...स्वप्निल ख्वाबों की कितनी खूबसूरत दुनिया बुनी है अपने...
    नीरज

    ReplyDelete
  13. सपनों के ताने बाने पर बुनी जीबन की खूबसूरत कहानी......बेहतरीन प्रस्तुति..बधाई।

    ReplyDelete
  14. सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  15. खूबसूरत ख्वाबो की नीड़. वैसे मैडम तुसाद क्या चीज है , वहा तो केवल मोम की प्रतिकृतिया सजाई जाती है , आप तो खुद कला की चलती फिरती संग्रहालय हो. जहा कलाए आपने आप को पाकर आपने भाग्य पर इठलाती है. मैंने कुछ भी तो अतिरंजित नहीं कहा.??

    ReplyDelete
  16. achcha socha ...hamein bhi VIP treatment dila dijiyega....bahut sundar rachna...

    ReplyDelete
  17. मंगलवार 15- 06- 2010 को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है


    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  18. अद्भुत शिल्प और सोच की कविता!

    ReplyDelete
  19. आप सोचेंगी...ये नाशुक्रा है...बदमाश है...दुआ करने की जगह बद्दुआ कर रहा है...पर अल्लाह मेरी माने, तो उससे यही कहूंगा...ये गुलाब की पंखुड़ी महकती रहे, बुनती रहे धागे ख्वाब के, अरमानो की सलाई सधी रहे, एक फंदा चाँद की चांदनी बुनती रहे...बूँद बरसात की चेहरे पर ओढ़े गुनगुनाती रहे...चमकती रहे. बात जज़्बात की होती रहे...ये कली महकती रहे...बुत ना बने...पत्थर की हो जाएगी अपनी शिखा...यूं ही ब्लॉग उपवन में महकती रहे...तुसाद से दूर ही रहे...

    ReplyDelete
  20. जिस दिन कल्पना से निकल ये मन
    जीवन के धरातल पर आएगा
    उस दिन मैडम तुसाद में एक बुत
    इस नाचीज़ का भी लग जायेगा.

    कल्पनाओं की उड़ान ने
    रचना को बहुत जानदार बना दिया है!

    ReplyDelete
  21. बुनती हूँ धागे ख्वाब के
    अरमानो की सलाई पर.
    ख्वाबो के धागे से बुनी एहसास की गर्माहट की आहट है ये रचना
    सुन्दर

    ReplyDelete
  22. शिखाजी , आपकी सारी बातें अच्छी लगी लेकिन ' मन के किसी खाली कोने में जिस दिन कल्पना से निकल ये मन जीवन के धरातल पर आएगा ' उस दिन जीवंत हो जाने की जगह एक निर्जीव बुत हो जाने का खयाल ...........चाहे वो किसी मैडम तुसाद में ही क्यों न हो .......कुछ और सोचिये :-)

    ReplyDelete
  23. बैठ कुनकुनी धूप में
    निहार गुलाब की पंखुड़ी
    बुनती हूँ धागे ख्वाब के
    अरमानो की सलाई पर.--------------------------ख्वाबों के धागे---अरमानों की सलाई--सुन्दर बिम्बों क प्रयोग्। बेहतरीन अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  24. वाह!! क्या कल्पना है!! बहुत खूब.

    ReplyDelete
  25. आप तो दिलों में बैठी हैं बुत बनकर, आप की जगह मैडम तुसाद में नहीं हमारे दिलों में है!

    ReplyDelete
  26. एक एक शब्द को आपने कितनी खूबसूरती से बुना है....शब्दों के फंदे से कविता की बुनाई बहुत अच्छी लगी......

    ReplyDelete
  27. तुसाद के बुतखाने में नहीं
    हम सब के मन में आप आदरणीया सदा थीं हैं और रहेंगी

    ReplyDelete
  28. रत्नाकर जी ने ये टिप्पणी गलती से दूसरी पोस्ट पर दी है मैं इसे यहाँ पेस्ट कर रही हूँ .

    main... ratnakar said...
    जिस दिन कल्पना से निकल
    ये मन
    जीवन के धरातल पर आएगा
    उस दिन मैडम तुसाद में एक बुत
    इस नाचीज़ का भी लग जायेगा.

    ghazab kar diya aapne, jitanee khubsoorat lekhani hai utana hee khubsoorat blog bhee. v indian r proud of people like you. pls do write more and more. got any time pls visit my blog www.mainratnakar.blogspot.com

    ReplyDelete
  29. आपका बलोग पढकर अच्चा लगा । आपके चिट्ठों को इंडलि में शामिल करने से अन्य कयी चिट्ठाकारों के सम्पर्क में आने की सम्भावना ज़्यादा हैं । एक बार इंडलि देखने से आपको भी यकीन हो जायेगा ।

    ReplyDelete
  30. कब लग रहा है बुत? अब तो हम तभी लंदन की यात्रा करेंगे।

    ReplyDelete
  31. बहुत सटीक...इस अन्तर्द्वन्द से मैं भी गुजरा...

    ReplyDelete
  32. अरे वाह...जरूर लगेगा और जल्दी ही लगेगा
    हिंदी ब्लॉग्गिंग की तरफ से भी तो कोई होना चाहिए

    ReplyDelete
  33. क्या संयोग है...इधर आपकी ये पोस्ट पढ़ रहा हूं, उधर गोल्ड एफएम पर गाना आ रहा है...

    किसी पत्थर की मूरत से...
    परस्तिश की तमन्ना है,
    इबादत का इरादा है,
    किसी पत्थर की मूरत से...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  34. Itni sundar abhivyakti......itni khubsurat soch......:)

    chha gayee aap!!

    sach me sapne dekho to aisee......Seedha Madam Tussad Meauseum ke darwaje ko dastak de gayee!!

    Lekin hame lagta hai, aap me hai wo dummmm...:D

    Hai na Sikha jee!!

    Waise saare Bloggers ki blessings to rahegi hi!!:D

    ReplyDelete
  35. सुन्दर रचना ...
    मन बस इतना हीं चाहता है
    खुदा आपकी मुराद पूरी करे...

    ReplyDelete
  36. बड़े सुन्दर शब्दों में अपने ख़्वाब को बुनने की प्रक्रिया बयां की है . बुत क्यों लगा रही हो , तुम सजीव ही काफी हो आओ हम माला पहना कर तुम्हारा अभिनन्दन करेंगे . इतनी सजीव कविता के लिए .

    ReplyDelete
  37. shikha ji,
    kalpana ki salaai par bade sunahre khwaab bune aapne...

    सलाई दर सलाई बढ चली
    कल्पना की ऊंगलियाँ थाम के
    बुन गया फिर से एक ख्वाब
    मन की किसी खाली कोने में
    जिस दिन कल्पना से निकल
    ये मन
    जीवन के धरातल पर आएगा
    उस दिन मैडम तुसाद में एक बुत
    इस नाचीज़ का भी लग जायेगा.

    jab aapka but madam tusaad mein lag jayega to aap to naacheez se cheez ban jayengi, par afsos aapke but ke sath main tasweer na khichaa paaungi. maine apni salaai ke fande se khwaab to zarur bune par us khwaab mein amrit na pee saki, to meri rooh wahan zarur pahuchegi aur beticket darshan karegi.
    maza aa gaya padhkar, khwaahish se hin to sambhaawna janm leti hai aur sapne pure hote...shubhkaamnayen.

    ReplyDelete
  38. रचना अतिसुन्दर ।

    ReplyDelete
  39. बहुत खूब मैडम, वैंसे मुझ जैंसे छोटे ब्यक्ति की प्रशंसा से आपकी अभिब्यक्ति को कोई फर्क नहीं पड़ता.लेकिन मैडम भगवान् से प्राथना है की आप जैंसे महान लोग जो, हम जैंसे लोगो की साहित्य की तृष्णा को बुझाते है, उन सबका बुत, मैडम तुसाद में लगे.

    ReplyDelete
  40. वाह्………………अकल्पनीय कल्पना साकार हो।

    ReplyDelete
  41. bahut bahut sundar lagi ye kavita...
    kalpana ki udaan aur shbdon ke gathan main taal mel dekhne yogy hai..
    khoobsurat..

    ReplyDelete
  42. जिस दिन कल्पना से निकल
    ये मन
    जीवन के धरातल पर आएगा
    उस दिन मैडम तुसाद में एक बुत
    इस नाचीज़ का भी लग जायेगा.

    आमीन ... ख्वाबों से निकल कर हक़ीकत की दुनिया में जल्दी ही आएँ .... भगवान आपको इतनी उँचाई दे की आपकी पहचान दुनिया में हो ...

    ReplyDelete
  43. कल्पनाएँ तो मन की सीमा तोड़ धरातल पर ब्लॉग के अवतरित होती ही जा रही हैं...और हम सब उसके रसास्वादन में आलिप्त हैं....यह यात्रा जारी रहें और कामयाबी वह दिन भी दिखाए कि राजनेताओं,और फिल्म अभिनेताओं के बाद किसी ब्लॉगर का बुत भी मैडम तुसाद की गैलरी में लग जाए...
    शुभकामनाएं एक करोड़ दस लाख :)

    ReplyDelete
  44. ब्लागर का बुत-हा हा हा
    बेनामी का अवश्य ही लगना चाहिए
    अगर नामी का न लग पाए तो।:)

    ReplyDelete
  45. bahut sundar tana bana buna hai..

    ReplyDelete
  46. khoobsurat dhage, koobsurat bunai, koobsurat khwab..... khobsurat kalpana, khoobsurat kavita, koobsurat kaviyitri.....wah! didi....behad sundar rachanaa hai....shubhkaamnaa.....

    ReplyDelete
  47. बहुत सुन्दर प्रस्तुति बधाई

    ReplyDelete
  48. बहुत सुन्दर प्रस्तुति बधाई

    ReplyDelete
  49. . भगवान आपको इतनी उँचाई दे की आपकी पहचान दुनिया में हो ...

    ReplyDelete
  50. सार्थक और बेहद खूबसूरत,प्रभावी,उम्दा रचना है..शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  51. एक फंदा चाँद की चांदनी
    दूजा बूँद बरसात की

    ye to ek dum katilon ke katil type ka misra hai ...zabardast ek dum ... :)

    जिस दिन कल्पना से निकल
    ये मन
    जीवन के धरातल पर आएगा
    उस दिन मैडम तुसाद में एक बुत
    इस नाचीज़ का भी लग जायेगा.

    heheh..aaameeeeeeeeeennnnnnn...aameeeeeeennnnnn

    bahut achhi nazm hai di ,...

    ReplyDelete
  52. par uske bad to aap bloggiong chhod dengi... akhir badei hasti ho jayengi...

    ReplyDelete
  53. गुमशुदा कविता की तलाश

    खो गई है
    मेरी कविता
    पिछले दो दशको से.
    वह देखने में, जनपक्षीय है
    कंटीला चेहरा है उसका
    जो चुभता है,
    शोषको को.
    गठीला बदन,
    हैसियत रखता है
    प्रतिरोध की.
    उसका रंग लाल है
    वह गई थी मांगने हक़,
    गरीबों का.
    फिर वापस नहीं लौटी,
    आज तक.
    मुझे शक है प्रकाशकों के ऊपर,
    शायद,
    हत्या करवाया गया है
    सुपारी देकर.
    या फिर पूंजीपतियो द्वारा
    सामूहिक वलात्कार कर,
    झोक दी गई है
    लोहा गलाने की
    भट्ठी में.
    कहाँ-कहाँ नहीं ढूंढा उसे
    शहर में....
    गावों में...
    खेतों में..
    और वादिओं में.....
    ऐसा लगता है मुझे
    मिटा दिया गया है,
    उसका बजूद
    समाज के ठीकेदारों द्वारा
    अपने हित में.
    फिर भी विश्वास है
    लौटेगी एक दिन
    मेरी खोई हुई
    कविता.
    क्योंकि नहीं मिला है
    हक़.....
    गरीबों का.
    हाँ देखना तुम
    वह लौटेगी वापस एक दिन,
    लाल झंडे के निचे
    संगठित मजदूरों के बिच,
    दिलाने के लिए
    उनका हक़.

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *