Enter your keyword

Wednesday, 19 May 2010

'एक शून्य तृप्ति..!!



आजकल भाव
सब सूख से गए हैं
आँखों से पानी भी
गिरता नहीं
परछाई भी जैसे
जुदा जुदा सी है
मन भी अब
पाखी बन उड़ता नहीं
पंख भी जैसे
क़तर गए हैं.
पर फिर भी
ये दिल धडकता है
ज्यादा इत्मीनान से.
ख़ुशी भी झलकती है
अपने पूरे गुमान से
हाँ पर
ख़्वाबों को मेरे
ज़ंग लग गई है

54 comments:

  1. ऐसा ही कुछ मेरे साथ हैं... भाव सूख गए हैं..... कुछ ख्याल ही नहीं रहता.... पर आँखों से पानी गिरता है.... आँखों से पानी दो कारणों से गिरता है...एक तो माँ की बहुत याद आती है.... दूसरा यह सोच कर कि जिन्हें मैं अपना समझता हूँ... वही धोखा दे देते हैं.... कई बार मैं भी अपनी परछाई देखता हूँ.... तो हर वक़्त ऐसा लगता है कि सूरज ...हमेशा सर पर ही रहता है....परछाई दिखाई ही नहीं देती... मन अब उड़ता ही नहीं.... पंख तो नहीं कतरे गए हैं.... हाँ ! पंखों को ज़ंग लग गया है.... बिलकुल वैसे... जैसे ख़्वाबों को... कोई तरंग ही नहीं है....

    कविता वही सच्ची होती है.... जिससे पाठक खुद को जोड़ सके.... और आपने यह अपनी इस कविता में यह बख़ुभी निभाया है.... यह कविता मेरे कहीं अन्दर तक उतर गयी है... ऐसा लगा कि आपने मेरी ही फीलिंग्स को लिख दिया है.... इतनी अच्छी कविता के लिए... आपका बहुत बहुत थैंक्स .....

    ReplyDelete
  2. "बहुत भावमयी रचना..."

    ReplyDelete
  3. क्या बात है दी?? महफूज़ भैया तो गर्मी की वजह से फ्रस्टेट हैं, आपको क्या हुआ? :)

    ReplyDelete
  4. "बहुत भावमयी रचना

    ReplyDelete
  5. @ दीपक ! हा हा हा ..मुझे घर शिफ्ट करना है ..

    ReplyDelete
  6. गहन नैराश्य भाव लिए हुए आपकी ये कविता.. मै सोचता हूँ अगर मन के पाखी का स्थाई भाव नैराश्य बन जाये तो जिन्दगी कितनी अजीब सी होती होगी ना. और शुन्य तो हमेशा ही अतृप्त होता है. और सबको अपने में विलीन कर लेता है.
    बहुत सुन्दर कविता .आभार

    ReplyDelete
  7. ख्वाबो को जंग मत लगने दीजिये ... आँखों का क्या होगा ..
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  8. आजकल भाव
    सब सूख से गए हैं
    आँखों से पानी भी
    गिरता नहीं
    परछाई भी जैसे
    जुदा जुदा सी है

    शिखा जी बहुत सुंदर भाव...बढ़िया रचना के लिए बधाई

    ReplyDelete
  9. दिल से निकली भावमय प्रस्तुति , बधाई ।

    ReplyDelete
  10. आजकल भाव
    सब सूख से गए हैं

    यहाँ तो बहुत गर्मी है...सब कुछ सूख रहा है.. :):)

    आँखों से पानी भी
    गिरता नहीं

    सावन को आने दो...

    परछाई भी जैसे
    जुदा जुदा सी है

    धूप में निकला ही नहीं जाता..परछाईं कहाँ से साथ होगी?

    मन भी अब
    पाखी बन उड़ता नहीं

    पंख क़तर दिए हैं

    ये दिल धडकता है
    ज्यादा इत्मीनान से.
    ख़ुशी भी झलकती है
    अपने पूरे गुमान से

    बस ये गुमान रहे काफी है..:):)

    ख़्वाबों को मेरे
    जंग लग गई है

    ह्म्म्म...हकीकत का सैंड पेपर लो और छुडाओ जंग....

    ***************

    रचना मन को छूने वाली....बहुत भावमयी...पढते हुए नमी आ गयी....ऊपर जो कुछ लिखा शायद नमी को छुपाने का एक बहाना मात्र...

    ReplyDelete
  11. संगीता जी ने सही कहा .....सैंड पेपर ले लीजिये और छुड़ाइए ये जंग ...वैसे निम्बू से भी छूट जाता है ......

    अरे इतनी खूबसूरत सखी ख्वाब नहीं देखेगी तो कौन देखेगा भला ......!!

    ReplyDelete
  12. सुन्दर भावमयी कविता ...
    अच्छा लगा पढना...

    ReplyDelete
  13. बहुत ही गहरी और परिपक्व रचना.......

    ReplyDelete
  14. bahut sundar rachna...par khwaabon ko jara regmaal laga dijiye...unhe jang na lagne dijiye...

    ReplyDelete
  15. वाह क्या बात कही है

    ReplyDelete
  16. ख़्वाबों को मेरे
    जंग लग गई है
    जंग लगे ख्वाब थोड़ा फड़फ़ड़ायेंगे
    जंग हटते ही ऊँची उड़ान पर जायेंगे

    ReplyDelete
  17. आँखों का पानी उतरे न भले ही सूख जाय -कुछ कहती है कविता !

    ReplyDelete
  18. बेहतरीन रचना .....भावपूर्ण

    ReplyDelete
  19. वाह! बहुत गहरे! उतर गये भाव दिल में...

    ReplyDelete
  20. अब दिल्ली आकर भी संतों से नहीं मिलेंगी तो यही होगा...शून्य के साथ तृप्ति...बेहतरीन कंट्रास्ट है...

    मेरे ख्याल से जंग से आपका तात्पर्य रस्ट से है...तो फिर इसे ज़ंग कर लीजिए...जंग तो वॉर होती है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति,
    जब तुम ही जंग को स्वीकार करोगी तो रुक न जायेगी ये सृष्टि की प्रक्रिया.
    बस मन की आँखें खोलो
    सब उसी तरह से है
    तुम्हारे रंग भरने की जरूरत है

    ReplyDelete
  22. हाँ पर
    ख़्वाबों को मेरे
    ज़ंग लग गई है
    Alfaaz aur kalpana ko to qatayi zang nahi hai..vilakshan pratibha shaali hain...dua karti,hun, khwabon pe laga zang jald utar jaye..

    ReplyDelete
  23. bahut hi sundar rachna.

    lakh tatolo man ko ab,
    sab bhavsunya sa lagta hain.
    lakh sameto khwabo ko,
    sab bikhra-bikhra sa lagta hain.

    ReplyDelete
  24. ज़िन्दगी फेज़ में ही तो आती है.. क्या नहीं?

    ReplyDelete
  25. nakaratmakta hai ...par behad achhi rachna hai di .. :) naye nazare dekhiye...khaabon ki jung utar jayegi.. :) yaa khab hi naye ho jayenge.. :)

    ReplyDelete
  26. सुन्दर रचना ,ऐसे पल भी आते हैं उदासी के,... बस वे ठहर ना पायें,ये कोशिश करनी है...

    कुछ पंक्तियाँ याद आ गयीं,..जिनकी तुम A.C.हो :) हाँ यानि जावेद अख्तर की...( सबने, मेरी पुरानी डायरी का इतना जिक्र किया कि बहुत कुछ याद आ गया...नोट किया हुआ.)

    "एक ये दिन, जब जागी रातें,दीवारों को तकती हैं
    एक वो दिन जब शाम को भी पलकें बोझिल रहती थीं.
    एक ये दिन जब ,लाखों गम और अकाल पड़ा है आँसू का,
    एक वो दिन जब जरा सी बात पर नदियाँ बहती थीं."

    ReplyDelete
  27. जंग लगे ख्वाब शून्य तृप्ति ही दे सकते हैं ..

    भावुक कर दिया ...!!

    ये महफूज़ खुद तो कुछ नहीं लिखताहै ...
    बस दूसरों की कविता हड़पता है ...
    इसका ब्लॉग तो सिर्फ ब्लोगर्स का आभार प्रकट करने के लिए है

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर रचना है।बधाई।

    ReplyDelete
  29. वाह....बहुत ही भावुक मनमोहक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  30. Hi..

    Jang Khwaab main lagne na den..
    Unhen mahkta sa rakhen..
    Prem hruday main basata hai jo..
    Use chhalakta sa rakhen..

    Khwab chah dikhlate saare..
    Chah se jeevan chalta hai..
    Chah na ho to band ghadi sa..
    Jeevan bhi na chalta hai..

    DEEPAK..

    ReplyDelete
  31. bahut hi sadgi se bhavon ko saheja hai.

    ReplyDelete
  32. bahut hi uttam rachna....
    sochne par majboor kiya....
    yun hi likhte rahein...
    -----------------------------------
    mere blog par meri nayi kavita,
    हाँ मुसलमान हूँ मैं.....
    jaroor aayein...
    aapki pratikriya ka intzaar rahega...
    regards..
    http://i555.blogspot.com/

    ReplyDelete
  33. nice khubsurti se likha hai badhaiyan

    ReplyDelete
  34. पहले मुझे लगता था भाव सूखने की भी कोई उम्र होती होगी फ़िर यहा जब सबको पढा तो ये भाव भी टूटा.. हमे हर कदम, हर मन्जिल के बाद सोचना पड्ता है 'what is next?' और कभी कभार तो मन्जिले ही नही दिखती... पंखों को ज़ंग नही लगा.. शायद काफ़ी समय से आपने उडा ही नही.. एक अन्ग्रेजी मूवी थी ’the girl next door'.. उसमे बन्दी एक बडी सही बात अक्सर पूछती थी ’what is the last craziest thing you have done' बडी समझ आयी हमे :) तब से कभी कभार पगला जाते है :)

    बहुत सुन्दर कविता.. जैसे बहुत कुछ सिखा गयी हो..

    @रश्मि जी:
    डायरी का सबने किसने जिक्र किया? :)

    ReplyDelete
  35. jung lage khababo se bhi aapne badi pyari panktiyan rach di........:)

    khubsurat rachna!!

    kabhi samay mile to yahan aayen

    http://utsav.parikalpnaa.com/2010/05/blog-post_7945.html

    www.jindagikeerahen.blogspot.com

    ReplyDelete
  36. अद्भुत...शानदार प्रस्तुति..बधाई.

    ____________________________
    'शब्द-शिखर' पर- ब्लागिंग का 'जलजला'..जरा सोचिये !!

    ReplyDelete
  37. are nahin-nahin aisa nahin honaa chaaiye....haan....kavitaa magar acchhi ban padi hai sach.....

    ReplyDelete
  38. ये दिल धडकता है..ज्यादा इत्मीनान से.
    ख़ुशी भी झलकती है..अपने पूरे गुमान से
    हाँ पर..ख़्वाबों को मेरे....ज़ंग लग गई है
    ?????????????????????????????
    क्यों शिखा जी?
    ये जंग मत लगने दीजिये....तमन्नाओं की चमक कायम रखिये..
    यही ज़िन्दगी है.

    ReplyDelete
  39. yahi tripti, yahi muskaan us jung per bharee padti hai
    subah tript man kee khaas dost ban jati hai aur sare bhaw laut aate hain

    ReplyDelete
  40. Agar ise jang kahte hain....to laga rahne dijiye... dheere dheere chhute to shabdon ki khubsurat baarish mayassar hogi...

    Bahut din baad aapko padha...wahi khushi hui

    ReplyDelete
  41. "khwaabon ko jung"... kaafu sundar bimb ban pada hai...accha likhti hai..likhte rahein!

    ReplyDelete
  42. कभी कभी ऐसा होता है ... आप तो उसपर भी इतनी सुन्दर रचना लिख डाली ...

    ReplyDelete
  43. ऐसा होता रहता है अक्सर ... पर ख्वाबों को जंग नही लगना चाहिए ... वो जीवित रहने चाहिएं .... तभी तो सृजन की गुंजाइश बची रहेगी ....

    ReplyDelete
  44. ख़ुशी भी झलकती है
    अपने पूरे गुमान से
    हाँ पर
    ख़्वाबों को मेरे
    ज़ंग लग गई है
    .....मनोभावों की भावपूर्ण प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  45. Shikha tumhari ye rachna kayi baar padhi ek saath...har baar kahin na kahin dil ko chhuti rahi....

    keep writing dear!

    ReplyDelete
  46. शिखा Didi बहुत सुंदर भाव...बढ़िया रचना के लिए बधाई

    ReplyDelete
  47. आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ, क्षमा चाहूँगा,

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *