Enter your keyword

Wednesday, 30 December 2009

मुठ्ठी भर रेत


नया साल फिर से दस्तक दे रहा है ...और हम फिर, कुछ न कुछ प्रण कर रहे हैं अपने भविष्य के लिए ....कुछ नाप तोल रहे हैं ..क्या पाया ? क्या खोया ? ये नया साल जहाँ हम सबके लिए उम्मीदों की नई किरण लेकर आता है ,वहीँ हम सबको आत्मविश्लेषण का एक मौका भी देता है....ये बताता है की वक़्त कभी किसी के लिए नहीं ठहरता.वक़्त किसी का इंतज़ार नहीं करता ...हमें उसके साथ कदम से कदम मिलाने पड़ते हैं.....आज इसी अवसर पर ये कविता आपके समक्ष है ...अवसर के मुताबिक खुशगवार नहीं है ..इसके लिए क्षमाप्रार्थी हूँ.
मुठ्ठी भर रेत
हर पल हर क्षण होती हैं
तमन्नाएँ,ख्वाइशें महत्वकांक्षाएँ
भरने कि उड़ान,छूने की आसमान
पर नहीं होती दृढ इच्छाशक्ति
कमजोर पड़ जाती हैं कोशिशें
अलग हो जाती हैं प्राथमिकतायें.
और इंतज़ार करते रहते हैं हम
सही वक़्त का.
अचानक.
एहसास होता है
अपनी नाकामी का
उन बहानों का
जिन्हें वक़्त के ऊपर
टाल दिया हमने
और फिर
अवसाद विषाद और
तनाव के बीच
हम रह जाते हैं देखते
अपनी खाली हथेलियों को
जिनसे फिसल गया था वक़्त
बंद मुठ्ठी में से रेत कि तरह

40 comments:

  1. Nav Varsh ki hardik shubhkamna..!!

    ReplyDelete
  2. वक्त रेत ही तो है जो प्रतिपल खिसकता जा रहा है
    Happy New Year 2010

    ReplyDelete
  3. बंद मुट्ठी से रेत इसलिए फिसलती है क्योंकि उसी मुट्ठी में इक दिन आसमां ने समाना है...उसके लिए जगह तो खाली
    होनी चाहिए न...

    नया साल आप और आपके परिवार के लिए असीम खुशियां ले कर आए...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  4. कर्म की प्रधानता को हायीलायीट करती एक सशक्त रचना

    ReplyDelete
  5. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति!!


    यह अत्यंत हर्ष का विषय है कि आप हिंदी में सार्थक लेखन कर रहे हैं।

    हिन्दी के प्रसार एवं प्रचार में आपका योगदान सराहनीय है.

    मेरी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं.

    नववर्ष में संकल्प लें कि आप नए लोगों को जोड़ेंगे एवं पुरानों को प्रोत्साहित करेंगे - यही हिंदी की सच्ची सेवा है।

    वर्ष २०१० मे हर माह एक नया हिंदी चिट्ठा किसी नए व्यक्ति से भी शुरू करवाएँ और हिंदी चिट्ठों की संख्या बढ़ाने और विविधता प्रदान करने में योगदान करें।

    आपका साधुवाद!!

    नववर्ष की बहुत बधाई एवं अनेक शुभकामनाएँ!

    समीर लाल
    उड़न तश्तरी

    ReplyDelete
  6. मुट्ठी से रेत की तरह फिसलती है जिन्दगी ...क्या खूब ...
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ...!!

    ReplyDelete
  7. it is not always enough to forgiven by others.Sometimes you have to learn to forgive yourself. Happy new year didi. Arvind tank

    ReplyDelete
  8. नए साल की बहुत बहुत बधाई ..पसंद आई आपकी यह रचना

    ReplyDelete
  9. सुन्दर अभिव्यक्ति.....वक़्त यूँ ही रेत की तरह फिसल जाता है.....इसे बंध तो नहीं सकते पर
    सही उपयोग में ला सकते हैं....बधाई
    नव वर्ष की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  10. शानदार जानदार पोस्ट
    नुतन वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  11. @sameerjee! bahut samman ke saath, lekin ise aap kya kahiyega!

    आप हिंदी में सार्थक लेखन कर रहे हैं।

    waise aap achcha likh rahi hain.bahut hi bhavpurn kavita.nikat sach ke.

    ReplyDelete
  12. बढिया रचना है।बधाई।
    आप को तथा आपके परिवार को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  13. हम रह जाते हैं देखते
    अपनी खाली हथेलियों को
    जिनसे फिसल गया था वक़्त
    बंद मुठ्ठी में से रेत की तरह
    कभी लौट कर ना आनेवाले,बीतते वक़्त का...अच्छा अहसास दिलाया..बढ़िया अभिव्यक्ति
    नव वर्ष की ढेरों शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  14. हक़ीकत की धरातल पर लिखी रचना है .... अक्सर बीती बातों को लेकर कभी कभी पछतावा होता है ....... पर वक़्त तब निकल चुका होता है .... बहुत उम्दा बात ........
    आपको और आपके पूरे परिवार को नये साल की बहुत बहुत शुभकामनाएँ ........

    ReplyDelete
  15. waah .........kya baat kah di.

    nav varsh mangalmay ho.

    ReplyDelete
  16. bohot khoob....
    naya sal mubarak....
    likhte rahiye..
    shubhkamnaye..

    ReplyDelete
  17. सच कहा है शिखा जी,
    बस ये है कि जीवन इसी तरह शिक्षा भी तो देता है
    नववर्ष की शुभकामनाएं
    शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

    ReplyDelete
  18. हम रह जाते हैं देखते
    अपनी खाली हथेलियों को
    जिनसे फिसल गया था वक़्त
    बंद मुठ्ठी में से रेत कि तरह

    अति सुन्दर रचना

    आशु

    ReplyDelete
  19. जीवन कि सही समझ किसी भी तनाव किसी भी विषाद किसी भी भय से व्यक्ति ही नहीं समाज को भी मुक्त रख सकती है .. स्वयं को कविता में अभिव्यक्त कर पाना भी जीवन कि समझ को विकसित करने कि दिशा में कला पूर्ण प्रयास होता है.. जीने के अतिरिक्त जीवन में कुछ भी नहीं जिसके लिए जिया जाये या मरा जाये... जो कुछ जीवन में मिला है उस पर गहरी नजर से कभी देखिये..जीवन ही मूल है शेष सब bonus है

    ReplyDelete
  20. apni baat ko kehne k liye shabdo ka achha chunaav hai.badhayi.

    ReplyDelete
  21. Rachna achchi lagi.Nav varsh ki dheron shubkamnayen.

    ReplyDelete
  22. Dil gadgad hota hai..jab aap jaisi bahumukhi pratibhaye videsho me hote huwe bhi hindi ka hath nahi chhodati....jab ki dusre taraf apne hi desh me hindi ko jalakar rajniti ki roti seki jatin kai...!
    Apki pratibha ko NAMAN.......

    ReplyDelete
  23. वर्षा जी, इतने सुन्दर तरीके से आपने वक्त के महत्व को समझाया। बहुत ही खूबसूरत कविता। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  24. sunita ji ! aap galti se shikha ki jagah varsha likh gain hain :) ..

    ReplyDelete
  25. मेरी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं.

    ReplyDelete
  26. बिलकुल सही बात कहती हुई जानदार रचना .. ....बधाई.

    ReplyDelete
  27. बढ़िया रचना... जाने क्यूँ ये शेर याद आ गया...

    "वह उम्र कम रहा था मेरी,
    मै साल अपने बढ़ा रहा था..."

    सादर...

    ReplyDelete
  28. jab haath se vaqt ret ki tarah muththi se fisal jaata hai tabhi to vaqt ki keemat ka ehsaas hota hai.isi bhaav ke prati sajag karti bahut achchi prastuti.

    ReplyDelete
  29. अपनी खाली हथेलियों को
    जिनसे फिसल गया था वक़्त
    बंद मुठ्ठी में से रेत कि तरह

    Bahut sundar...

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  30. बहुत सुन्दर प्रस्तुति है आपकी.
    आभार.

    संगीता जी का भी आभार,जिन्होंने
    अपनी सुन्दर सुन्दर हलचल प्रस्तुत कर
    इस पोस्ट पर आने का मौका दिया.

    ReplyDelete
  31. अवसाद विषाद और
    तनाव के बीच
    हम रह जाते हैं देखते
    अपनी खाली हथेलियों को
    जिनसे फिसल गया था वक़्त
    बंद मुठ्ठी में से रेत कि तरह

    वक़्त की रेत से तुलना बहुत अच्छी लगी।

    सादर

    ReplyDelete
  32. सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  33. bilkul sahi kha shikha ji...waqt ret ki tarah fisal jata hai ..aur khali mutthi me sivay khalipan ke kuchh nahi bachta...

    ReplyDelete
  34. दिन जो पखेरू होते,पिंजडे में,मैं रख लेता---
    वक्त, मुठ्ठी मेम बंद रेत ही है.

    ReplyDelete
  35. सुन्दर प्रस्तुति....!!

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *