Enter your keyword

Monday, 30 November 2009

उछ्लूं लपकूं और छू लूँ


आसमान के ऊपर भी
एक और आसमान है,
उछ्लूं लपक के छू लूँ 
बस ये ही अरमान है।
बना के इंद्रधनुष को
अपनी उमंगों का झूला ,
बैठूँ और जा पहुँचूँ
चाँद के घर में सीधा।
कुछ तारे तोडूँ और
भर लूँ अपनी मुठ्ठी में,
लेके सूरज का रंग
भर लूँ सपनो की डिब्बी में।
उम्मीदों का ले उड़नखटोला
जा उतरूं कुबेर की छत पे
प्रतिफल से सोने के सिक्के
भर लूँ अपनी जेबों में।
तोडूँ एक बादल का टुकड़ा
प्रेम जल भरा हो जिसमें
उडूँ मुक्त गगन में फ़िर
बाँध के उसको आँचल में।
यूँ समेट सब अभिलाषाएं,
बन जाऊँ वर्षा का जल कण
छम छम करती बोछारों संग
आ पहुँचूँ फिर धरती पर।
बंद पलक पर राह जो दिखती
खो जाती खुलने पर अखियाँ
कितना अच्छा होता गर ये
न होता बस एक सपना।

35 comments:

  1. aaha! bahut sunder kavita...... aapne mere baal man ko chhoo liya..... pata hai main ab bhi bilkul aisa hi sochta hoon.......

    aapki is kavita ne man moh liya hai..... ab to isey roz padhoonga.....

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी कविता लिखी है आपने । रचना गहरा प्रभाव छोडऩे में समर्थ हैं ।

    मैने अपने ब्लाग पर एक कविता लिखी है-रूप जगाए इच्छाएं । समय हो तो पढ़ें और कमेंट भी दें-
    http://drashokpriyaranjan.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. Vaah ... bahut sundar, kalpana ki belagaam udaan ... aasmaan ke peeche bhi ek aasmaan ... kamaal ki rachna hai .... lajawaab

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब

    ReplyDelete
  5. सुन्दर और सहज मनोभाव!!

    अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन ख्वाब और सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  7. वाह....!
    पहले तो लगा कि ये बालगीत है,
    यह दिखता बालगीत सा है
    परन्तु अपने में समेटे हुए है पूरा संसार!

    ReplyDelete
  8. कविता मन में एक बेहद सुंदर चित्र बनाती है.अपनी इच्‍छा का विश्‍व काश ऐसा ही होता.

    ReplyDelete
  9. बना के इंद्रधनुष को

    अपनी उमंगों का झूला ,

    बैठूं और जा पहुंचूं

    चाँद के घर में सीधा।
    वाह बहुत सुन्दर मेरी तरफ से दो पंक्तियाँ आपके लिये
    परिंदे देखकर उड़ते हुए आकाश में यूँ ही
    करे तेरा कभी मन ओड़नी लेकर उडाया कर शुभकामनायें

    ReplyDelete
  10. अनिवासियों की हिन्दी कविताओ में अभिव्यक्ति की सहजता और एक ख़ास सोंधापन , मौलिकता महकती है
    जो यहाँ भी शिद्दत के साथ मौजूद है -

    ReplyDelete
  11. very nice poem , shikha ji,
    aapke saath hamne bhi aasmaan ki sair kar li

    ReplyDelete
  12. sapne dekho,rang bharo.......wahi to ek din sach hote hain

    ReplyDelete
  13. भीतर बैठा बचपन यूँ ही कुलांचे भरता रहता है ...
    सुन्दर कविता ...!!

    ReplyDelete
  14. बना के इंद्रधनुष को

    अपनी उमंगों का झूला ,

    बैठूं और जा पहुंचूं

    चाँद के घर में सीधा।

    बहुत सुन्दर...
    स्वप्न नगरी का चक्कर हम भी लगा आये हैं...आपके साथ-साथ..
    मनोहर है...!!

    ReplyDelete
  15. bahut sundar khayal aur utni hi sundar kavita ............ Shukriya

    ReplyDelete
  16. अरमान हों तो इतने ही खूबसूरत हों
    कविता हो तो इतनी ही प्यारी हो
    वाह! क्या बात है।

    ReplyDelete
  17. shayad har insaan ki chahat ko aapne shabd de diye.........ek saans mein padh gayi aur usi mein doob gayi..........kya khoob likha hai........badhayi

    ReplyDelete
  18. सपने देखना कभी न बन्द करें ..इसलिये कि सपनो की ज़मीन पर ही सच जन्म लेता है ..।

    ReplyDelete
  19. एक अलग ही अनुभूति कराती है
    सपनों के आकाश की ये उडान..
    साथ ही एक शेर भी याद आता है..
    'तुम आसमां की बुलंदी से जल्द आ जाना
    हमें ज़मीं के मसाइल पे बात करनी है'
    शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

    ReplyDelete
  20. shikha,
    aare bilkul uchhalo...lapko aur chhuo...aur seedhe chaand ke ghar ja kar khoob saare tare todna ..jab mann bhar jaye to ummeedon ke udankhatole par baith kuber ke ghar ki chhat se sone ke sikke bhi le aana......aaj kal sona bahut mahnga ho gaya hai..:):) .....haan ye achchha hai ki baadal ke zariye bund ke roop men wapas aa jaana.... nahi to tumhaari kami lagegi na hum sabko....


    bahut pyaari nazm.....bass sapne jaisi..

    love u

    ReplyDelete
  21. kalpana ....like an unbridaled horse....jab chhuttti hain toh bas thamne ke naam hi nahi leti..........bahut hi maasoom kavita hain.....

    ReplyDelete
  22. यूँ समेट सब अभिलाषाएं,

    बन जाऊं वर्षा का जल कण

    छम छम करती बोछारों संग

    आ पहुंचू फिर धरती पर।

    आपकी कवितायें हमेशा एक उमंग और उछाह लिए होती हैं..इन्हें पढ़कर हमेशा ख़ुशी की अनुभूति होती है...एक नया जोश और खुशनुमा अहसास जागता है..शुक्रिया

    ReplyDelete
  23. very nice aap ke kabeta dil tak tuch karte hai ......
    very very nice

    ReplyDelete
  24. awesomeeee.... best article i have read...

    ReplyDelete
  25. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 17 -05-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में ....ज़िंदगी मासूम ही सही .

    ReplyDelete
  26. बोले तो एकदम छा गयी दिल पर, और मन मचल उठा कि उछलूँ, लपक के छू लूं... :)
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  27. सुंदर स्वप्नमई रचना ....एक पल को तरोताजा कर गयी ...!!

    ReplyDelete
  28. नई पुरानी हलचल की बदौलत आपकी इतनी पुरानी मासूम सी कविता पढ़ने को मिली...

    ReplyDelete
  29. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  30. बहुत खूब ! भावों की निर्बंध उड़ान...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  31. खुबसूरत सतरंगी रचना...
    सादर.

    ReplyDelete
  32. सहज एवं सरल कविता

    ReplyDelete
  33. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete

पसंदीदा पोस्ट्स

ईमेल से जुड़ें

संपर्क

Name

Email *

Message *