Enter your keyword

Monday, 8 March 2010

वहीं जहाँ से आई थी

नारी

बंद खिड़की के पीछे खड़ी वो,
सोच रही थी कि खोले पाट खिड़की के,
आने दे ताज़े हवा के झोंके को,
छूने दे अपना तन सुनहरी धूप को.
उसे भी हक़ है इस
आसमान की ऊँचाइयों को नापने का,
खुली राहों में अपने ,
अस्तित्व की राह तलाशने का,
वो भी कर सकती है
अपने, माँ -बाप के अरमानो को पूरा,
वो भी पा सकती है वह मक़ाम
जो पा सकता है हर कोई दूजा.
और फिर ये सोच हावी होने लगी
उसके पावन ह्रदय स्थल पर.
मन की उमंग ने ली अंगड़ाई,
और सपने छाने लगे मानस पटल पर,
क़दम उठाया जो बढाने को तो,
किसी अपने के ही प्रेम की बेड़ियाँ
पावों में पड़ी थीं,
कोशिश की बाँहें फेलाने की तो,
वो कर्तव्यों के बोझ तले दवी थीं.
दिल - ओ दिमाग़ में मची थी हलचल,
ओर वो खड़ी थी बेबस लाचार सी,
ह्रदय के सागर में
अरमान कर रहे थे कलकल,
और वो कोशिश कर रही थी
अपने वजूद को बचाने की.
तभी अचानक पीछे से आई
बाल रुदन की आवाज़ से,
उसके अंतर्मन का द्वन्द शांत होने लगा,
दीवार पर लगी घड़ी
शाम के सात बजा रही थी,
ओर उसके ह्रदय का तूफ़ान
धीरे से थमने लगा.
सपने ,महत्वाकांक्षा ,
और अस्तित्व की जगह,
बालक के दूध की बोतल
हावी होने लगी विचारों पर,
पति के लिए नाश्ता
अभी तक नही बना,
और रात का खाना हो गया
हावी उसके मनोभावों पर.
और वो जगत की जननी,
ममता मयी रचना ईश्वर की,
भूल गई सब और बढ चली
वहीं जहाँ से आई थी,
मैत्रेई और गार्गी के इस देश की
वो करुण वत्सला नारी थी

45 comments:

  1. तुम्हारी कविता ने ना जाने कितने दृश्य आँखों के आगे साकार कर दिए. लगा जैसे अधखुले पट के पीछे से ना जाने कहाँ कहाँ कितनी जोड़ी आँखें...देख रही होंगी सपने,खुली आँखों से ..हिरणी की तरह कुलांचे भरने को...पतंग की तरह खुली आकाश में उड़ने को...या फिर कलकल नदी की तरह अपनी ही गति से ,अपनी ही राह बनाते बहने को...पर जैसा कि लिखा है तुमने...
    दीवार पर लगी घड़ी
    शाम के सात बजा रही थी,
    ओर उसके ह्रदय का तूफ़ान
    धीरे से थमने लगा

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरती से एक महिला के जीवन का हर एक दिन सामने लाकर रख दिया है. हर रोज की उधेड़बुन हर रोज की जद्दोजेहद बेहतरीन

    ReplyDelete
  3. women's day par ek shashakt nari ke charitr ko darshati
    khoobsurat rachna

    ReplyDelete
  4. मगही में...

    "कैसे अयियो? बुतरू रोबहो."
    अभी बुतरू के दूध, नय पिलैलिओह,
    "कैसे अयियो? बुतरू रोबहो."

    हिन्दी में...

    कैसे आयें? बच्चा रोता है.
    अभी बच्चे को दूध नहीं पिलाए हैं.
    कैसे आयें? बच्चा रोता है

    उपरोक्त पंक्तियाँ माँ द्वारा कही गयी है जब पति उसे बुलाता है....


    आपकी कवित लाजबाब....

    ReplyDelete
  5. बहुत बढिया अभिव्‍यक्ति, बधाई।

    ReplyDelete
  6. उसे भी हक़ है
    इस आसमान की
    ऊँचाइयों को नापने का.
    ....शिखा जी, बार बार पढ़ने लायक रचना.
    महिला दिवस पर शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  7. सपने ,महत्वाकांक्षा ,
    और अस्तित्व की जगह,
    बालक के दूध की बोतल
    हावी होने लगी विचारों पर,
    पति के लिए नाश्ता
    अभी तक नही बना,
    और रात का खाना हो गया
    हावी उसके मनोभावों पर
    महिला जीवन का सच बहुत अच्छी तरह शब्दों मे बान्ध दिया। एक ही जीवन मे कितने जीवन जीती है नारी? दिल को छू गयी रचना। शुभकामनायें

    ReplyDelete
  8. ममता मयी रचना ईश्वर की,
    भूल गई सब ओर बढ चली
    वहीं जहाँ से आई थी,
    मैत्रेई और गार्गी के इस देश की
    वो करुण वत्सला नारी थी


    बेहद सटीक और सुंदर शब्दों में वर्णन किया है आपने. बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. हावी उसके मनोभावों पर.
    और वो जगत की जननी,
    ममता मयी रचना ईश्वर की,
    भूल गई सब ओर बढ चली
    वहीं जहाँ से आई थी

    -एक चित्रपट की तरह बहती कविता...सुन्दरता से गढ़ा है, बधाई.

    अंतर राष्ट्रीय महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.

    -उड़न तश्तरी

    ReplyDelete
  10. .
    .
    .
    ऐसे मनाये महिला दिवस

    सर्वसाधारण के हित में >> http://sukritisoft.in/sulabh/mahila-diwas-message-for-all-from-lata-haya.html

    ReplyDelete
  11. नारी मन की वेदना, व्यथा, धीर-गंभीर त्याग तपस्या ...सब कुछ तो है पर क्या करोगी कह कर...
    कुछ अजीब सा हो गया है मन ...महसूस कर रही हूँ पर कह नहीं पा रही...
    अन्दर जाने क्या टूटा है.. !!

    ReplyDelete
  12. नारी के विभिन्न रूपों पर अच्छी कविता,कभी माँ तो कभी बीवी तो कभी बहन,सुन्दर रचना.श्रेष्ट पक्तियां .
    विकास पाण्डेय
    www.विचारो का दर्पण.blogspot.com

    ReplyDelete
  13. मातृ-दिवस पर मातृ-शक्ति को नमन!

    ReplyDelete
  14. nari jeevan ka katu satya uker diya hai.

    ReplyDelete
  15. अदा जी ! इतना दुखी न होइए ..ये तो हमारे समाज की विडंबना है और हमें इसे झेलने की शक्ति बचपन से ही मिलती है ...इतने कमजोर नहीं हम की इन बातों से टूट जाएँ और आप तो बिलकुल भी नहीं :)so cheer up ...Indian women still have to go very far :).

    ReplyDelete
  16. shikha ....ekdam sachchai bayaan kar dee....lekin ...niraash kyun hona....hum aise main hee apne lie jagah bana lenge....wat say?

    ReplyDelete
  17. shikha...bahut sundar ...yahee hota hai...ham logon ke saath...lekin koi nahi hum isme bhi samy apne liye nikaal lenge....kya kahtee ho?

    ReplyDelete
  18. खुले आसमान में पंख फैलाये उड़ने से अधिक कठिन है घर के भीतर पल रहे बच्चों को उड़ने के लिए तैयार करना। यह बड़ा काम करते हुए ही स्त्री त्याग और बलिदान की प्रतिमूर्ति बन जाती है।

    अपने लिए जिए तो क्या जिए, तू जी ऐ दिल जमाने के लिए...
    नारी शक्ति को नमन्‌

    ReplyDelete
  19. ताज़े हवा
    खुली राहों में अपने ,

    मनोभाव व्यक्त करने में सफल! कुछ सुझाव है, यदि अन्यथा न लें
    जैसे
    'वो भी पा सकती है वो मकाम' को पा सकती है मक़ाम कर लें
    और उसके नीचे 'पता' को बता फिर 'नही' को नहीं कर लें.

    और हाँ वो के स्थान पर वह कर लें .

    यूँ आपकी मर्ज़ी.

    आभार अच्छी कविता पढवाने के लिए.

    ReplyDelete
  20. नारी की स्थिति को सही चित्रित करती अच्छी रचना....

    महिला दिएअस की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  21. ह्रदय के सागर में
    अरमान कर रहे थे कलकल,
    और वो कोशिश कर रही थी
    अपने वजूद को बचाने की.
    तभी अचानक पीछे से आई
    बाल रुदन की आवाज़ से,
    उसके अंतर्मन का द्वंड शांत होने लगा,
    दीवार पर लगी घड़ी
    शाम के सात बजा रही थी,
    ओर उसके ह्रदय का तूफ़ान
    धीरे से थमने लगा.
    सपने ,महत्वाकांक्षा ,
    और अस्तित्व की जगह,
    बालक के दूध की बोतल
    हावी होने लगी विचारों पर,
    बहुत-बहुत सुन्दर रचना. बधाई.

    ReplyDelete
  22. तारीफ़ के लिये शब्द नही है मेरे पास!एक शब्द मे कहूं तो बस ,लाजवाब!

    ReplyDelete
  23. Bahut sundar rachana nari jivan ka ytharth chitran kiya hai aapane....Happy Women's Day!!

    ReplyDelete
  24. Hi..
    Bachpan main padha tha..
    'Nari jeevan haai tumhari yahi kahani..
    Aanchal main hai doodh..aur ankh main pani..'
    sadiyon se ghar parivar main ghulti-pisti nari ke swayn ke swapn parivar ki apekshaon ke aage kaise gaun ho jaate hain yah aapki kavita ne swatah darshaya hai..

    Haalanki samay ke sath samajik manytayen badal rahi hain, aur badalte parivesh main naari aaj ek safal udyogpati, bureacrate, rajnitigya, khiladi, shishak..aadi ban rahin hain.. Aur to aur Bharat main to Rastrpati tak ek Mahila hain.. Aur wo din door nahi jab aapki kavita ki yah vyatha katha.. Khushi ke Geet main badal jayegi.. Us din ka intejaar hum bhi tahe dil kar rahe hain..
    DEEPAK SHUKLA..

    ReplyDelete
  25. Mahila divas ki hardik shubh kamnayen..
    DEEPAK SHUKLA..

    ReplyDelete
  26. नारी का यह रूप सबसे सुन्दर है ।

    ReplyDelete
  27. हावी उसके मनोभावों पर.
    और वो जगत की जननी,
    ममता मयी रचना ईश्वर की,
    भूल गई सब और बढ चली
    वहीं जहाँ से आई थी,
    शिखा ....क्या कहूँ इस कविता पर ....
    अकसर लौट जाती है वह वापस वही ...यही इस देश, इस संस्कृति की विशेषता है ... इसके लिए उसे किसी संस्कृति के ठेकेदार के निर्देशों की की जरुरत नहीं होती ...वह स्वयं अपनी मर्यादा, अपना रास्ता चुनती है ...
    बहुत अच्छी कविता ....बहुत बढ़िया ...!!

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर लिखा है आपने ।

    ReplyDelete
  29. bahoot achha likha hai vaise bhi is samay nariyo ka jamaana mahila bill pass hone jaraha hai danyavad

    ReplyDelete
  30. मैत्रेई और गार्गी के इस देश की
    वो करुण वत्सला नारी थी

    नारी नारी के अलावा भी बहुत कुछ है ... शायद ये बात उसे पुरुष से जुदा और उससे ऊँचा बनाती है .... करुणा के अलावा .. नारी साहस भी है, शक्ति भी है .... किरण बेदी भी है और कल्पना चावला भी है ...

    ReplyDelete
  31. बहुत बढिया लिखा !!

    ReplyDelete
  32. sach kahun to ab tumharee kalam paini ho chali hai

    ReplyDelete
  33. देख और पढ रहा हूं कि महिला दिवस पर आप सबकी लेखनी ने इस दिवस की सार्थकता में चार चांद लगा दिए हैं और आप सबने धूम मचा दी है । इससे कुछ कम मिलता तो निराशा होती ..अच्छा लगा हमेशा की तरह ....शुभकामनाएं
    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  34. बस एक ही शब्द- अद्भुत !

    ReplyDelete
  35. naari ke manovigyaan ko
    bkhoobi darshaaya aapne apni rachna mei
    hamaare apne hi samaaj ko
    aaeena dikhaate hue aapke steek vichaar
    aur manobhaav prabhaavshali bn pade haiN
    aur
    Rashmiji ki baat vichaarneey hai

    ReplyDelete
  36. यह करुणा और वात्सल्य ही नारी जीवन को पूर्णता प्रदान करता है , लगता है इससे अधिक कुछ भी नहीं , शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  37. नारी क्यों हो तुम ऐसी
    तुमसे है अस्तित्व
    तुमसे है जीवन
    फिर भी तुम क्यों हो खुद का ही अस्तित्व खोजती!!!

    ReplyDelete
  38. "वो भी कर सकती है
    अपने, माँ -बाप के अरमानो को पूरा,
    वो भी पा सकती है वह मक़ाम.."

    बहुत ही सुन्दर एवं मार्मिक रचना ।
    आज की नारी, पुरुषो से कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं । उनके लिये आज कोई भी कार्य मुशकिल नहीं । बधाई ।

    ReplyDelete
  39. Blog ka Naya roop achchha laga..
    kavita to behatreen hai aaj ki.. ise print media me try kiziye.. bura na manen to apna no. de diziyega.. 1st April ko main London aa raha hoon 3-4 din ke liye..

    ReplyDelete
  40. mera no. hai 07515474909.. cdhahen to missed call ya message karen.

    ReplyDelete
  41. वो करुण वत्सला नारी थी....
    बस यही तो ...
    बहुत सशक्त दिल को छूती कविता !

    ReplyDelete
  42. phir mamta sansar banaakar mujh sang kheli kitne khel

    ReplyDelete
  43. ".....और अस्तित्व की जगह,
    बालक के दूध की बोतल
    हावी होने लगी विचारों पर,
    पति के लिए नाश्ता
    अभी तक नही बना,
    और रात का खाना हो गया
    हावी उसके मनोभावों पर....!"दिल को छूती अभिव्यक्ति, सचमुच अद्भुत रचना ...कोटिश: बधाईयां और शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  44. एक पुरुष होने के नाते, इस कविता में छिपी गहरी संवेदनायें, अस्तित्व के लिये अव्यक्त छटपटाहट, और पुरुषों के लिये मामूली लगने वाले स्ट्रेस्स बिंदु,को समझ पाना मुश्किल रहा मगर कविता नें आसान किया ज़रूर. धन्यवाद. नया कलेवर विशाल हृदय को परिलक्षित करता है.

    ReplyDelete
  45. शिखा जी.....टिप्पणी को क्लिक तो किया था कुछ कहने के लिए.....लेकिन सच कहूँ......??आज कुछ कहने में मैं असमर्थ हो गया हूँ....मन भीतर तक भीग गया है.....मैं इस बाबत क्या सोचता हूँ.....क्या कहूँ.....क्या बताऊँ.....आज छोड़ो.....!

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *